Bhopal Corona  

(Search results - 90)
  • <p>mp news</p>
    Video Icon

    Madhya PradeshJun 15, 2021, 3:31 PM IST

    रजिस्ट्रेशन से लेकर पिक एंड ड्रॉप, वैक्सीनेशन के लिए इन लोगों को मिल रही सारी सुविधा

    वीडियो डेस्क। मध्य प्रदेश के भोपाल में सोमवार को पहली बार दिव्यांगों के लिए विशेष वैक्सीनेशन ड्राइव की शुरुआत की गई। यहां दिव्यांगों को वैक्सीन लगाई गई। इस कैंप की शुरुआत जिला प्रशासन और एमपी टूरिज्म ने साथ मिलकर की है। 

  • undefined

    NationalJun 13, 2021, 6:00 AM IST

    CORONA WINNER: पॉजिटिव-निगेटिव बीच जिंदगी ने दिया एक और टेस्ट का मौका, बहुत कुछ सिखाने वाली है इनकी कहानी

    देश में हर दिन कोरोना के लाखों केस आ रहे रहे हैं। हजारों लोग मर भी रहे हैं, जबकि ठीक होने वालों की तादाद लाखों में है। फिर भी, इंसान मरने वालों का आंकड़ा देखकर डर और खौफ में जी रहा है। सबको लग रहा है हर कोई इस वायरस की चपेट में आ जाएगा, जबकि ऐसा बिल्कुल नहीं है। सावधानी, बचाव और पॉजिटिव सोच रखने वाले शख्स से यह बीमारी कोसों दूर भागती है।

  • undefined

    NationalJun 10, 2021, 6:00 AM IST

    जिंदगी में कोई संघर्ष न आए, ये असंभव है...लेकिन हमें हथियार नहीं डालना है, यह याद रखें

    जिंदगी संघर्षों से लड़कर ही अपने लिए खुशियां ढूंढ़ पाती है। बात चाहे दूसरी मुसीबतों की हो या कोरोना संकट की; इनसे वही जीता, जिसने हार नहीं मानी। यकीनन ही कोरोना की दूसरी लहर बेहद खतरनाक साबित हुई, फिर भी लोग लड़े...हार नहीं मानी और संक्रमण को हराकर दुबारा सामान्य जिंदगी में लौटे। पढ़ते हैं एक ऐसे ही शख्स की कहानी, जिसका हौसला देखकर डॉक्टर भी मुस्करा दिए थे।

  • undefined

    NationalJun 7, 2021, 12:31 PM IST

    Corona Winner: कैंसर पीड़ित मां की हालत देख टूटा था परिवार, 2 साल के बेटे से होना पड़ा दूर

    कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में तबाही मचा रखी है। हजारों लोग हर दिन अपनी जान गवां रहे हैं। लेकिन जो लोग इस वायरस को हराकर वापस लौट रहे हैं, उनके लिए ये कोई दूसरे जीवन से कम नहीं है। कुछ ऐसा ही महसूस कर रहे हैं मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के रहने वाले राजेश भदौरिया। जिनके घर में उनके अलावा उनका बड़ा भाई, मां और पिता संक्रमित थे। लंग कैंसर से पीड़ित मां ने 82 प्रतिशत लंग डैमेज होने के बाद भी कोरोना से जंग जीत ली। इस मुश्किल वक्त से गुजरने के बाद राजेश हर दिन अपने परिवार को बचाने के लिए भगवान का शुक्रिया अदा करते हैं।

  • undefined

    BollywoodJun 1, 2021, 6:00 AM IST

    सुबह 98 था ऑक्सीजन लेवल, दो घंटे बाद चेक किया तो पहुंच गया 81...ये देख मेरे हाथ-पैर फूल गए

    कोरोना (Corona) वायरस की दूसरी लहर से पूरा देश खौफजदा है। पिछले कुछ वक्त से इसका असर थोड़ा कम जरूर हुआ है, लेकिन लोगों के मन में अब भी इस अदृश्य वायरस को लेकर एक अजीब-सी दहशत है। अप्रैल और मई, यानी दो महीनों में इस वायरस ने कई जिंदगियां छीन लीं। भारत में अब तक 3 लाख से भी ज्यादा लोग मौत के मुंह में समा चुके हैं। हालांकि, इस डर भरे माहौल में पॉजिटिव चीज ये है कि कई लोग इस वायरस को मात देकर पूरी तरह ठीक भी हुए हैं। 

  • undefined
    Video Icon

    Madhya PradeshMay 17, 2021, 8:52 AM IST

    डॉक्टर ने कहा नहीं किया जाएगा आयुष्मान कार्ड से इलाज, चिरायु अस्पताल का वीडियो वायरल


    वीडियो डेस्क। मध्य प्रदेश की  भोपाल में कोरोना कहर के बीच चिरायु अस्पताल का अमानवीय चेहरा आया सामने आया है, जहां आयुष्मान कार्ड के जरिए इलाज कराने गए परिजनों के साथ बदसलूकी की गई है।  आयुष्मान कार्ड के तहत इलाज करने से भी मना कर दिया गया, जबकि प्रदेश सरकार ने कोरोना मरीजों के लिए आयुष्मान कार्ड के तहत फ्री इलाज के लिए जिन अस्पतालों को चुना है, उनमें चिरायू अस्पताल का नाम भी शामिल है  इसके बाद भी अस्पताल प्रबंधन के एक कर्मचारी ने मरीजों के साथ अभद्रता करते हुए इलाज करने से मना कर दिया। देखिए यह वायरल वीडियो।

  • undefined
    Video Icon

    Madhya PradeshMay 16, 2021, 4:52 PM IST

    पानी की बोतल से तोड़ी खिड़की, अस्‍पताल की छठी मंजिल से कोरोना मरीज ने लगा दी छलांग

    वीडियो डेस्क। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के हमीदिया अस्पताल की छठी मंजिल की कोरोना आइसीयू वार्ड की खिड़की से एक 52 साल का कोरोना संक्रमित मरीज ने कूदकर अपनी जान दे दी। उनको तीन दिन पहले उनके परिजनों ने अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मामले की जानकारी लगने के बाद कोहेफिजा पुलिस ने मौके पर पहुंच गई। जहां मरीज के परिजनों को सूचना देकर अस्पताल बुलाकर शव उनके सुपुर्द किया गया। कोहेफिजा टीआइ अनिल वाजपेयी के अनुसार वार्ड 10 रेहटी सीहोर निवासी 52 साल के रहीस शेख फर्नीचर का काम करते थे। उनकी कुछ दिनों से तबियत खराब थी, उनके परिजनों ने दो दिन उनको अस्पताल में भर्ती कराया था। यहा नॉन इनवेजिव वेंटिलेटर पर थे। वार्ड के लोगों ने बताया कि पानी की बोतल से खिडकी का कांच तोडकर उन्होंने छलांग लगाई। पूरे मामले की जांच चल रही है। 
     

  • undefined
    Video Icon

    Madhya PradeshMay 11, 2021, 6:10 PM IST

    यहां शटर गिराकर चल रहा था कारोबार, एसटीएफ की मदद से नगर निगम और पुलिस ने की कार्रवाई


    वीडियो डेस्क। देश में कोरोनाकाल चल रहा है।  कई राज्यों में लॉकडाउन लगा हुआ है। लोगों को घरों में रहने की हिदायत दी जा रही है लेकिन कुछ दुकानदार खुलेआम  व्यापारी लॉकडाउन का खुला उल्लघन कर रहे हैं। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में 
    लॉकडाउन का पालन न करने वालों पर अब सख्त कार्यवाही होगी।  बार -बार हिदायत के बाद भी कुछ दुकाने खुल रही। गलियो में जमकर हो खरीदी हो रही है। राजधानी के पुराने भोपाल के काजी कैंप, बैरसिया रोड, सिंधी कालोनी समेत कई क्षेत्रों में खुलेआम कोरोना के दौरान लगाए गए कर्फ्यू की धज्जियां उड़ रही हैं। प्रशासन के अधिकारियों को इस बात का पता है बावजूद इसके पिछले एक महीने से प्रशासन पूरे शहर में कोरोना कर्फ्यु का पालन करा रहा था लेकिन इन क्षेत्रों में कोई असर दिखाई नहीं दे रहा था। नवदुनिया ने तीन मई के अंक में नए भोपाल में सख्‍ती तो पुराने में खुल रही दुकाने, उमड रही भीड शीर्षक से खबर प्रकाशित की। तब जाकर प्रशासन की नींद जागी और सोमवार को एसटीएफ की मौजूदगी में नगर निगम और पुलिस की मदद से योजनाबद्ध तरीके से यहां कार्रवाई की गई। कार्रवाई के दौरान सामने आया कि यहां पर चिकन मटन से लेकर कपड़े जूते और अन्य दुकानें चलाने वाले लोग शटर बंद कर कारोबार कर रहे हैं। 

  • undefined

    NationalMay 10, 2021, 1:40 PM IST

    कोरोना पॉजिटिव लोगों ने कैसे जीती जंगः 2 दिन बुरे बीते, फिर आया यूटर्न...क्योंकि रोल मॉडल जो मिल गया था

    कोरोना को लेकर जितनी दहशत है, हकीकत उससे बहुत अलग है। लाखों केस देखकर हर इंसान डरा हुआ है। हर किसी को यही लग रहा है कि यह बहुत बड़ा हौवा है। इससे कोई ठीक नहीं होगा। यह वायरस सबकुछ खत्म कर देगा। लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है। 

  • undefined

    Madhya PradeshMay 5, 2021, 6:45 PM IST

    सरकार का बड़ा फैसला, इन 2 और जिलों में 30 मई तक नहीं होगी शादी, विवाह के हैं 13 मुहूर्त

    मध्य प्रदेश में एक तरफ नए संक्रमितों का आंकड़ा स्थिर है, वहीं पिछले 24 घंटे में 75 मौतें दर्ज की गई हैं। इसमें सबसे ज्यादा जबलपुर में 8 मरीजों की मौत हुईं। यह आंकड़ा इंदौर में 7 और भोपाल में 6 रहा, जबकि रतलाम और दतिया में 5-5 मरीज कोरोना की जंग हारे। मध्य प्रदेश में कोरोना से मरने वालों का कुल आंकड़ा 6,078 पहुंच गया है।
     

  • <p>डॉक्टर अजय गोयंका</p>
    Video Icon

    Madhya PradeshApr 29, 2021, 8:31 PM IST

    सुनिए कैसे आपसे दूरे रहेगा कोरोना? बातों बातों में डॉ ने इलाज भी बता दिया

    वीडियो डेस्क। कोरोना से जूझ रहे भारत में हर किसी के जुबां पर एक ही सवाल है कि कोरोना की दवा क्या है? कैसे घर में रहकर खुद को सुरक्षित किया जाए। कोरोना का इलाज क्या है कैसे इस महामारी से बचें। क्या खाएं और कैसे स्वस्थ्य रहें। आपके मन में उठ रहे सारे सवालों का जवाब बातों ही बातों में चिरायु अस्पताल के संचालक डॉ अजय गोयंका ने दिया है। उन्होंने बताया है कि क्या खाना है। कौन से विटामिन लेने और कैसे खुद को स्वस्थ्य रखना है। 

  • <p><strong>भोपाल (Madhya Pradesh) ।</strong> कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच जरूरतमंदों की मदद के लिए लोग खुलकर आगे आ रहे हैं। ऐसा करने वालों में ऑटो चालक जावेद भी हैं, जो कोरोना के पहले ऑटो चलाकर रोज 200-300 रुपए कमाते थे। लेकिन, इस समय वो गरीबों के मसीहा बन गए हैं। जी हां, जावेद इस संकट के समय में मरीजों की फ्री में अस्पताल पहुंचाते हैं। इसके लिए उन्होंने अपने ऑटो को एंबुलेंस में तब्दील कर दिया है, जिसके लिए उन्हें अपनी पत्नी के जेवर तक बेचने पड़ गए।&nbsp;</p>

    Madhya PradeshApr 29, 2021, 6:13 PM IST

    महामारी में इस शख्स की दरियादिली को सलाम: पत्नी के गहने बेच बचा रहा मरीजों की जान, ऑटो को बनाया एंबुलेंस

    भोपाल (Madhya Pradesh) । कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच जरूरतमंदों की मदद के लिए लोग खुलकर आगे आ रहे हैं। ऐसा करने वालों में ऑटो चालक जावेद भी हैं, जो कोरोना के पहले ऑटो चलाकर रोज 200-300 रुपए कमाते थे। लेकिन, इस समय वो गरीबों के मसीहा बन गए हैं। जी हां, जावेद इस संकट के समय में मरीजों की फ्री में अस्पताल पहुंचाते हैं। इसके लिए उन्होंने अपने ऑटो को एंबुलेंस में तब्दील कर दिया है, जिसके लिए उन्हें अपनी पत्नी के जेवर तक बेचने पड़ गए। 

  • undefined

    Madhya PradeshApr 20, 2021, 5:08 PM IST

    भोपाल में ऑक्सीजन की कमी से 10 लोगों की मौत, नर्स चीखती रह गई..सामने थम गईं पापा-भाई और चाचा की सांसे


    भोपाल (मध्य प्रदेश). देश में कोरोना महामारी के चलते हाहाकर मचा हुआ है, कई राज्यों में हालात बहुत बुरे हो चुके हैं। जहां स्वास्थ्य व्यवस्थाएं पूरी तरह से चरमरा चुकी हैं। ना तो अस्पतालों में खाली बेड बचे हैं और ना ही ऑक्सीजन बची है। सिस्टम की मार में संक्रमित मरीज तड़पते हुए दम तोड़ रहे हैं। ऐसी ही एक बड़ी खबर राजधानी भोपाल से सामने आई है, यहां के पीपुल्स मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी के चलते 10 कोरोना मरीजों की मौत हो गई। आलम यह था कि नर्सों के सामने उनको परिजन तड़पते रहे, वह चीखती रहीं, हमे अंदर जाने तो वह मर जाएंगे, लेकिन वह चाहकर भी वो कुछ नहीं कर पाईं। पढ़िए कैसे एक बेटी के सामने उसका परिवार खत्म हो गया...

  • undefined
    Video Icon

    Madhya PradeshApr 18, 2021, 12:03 PM IST

    बिना काम बाहर निकलने वालों के खिलाफ लेंगे एक्शन, सुनें Lockdown को लेकर क्या बोले Collector Bhopal

    वीडियो डेस्क। मध्य प्रदेश में  कोरोना वायरस का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। हालात सुधरने की जगह और बिगड़ते जा रहे हैं। सबसे बुरी हालत प्रदेश के बड़े शहरों की है। क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक में भोपाल, इंदौर और उज्जैन में 26 अप्रैल की सुबह 6 बजे तक लॉकडाउन बढ़ाने का फैसला किया है। इस दौरान सिफ इमरजेंसी सेवा ही ओपन रहेंगी। हलांकि, प्रशासन ने अभी गाइडलाइन नहीं जारी की है। वहीं भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया स्मार्ट सिटी बिल्डिंग में बैठक बाद राजधानी को 26 अप्रैल तक बंद रखने का ऐलान किया। इस दौरान कलेक्टर ने कहा कि इस बार पिछली बार से ज्यादा सख्ती होगी। बिना काम के घर से बाहर निकलने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। सिर्फ शहर से बाहर आने-जाने वाले लोगों को छूट दी जाएगी। वीडियो में कलेक्टर ने क्या कहा। 

     

  • undefined
    Video Icon

    Madhya PradeshApr 11, 2021, 12:15 PM IST

    हॉस्पिटल में मरीज की मौत के बाद शव सड़क पर रख परिजनों का हंगामा, डॉक्टर पर FIR दर्ज की मांग

    वीडियो डेस्क।  भोपाल के जयप्रकाश जिला अस्पताल में मरीज की मौत के बाद हंगामा हो गया। परिवार वालों ने डॉक्टरों पर लापरवाही का आरोप लगाया है। इस बीच मरीज का इलाज करने वाले डॉ. योगेंद्र श्रीवास्तव ने अपने साथ दुर्व्यवहार का आरोप लगा कर पद से इस्तीफा दे दिया। रविवार सुबह 10.30 बजे कोलार तिराहा कोलार गेट हाउस चुनाभट्‌टी में शव को सड़क पर रख कर बंद कर दी गई। यहां पर बड़ी संख्या में लोग सड़क पर बैठे गए। सड़क को वाहनों और लड़की रखकर बंद कर दिया गया। दूसरी तरफ लॉकडाउन होने के बावजूद भीम नगर इलाके से बड़ी संख्या में लोग घरों के बाहर निकल कर सड़क किनारे खड़े हो गए। काफी देर बाद कुछ और पुलिस कर्मी मौके पर आए और परिजनों को समझाने लगे। परिजनों ने उनकी एक बात भी सुनने से मना कर दिया। मृतक के रिश्तेदार राजकुमार ने कहा कि तख्त सिंह की डॉक्टरों की लापरवाही से मौत हुई है। डॉक्टरों ने दूसरी जगह ले जाने का दबाव बनाकर ऑक्सीजन का मास्क हटा दिया था। जिसके कारण मौत हुई। हमारी मांग है कि पूरे मामले की निष्पक्ष जांच हो और दोषी डॉक्टर के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो।