Asianet News Hindi

अब जामिया स्टूडेंट को निशाना बनाकर शेयर की गईं अश्लील तस्वीरें, FACT CHECK में सामने आ गया सच

First Published May 27, 2020, 4:30 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. जामिया की स्टूडेंट और एक्टिविस्ट लदीदा फ़रज़ाना और आएशा रैना एक बार फिर चर्चा में हैं। इस बार दोनों जामिया की इस स्टूडेंट के नाम से कुछ आपत्तिजनक तस्वीरें वायरल हो रही हैं। इस तस्वीरों को लेकर काफी बवाल मचा हुआ है। ये वहीं लड़कियां है जो नागरिकता कानून (Citizenship Amendment Act) के विरोध के दौरान काफी चर्चा में रही थीं। पुलिसबलों और स्टूडेंट्स के बीच झड़प के दौरान की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई थी। तस्वीर में हिजाब में लड़कियों का समूह नजर आया था। एक लड़की पुलिस की ओर उंगली का इशारा कर विरोध करती नजर आई थी। शीरोज कहकर प्रचारित की गईं लड़कियां जामिया मिलिया विवाद के दौरान सोशल मीडिया पर इनकी तस्वीर खूब शेयर की गई। 

 

फैक्ट चेकिंग में जानिए कि जामिया स्टूडेंट लदीदा फरजाना की वायरल फोटो (Jamia Student ladeeda FarzanaS Fake Photos fact Check) का सच क्या है? 

दिल्ली में छात्रों के प्रदर्शन की तस्वीर सामने आई थीं। तब एक तस्वीर में नजर आ रही लड़कियों, लदीदा फरजाना और आयशा रेन्ना (Ladeeda Farzana and Ayesha Renna) को आंदोलन के "पोस्टर गर्ल" के रूप में प्रचारित किया गया। लड़कियों को हीरोज की तर्ज पर "शीरोज" कहकर बुलाया गया। अब लड़कियों की एक अलग ही कहानी सोशल मीडिया पर बहस में है। इन लोगों की अश्लील तस्वीरें लीक कहकर लोग मजाक उड़ा रहे हैं। हालांकि फैक्ट चेक में असली कहानी सामने आई है।

दिल्ली में छात्रों के प्रदर्शन की तस्वीर सामने आई थीं। तब एक तस्वीर में नजर आ रही लड़कियों, लदीदा फरजाना और आयशा रेन्ना (Ladeeda Farzana and Ayesha Renna) को आंदोलन के "पोस्टर गर्ल" के रूप में प्रचारित किया गया। लड़कियों को हीरोज की तर्ज पर "शीरोज" कहकर बुलाया गया। अब लड़कियों की एक अलग ही कहानी सोशल मीडिया पर बहस में है। इन लोगों की अश्लील तस्वीरें लीक कहकर लोग मजाक उड़ा रहे हैं। हालांकि फैक्ट चेक में असली कहानी सामने आई है।

वायरल पोस्ट क्या है?

 

ट्विटर हैंडल @GahlotKanpur ने दो तस्वीरें पोस्ट कीं- एक तस्वीर में एक मुस्लिम महिला AIMIM के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी से बात कर रही है, दूसरी तस्वीर में एक महिला दिखाई देती है जो कि टॉपलेस है। दावा किया गया कि दोनों तस्वीरें एक ही हैं, तस्वीर के साथ शेयर ये मेसेज शेयर किया गया है, “शाहीन बाग की दूसरी शेरनी सबीना बानो का नीला चल चित्र मिला है..!!”

वायरल पोस्ट क्या है?

 

ट्विटर हैंडल @GahlotKanpur ने दो तस्वीरें पोस्ट कीं- एक तस्वीर में एक मुस्लिम महिला AIMIM के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी से बात कर रही है, दूसरी तस्वीर में एक महिला दिखाई देती है जो कि टॉपलेस है। दावा किया गया कि दोनों तस्वीरें एक ही हैं, तस्वीर के साथ शेयर ये मेसेज शेयर किया गया है, “शाहीन बाग की दूसरी शेरनी सबीना बानो का नीला चल चित्र मिला है..!!”

क्या दावा किया जा रहा है? 

 

एक और ट्विटर हैंडल @sandeepmjainjai ने ये दोनों तस्वीरें शेयर की हैं। इसी तरह के दावे के साथ तस्वीर को फेसबुक पर भी शेयर किया गया है। आशीष कुमार नाम से की गई एक पोस्ट के लगभग 100 लोगों ने लाइक किया है। 

क्या दावा किया जा रहा है? 

 

एक और ट्विटर हैंडल @sandeepmjainjai ने ये दोनों तस्वीरें शेयर की हैं। इसी तरह के दावे के साथ तस्वीर को फेसबुक पर भी शेयर किया गया है। आशीष कुमार नाम से की गई एक पोस्ट के लगभग 100 लोगों ने लाइक किया है। 

सच क्या है? 

 

हमने रिवर्स इमेज सर्च किया तो पोर्न वेबसाइट्स पर इस टॉपलेस महिला की कई तस्वीरें नज़र आईं। हमने स्टूडेंट एक्टिविस्ट के चेहरे से इस तस्वीर में दिख रहे चेहरे की तुलना की, जिससे ये साबित हुआ कि ये दोनों महिलाएं एक ही नहीं हैं। सभी तस्वीरें पोर्नोग्राफ़िक वेबसाइट्स से ली गई हैं।

 

दिसंबर 2019 में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान जामिया की स्टूडेंट और एक्टिविस्ट लदीदा फ़रज़ाना और आएशा रैना AIMIM मुखिया असदुद्दीन ओवैसी से मिली थीं, उनकी तस्वीर को एक रैंडम आपत्तिजनक फोटो के साथ मिलाकर वायरल किया गया। वायरल मेसेज में फ़रज़ाना की पहचान ‘सबीना बानो’ के रूप में बताई गई।

सच क्या है? 

 

हमने रिवर्स इमेज सर्च किया तो पोर्न वेबसाइट्स पर इस टॉपलेस महिला की कई तस्वीरें नज़र आईं। हमने स्टूडेंट एक्टिविस्ट के चेहरे से इस तस्वीर में दिख रहे चेहरे की तुलना की, जिससे ये साबित हुआ कि ये दोनों महिलाएं एक ही नहीं हैं। सभी तस्वीरें पोर्नोग्राफ़िक वेबसाइट्स से ली गई हैं।

 

दिसंबर 2019 में नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान जामिया की स्टूडेंट और एक्टिविस्ट लदीदा फ़रज़ाना और आएशा रैना AIMIM मुखिया असदुद्दीन ओवैसी से मिली थीं, उनकी तस्वीर को एक रैंडम आपत्तिजनक फोटो के साथ मिलाकर वायरल किया गया। वायरल मेसेज में फ़रज़ाना की पहचान ‘सबीना बानो’ के रूप में बताई गई।

फ़रज़ाना ने खुद मीडिया को सच बताया, “पक्की बात है कि इस फोटो में मैं नहीं हूं, यह नया नहीं है, जो भी संघ परिवार के ख़िलाफ़ बोलता है या उसकी आलोचना करता है, उस पर इसी तरह से निशाना साधा जाता है। वे अपना डर्टी गेम जारी रख सकते हैं लेकिन मैं पीछे नहीं हटूंगी। मैं आवाज़ उठाना जारी रखूंगी, इसका मुझ पर असर नहीं होगा।” 

फ़रज़ाना ने खुद मीडिया को सच बताया, “पक्की बात है कि इस फोटो में मैं नहीं हूं, यह नया नहीं है, जो भी संघ परिवार के ख़िलाफ़ बोलता है या उसकी आलोचना करता है, उस पर इसी तरह से निशाना साधा जाता है। वे अपना डर्टी गेम जारी रख सकते हैं लेकिन मैं पीछे नहीं हटूंगी। मैं आवाज़ उठाना जारी रखूंगी, इसका मुझ पर असर नहीं होगा।” 

ये दोनों लड़किया CAB के विरोध के दौरान जामिया में हुए हमले के दौरान काफी चर्चा में रही थीं। हिजाबी गर्ल के नाम से दोनों फेमस हुईं थी इनमें एक का नाम आयशा रेन्ना है और दूसरी लदीदा फरजाना। आयशा रेन्ना ने वेलफेयर पार्टी ऑफ इंडिया के तहत #FraternityYouthMovement युवा संगठन के साथ प्रदर्शन आयोजित किया था। फ्रेटर्निटी यूथ मूवमेंट जमात-ए- इस्लामी-हिंद कट्टरपंथी संगठन की राजनीतिक शाखा है। ये दाना जामिया मामले के बाद काफी सुर्खियों में रही इसके बाद ओवैसी के साथ एक कार्यक्रम में भी नजर आईं। 

ये दोनों लड़किया CAB के विरोध के दौरान जामिया में हुए हमले के दौरान काफी चर्चा में रही थीं। हिजाबी गर्ल के नाम से दोनों फेमस हुईं थी इनमें एक का नाम आयशा रेन्ना है और दूसरी लदीदा फरजाना। आयशा रेन्ना ने वेलफेयर पार्टी ऑफ इंडिया के तहत #FraternityYouthMovement युवा संगठन के साथ प्रदर्शन आयोजित किया था। फ्रेटर्निटी यूथ मूवमेंट जमात-ए- इस्लामी-हिंद कट्टरपंथी संगठन की राजनीतिक शाखा है। ये दाना जामिया मामले के बाद काफी सुर्खियों में रही इसके बाद ओवैसी के साथ एक कार्यक्रम में भी नजर आईं। 

ये निकला नतीजा 

 

फैक्ट चेकिंग में ये नतीजा निकला कि वायरल हो रही बोल्ड तस्वीरें दिल्ली की छात्रा की नहीं हैं बल्कि एक पोर्न स्टार की हैं। इससे पहले पिछले महीने हमने जामिया मिलिया इस्लामिया स्कॉलर सफ़ूरा ज़रगर के नाम से वायरल हो रहा पोर्नोग्राफ़िक वीडियो का फ़ैक्ट-चेक किया गया था। महिलाओं और स्टूडेंट एक्टिविस्ट्स को पोर्नोग्राफ़िक कॉन्टेंट के ज़रिए बदनाम करना बेहद घटिया है।

ये निकला नतीजा 

 

फैक्ट चेकिंग में ये नतीजा निकला कि वायरल हो रही बोल्ड तस्वीरें दिल्ली की छात्रा की नहीं हैं बल्कि एक पोर्न स्टार की हैं। इससे पहले पिछले महीने हमने जामिया मिलिया इस्लामिया स्कॉलर सफ़ूरा ज़रगर के नाम से वायरल हो रहा पोर्नोग्राफ़िक वीडियो का फ़ैक्ट-चेक किया गया था। महिलाओं और स्टूडेंट एक्टिविस्ट्स को पोर्नोग्राफ़िक कॉन्टेंट के ज़रिए बदनाम करना बेहद घटिया है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios