Twin Towers Demolition: ताश के पत्तों सा ढहा ट्विन टॉवर्स, धूल के गुबार से ढंका इलाका

Noida Supertech Twin Towers demolition live updates vva

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के नोएडा के सेक्टर 93ए में शान से खड़ा सुपरटेक का ट्विन टावर्स (Supertech twin towers) आज दोपहर 2:30 बजे जमींदोज हो गया। ठीक 2:30 बजे ट्विन टॉवर्स में लगाए गए विस्फोटकों में एक के बाद एक कई धमाके हुए। इसके साथ ही इमारत ताश के पत्तों की तरह ढह गई। बिल्डिंग घिरने से पैदा हुआ धूल का गुबार 100 मीटर से अधिक ऊंचाई तक गया। पूरे इलाके में धूल ही धूल नजर आया। पढ़ें ट्विन टावर्स गिराने से जुड़े अपडेट्स...

4:18 PM IST

धमाके के लिए चेतन दत्ता ने दबाया बटन

ट्विन टावर्स गिराने वाली कंपनी एडिफिस के अधिकारी चेतन दत्ता ने धमाके के लिए बटन दबाया। धमाके के बाद उन्होंने कहा कि मैं इमारत से सिर्फ 70 मीटर दूर था। काम शत-प्रतिशत सफल रहा। पूरी बिल्डिंग गिराने में 9-10 सेकंड का समय लगा। मेरी टीम में 10 लोग थे। इसके साथ ही 7 विदेशी विशेषज्ञ और एडिफिस इंजीनियरिंग के 20-25 लोग भी थे।
 

3:09 PM IST

6:30 बजे तक लौट सकते हैं आसपास के सोसायटी के लोग

ट्विन टॉवर्स गिरने से उठे धूल के गुबार को हटाने के लिए पानी का छिड़काव किया जा रहा है। ग्रेटर-नोएडा एक्सप्रेसवे पर ट्रैफिक बहाल कर दिया गया है। नोएडा अथॉरिटी की सीईओ रितु माहेश्वरी ने कहा है कि आसपास की इमारतों को नुकसान नहीं हुआ है। आसपास के सोसायटी के लोग जो सुरक्षित स्थानों पर भेजे गए हैं शाम 6:30 बजे के बाद लौट सकते हैं। तय प्लान के अनुसार ट्विन टावर्स गिराया गया। थोड़ा सा मलबा सड़क पर आया है। हमारी सारी मशीनें काम कर रहीं हैं।

2:56 PM IST

हल्का आगे की ओर गिरा मलबा

ट्विन टॉवर्स का मलबा हल्का आगे की ओर गिरा है। आसपास के इमारतों को नुकसान नहीं हुआ है। मलबा का कुछ हिस्सा ट्विन टॉवर्स के सामने की सड़क पर दिखा है। अभी तक किसी अप्रिय घटना की जानकारी नहीं है। पुलिस ने पूरे इलाके को पहले ही खाली करा लिया था। 
 

2:34 PM IST

ताश के पत्तों सा ढह गया ट्विन टॉवर्स

2:30 बजे ट्विन टॉवर्स में लगाए गए विस्फोटकों में एक के बाद एक कई धमाके हुए। इसके साथ ही इमारत ताश के पत्तों की तरह ढह गई। बिल्डिंग घिरने से पैदा हुआ धूल का गुबार 100 मीटर से अधिक ऊंचाई तक गया। पूरे इलाके में धूल ही धूल नजर आया। धमाका होने और बिल्डिंग गिरने से उठा कंपन 500 मीटर दूर तक महसूस किया गया। बिल्डिंग गिरने के बाद उठे धूल के गुबार ने पूरे इलाके को ढंक लिया। 

1:42 PM IST

एनडीआरएफ की टीम तैनात

धमाके के बाद किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए एनडीआरएफ के जवान तैनात हैं। जवानों ने अपने उपकरणों को तैयार रखा है। कुल्हाड़ी और हथौड़ी से लेकर इन जवानों के पास अत्याधुनिक मशीनें हैं। रेस्क्यू ऑपरेशन में मदद के लिए टीम डॉग्स को भी साथ लाई है। 
 

12:38 PM IST

ग्रीन कॉरिडोर बनाए गए, एम्बुलेंस तैनात

ट्विन टावर के पास अभी सिर्फ पुलिस के जवान और डिमोलिशन टीम के लोग हैं। दोपहर 1 बजे के 1.5km के दायरे में सभी लोगों को हटा दिया जाएगा। सिर्फ डिमोलिशन टीम मौजूद रहेगी। ट्रैफिक डायवर्जन के लिए पुलिस ने हेल्पलाइन नंबर 99710 09001 जारी किया है। डीसीपी ट्रैफिक गणेश प्रसाद साहा ने कहा कि ग्रीन कॉरिडोर बनाए गए हैं। एम्बुलेंस की भी व्यवस्था की गई है। 
 

10:49 AM IST

धूल हटाने के लिए लगाए गए 15 स्मॉग गन

ट्विन टावर के पास की दो सोसायटी में एहतियात बरतते हुए रसोई गैस और बिजली सप्लाई बंद कर दिया है। धूल हटाने के लिए 15 स्मॉग गन लगाए गए हैं। प्रदूषण की जांच के लिए 6 एयर क्वालिटी इंजेक्स मशीनें लगाई गईं हैं।   

9:36 AM IST

लगाए गए विशेष धूल मशीन

ट्विन टावरों के गिरने पर बड़े पैमाने पर वायू प्रदूषण होगा। प्रदूषण मापने के लिए विशेष धूल मशीन लगाए गए हैं। डीसीपी ट्रैफिक गणेश प्रसाद साहा ने कहा है कि किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए ग्रीन कॉरिडोर की स्थापना की गई है। क्षेत्र में ट्रैफिक डायवर्जन प्लान लागू किए गए हैं। 
 

8:27 AM IST

560 पुलिसकर्मी और एनडीआरएफ टीम तैनात

डीसीपी सेंट्रल राजेश एस ने कहा कि 560 पुलिसकर्मियों, रिजर्व फोर्स के 100 जवानों, 4 क्विक रिस्पांस टीम और एनडीआरएफ टीम को तैनात किया गया है। विस्फोट से ठीक पहले दोपहर करीब 2:15 बजे एक्सप्रेस-वे बंद किया जाएगा। ब्लास्ट के आधे घंटे बाद इसे खोला जाएगा। इंस्टेंट कमांड सेंटर द्वारा सीसीटीवी कैमरों की मदद से निगरानी की जा रही है।
 

8:02 AM IST

नोएडा पुलिस ने स्थापित किया कमांड रूम

नोएडा पुलिस ने धमाके वाली जगह के पास कमांड रूम स्थापित किया है। यहां से आसपास के क्षेत्र पर नजर रखी जा रही है। डीसीपी नोएडा कमांड रूम के कमांडर हैं। उनकी सहायता के लिए सात सब कमांडर तैनात हैं। वह इंजीनियरों की टीम को धमाके के लिए अंतिम ओके जारी करेंगे।
 

7:57 AM IST

ट्विन टावरों को अंतिम बार देखने जुटे लोग, पुलिस ने हटाया

रविवार सुबह कुछ लोग ट्विन टावरों को अंतिम बार देखने के लिए जुट थे। पुलिस ने सभी को इलाके से हटा दिया है। आसपास के अस्पतालों को हेल्थ इमरजेंसी के लिए अलर्ट रहने के लिए कहा गया है। सांस की समस्या वाले लोगों को मास्क पहनने की सलाह दी गई है। जेपी अस्पताल में आईसीयू बेड की व्यवस्था की गयी है। 
 

7:50 AM IST

किए गए सुरक्षा के व्यापक उपाय

नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे ट्विन टावरों के करीब है। इसे दोपहर 2.15 बजे से दोपहर 2.45 बजे तक बंद कर दिया जाएगा। ट्विन टावरों के पास के इलाके से सभी लोगों और जानवरों को हटा दिया गया है। नोएडा को ड्रोन्स के लिए नो फ्लाइंग जोन घोषित किया गया है। विस्फोट के दौरान ट्विन टावरों के ऊपर के 1.852 किलोमीटर रेडियस के इलाके के एयर स्पेस को विमानों के लिए बंद किया गया है। 

आस-पास की इमारतों को धूल और मलबे से बचाने के लिए जाल, कपड़ा और पर्दे लगाए गए हैं। विस्फोट के झटके से आसपास की इमारत को बचाने के लिए ट्विन टावरों के चारों ओर खाई खोदी गई है। अतिरिक्त सुरक्षा के लिए टावरों और आसपास की इमारतों के बीच कंटेनर रखे गए हैं।

7:00 AM IST

आसपास की सोसाइटी के लोगों ने किया जगह खाली

ट्विन टावर के आसपास की सोसाइटी में रहने वाले लोगों ने जगह खाली कर दिया है। सुरक्षित स्थान पर जाने के लिए अंतिम समय रविवार सुबह 7 बजे दिया गया था। सात हजार से अधिक लोग सुरक्षित स्थानों पर गए हैं। इलाके के स्ट्रीट डॉग्स को भी पकड़कर धमाके वाली जगह से हटाया गया है। 
 

6:39 AM IST

यह है टाइमलाइन

  • सुबह 6:30 बजे- फ्लैटों में पाइप से गैस की आपूर्ति बंद कर दी गई।
  • सुबह 7:00 बजे- एमराल्ड कोर्ट और आसपास के एटीएस विलेज के निवासी सुरक्षित स्थानों पर चले गए
  • सुबह 7:00 बजे- दोनों टावरों के आसपास की सड़कों को सील कर दिया गया।
  • सुबह 9:00 बजे- मेंटेनेंस स्टाफ ने सोसायटी खाली कर दिया।
  • सुबह 11:00 बजे- सुरक्षाकर्मी परिसर से निकल गए।
  • दोपहर 1:00 बजे- टास्क फोर्स के जवान स्थल का निरीक्षण कर आसपास के इलाकों से निकले।
  • दोपहर 1:45 बजे- विध्वंस से आधे घंटे पहले साइट का विस्तृत निरीक्षण समाप्त हुआ।
  • दोपहर 2:15 बजे- नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे बंद किया गया।
  • दोपहर 2:30 बजे - विध्वंस हुआ।
  • दोपहर 2:45 बजे - नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे का संचालन फिर से शुरू हुआ।
  • शाम 4:00 बजे- फ्लैटों में पाइप से गैस की आपूर्ति बहाल की जाएगी। पूर्ण बहाली में 3-4 घंटे लगेंगे।
  • शाम 5:30 बजे - निवासियों को लौटने की अनुमति होगी।

4:18 PM IST:

ट्विन टावर्स गिराने वाली कंपनी एडिफिस के अधिकारी चेतन दत्ता ने धमाके के लिए बटन दबाया। धमाके के बाद उन्होंने कहा कि मैं इमारत से सिर्फ 70 मीटर दूर था। काम शत-प्रतिशत सफल रहा। पूरी बिल्डिंग गिराने में 9-10 सेकंड का समय लगा। मेरी टीम में 10 लोग थे। इसके साथ ही 7 विदेशी विशेषज्ञ और एडिफिस इंजीनियरिंग के 20-25 लोग भी थे।
 

3:10 PM IST:

ट्विन टॉवर्स गिरने से उठे धूल के गुबार को हटाने के लिए पानी का छिड़काव किया जा रहा है। ग्रेटर-नोएडा एक्सप्रेसवे पर ट्रैफिक बहाल कर दिया गया है। नोएडा अथॉरिटी की सीईओ रितु माहेश्वरी ने कहा है कि आसपास की इमारतों को नुकसान नहीं हुआ है। आसपास के सोसायटी के लोग जो सुरक्षित स्थानों पर भेजे गए हैं शाम 6:30 बजे के बाद लौट सकते हैं। तय प्लान के अनुसार ट्विन टावर्स गिराया गया। थोड़ा सा मलबा सड़क पर आया है। हमारी सारी मशीनें काम कर रहीं हैं।

2:56 PM IST:

ट्विन टॉवर्स का मलबा हल्का आगे की ओर गिरा है। आसपास के इमारतों को नुकसान नहीं हुआ है। मलबा का कुछ हिस्सा ट्विन टॉवर्स के सामने की सड़क पर दिखा है। अभी तक किसी अप्रिय घटना की जानकारी नहीं है। पुलिस ने पूरे इलाके को पहले ही खाली करा लिया था। 
 

2:50 PM IST:

2:30 बजे ट्विन टॉवर्स में लगाए गए विस्फोटकों में एक के बाद एक कई धमाके हुए। इसके साथ ही इमारत ताश के पत्तों की तरह ढह गई। बिल्डिंग घिरने से पैदा हुआ धूल का गुबार 100 मीटर से अधिक ऊंचाई तक गया। पूरे इलाके में धूल ही धूल नजर आया। धमाका होने और बिल्डिंग गिरने से उठा कंपन 500 मीटर दूर तक महसूस किया गया। बिल्डिंग गिरने के बाद उठे धूल के गुबार ने पूरे इलाके को ढंक लिया। 

1:42 PM IST:

धमाके के बाद किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए एनडीआरएफ के जवान तैनात हैं। जवानों ने अपने उपकरणों को तैयार रखा है। कुल्हाड़ी और हथौड़ी से लेकर इन जवानों के पास अत्याधुनिक मशीनें हैं। रेस्क्यू ऑपरेशन में मदद के लिए टीम डॉग्स को भी साथ लाई है। 
 

12:38 PM IST:

ट्विन टावर के पास अभी सिर्फ पुलिस के जवान और डिमोलिशन टीम के लोग हैं। दोपहर 1 बजे के 1.5km के दायरे में सभी लोगों को हटा दिया जाएगा। सिर्फ डिमोलिशन टीम मौजूद रहेगी। ट्रैफिक डायवर्जन के लिए पुलिस ने हेल्पलाइन नंबर 99710 09001 जारी किया है। डीसीपी ट्रैफिक गणेश प्रसाद साहा ने कहा कि ग्रीन कॉरिडोर बनाए गए हैं। एम्बुलेंस की भी व्यवस्था की गई है। 
 

10:49 AM IST:

ट्विन टावर के पास की दो सोसायटी में एहतियात बरतते हुए रसोई गैस और बिजली सप्लाई बंद कर दिया है। धूल हटाने के लिए 15 स्मॉग गन लगाए गए हैं। प्रदूषण की जांच के लिए 6 एयर क्वालिटी इंजेक्स मशीनें लगाई गईं हैं।   

12:37 PM IST:

ट्विन टावरों के गिरने पर बड़े पैमाने पर वायू प्रदूषण होगा। प्रदूषण मापने के लिए विशेष धूल मशीन लगाए गए हैं। डीसीपी ट्रैफिक गणेश प्रसाद साहा ने कहा है कि किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए ग्रीन कॉरिडोर की स्थापना की गई है। क्षेत्र में ट्रैफिक डायवर्जन प्लान लागू किए गए हैं। 
 

8:27 AM IST:

डीसीपी सेंट्रल राजेश एस ने कहा कि 560 पुलिसकर्मियों, रिजर्व फोर्स के 100 जवानों, 4 क्विक रिस्पांस टीम और एनडीआरएफ टीम को तैनात किया गया है। विस्फोट से ठीक पहले दोपहर करीब 2:15 बजे एक्सप्रेस-वे बंद किया जाएगा। ब्लास्ट के आधे घंटे बाद इसे खोला जाएगा। इंस्टेंट कमांड सेंटर द्वारा सीसीटीवी कैमरों की मदद से निगरानी की जा रही है।
 

8:02 AM IST:

नोएडा पुलिस ने धमाके वाली जगह के पास कमांड रूम स्थापित किया है। यहां से आसपास के क्षेत्र पर नजर रखी जा रही है। डीसीपी नोएडा कमांड रूम के कमांडर हैं। उनकी सहायता के लिए सात सब कमांडर तैनात हैं। वह इंजीनियरों की टीम को धमाके के लिए अंतिम ओके जारी करेंगे।
 

7:57 AM IST:

रविवार सुबह कुछ लोग ट्विन टावरों को अंतिम बार देखने के लिए जुट थे। पुलिस ने सभी को इलाके से हटा दिया है। आसपास के अस्पतालों को हेल्थ इमरजेंसी के लिए अलर्ट रहने के लिए कहा गया है। सांस की समस्या वाले लोगों को मास्क पहनने की सलाह दी गई है। जेपी अस्पताल में आईसीयू बेड की व्यवस्था की गयी है। 
 

7:50 AM IST:

नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे ट्विन टावरों के करीब है। इसे दोपहर 2.15 बजे से दोपहर 2.45 बजे तक बंद कर दिया जाएगा। ट्विन टावरों के पास के इलाके से सभी लोगों और जानवरों को हटा दिया गया है। नोएडा को ड्रोन्स के लिए नो फ्लाइंग जोन घोषित किया गया है। विस्फोट के दौरान ट्विन टावरों के ऊपर के 1.852 किलोमीटर रेडियस के इलाके के एयर स्पेस को विमानों के लिए बंद किया गया है। 

आस-पास की इमारतों को धूल और मलबे से बचाने के लिए जाल, कपड़ा और पर्दे लगाए गए हैं। विस्फोट के झटके से आसपास की इमारत को बचाने के लिए ट्विन टावरों के चारों ओर खाई खोदी गई है। अतिरिक्त सुरक्षा के लिए टावरों और आसपास की इमारतों के बीच कंटेनर रखे गए हैं।

7:00 AM IST:

ट्विन टावर के आसपास की सोसाइटी में रहने वाले लोगों ने जगह खाली कर दिया है। सुरक्षित स्थान पर जाने के लिए अंतिम समय रविवार सुबह 7 बजे दिया गया था। सात हजार से अधिक लोग सुरक्षित स्थानों पर गए हैं। इलाके के स्ट्रीट डॉग्स को भी पकड़कर धमाके वाली जगह से हटाया गया है। 
 

4:19 PM IST:
  • सुबह 6:30 बजे- फ्लैटों में पाइप से गैस की आपूर्ति बंद कर दी गई।
  • सुबह 7:00 बजे- एमराल्ड कोर्ट और आसपास के एटीएस विलेज के निवासी सुरक्षित स्थानों पर चले गए
  • सुबह 7:00 बजे- दोनों टावरों के आसपास की सड़कों को सील कर दिया गया।
  • सुबह 9:00 बजे- मेंटेनेंस स्टाफ ने सोसायटी खाली कर दिया।
  • सुबह 11:00 बजे- सुरक्षाकर्मी परिसर से निकल गए।
  • दोपहर 1:00 बजे- टास्क फोर्स के जवान स्थल का निरीक्षण कर आसपास के इलाकों से निकले।
  • दोपहर 1:45 बजे- विध्वंस से आधे घंटे पहले साइट का विस्तृत निरीक्षण समाप्त हुआ।
  • दोपहर 2:15 बजे- नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेस-वे बंद किया गया।
  • दोपहर 2:30 बजे - विध्वंस हुआ।
  • दोपहर 2:45 बजे - नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे का संचालन फिर से शुरू हुआ।
  • शाम 4:00 बजे- फ्लैटों में पाइप से गैस की आपूर्ति बहाल की जाएगी। पूर्ण बहाली में 3-4 घंटे लगेंगे।
  • शाम 5:30 बजे - निवासियों को लौटने की अनुमति होगी।