Asianet News Hindi

वर्ल्ड वेटलैंड डे कल, एनएमसीजी और इंडिया वॉटर फाउंडेशन आयोजित करेगा ये कार्यक्रम

इस वर्ष की थीम वेटलैंड और वॉटर होगी, जिसके माध्यम से विश्व भर में मीठे जल के इन स्त्रोतों को संरक्षित करने के साथ ही भूमिगत जल के स्तर को बढ़ाने के कार्यों को प्रोत्साहित देना है। वर्ष 2021 के इस अभियान के माध्यम से, मीठे जल की मात्रा और गुणवत्ता में वेटलैंड्स के योगदान को प्रमुखता से आम जन के बीच पहुंचाया जाना है। 
 

On February 2, NMCG and India Water Foundation will host the event on World Wetland Day asa
Author
Delhi, First Published Feb 2, 2021, 12:02 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली। वेटलैंड्स के महत्व के प्रति लोगों को जागरुक करने और उनके संरक्षण को बढ़ावा देने के लिए 2 फरवरी को वर्ल्ड वेटलैंड डे मनाया जाता है। जलशक्ति मंत्रालय और नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा पिछले साल की तरह इस बार भी इंडिया वॉटर फाउंडेशन के साथ मिलकर तीन दिवसीय समारोह का आयोजन करेगा। जिसमे आम लोगों को वेटलैंड्स के संरक्षण और संवर्धन के प्रति जागरूक करने से जुड़े मुद्दों पर विस्तृत चर्चा की जाएगी। बता दें कि इस आयोजन का मुख्य उद्देश्य वेटलैंड प्रबंधन के विभिन्न पहलुओं में बेहतर सामंजस्य बनाने के साथ ही उन्हें आर्थिक विकास के एक संकेतक में परिवर्तित करना है। साथ ही, इन्हें वेटलैंड्स और जल, वेटलैंड्स और खाद्य सुरक्षा, वेटलैंड्स और जलवायु परिवर्तन सहित जलवायु परिवर्तन के बीच वेटलैंड जैव विविधता के साथ भी जोड़ना है।

इस थीम पर होगी चर्चा
इस वर्ष की थीम वेटलैंड और वॉटर होगी, जिसके माध्यम से विश्व भर में मीठे जल के इन स्त्रोतों को संरक्षित करने के साथ ही भूमिगत जल के स्तर को बढ़ाने के कार्यों को प्रोत्साहित देना है। वर्ष 2021 के इस अभियान के माध्यम से, मीठे जल की मात्रा और गुणवत्ता में वेटलैंड्स के योगदान को प्रमुखता से आम जन के बीच पहुंचाया जाना है। 

ये बताएंगे महत्व
2 फरवरी 2021 को सुबह 10.30 से दोपहर एक बजे तक कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा, जिसमें केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, केन्द्रीय जल शक्ति राज्यमंत्री रतनलाल कटारिया, यूएनईपी इंडिया के हेड अतुल बगई, जल शक्ति मंत्रालय के सचिव पंकज कुमार, राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के महानिदेशक राजीव रंजन मिश्रा, विज्ञान प्रौद्योगिकी विभाग भारत सरकार के सलाहकार और प्रमुख डॉ. अखिलेश गुप्ता, भारतीय वन्यजीव संस्थान के निदेशक धनंजय मोहन, दक्षिण एशिया वेटलैंड्स इंटरनेशनल के निदेशक डॉ रितेश कुमार, जापान सरकार जेआईसीए के एमपी सिंह, इंडिया वाटर फाउंडेशन के अध्यक्ष डॉ अरविंद कुमार मुख्य वक्ता के रूप में शामिल होंगे।
5

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios