Arabian Sea Cyclone  

(Search results - 5)
  • undefined

    NationalMay 18, 2021, 11:23 AM IST

    तौकते: समुद्र में फंसे 4 जहाज, इनमें 700 लोग सवार थे; नेवी ने 215 का रेस्क्यू किया; 495 अभी भी फंसे

    चक्रवाती तूफान तौकते महाराष्ट्र, गोवा, गुजरात से लेकर कर्नाटक तबाही मचा रहा है। इन राज्यों में तेज बारिश और तूफान का कहर जारी है। इसी बीच मुंबई के पास समुद्र में चार जहाज फंसे होने की खबर सामने आई है। पहले बताया जा रहा था कि दो जहाज फंसे हैं। समुद्र में बार्ज P305, सागर भूषण , बार्ज एस एस 3 और बार्ज गल कन्ट्रेक्टर नाम के चार जहाज फंसे हैं। इनमें 700 लोग सवार थे। अभी तक नेवी ने 315 का रेस्क्यू किया है। वहीं, 495 जिंदगियां अभी भी खतरे में हैं। 

  • <p>9 June 1960 cyclonic, cyclonic Bloody Mary, China,cyclonic rainfall, cyclonic storm,cyclonic depression,cyclonic precipitation,cyclonic circulation,cyclonic meaning,cyclonic rainfall meaning,cyclonic rainfall in india,cyclonic and anticyclonic,cyclonic activity,cyclonic activity in bay of bengal,cyclonic activity in arabian sea,cyclone alert,cyclonic air filter,cyclone amphan,cyclonic action,a cyclonic storm,a cyclonic circulation&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

    WorldJun 9, 2020, 12:21 PM IST

    बिछ गई थीं 1600 लोगों की लाशें, सबकुछ हो गया था तबाह...ब्लडी मैरी तूफान ने ऐसे मचाई थी तबाही

    नई दिल्ली. अम्फान और निसर्ग चक्रवाती तूफान के बाद अब बंगाल की खाड़ी के ऊपर कम दबाव वाला क्षेत्र बन रहा है। भारतीय मौसम विभाग ने बताया कि बंगाल की खाड़ी के पूर्वी मध्य क्षेत्र में गति नाम का चक्रवाती तूफान आ सकता है। 60 साल पहले (1960) चीन में जून महीने के पहले हफ्ते में मैनी नाम का तूफान आया था, जिसमें 1600 से ज्यादा लोगों की जान चली गई। यह तूफान इतना भयंकर था कि ज्वाइंट टाइफून वार्निंग सेंटर (JTWC) ने इसे "ब्लडी मैरी" नाम दिया था। इस तूफान की शुरुआत 2 जून को हुई। मैरी तूफान ने 8 जून को हांगकांग में लैंडफॉल बनाया और ग्वांगडोंग और फुजियान तक गया। इसके बाद वापस प्रशांत महासागर में पहुंच गया।
     

  • undefined

    NationalJun 3, 2020, 12:31 PM IST

    कहीं उड़े छत तो कहीं पूरा पेड़ ही उखड़ गया, प्लेन तक हिलने लगे...ऐसी थी महाचक्रवात अम्फान की तबाही

    नई दिल्ली. महाराष्ट्र और गुजरात में निसर्ग तूफान ने दस्तक दे दी है। तूफान के असर से वहां जोरदार बारिश और तेज हवाएं चल रही हैं। कई जगहों पर पेड़ भी गिर गए हैं। वहीं, लोगों को राहत देने के लिए महाराष्ट्र में लगभग 40 हजार से अधिक लोगों को तटीय इलाकों से सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया है। जबकि गुजरात में भी लगभग 80 हजार लोगों को राहत शिविर में रखा गया है। वहीं, स्थिति को देखते हुए एनडीआरएफ की टीम ने मोर्चा संभाल रखा है। निसर्ग तूफान ने 120 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से महाराष्ट्र और गुजरात की ओर बढ़ रहा है। इससे पहले पिछले दिनों पश्चिम बंगाल और ओडिशा के अलावा पड़ोसी देश बांग्लादेश में भारी तबाही मचाने वाले 'अम्फान' से लोग उबरे भी नहीं थे कि अब निसर्ग भी लगभग उतनी ही ताकत के साथ आ रहा है। भयंकर चक्रवाती तूफान अम्फान ने भारी तबाही मचाई थी। अकेले पश्चिम बंगाल में इससे 13 अरब डॉलर के नुकसान की आशंका जताई गई है। जबकि 80 से अधिक लोगों की मौत हुई थी। आइए देखते हैं ये तूफान किस प्रकार से भयंकर तबाही मचा कर जाते हैं......

  • <p>mumbai</p>

    NationalJun 3, 2020, 7:58 AM IST

    महाराष्ट्र से गुजरा चक्रवात निसर्ग कमजोर पड़ा, रायगढ़, सिंधुदुर्ग और रत्नागिरी सबसे अधिक प्रभावित

    अरब सागर से उठा डीप डिप्रेशन मंगलवार को चक्रवाती तूफान में बदल गया। महाराष्ट्र और गुजरात के तटीय इलाकों की ओर बढ़ा। तूफान महाराष्ट्र के अलीबाग तट से टकारा गया है। महाराष्ट्र में जोरदार बारिश हो रही है। तूफान निसर्ग का सबसे ज्यादा असर रायगढ़, सिंधुदुर्ग और रत्नागिरी जिले में देखने को मिल रहा है।

  • undefined

    NationalJun 2, 2020, 10:09 AM IST

    अब निसर्ग तूफान की दस्तक, 100 किमी की रफ्तार से चलेगी हवा; 3 जून को महाराष्ट्र के तट से टकराएगा, अलर्ट

    भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक निसर्ग तूफान 3 जून को महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में हरिहरेश्वर और दमन के बीच उत्तर महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के तटों से टकरा सकता है। इस दौरान करीब 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। जिसको लेकर महाराष्ट्र और गुजरात में अलर्ट जारी कर दिया गया है। इसके साथ ही NDRF की टीमों की तैनाती की गई है।