Asianet News HindiAsianet News Hindi

बचपन में चल बसे पिता, लेकिन नहीं हुआ हताश, अब वर्ल्ड की नंबर दो यूनिवर्सिटी में फ्री पढ़ेगा बेटा

यह कहानी हिम्मत और जूनून की है। परिस्थितियां कैसी भी हों, अगर आपके अंदर कुछ करने का जज्बा है, तो जरूर सफल होते हैं। एक छोटे से गांव के रहने वाले चेतन को दुनिया की नंबर दो स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी में फुल स्कॉलरशिप मिली है।
 

Chetan, a resident of a village in Sikar, received full scholarship at Stanford University
Author
Sikar, First Published Oct 28, 2019, 6:18 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

सीकर. यह कहानी सीकर जिले के फतेहपुर कस्बे के समीपवर्ती एक छोटे-से गांव उदनसरी के रहने वाले चेतन कुल्हरी की है। चेतन को दुनिया की नंबर दो स्टैफन यूनिवर्सिटी में फुल स्कॉलरशिप मिली है। यानी चेतन यहां से इंजीनियरिंग की पढ़ाई करेगा। इसके लिए एक पैसा भी खर्च नहीं करना पड़ेगा। चेतन को इसके लिए ऑनलाइन इंटरव्यू देना पड़ा था। यह कोर्स चार साल का है। इसके लिए अमेरिका में हॉस्टल और खाने का खर्चा भी यूनिवर्सिटी उठाएगी। चेतन अमेरिका पहुंच चुका है।


पिता के निधन के बाद चाचा ने दिया सहारा..
चेतन के पिता का बचपन में ही निधन हो गया था। परिवार पर आर्थिक संकट मंडराने लगा था। ऐसा लगने लगा था कि शायद चेतन अपनी पढ़ाई तक आगे जारी नहीं रख पाए। लेकिन कहते हैं कि दुनिया में अच्छे और मददगार लोगों की भी कोई कमी नहीं है। चेतन के चाचा राजेंद्र उसकी मदद को आगे आए। चेतन पढ़ने में शुरू से ही होशियार था। चेतन ने पिछले साल ही 12वीं की परीक्षा पास की थी। इसके बाद उसने विदेश में पढ़ने की ठानी। उसका कई यूनिवर्सिटी में एडमिशन भी हो गया था। लेकिन चेतन का सपना अमेरिका की स्टैनफोर्ड यूनवर्सिटी में जाकर पढ़ाई करना था। उसने कोशिश जारी रखी। रोज 14-15 घंटे पढ़ाई करत हुए आखिरकार अपनी मंजिल पा ली। चेतन के मुताबिक, उसके पिता का सपना था कि वो पढ़-लिखकर कुछ बड़ा अचीव करे।


 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios