Asianet News Hindi

खौफनाक: यहां शव रखने को खत्म हुए ताबूत, अब प्लास्टिक और कपड़े में लपेटकर फेंकी जा रही हैं बॉडीज

First Published Apr 21, 2020, 1:49 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

कोरोना का सबसे भयावह रूप अमेरिका में देखने को मिल रहा है। वैसे तो पूरी दुनिया में कोरोना के अब तक 24.8 लाख मामले सामने आ चुके हैं और एक लाख, 70 हजार, 455 लोगों की मौत हो चुकी है। अमेरिका में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या 7 लाख 92 हजार, 913 हो गई है, वहीं इससे अब तक 42 हजार 517 लोगों ने दम तोड़ दिया है। अमेरिका में सबसे खराब हालत न्यूयॉर्क स्टेट की है, जहां 2 लाख 47 हजार 512 लोग संक्रमित हैं और 18 हजार 929 लोगों की जान जा चुकी है। न्यूयॉर्क शहर में कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या एक लाख 36 हजार 806 है। न्यूयॉर्क में कोरोना से इतनी मौतें हो रही हैं कि शवों का अंतिम संस्कार कर पाना तक मुश्किल हो रहा है। न्यूयॉर्क के फ्यूनरल होम में शवों का अंबार लग गया है। उन्हें लकड़ी के कास्केट, बॉडी बैग्स और शीट में लपेट कर लाया जा रहा है। शवों को रखने के लिए ताबूतों की भी कमी पड़ती जा रही है। लेकिन कब्रगाहों में शवों को दफनाने की जगह नहीं रह गई है। न्यूयॉर्क स्टेट आइलैंट की सेमेट्री बंद कर दी गई है। जब तक कोरोना का कहर खत्म नहीं होता, यह सेमेट्री बंद रहेगी। ऐसी हालत में लोग वर्चुअल फ्यूनरल सर्विस करने पर मजबूर हो गए हैं। तस्वीरों में देखें कोरोना महामारी की वजह से कैसे बन गए हैं हालात। 

वैन में वैलवेट बैग में रख कर कोरोना से मौत के शिकार हुए दो लोगों को फ्यूनरल होम ले जाया जा रहा है। मरने वालों की संख्या इतनी ज्यादा है कि कॉफीन की कमी हो गई है।  

वैन में वैलवेट बैग में रख कर कोरोना से मौत के शिकार हुए दो लोगों को फ्यूनरल होम ले जाया जा रहा है। मरने वालों की संख्या इतनी ज्यादा है कि कॉफीन की कमी हो गई है।  

फ्यूनरल के दौरान डेड बॉडी के प्रति काफी सम्मान दिखाया जाता है और उनका बहुत ख्याल रखा जाता है, लेकिन इतनी ज्यादा संख्या में डेड बॉडीज आ रही हैं कि फ्यूनरल होम में जहां जगह मिल रही है, वहीं उन्हें रख दिया जा रहा है। 

फ्यूनरल के दौरान डेड बॉडी के प्रति काफी सम्मान दिखाया जाता है और उनका बहुत ख्याल रखा जाता है, लेकिन इतनी ज्यादा संख्या में डेड बॉडीज आ रही हैं कि फ्यूनरल होम में जहां जगह मिल रही है, वहीं उन्हें रख दिया जा रहा है। 

ट्रक में शवों को कॉस्केट में रख कर फ्यूनरल होम ले जाया जा रहा है। लेकिन अब फ्यूनरल होम बंद हो जाने से वहां शवों का अंतिम संस्कार कर पाना मुश्किल है। 

ट्रक में शवों को कॉस्केट में रख कर फ्यूनरल होम ले जाया जा रहा है। लेकिन अब फ्यूनरल होम बंद हो जाने से वहां शवों का अंतिम संस्कार कर पाना मुश्किल है। 

शवों को अस्पताल से बाहर निकाल कर गाड़ियों पर रखने के लिए ले जाने वाले स्टाफ के लिए पीपीई, मास्क और ग्लव्ज पहनने के साथ सुरक्षा के दूसरे इंतजाम करना बेहद जरूरी है।  

शवों को अस्पताल से बाहर निकाल कर गाड़ियों पर रखने के लिए ले जाने वाले स्टाफ के लिए पीपीई, मास्क और ग्लव्ज पहनने के साथ सुरक्षा के दूसरे इंतजाम करना बेहद जरूरी है।  

कोरोना से मरने वालों की संख्या इतनी ज्यादा बढ़ रही है कि लाशों को मोबाइल रेफ्रिजरेशन ट्रकों में रखना पड़ रहा है। यह एक बहुत ही भयंकर स्थिति है। 

कोरोना से मरने वालों की संख्या इतनी ज्यादा बढ़ रही है कि लाशों को मोबाइल रेफ्रिजरेशन ट्रकों में रखना पड़ रहा है। यह एक बहुत ही भयंकर स्थिति है। 

ट्रक पर से स्टाफ लकड़ी के बने कास्केट उतारने में लगा है। इनमें कोरोना के शिकार लोगों की लाशें हैं, जो फ्यूनरल के लिए ले जाई जा रही हैं। मृतकों की संख्या इतनी ज्यादा है कि अस्पतालों में एक बार में ही काफी कास्केट मंगवा लिए जाते हैं। 

ट्रक पर से स्टाफ लकड़ी के बने कास्केट उतारने में लगा है। इनमें कोरोना के शिकार लोगों की लाशें हैं, जो फ्यूनरल के लिए ले जाई जा रही हैं। मृतकों की संख्या इतनी ज्यादा है कि अस्पतालों में एक बार में ही काफी कास्केट मंगवा लिए जाते हैं। 

फेडरल अथॉरिटीज ने रेफ्रिजेरेशन की सुविधा वाले ऐसे काफी ट्रक न्यूयॉर्क भिजवाए हैं, ताकि उनमें लाशों को सुरक्षित रखा जा सके, क्योंकि फ्यूनरल होम में जगह की कमी पड़ गई है। 

फेडरल अथॉरिटीज ने रेफ्रिजेरेशन की सुविधा वाले ऐसे काफी ट्रक न्यूयॉर्क भिजवाए हैं, ताकि उनमें लाशों को सुरक्षित रखा जा सके, क्योंकि फ्यूनरल होम में जगह की कमी पड़ गई है। 

कोरोना की वजह से जो आर्थिक संकट अमेरिका में पैदा हुआ है, विशेषज्ञों का कहना है कि इससे उबरने में उसे कई साल लग जाएंगे। 

कोरोना की वजह से जो आर्थिक संकट अमेरिका में पैदा हुआ है, विशेषज्ञों का कहना है कि इससे उबरने में उसे कई साल लग जाएंगे। 

हेल्थ वर्कर इस हाल में भी हर जगह सैनेटाइजेशन के काम में लगे हैं। हर तरफ मरघट का सन्नाटा फैला दिखता है। 

हेल्थ वर्कर इस हाल में भी हर जगह सैनेटाइजेशन के काम में लगे हैं। हर तरफ मरघट का सन्नाटा फैला दिखता है। 

एक डॉक्टर हॉस्पिटल के लैब में किसी टेस्ट में बिजी है। पहले किसी को यह अंदाज नहीं था कि कोरोना वायरस इतना विकराल रूप ले लेगा। 

एक डॉक्टर हॉस्पिटल के लैब में किसी टेस्ट में बिजी है। पहले किसी को यह अंदाज नहीं था कि कोरोना वायरस इतना विकराल रूप ले लेगा। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios