Live: एम्स नागपुर में वैक्सीन लगवाने के लिए डॉक्टर्स की लाइन, मुंबई में सीएम उद्धव ठाकरे पहुंचे वैक्सीन सेंटर

PM Modi Corona Vaccine Campaign Launched Live News and Latest Updates in India kpn

2:35 PM IST

उद्धव ठाकरे ने मुंबई में वैक्सीन सेंटर का उद्घाटन किया

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मुंबई में बीकेसी जंबो COVID19 अस्पताल में टीकाकरण केंद्र का उद्घाटन किया।

2:32 PM IST

ओवैसी ने वैक्सीनेशन के दौरान हैदराबाद में हॉस्पिटल का जायजा लिया


AIMIM अध्यक्ष और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी टीकाकरण अभियान के दौरान हैदराबाद के उस्मानिया जनरल हॉस्पिटल पहुंचे।  कई AIMIM विधायकों ने भी अलग-अलग हॉस्पिटल पहुंच टीकाकरण का जायजा लिया।

2:06 PM IST

"मेरा अनुभव बहुत ही अच्छा रहा"

देश में कोरोना वैक्सीन लगाने का अभियान शुरू हो चुका है। एम्स में सफाई कर्मचारी मनीष कुमार को पहली वैक्सीन लगी। वैक्सीन लगवाने के बाद आधे घंटे तक उन्हें वेटिंग रूम में रखा गया। मनीष ने कहा कि वैक्सीन लगवाने के बाद मेरे मन में जो डर था वह निकल गया। लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है। वैक्सीन सबको लगवानी चाहिए। 

1:08 PM IST

दोनों टीकों के बीच कोई अंतर नहीं: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा, लोगों की सुरक्षा हमेशा सर्वोपरि रही है। कोवैक्सीन के तीसरे चरण का परीक्षण जारी हैं। परिणाम देखने के बाद ही विशेषज्ञों ने अनुमति दी है। किसी डर की कोई जरूरत नहीं है। हमें बिल्कुल निडर रहना होगा और इस टीके की सुरक्षा सुनिश्चित करनी होगी और धैर्य भी रखना होगा। हालांकि दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल (RML Hosptial) के रेजिडेंट डॉक्टरों ने अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक को पत्र लिखकर 'कोवैक्सीन' की बजाय 'कोविशील्ड' का टीका लगाने की मांग की है।

12:38 PM IST

अदार पूनावाला ने भी वैक्सीन लगवाई


सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने कोरोना की वैक्सीन लगवाई।

12:04 PM IST

भूटान के पीएम ने अभियान शुरू होने पर बधाई दी

भूटान के प्रधानमंत्री ने कोरोनो वैक्सीन अभियान के शुरू होने पर पीएम नरेंद्र मोदी को बधाई दी है। पीएम ने कहा, मैं आज देशव्यापी COVID-19 टीकाकरण अभियान के ऐतिहासिक लॉन्च के लिए पीएम मोदी और भारत के लोगों को बधाई देना चाहूंगा। 

12:04 PM IST

बेंगलुरू: नर्स को लगाया गया पहला टीका

बेंगलुरु ने सीएम येदियुरप्पा की मौजूदगी में एक नर्स को पहली कोरोना वैक्सीन लगाई गई। 

11:54 AM IST

बधाई..आपको वैक्सीन की पहली खुराक दी जा चुकी है

साकेत के मैक्स हॉस्पिटल में वैक्सीन लगवाने के बाद डॉक्टर संजय कुमार जायसवाल को Co-WIN प्लेटफॉर्म पर मैसेज आया कि बधाई। आपको कोविड 19 की खुराक दी जा चुकी है।

11:36 AM IST

भोपाल में संजय यादव को लगा पहला टीक

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में हमीदिया हॉस्पिटल में संजय यादव नाम के स्वास्थ्य कर्मचारी को पहला टीका लगा। 

11:36 AM IST

सफाई कर्मचारी को दी गई कोरोना की पहली वैक्सीन

दिल्ली एम्स में मनीष कुमार नाम के एक सफाई कर्मचारी को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज दी गई। इस दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन भी मौजूद रहे। सबने इस ऐतिहासिक मौके पर ताली बजाकर स्वागत किया।

11:26 AM IST

डॉ. रणदीप गुलेरिया और डॉ. विनोद पॉल ने लगवाया टीका

एम्स के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने भी वैक्सीन लगवाई। नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. विनोद के पॉल ने भी कोरोना वैक्सीन लगवाई। वैक्सीन लगवाने के पीछे एक बड़ी वजह है कि लोगों में वैक्सीन को लेकर भरोसा पैदा हो। 

11:15 AM IST

दिल्ली एम्स में लगा कोरोना का पहला टीका

कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए दिल्ली एम्स में पहला टीका लगाया गया। टीका लगते ही वहां  मौजूद नर्स और बाकी स्टॉफ ने तालियां बजाई। टीकाकरण के वक्त डॉक्टर हर्षवर्धन भी मौजूद थे।

11:11 AM IST

"पूरी दुनिया मान रही भारत का लोहा"

"भारत ने इस महामारी से जिस प्रकार से मुकाबला किया उसका लोहा आज पूरी दुनिया मान रही है। केंद्र और राज्य सरकारें, स्थानीय निकाय, हर सरकारी संस्थान, सामाजिक संस्थाएं, कैसे एकजुट होकर बेहतर काम कर सकते हैं, ये उदाहरण भी भारत ने दुनिया के सामने रखा।"

"मुझे याद है, एक देश में जब भारतीयों को टेस्ट करने के लिए मशीनें कम पड़ रहीं थीं तो भारत ने पूरी लैब भेज दी थी ताकि वहां से भारत आ रहे लोगों को टेस्टिंग की दिक्कत ना हो।"

"ऐसे समय में जब कुछ देशों ने अपने नागरिकों को चीन में बढ़ते कोरोना के बीच छोड़ दिया था, तब भारत, चीन में फंसे हर भारतीय को वापस लेकर आया। और सिर्फ भारत के ही नहीं, हम कई दूसरे देशों के नागरिकों को भी वहां से वापस निकालकर लाए।"

11:11 AM IST

पीएम ने बताया, लॉकडाउन लगाना कितना जरूरी था

"जनता कर्फ्यू, कोरोना के विरुद्ध हमारे समाज के संयम और अनुशासन का भी परीक्षण था, जिसमें हर देशवासी सफल हुआ। जनता कर्फ्यू ने देश को मनोवैज्ञानिक रूप से लॉकडाउन के लिए तैयार किया। हमने ताली-थाली और दीए जलाकर, देश के आत्मविश्वास को ऊंचा रखा।"

"17 जनवरी, 2020 वो तारीख थी, जब भारत ने अपनी पहली एडवायजरी जारी कर दी थी। भारत दुनिया के उन पहले देशों में से था जिसने अपने एयरपोर्ट्स पर यात्रियों की स्क्रीनिंग शुरू कर दी थी।"

10:55 AM IST

पीएम मोदी ने ताली थाली और दीया का जिक्र किया

"हमने ताली-थाली और दिया जलाकर देश के आत्मविश्वास को ऊंचा किया। जिसे दुनिया नहीं भाप पाई उसे रोकने का सबसे प्रभावी तरीका था जो जहां है वह वहीं रहे। इसलिए लॉकडाउन किया गया। लॉकडाउन का फैसला करना बहुत मुश्किल था। इसका लोगों की रोजी रोटी पर क्या प्रभाव पड़ेगा? इसका आकलन भी हमें था, लेकिन देश में जान है तो जहान है के मंत्र पर काम किया गया।"
 

10:55 AM IST

बोलते-बोलते भावुक हुए पीएम मोदी

टीकाकरण अभियान की शुरुआत करते हुए पीएम मोदी ने देशवासियों को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कोरोना काल को याद किया और बोलते-बोलते भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि कोरोना में बच्चों को मां से अलग कर दिया। मां चाह कर भी अपने बच्चे के पास नहीं जा पा रही थी। जो लोग चले गए उनको सम्मानजनक विदाई तक नहीं मिल पाई | कई योद्धा ऐसे रहे जो घर वापस ही नहीं लौट पाए।
 

10:38 AM IST

विश्व ने भारत पर विश्वास किया, हमने पूरा किया

"कोरोना से हमारी लड़ाई आत्मविश्वास और आत्मनिर्भरता की रही है। इस मुश्किल लड़ाई से लड़ने के लिए हम अपने आत्मविश्वास को कमजोर नहीं पड़ने देंगे, ये प्रण हर भारतीय में दिखा। भारत के वैक्सीन वैज्ञानिक, हमारा मेडिकल सिस्टम भारत की प्रक्रिया की पूरे विश्व में बहुत विश्वसनीयता है। हमने ये विश्वास अपने ट्रैक रिकॉर्ड से हासिल किया है।"

10:38 AM IST

वैक्सीन लगवाने से पहले मोदी ने किया अलर्ट

"भारत का टीकाकरण अभियान बहुत ही मानवीय और महत्वपूर्ण सिद्धांतों पर आधारित है। जिसे सबसे ज्यादा जरूरी है, उसे सबसे पहले कोरोना का टीका लगेगा। कोरोना वैक्सीन की 2 डोज लगनी बहुत जरूरी है। पहली और दूसरी डोज के बीच लगभग एक महीने का अंतराल भी रखा जाएगा। दूसरी डोज लगने के 2 हफ्ते बाद ही आपके शरीर में कोरोना के विरुद्ध जरूरी शक्ति विकसित हो पाएगी। भारत वैक्सीनेशन के अपने पहले चरण में ही 3 करोड़ लोगों का टीकाकरण कर रहा है। ऐसा न करें कि पहली डोज लगवाने के बाद दूसरी डोज न लगवाए। भूल कर भी ऐसी गलती न करें।"
 

10:38 AM IST

वैक्सीन बनाने में दिखा भारत का टैलेंट

"आमतौर पर एक वैक्सीन बनाने में बरसों लग जाते हैं लेकिन इतने कम समय में एक नहीं दो मेड इन इंडिया वैक्सीन तैयार हुई हैं। कई और वैक्सीन पर भी तेज गति से काम चल रहा है, ये भारत के सामर्थ्य, वैज्ञानिक दक्षता और टैलेंट का जीता-जागता सबूत है।"

10:38 AM IST

"इतिहास में पहले कभी ऐसा अभियान नहीं चलाया गया"

"इतिहास में इस प्रकार का और इतने बड़े स्तर का टीकाकरण अभियान पहले कभी नहीं चलाया गया है। दुनिया के 100 से भी ज्यादा ऐसे देश हैं जिनकी जनसंख्या 3 करोड़ से कम है। और भारत वैक्सीनेशन के अपने पहले चरण में ही 3 करोड़ लोगों का टीकाकरण कर रहा है।"

10:38 AM IST

वैक्सीन का 2 डोज लगनी बहुत जरूरी है: मोदी

"मैं ये बात फिर याद दिलाना चाहता हूं कि कोरोना वैक्सीन की 2 डोज लगनी बहुत जरूरी है। पहली और दूसरी डोज के बीच, लगभग एक महीने का अंतराल भी रखा जाएगा। दूसरी डोज लगने के 2 हफ्ते बाद ही आपके शरीर में कोरोना के विरुद्ध जरूरी शक्ति विकसित हो पाएगी।"

10:34 AM IST

वैक्सीन से जुड़े वैज्ञानिक बधाई के हकदार हैं: मोदी

पीएम मोदी ने कहा, आज वो वैज्ञानिक, वैक्सीन रिसर्च से जुड़े अनेकों लोग विशेष प्रशंसा के हकदार हैं, जो बीते कई महीनों से कोरोना के खिलाफ वैक्सीन बनाने में जुटे थे। आमतौर पर एक वैक्सीन बनाने में बरसों लग जाते हैं। लेकिन इतने कम समय में एक नहीं, दो मेड इन इंडिया वैक्सीन तैयार हुई हैं।

10:22 AM IST

कर्नाटक: बलून लगाकर सजाया गया सेंटर

कर्नाटकः देश में आज से शुरू हो रहे वैक्सीनेशन के लिए बेंगलौर मेडिकल कॉलेज एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट को सजाया गया है। 

10:22 AM IST

महाराष्ट्र: वैक्सीनेशन सेंटर के बाहर रेड कारपेट

महाराष्ट्रः देशभर में आज से कोरोना वायरस का वैक्सीनेशन शुरू हो रहा है, इसको देखते हुए मुंबई के बीकेसी कोविड-19 वैक्सीनेशन सेंटर को सजाया गया है।

8:34 AM IST

हैदराबाद के नामपल्ली इलाके में वैक्सीनेशन सेंटर सजाया गया

तेलंगानाः देशभर में आज से शुरू हो रहे वैक्सीनेशन कार्यक्रम से पहले हैदराबाद के नामपल्ली इलाके के कोविड-19 वैक्सीनेशन सेंटर को सजाया गया है। देश में आज 3,006 साइट पर वैक्सीनेशन किया जाएगा।

8:34 AM IST

मेरी बारी आएगी तो टीका लगवाऊंगा: योगी

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को कहा कि जब उनकी बारी आएगी तो वह कोरोनवायरस का टीका लगवाएंगे। उन्होंने यह भी कहा कि टीका लगाने के लिए परेशान होने की जरूरत नहीं है। भारत में सभी को टीका लगाया जाएगा, लेकिन अभी जिसे सबसे ज्यादा जरूरत है उसे प्राथमिकता दी जा रही है।

COVID-19 वैक्सीन नहीं लेना चाहता तो क्या करना होगा? साइड इफेक्ट से लेकर डोज तक जानें सबकुछ

7:35 AM IST

पीएम मोदी 10.30 बजे अभियान की शुरुआत करेंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सुबह 10.30 बजे वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कोविड-19 टीकाकरण अभियान का शुभारंभ करेंगे। लॉन्च के दौरान सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की 3,006 साइट वर्चुअल रूप से जुड़ी रहेंगी।

7:35 AM IST

वैक्सीन लगने के बाद एक सर्टिफिकेट मिलेगा

जैसे ही लोगों को वैक्सीन लगेगी, उनका डेटा Co-Win प्लेटफॉर्म पर किया जाएगा। टीका लगने के बाद एक डिजिटल सर्टिफिकेट दिया जाएगा। जब उसे दूसरी बार टीका लगाया जाएगा तब उसे फाइनल सर्टिफिकेट दिया जाएगा। इससे अफवाहों और गलत सूचना पर अंकुश लगाने और वैक्सीनेशन के बाद प्रतिकूल घटनाओं की सही रिपोर्टिंग में मदद मिलेगी।

7:30 AM IST

कोविशिल्ड और कोवैक्सीन लगाई जाएंगी

भारत के ड्रग रेगुलेटर CDSCO ने दो टीकों, कोवैक्सीन और कॉविशिल्ड को मंजूरी दी है। उन्हें एक आपातकालीन स्थिति में उपयोग की मंजूरी है, जिसका अर्थ है कि कंपनियों द्वारा क्लिनिकल परीक्षण पूरा नहीं होने के बावजूद उनका उपयोग किया जा सकता है। कोविशिल्ड AZD1222 का भारतीय संस्करण है, जो कि AstraZeneca और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय द्वारा विकसित वैक्सीन है। यह पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) द्वारा विकसित और निर्मित है। कोवैक्सीन को हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक द्वारा नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के सहयोग से तैयार किया गया है। इन दोनों के अलावा चार और स्वदेशी वैक्सीन पर काम चल रहा है।
 

7:30 AM IST

जैसे मतदान होता है, वैसी ही वैक्सीन लगाने की व्यवस्था

भारत में 130 करोड़ लोगों की आबादी है। वैक्सीन के लिए चुनाव कराने के अनुभवों का इस्तेमाल किया जाएगा। गृह मंत्रालय ने चुनाव आयोग (EC) से अनुरोध किया है कि वह प्राथमिकता वाले समूहों से संबंधित लोगों की पहचान करने के लिए लोकसभा और विधान सभा चुनावों के लिए नवीनतम मतदाता सूची के आंकड़ों को साझा करे। यह अभ्यास 18 वर्ष से अधिक आयु वालों के लिए किया जाएगा। जहां वैक्सीन लगेगी वहां हर साइट पर चुनाव बूथ की तरह काम किया जाएगा। लाभार्थी सूची की तीन प्रतियां होंगी। ये नाम अधिकारियों द्वारा सरकार के Co-Win पोर्टल पर भी अपलोड किए जाएंगे। शनिवार की सूची दो दिन पहले अपलोड की गई थी। एक अधिकारी ने कहा, टीकाकरण सत्र सुबह 9 से शाम 5 बजे तक है। जो भी शाम 5 बजे तक आएगा, उसे शाम 5 बजे के बाद भी टीका लगाया जाएगा। यह ठीक वैसे ही है जैसे चुनावों में होता है। 

7:30 AM IST

सबसे पहले किसे वैक्सीन लगेगी?

प्राथमिकता समूहों में स्वास्थ्य कार्यकर्ता, सफाई कर्माचारी, सेना और आपदा प्रबंधन स्वयंसेवकों को प्राथमिकता मिलेगी। सरकार ने कहा है कि शनिवार को देश के 3,006 टीकाकरण स्थलों में से प्रत्येक में लगभग 100 लोग शॉट्स लगेंगे। टीकाकरण का पहला चरण कुछ महीनों में पूरा होने की संभावना है।
 

2:35 PM IST:

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मुंबई में बीकेसी जंबो COVID19 अस्पताल में टीकाकरण केंद्र का उद्घाटन किया।

2:33 PM IST:


AIMIM अध्यक्ष और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी टीकाकरण अभियान के दौरान हैदराबाद के उस्मानिया जनरल हॉस्पिटल पहुंचे।  कई AIMIM विधायकों ने भी अलग-अलग हॉस्पिटल पहुंच टीकाकरण का जायजा लिया।

2:06 PM IST:

देश में कोरोना वैक्सीन लगाने का अभियान शुरू हो चुका है। एम्स में सफाई कर्मचारी मनीष कुमार को पहली वैक्सीन लगी। वैक्सीन लगवाने के बाद आधे घंटे तक उन्हें वेटिंग रूम में रखा गया। मनीष ने कहा कि वैक्सीन लगवाने के बाद मेरे मन में जो डर था वह निकल गया। लोगों को घबराने की जरूरत नहीं है। वैक्सीन सबको लगवानी चाहिए। 

1:09 PM IST:

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा, लोगों की सुरक्षा हमेशा सर्वोपरि रही है। कोवैक्सीन के तीसरे चरण का परीक्षण जारी हैं। परिणाम देखने के बाद ही विशेषज्ञों ने अनुमति दी है। किसी डर की कोई जरूरत नहीं है। हमें बिल्कुल निडर रहना होगा और इस टीके की सुरक्षा सुनिश्चित करनी होगी और धैर्य भी रखना होगा। हालांकि दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल (RML Hosptial) के रेजिडेंट डॉक्टरों ने अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक को पत्र लिखकर 'कोवैक्सीन' की बजाय 'कोविशील्ड' का टीका लगाने की मांग की है।

12:38 PM IST:


सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने कोरोना की वैक्सीन लगवाई।

12:05 PM IST:

भूटान के प्रधानमंत्री ने कोरोनो वैक्सीन अभियान के शुरू होने पर पीएम नरेंद्र मोदी को बधाई दी है। पीएम ने कहा, मैं आज देशव्यापी COVID-19 टीकाकरण अभियान के ऐतिहासिक लॉन्च के लिए पीएम मोदी और भारत के लोगों को बधाई देना चाहूंगा। 

12:05 PM IST:

बेंगलुरु ने सीएम येदियुरप्पा की मौजूदगी में एक नर्स को पहली कोरोना वैक्सीन लगाई गई। 

11:55 AM IST:

साकेत के मैक्स हॉस्पिटल में वैक्सीन लगवाने के बाद डॉक्टर संजय कुमार जायसवाल को Co-WIN प्लेटफॉर्म पर मैसेज आया कि बधाई। आपको कोविड 19 की खुराक दी जा चुकी है।

11:43 AM IST:

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में हमीदिया हॉस्पिटल में संजय यादव नाम के स्वास्थ्य कर्मचारी को पहला टीका लगा। 

11:36 AM IST:

दिल्ली एम्स में मनीष कुमार नाम के एक सफाई कर्मचारी को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज दी गई। इस दौरान केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन भी मौजूद रहे। सबने इस ऐतिहासिक मौके पर ताली बजाकर स्वागत किया।

11:28 AM IST:

एम्स के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने भी वैक्सीन लगवाई। नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. विनोद के पॉल ने भी कोरोना वैक्सीन लगवाई। वैक्सीन लगवाने के पीछे एक बड़ी वजह है कि लोगों में वैक्सीन को लेकर भरोसा पैदा हो। 

11:20 AM IST:

कोरोना वायरस को खत्म करने के लिए दिल्ली एम्स में पहला टीका लगाया गया। टीका लगते ही वहां  मौजूद नर्स और बाकी स्टॉफ ने तालियां बजाई। टीकाकरण के वक्त डॉक्टर हर्षवर्धन भी मौजूद थे।

11:11 AM IST:

"भारत ने इस महामारी से जिस प्रकार से मुकाबला किया उसका लोहा आज पूरी दुनिया मान रही है। केंद्र और राज्य सरकारें, स्थानीय निकाय, हर सरकारी संस्थान, सामाजिक संस्थाएं, कैसे एकजुट होकर बेहतर काम कर सकते हैं, ये उदाहरण भी भारत ने दुनिया के सामने रखा।"

"मुझे याद है, एक देश में जब भारतीयों को टेस्ट करने के लिए मशीनें कम पड़ रहीं थीं तो भारत ने पूरी लैब भेज दी थी ताकि वहां से भारत आ रहे लोगों को टेस्टिंग की दिक्कत ना हो।"

"ऐसे समय में जब कुछ देशों ने अपने नागरिकों को चीन में बढ़ते कोरोना के बीच छोड़ दिया था, तब भारत, चीन में फंसे हर भारतीय को वापस लेकर आया। और सिर्फ भारत के ही नहीं, हम कई दूसरे देशों के नागरिकों को भी वहां से वापस निकालकर लाए।"

11:11 AM IST:

"जनता कर्फ्यू, कोरोना के विरुद्ध हमारे समाज के संयम और अनुशासन का भी परीक्षण था, जिसमें हर देशवासी सफल हुआ। जनता कर्फ्यू ने देश को मनोवैज्ञानिक रूप से लॉकडाउन के लिए तैयार किया। हमने ताली-थाली और दीए जलाकर, देश के आत्मविश्वास को ऊंचा रखा।"

"17 जनवरी, 2020 वो तारीख थी, जब भारत ने अपनी पहली एडवायजरी जारी कर दी थी। भारत दुनिया के उन पहले देशों में से था जिसने अपने एयरपोर्ट्स पर यात्रियों की स्क्रीनिंग शुरू कर दी थी।"

10:57 AM IST:

"हमने ताली-थाली और दिया जलाकर देश के आत्मविश्वास को ऊंचा किया। जिसे दुनिया नहीं भाप पाई उसे रोकने का सबसे प्रभावी तरीका था जो जहां है वह वहीं रहे। इसलिए लॉकडाउन किया गया। लॉकडाउन का फैसला करना बहुत मुश्किल था। इसका लोगों की रोजी रोटी पर क्या प्रभाव पड़ेगा? इसका आकलन भी हमें था, लेकिन देश में जान है तो जहान है के मंत्र पर काम किया गया।"
 

10:59 AM IST:

टीकाकरण अभियान की शुरुआत करते हुए पीएम मोदी ने देशवासियों को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कोरोना काल को याद किया और बोलते-बोलते भावुक हो गए। उन्होंने कहा कि कोरोना में बच्चों को मां से अलग कर दिया। मां चाह कर भी अपने बच्चे के पास नहीं जा पा रही थी। जो लोग चले गए उनको सम्मानजनक विदाई तक नहीं मिल पाई | कई योद्धा ऐसे रहे जो घर वापस ही नहीं लौट पाए।
 

10:49 AM IST:

"कोरोना से हमारी लड़ाई आत्मविश्वास और आत्मनिर्भरता की रही है। इस मुश्किल लड़ाई से लड़ने के लिए हम अपने आत्मविश्वास को कमजोर नहीं पड़ने देंगे, ये प्रण हर भारतीय में दिखा। भारत के वैक्सीन वैज्ञानिक, हमारा मेडिकल सिस्टम भारत की प्रक्रिया की पूरे विश्व में बहुत विश्वसनीयता है। हमने ये विश्वास अपने ट्रैक रिकॉर्ड से हासिल किया है।"

10:46 AM IST:

"भारत का टीकाकरण अभियान बहुत ही मानवीय और महत्वपूर्ण सिद्धांतों पर आधारित है। जिसे सबसे ज्यादा जरूरी है, उसे सबसे पहले कोरोना का टीका लगेगा। कोरोना वैक्सीन की 2 डोज लगनी बहुत जरूरी है। पहली और दूसरी डोज के बीच लगभग एक महीने का अंतराल भी रखा जाएगा। दूसरी डोज लगने के 2 हफ्ते बाद ही आपके शरीर में कोरोना के विरुद्ध जरूरी शक्ति विकसित हो पाएगी। भारत वैक्सीनेशन के अपने पहले चरण में ही 3 करोड़ लोगों का टीकाकरण कर रहा है। ऐसा न करें कि पहली डोज लगवाने के बाद दूसरी डोज न लगवाए। भूल कर भी ऐसी गलती न करें।"
 

10:45 AM IST:

"आमतौर पर एक वैक्सीन बनाने में बरसों लग जाते हैं लेकिन इतने कम समय में एक नहीं दो मेड इन इंडिया वैक्सीन तैयार हुई हैं। कई और वैक्सीन पर भी तेज गति से काम चल रहा है, ये भारत के सामर्थ्य, वैज्ञानिक दक्षता और टैलेंट का जीता-जागता सबूत है।"

10:43 AM IST:

"इतिहास में इस प्रकार का और इतने बड़े स्तर का टीकाकरण अभियान पहले कभी नहीं चलाया गया है। दुनिया के 100 से भी ज्यादा ऐसे देश हैं जिनकी जनसंख्या 3 करोड़ से कम है। और भारत वैक्सीनेशन के अपने पहले चरण में ही 3 करोड़ लोगों का टीकाकरण कर रहा है।"

10:39 AM IST:

"मैं ये बात फिर याद दिलाना चाहता हूं कि कोरोना वैक्सीन की 2 डोज लगनी बहुत जरूरी है। पहली और दूसरी डोज के बीच, लगभग एक महीने का अंतराल भी रखा जाएगा। दूसरी डोज लगने के 2 हफ्ते बाद ही आपके शरीर में कोरोना के विरुद्ध जरूरी शक्ति विकसित हो पाएगी।"

10:35 AM IST:

पीएम मोदी ने कहा, आज वो वैज्ञानिक, वैक्सीन रिसर्च से जुड़े अनेकों लोग विशेष प्रशंसा के हकदार हैं, जो बीते कई महीनों से कोरोना के खिलाफ वैक्सीन बनाने में जुटे थे। आमतौर पर एक वैक्सीन बनाने में बरसों लग जाते हैं। लेकिन इतने कम समय में एक नहीं, दो मेड इन इंडिया वैक्सीन तैयार हुई हैं।

10:24 AM IST:

कर्नाटकः देश में आज से शुरू हो रहे वैक्सीनेशन के लिए बेंगलौर मेडिकल कॉलेज एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट को सजाया गया है। 

10:23 AM IST:

महाराष्ट्रः देशभर में आज से कोरोना वायरस का वैक्सीनेशन शुरू हो रहा है, इसको देखते हुए मुंबई के बीकेसी कोविड-19 वैक्सीनेशन सेंटर को सजाया गया है।

8:41 AM IST:

तेलंगानाः देशभर में आज से शुरू हो रहे वैक्सीनेशन कार्यक्रम से पहले हैदराबाद के नामपल्ली इलाके के कोविड-19 वैक्सीनेशन सेंटर को सजाया गया है। देश में आज 3,006 साइट पर वैक्सीनेशन किया जाएगा।

8:44 AM IST:

उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को कहा कि जब उनकी बारी आएगी तो वह कोरोनवायरस का टीका लगवाएंगे। उन्होंने यह भी कहा कि टीका लगाने के लिए परेशान होने की जरूरत नहीं है। भारत में सभी को टीका लगाया जाएगा, लेकिन अभी जिसे सबसे ज्यादा जरूरत है उसे प्राथमिकता दी जा रही है।

COVID-19 वैक्सीन नहीं लेना चाहता तो क्या करना होगा? साइड इफेक्ट से लेकर डोज तक जानें सबकुछ

7:36 AM IST:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सुबह 10.30 बजे वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कोविड-19 टीकाकरण अभियान का शुभारंभ करेंगे। लॉन्च के दौरान सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की 3,006 साइट वर्चुअल रूप से जुड़ी रहेंगी।

7:35 AM IST:

जैसे ही लोगों को वैक्सीन लगेगी, उनका डेटा Co-Win प्लेटफॉर्म पर किया जाएगा। टीका लगने के बाद एक डिजिटल सर्टिफिकेट दिया जाएगा। जब उसे दूसरी बार टीका लगाया जाएगा तब उसे फाइनल सर्टिफिकेट दिया जाएगा। इससे अफवाहों और गलत सूचना पर अंकुश लगाने और वैक्सीनेशन के बाद प्रतिकूल घटनाओं की सही रिपोर्टिंग में मदद मिलेगी।

7:33 AM IST:

भारत के ड्रग रेगुलेटर CDSCO ने दो टीकों, कोवैक्सीन और कॉविशिल्ड को मंजूरी दी है। उन्हें एक आपातकालीन स्थिति में उपयोग की मंजूरी है, जिसका अर्थ है कि कंपनियों द्वारा क्लिनिकल परीक्षण पूरा नहीं होने के बावजूद उनका उपयोग किया जा सकता है। कोविशिल्ड AZD1222 का भारतीय संस्करण है, जो कि AstraZeneca और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय द्वारा विकसित वैक्सीन है। यह पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) द्वारा विकसित और निर्मित है। कोवैक्सीन को हैदराबाद स्थित भारत बायोटेक द्वारा नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के सहयोग से तैयार किया गया है। इन दोनों के अलावा चार और स्वदेशी वैक्सीन पर काम चल रहा है।
 

7:31 AM IST:

भारत में 130 करोड़ लोगों की आबादी है। वैक्सीन के लिए चुनाव कराने के अनुभवों का इस्तेमाल किया जाएगा। गृह मंत्रालय ने चुनाव आयोग (EC) से अनुरोध किया है कि वह प्राथमिकता वाले समूहों से संबंधित लोगों की पहचान करने के लिए लोकसभा और विधान सभा चुनावों के लिए नवीनतम मतदाता सूची के आंकड़ों को साझा करे। यह अभ्यास 18 वर्ष से अधिक आयु वालों के लिए किया जाएगा। जहां वैक्सीन लगेगी वहां हर साइट पर चुनाव बूथ की तरह काम किया जाएगा। लाभार्थी सूची की तीन प्रतियां होंगी। ये नाम अधिकारियों द्वारा सरकार के Co-Win पोर्टल पर भी अपलोड किए जाएंगे। शनिवार की सूची दो दिन पहले अपलोड की गई थी। एक अधिकारी ने कहा, टीकाकरण सत्र सुबह 9 से शाम 5 बजे तक है। जो भी शाम 5 बजे तक आएगा, उसे शाम 5 बजे के बाद भी टीका लगाया जाएगा। यह ठीक वैसे ही है जैसे चुनावों में होता है। 

7:30 AM IST:

प्राथमिकता समूहों में स्वास्थ्य कार्यकर्ता, सफाई कर्माचारी, सेना और आपदा प्रबंधन स्वयंसेवकों को प्राथमिकता मिलेगी। सरकार ने कहा है कि शनिवार को देश के 3,006 टीकाकरण स्थलों में से प्रत्येक में लगभग 100 लोग शॉट्स लगेंगे। टीकाकरण का पहला चरण कुछ महीनों में पूरा होने की संभावना है।
 

देश में कोरोना के अंत की शुरुआत हो चुकी है। 29 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की 3006 साइट्स पर एक साथ वैक्सीनेशन कार्यक्रम चलाया जा रहा है। पहले फेज में हेल्थवर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स का टीकाकरण होगा। पहले दिन हर साइट पर कम से कम 100 लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। पहले चरण में लगाए जा रही वैक्सीन मुफ्त है। पीएम नरेंद्र मोदी ने इस सप्ताह की शुरुआत में कहा था, केंद्र 3 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाने का खर्च देगी। भारत में वायरस से अब तक एक करोड़ 5.27 लाख से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं और 1.52 लाख लोगों की मौत हो चुकी है।