Bihar Assembly Elections  

(Search results - 207)
  • undefined

    Bihar Election29, Sep 2020, 7:30 PM

    कौन है ये लड़की, जो बिहार चुनाव में सोशल मीडिया पर बनी स्टार, विपक्षी नेताओं की पहली पसंद

    पटना (Bihar) । बिहार विधानसभा चुनाव  (Bihar Assembly Elections) की तारीख का एलान हो गया है। सभी नेता अपने-अपने दावेदारी में लगे हुए हैं। लेकिन, इसी बीच एक सामान्य घर की लड़की नेहा सिंह राठौर (Neha Singh Rathore) सोशल मीडिया पर अचानक स्टार बन गई है। जिसके फॉलोवर की संख्या मिलियन में पहुंच गई है। इतना ही नहीं वो उन नेताओं की पहली पसंद बन गई है जो किसी सीट पर हार गए हो या पहली बार चुनाव लड़ रहे हैं। दरअसल बिहार की इस बेटी ने कई गाना गाया है, जिसमें एक गाने की बोल है बिहार में का बा, जो विपक्षी दलों के नेताओं लिए मुद्दा बन गया है। आइये जानते हैं आखिर कौन है ये नेहा सिंह राठौर और क्यों गाती हैं ऐसा गाना।

  • undefined

    Bihar Election29, Sep 2020, 5:02 PM

    नीतीश-तेजस्वी की राह कितनी मुश्किल? बिहार में कुशवाहा-मायावती ने भी बनाया मोर्चा; अब ये 5 नेता हैं CM कैडिंडेट

    पटना (Bihar) । बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar assembly elections) चुनाव काफी दिलचस्प होगा। एनडीए को सत्ता में आने और नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को सीएम बनने से रोकने के लिए एक और मोर्चे का गठन हो गया है। पड़ोसी राज्य यूपी में सत्ता से दूर हुई कुछ छोटी-बड़ी पार्टियां भी बिहार में अपनी सियासी पैठ बनाने की कोशिश में लगी हैं। वहीं, दो दिन में दो मोर्चे के गठन से महागठबंधन की भी मुश्किलें बढ़ गई हैं,क्योंकि कल तक जिस दल में लोग सीट मांगते थे, वे आज डिप्टी सीएम तक के पद की दावेदारी करने लगे हैं। दूसरी ओर विरोधियों के कई संगठन बनाने से एनडीए को भी संगठित होकर अपनी रणनीति में बदलाव करना होगा, जो किसी चुनौती से कम नहीं है। मौजूदा समय में स्थिति यह है कि बिहार में पांच चर्चित चेहरे सीएम पद के दावेदार हो गए हैं। वे अपने सपने को साकार करने के लिए जोड़-तोड़ की राजनीति करने में जुटे हुए हैं।

  • undefined

    Bihar Election29, Sep 2020, 2:19 PM

    गरीब इतने थे कि खाने का भी था संकट,मुंबई में यूं खड़ी कर दी करोड़ों की कंपनी;ऐसी है बिहार 'किंग'महेंद्र की कहानी

    पटना (Bihar) । बिहार की धरती से एक से बढ़कर एक शख्यित ने जन्म लिया, जिनकी चर्चा और पहचान पूरे देश में होती है। इनमें से एक हैं किंग महेंद्र प्रसाद सिंह (King Mahendra Prasad Singh), जो 1985 से आज तक राज्यसभा सदस्य के रूप में चुने जाते आ रहे हैं। लेकिन, इनकी कहानी किसी फिल्म से कम नहीं है। बता दें कि कभी गरीबी और बेरोजगारी से वो इतने दबे थे कि खाने तक के संकट पैदा हो गए। लेकिन, मुंबई (Mumbai) जाकर ऐसी मेहनत किए कि करोड़ों की कंपनी खड़ी कर लिए। आज वे बिहार के इस लाल की गिनती देश के सबसे अमीर सांसदों में होती है। इतना ही नहीं अपनी पत्नी और लिव इन पाटर्नर उमा देवी के साथ दिल्ली (Delhi) स्थित आधिकारिक आवास में जीवन व्यापन करने के दौरान भी सुर्खियों में रहे। आइये जानते हैं इनकी पूरी कहानी।

  • undefined

    Bihar Election29, Sep 2020, 12:15 PM

    उपेंद्र कुशवाहा का ऐलान, बिहार में बनाएंगे तीसरा मोर्चा, मायावती के साथ मिलकर लड़ेंगे 243 सीटों पर चुनाव

    राष्ट्रीय जनता दल के रवैया से नाराज होने के बाद उपेंद्र कुशवाहा ने महागठबंधन से निकलने का मन बना लिया था। इसे लेकर पार्टी के नेताओं के साथ उन्होंने बैठक भी की थी। खबर कि अपनी राजनीतिक पारी शुरू करने के दौरान जैसे उन्होंने बिहार की राजनीति में सबको चौका दिया था कुछ वैसा की करने की तैयारी में हैं। इसके लिए उन्होंने दिल्ली में बसपा सुप्रीमों मायावती से भी बात की थी।

  • undefined

    Bihar Election29, Sep 2020, 11:49 AM

    सन ऑफ मल्लाह मुकेश साहनी: पहले फिल्मी दुनिया में नाम कमाया, अब राजनीति में पाना चाहते हैं बड़ा मुकाम

    पटना (Bihar) । बिहार विधानसभा चुनाव ( Bihar Assembly Elections) में महागठबंधन की मुश्किलें इन दिनों कुछ बढ़ गई है। सीट शेयरिंग को लेकर चल रहे सहयोगी दलों से बातचीत के बीच वीआइपी अध्‍यक्ष मुकेश साहनी (VIP President Mukesh Sahni) ने महागठंधन के सामने दो बड़ी शर्तें रखकर सबकों परेशानी में डाल दिया है। दरअसल सरकार बनने पर खुद को डिप्टी सीएम (Deputy CM)  बनाने और चुनाव में 25 सीट की मांग कर ली हैं। खुद को सन ऑफ मल्लाह बताने वाले ने साहनी ने कहा है कि महागठबंधन से जीतनराम मांझी (Jitan Ram Manjhi) और उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) के जाने के बाद पार्टियां कम हो गई हैं, इसलिए उनकी 25 सीटों की मांग व डिप्टी सीएम पद पर दावेदारी का मजबूत आधार है। जिननके बारे में अब हर कोई जानना चाहता है। बता दें कि पिछले चुनाव में भाजपा (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष के साथ हेलीकाप्टर से 40 सभाओं में हिस्सा लेने वाले मुकेश साहनी ने 'देवदास' (Devdas) और 'बजरंगी भाईजान' (Bajrangi Bhaijaan) जैसी फिल्मों के लिए डिजायन का काम कर चुके हैं, जो सेट्स काफी लोकप्रिय हुए।

  • <p><br />
हाल ही में तेजप्रताप के ससुर चंद्रिका राय ने आरजेडी छोड़ जेडीयू का दामन थामा है और यादव परिवार के साथ सियासी लड़ाई में खुलकर आगे आ गए हैं। उनकी बेटी ऐश्वर्या के भी चुनाव लड़ सकती हैं।<br />
(फाइल फोटो)</p>

    Bihar Election29, Sep 2020, 10:00 AM

    ..तो जनता की अदालत में पति तेजप्रताप यादव के खिलाफ न्याय मांगेंगी ऐश्वर्या राय, बढ़ सकती है RJD नेता की मुश्क

    पटना (Bihar) । बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) में कई सीटों पर सबसे ज्यादा रोचक मुकाबला होगा। इनमें जेडीयू (JDU) के कब्जे वाली हसनपुर (Hasanpur) सीट भी शामिल है। जहां आरजेडी (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के बेटे तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) को खूब समर्थन मिल रहा है। वे इतने उत्साहित हैं कि कोरोना (Corona) के संक्रमण तक से नहीं डर रहे हैं और भीड़ जुटाने में लगे हैं। वहीं, यादव वोट बैंक की बहुतला वाले इस सीट को अपने कब्जे में बनाए रखने के लिए जेडीयू भी इमोशनल (Emotional) कार्ड खेल सकती है। इसके लिए तेज प्रताप की पत्नी ऐश्वर्या राय (Aishwarya Rai) को खड़ा कर सकती है, जिसके लिए उनके पिता चंद्रिका राय (Chandrika Rai) तैयार भी हैं, जो बेटी के साथ हुए अन्याय का बदला लेना चाहते हैं। बता दें कि ऐश्वर्या से तेज प्रताप तलाक (Divorce) चाहते हैं और वे इसके लिए कोर्ट में केस भी दायर किए हैं। 

  • <p><strong>पटना (Bihar ) । </strong>&nbsp;बिहार में चुनाव होने वाले हों और राजनीति में सक्रिय बाहुबलियों की बात न हो, ऐसा हो नहीं सकता। अधिकांश दल इन्हीं बाहुबली नेताओं के सहारे ज्यादा से ज्यादा सीटों पर गारंटीड जीत का सपना पाले रहती हैं। ये ऐसे बाहुबली चेहरे हैं जिन्होंने खुद के प्रोटेक्शन के लिए राजनीति को ढाल बना लिया है। बिहार में विधानसभा चुनाव होने हैं। हम कुछ ऐसे ही बाहुबलियों के बारे में बता रहे हैं। आज भी कई इलाकों में इनका खौफ है। कभी इनका रसूख ऐसा हुआ करता था कि ये सरकार और&nbsp;पुलिस को&nbsp;कुछ नहीं समझते थे।</p>

    Bihar Election28, Sep 2020, 7:26 PM

    ये रहे 8 बाहुबली, जो खुद बनाते थे कानून, खौफ से डरता था बिहार

    पटना (Bihar) । बिहार में बाहुबलियों का हमेशा बोलबाला रहा, क्योंकि ये किसी न किसी बड़े नेता के मददगार हुआ करते थे। वे उनके लिए बूथ कैप्चरिंग तक करवा देते थे। बदले में नेता भी उनकी हर बातें मान लेते थे। कहा तो यहां तक जाते हैं कि बिहार की राजनीति में नेता और अपराधी एक सिक्के के दो पहलू हुआ करते थे। हालांकि अब यहां कानून का राज चलता था। लेकिन, एक समय ऐसा भी था जब सरकार चाहे किसी की हो। लेकिन, राज बाहुबलियों का चलता था। वे खुद कानून बनाते। उनके खौफ का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि वे पुलिस, डीएम और मंत्री तक की जान लेने से नहीं डरते थे, जिससे बिहार की जनता उस वक्त दिन में भी डरती थी। आज ऐसे ही आठ बाहुबलियों के बारे में आज हम आपको बता रहे हैं।

  • <p>हालांकि भले ही संप्रदा सिंह डॉक्टर नहीं बन पाए मगर उन्हें मेडिकल क्षेत्र में ही कुछ करना था। उन्होंने 1953 में पटना में एक साधारण दवा दुकान से अपने संघर्ष की शुरुआत की। वो इस कारोबार की बारीकी और बदलाव पर बहुत ध्यान लगाए हुए थे। सात साल बाद ही 1960 में उन्होंने फार्मास्युटिकल्स डिस्ट्रिब्यूशन फर्म "मगध फार्मा" की नींव डाली।</p>

    Bihar Election28, Sep 2020, 6:23 PM

    इस बिहारी किसान बेटे ने दवाई बेचते-बेचते खड़ी कर दी थी खुद की कंपनी, आज करोड़ों में वैल्यू

    पटना (Bihar) । बिहार में संघर्ष के बाद देश में नाम रोशन करने वालों की संख्या बहुत अधिक है। इनमें विशिष्ट स्थान किसान के बेटे संप्रदा सिंह (Samprada Singh), का है, जो शून्य से शिखर तक का सफर संघर्ष के बीच पूरा किए थे। बताते हैं कि वे कभी डॉक्टर बनना चाहते थे। लेकिन, ऐसा न होने पर मेडिकल स्टोर खोल लिए। इसके बाद मुश्किलों का सामना करते हुए कुछ ऐसा काम किए कि दुनिया भर के अमीर भी उन्हें देखकर हैरान हो गए। आइये आज "बिहार के लाल" सीरीज में जानते हैं इस कारोबारी बेटे की कहानी...। 

  • undefined

    Bihar Election28, Sep 2020, 5:38 PM

    BJYM चीफ तेजस्वी सूर्या गरजे- मोदी के आने के बाद युवराजों, राजकुमारों को सिर्फ अपनी बेरोजगारी का दर्द

    टाउन हाल में आरजेडी नेता तेजस्वी यादव और कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए तेजस्वी सूर्या ने कहा- युवराजों और राजकुमारों को केवल अपनी बेरोजगारी का दर्द है। 

  • undefined

    Bihar Election28, Sep 2020, 4:53 PM

    नीतीश को CM बनने से रोकने के लिए पप्पू ने चली नई चाल,तेजस्वी का रास्ता बंद करने को शुरू किए ये काम

    पटना (Bihar) । बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar assembly elections) में तीसरा मोर्चा भी बन गया है। नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को सीएम बनने से रोकने के लिए जन अधिकार पार्टी (लोकतांत्रिक) के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव (Pappu Yadav) ने पीडीए (प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन) बनाने की घोषणा कर दी है। इस गठबंधन में तीन पार्टियां शामिल भी हो गई हैं। उनका दावा है कि दो दिनों में और पार्टियां इस गठबंधन में शामिल हो जाएंगी। इसके लिए राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) से बात चल रही है, जबकि लोजपा (LJP) और कांग्रेस (Congress) को भी आने का ऑफर दिया जा रहा है। ऐसे में यह माना जा रहा है कि यदि ऐसा हुआ तो आरजेडी (RJD)का रास्ता भी बंद हो सकता है और तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) की मुश्किलें भी बढ़ सकती हैं।  

  • undefined

    Bihar Election28, Sep 2020, 4:20 PM

    हमको किसी का डर नहीं, क्या कोरोना-कैसा प्रोटोकॉल? यूं रोडशो कर रहे हैं लालू यादव के लाल

    पटना। 243 विधानसभा सीटों पर चुनाव की घोषणा के साथ बिहार में कोरोना महामारी के बीच विशेष प्रावधान के साथ "कोड ऑफ कंडक्ट" लागू हो चुका है। चुनाव आयोग (EC) ने नेताओं और राजनीतिक दलों को महामारी के दौरान भीड़ जुटाने से रोकने के लिए साफ हिदायतें दी हैं। रोडशो और जुलूस के लिए सेफ़्टी प्रोटोकॉल (Covid-19 Health Safety Protocol For Bihar Elections) भी बनाए हैं। लेकिन एक्स हेल्थ मिनिस्टर और आरजेडी चीफ लालू यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव का रोड शो देखकर ऐसा नहीं लगता। 
     

  • <p><strong>पटना (Bihar)। &nbsp;</strong>जेल में बंद बाहुबली नेता आनंद मोहन सिंह (Anand Mohan singh)&nbsp;की पत्नी लवली आनंद (Lovely Anand)&nbsp;ने आज राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ज्वॉइन कर ली। इस मौके पर उन्होंने कहा कि आज से मैं पूरे तन-मन-धन से आरजेडी (RJD) की हो गई हूं। नीतीश सरकान ने धोखा दिया है। आनंद मोहन को जेल भेज कर वे सरकार चला रहे हैं। ये धोखेबाज सरकार है। हम मिलकर तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) को मुख्यमंत्री बनाएंगे। बताते चले कि लवली आनंद ने पिछले लोकसभा चुनाव में नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के लिए प्रचार किया था और वे अपने पति को जेल से बाहर लाने का लगातार कोशिश कर रही हैं।</p>

    Bihar Election28, Sep 2020, 2:45 PM

    RJD में शामिल हुईं लवली आनंद, कभी इन्हें सुनने के लिए जुटती थी ऐसी भीड़, परेशान हो गए थे लालू यादव

    पटना (Bihar)।  जेल में बंद बाहुबली नेता आनंद मोहन सिंह (Anand Mohan singh) की पत्नी लवली आनंद (Lovely Anand) ने आज राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ज्वॉइन कर ली। इस मौके पर उन्होंने कहा कि आज से मैं पूरे तन-मन-धन से आरजेडी (RJD) की हो गई हूं। नीतीश सरकान ने धोखा दिया है। आनंद मोहन को जेल भेज कर वे सरकार चला रहे हैं। ये धोखेबाज सरकार है। हम मिलकर तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) को मुख्यमंत्री बनाएंगे। बताते चले कि लवली आनंद ने पिछले लोकसभा चुनाव में नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के लिए प्रचार किया था और वे अपने पति को जेल से बाहर लाने का लगातार कोशिश कर रही हैं।

  • undefined

    Bihar Election28, Sep 2020, 2:12 PM

    मंत्रियों से भी ज्यादा इन IAS-IPS अफसरों पर भरोसा करते हैं CM नीतीश, रिटायरमेंट के बाद भी कई साथ

    पटना। हाल ही में बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय (Ex DGP Gupteshwar Pandey) ने नौकरी छोड़कर जेडीयू जॉइन कर ली और अब उनके विधानसभा चुनाव लड़ने की भी चर्चा है। गुप्तेश्वर, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) के बेहद कारीबी IPS अफसरों में शुमार हैं। बिहार सरकार में पूर्व डीजीपी के अलावा ऐसे अफसरों की फेहरिस्त बहुत लंबी है जो नीतीश के भरोसेमंद हैं। इतने कि अपने मंत्रियों से भी ज्यादा नीतीश इन अफसरों पर ही भरोसा करते हैं। अफसरों के साथ नीतीश का ये तालमेल लंबे वक्त से बिहार का मुख्यमंत्री के रूप में काम करते रहना है। गुप्तेश्वर के जेडीयू (JDU) में आने के साथ ही नीतीश का अफसरों संग रिश्ता फिर से चर्चा में है।   
     

  • undefined

    Bihar Election28, Sep 2020, 12:43 PM

    शुभ मंगल ज्यादा सावधान: चुनाव की घोषणा के बाद पंडितों की चांदी, ज्योतिष के फेर में उम्मीदवार

    1 अक्तूबर को नोटिफिकेशन जारी होने के बाद राज्य में नामांकन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। तीन चरणों में नामांकन की प्रक्रिया 20 अक्तूबर तक चलेगी। कई उम्मीदवार शुभ मुहूर्त में ही नामांकन करना चाहते हैं। 

  • undefined

    Bihar28, Sep 2020, 11:29 AM

    बिहार चुनावः पूर्व सांसद के करीबी की हत्या,जदयू नेता को मार डाला तो राष्ट्रीय सचिव को भी मारी तीन गोलियां

    पटना (Bihar) । बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections)  की तैयारियों में सभी राजनीतिक पार्टियां जुटी हुई हैं। इसी बीच अलग-अलग स्थानों पर दो नेताओं के हत्या की खबर आ रही है। बता दें कि बदमाशों ने सीवान में पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह (Former MP Prabhunath Singh) के करीबी बलऊ पंचायत के मुखिया सुनील कुमार सिंह (Sunil Kumar Singh) उर्फ दहारी को गोलियों से भून दिया, जबकि आरा (Ara) में बेखौफ बदमाशों ने जदयू (JDU) के युवा नेता मिथुन सिंह (Mithun Singh) की हत्या कर दी। इस दौरान जदयू के युवा राष्ट्रीय सचिव प्रिंस बजरंगी (Prince Bajrangi) को भी तीन गोलियां मारी, जिनकी हालत नाजुक बताई जा रही है। ये घटनाएं रविवार को हुई।