Corona Duty  

(Search results - 10)
  • undefined

    Other StatesApr 17, 2020, 11:56 AM IST

    2 महीने से रोज 100 दुकानदारों पर नजर रखे हुए हैं 28 साल की गर्भवती कोरोना वॉरियर्स

    यह तस्वीर भारतीय महिलाओं की ताकत को दिखाती है। 28 साल की यह लेडी फूड डिपार्टमेंट में जॉब करती है। कोरोना के संकट में गर्भवती होने के बावजूद इसने छुट्टी लेना सही नहीं समझा। इनकी ड्यूटी किराना दुकानदारों की चेकिंग के लिए लगाई गई है। ये रोज 100 दुकानों पर जाकर रेट आदि चेक करती हैं। इनकी मुस्तैदी के चलते गड़बड़ी की गुंजाइश नहीं बची है।

  • undefined

    MaharashtraApr 13, 2020, 9:57 AM IST

    22 साल बाद मां बनी डॉक्टर ने बच्चों को भाभी की गोद में सौंपा और निकल पड़ी ड्यूटी करने

    सिंगरोली, मध्य प्रदेश. यह हैं बाबई की बीएमओ डॉ. शोभना चौकसे। कोरोना से जारी लड़ाई में डॉक्टरों का सबसे महत्वपूर्ण योगदान देखा जा रहा है। इस लड़ाई में ज्यादातर डॉक्टरों ने अपने घर-परिवार और बच्चों से ज्यादा ड्यूटी को प्राथमिकता दी। इनमें कई ऐसी डॉक्टर भी शामिल हैं, जो मां बनने के कुछ समय बाद ही अपनी ड्यूटी पर लौट आईं। डॉ. शोभना इन्हीं में से एक हैं। ये 22 साल बाद सरोगेसी से 26 मार्च को जुड़वां बच्चों मां बनी हैं। लेकिन जब इन्हें लगा कि उनकी जरूरत इस समय देश को ज्यादा है, तो उन्होंने अपनी ममता पर कंट्रोल किया और ड्यूटी पर लौट आईं। डॉ. शोभना को मालूम था कि इनके ऊपर बीएमओ की जिम्मेदारी है। इसलिए ये अपने बच्चों को भाभी की गोद में सौंपकर रोज ड्यूटी कर रही हैं।

  • undefined

    Other StatesApr 11, 2020, 12:21 PM IST

    नवजात बच्चे की मौत की खबर सुनकर पुलिसवाले ने आंसू पोंछकर पत्नी से कहा, 'मैं नहीं आ सकूंगा..ड्यूटी पर हूं'

    सिरमौर, हिमाचल प्रदेश. यह एक ऐसे पुलिसवाले की भावुक करने वाली कहानी है, जो अपने घर में नन्हे मेहमान का इंतजार कर रहा था। ड्यूटी के दौरान जब पत्नी का कॉल आया, तो उसकी आंखों में चमक आ गई। लेकिन जैसे ही मालूम चला कि उसका बच्चा नहीं बच सका है, तो उसकी आंखों से आंसू टपक पड़े। कुछ पल तो उसका दिमाग सुन्न रहा। इसके बाद पुलिसवाले ने अपने आंसू पोंछकर कहा-'मैं अभी नहीं आ सकता..ड्यूटी पर हूं।' ऐसे होते हैं पुलिसवाले। अर्जुन और उनकी पत्नी सुमन दोनों पुलिस विभाग में हैं। अर्जुन अकसर नाहन के मुख्य चौराहे पर मुस्तैदी से ड्यूटी करते दिख जाते हैं। घटना वाले दिन उनकी ड्यूटी कोरोना पॉजिटिव मिले एक जमाती को बद्दी तक छोड़कर आने की थी। गुरुवार को जब अर्जुन बद्दी के लिए निकले, तभी घर से कॉल आया था। अर्जुन का कहना था कि पिता से पहले वो एक पुलिसवाला है।

  • undefined

    Other StatesApr 9, 2020, 12:16 PM IST

    बच्चे को मचलते देख मां की भर आती हैं आंखें...उसे प्यार से चूमकर निकल जाती है ड्यूटी पर

    किसी मां के लिए अपने मासूम बच्चे को छोड़ना आसान नहीं होता। लेकिन बात जब फर्ज की हो, तो दिल मजबूत करन पड़ता है। यह कहानी भी ऐसी ही एक डॉक्टर की है, जो अपनी छुट्टी अधूरी छोड़कर ड्यूटी पर लौट आई है।

  • undefined

    PunjabApr 9, 2020, 11:38 AM IST

    बेटी को ड्यूटी पर जाते देखकर जब बिस्तर पर पड़े पिता की आंखों से निकल आए आंसू

    कोरोना महामारी के खिलाफ जारी लड़ाई में ऐसे लोग भी अपनी ड्यूटी निभा रहे हैं, जो खुद किसी परेशानी में हैं या उनके परिवार में कोई बीमार है। यह कहानी भी ऐसी ही एक हॉस्पिटल स्टॉफ युवती की है।

  • undefined

    HaryanaApr 9, 2020, 10:42 AM IST

    पेनकिलर खाकर घर से ड्यूटी करने निकलती है यह लेडी ऑफिसर, पैरेंट्स टोकते हैं, तो मुस्करा देती है

    पानीपत, हरियाणा. कोरोना महामारी को रोकने देश के डॉक्टर, हेल्थ वर्कर्स..स्वयंसेवी और निजी-सरकारी कर्मचारी पूरी शिद्दत से ड्यूटी निभा रहे हैं। इस दौरान उन्हें तकलीफों का सामना भी करना पड़ रहा है। कई जगह उन्हें सम्मान मिल रहा, तो कुछ जगहों पर अपमान भी झेलना पड़ रहा है। शारीरिक और मानसिक कठिनाइयों के बावजूद कोरोना वॉरियर्स का हौसला कम नहीं हो रहा। यह कहानी भी इसी से जुड़ी हैं। यह हैं पानीपत की ब्लॉक डेवलपमेंट पंचायत ऑफिसर(BDPO) रितु लाठर। एक एक्सीडेंट के बाद ये बैसाखी के सहारे चल रही हैं। लेकिन आज जब कोरोना से लड़ाई के लिए इनकी सेवाओं की जरूरत है, तो ये मुस्तैदी से अपनी ड्यूटी कर रही हैं। ये पिछले 2 हफ्ते से रोज पेन किलर लेकर ड्यूटी पर निकलती हैं। लाजिमी है कि उनकी तबीयत देखकर परिजन परेशान होते हैं। वे कहते हैं कि रोज ड्यूटी पर जाने की क्या आवश्यकता? इस पर रितु मुस्करा देती हैं। वे कहती हैं कि आज लोगों को उनकी मदद की जरूरत है। अगर वे पब्लिक सर्विस में आई हैं, तो यह उनका फर्ज है कि मुसीबत में लोगों की मदद करें। 

  • undefined

    MaharashtraMar 27, 2020, 6:09 PM IST

    लॉक डाउन में बाहर कैसा लगता है, यह देखने निकल रहे लोग, डिप्टी CM ने कहा, सेना बुलाने पर मजबूर न करो

    मुंबई. कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने देशभर में 21 दिनों के लिए लॉक डाउन किया गया है। महाराष्ट्र में सोमवार से ही कर्फ्यू लगा दिया गया था। लोगों को परेशानी न हो, इसलिए आवश्यक वस्तुओं की दुकानें अब 24 घंटे खोले रखने का फैसला किया गया है। लेकिन कुछ लोग इसका गलत फायदा उठा रहे हैं। वे चीजें खरीदने की आड़ में घरों से तफरी करने निकल रहे हैं। पुलिस ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ा एक्शन ले रही है। लेकिन स्थितियां फिर भी काबू में नहीं हैं। लिहाजा, अब डिप्टी सीएम अजित पवार ने सख्त लहजे में चेताया है कि अगर लोग न समझे, तो सेना बुलानी पड़ेगी। गुरुवार को कुछ जगहों पर पुलिस के साथ दुर्व्यवहार की खबरें मिली थीं। बता दें कि शुक्रवार को महाराष्ट्र में संक्रमण के 5 नये मामले मिले हैं। इनमें 4 नागपुर और एक गोंदिया का है। इस बीच राज्य में कोरोना पॉजिटिव लोगों क संख्या बढ़कर 136 हो गई है। कोरोना संकट से निपटने शिवसेना के सभी सांसदों और विधायकों ने अपने एक महीने की सैलरी मुख्यमंत्री राहत कोष में देने का ऐलान किया है।
     

  • undefined

    HaryanaMar 27, 2020, 4:55 PM IST

    अपने जवान बेटे का आखिरी बार चेहरा भी नहीं देखेगा पिता..नहीं डाल सकता देशवासियों की जान खतरे में

    कोरोना वायरस ऐसी मौत लेकर आ रहा है कि लोग अपनों को कंधा तक नहीं दे पा रहे। हरियाणा के एक युवक की न्यूयॉर्क में मौत हो गई। संक्रमण की गंभीरता को देखते हुए पिता ने बेटे का अंतिम संस्कार वहीं करने को बोल दिया है। 

  • undefined

    JharkhandMar 27, 2020, 3:42 PM IST

    लॉक डाउन में फालतू निकले, तो बुरे फंसोगे, यहां की पुलिस सिर्फ उठक-बैठक नहीं कराएगी, कुछ और भी सजा देगी

    रांची, झारखंड. कोरोना संक्रमण को रोकने देशभर में 21 दिनों का लॉक डाउन किया गया है। इसके बावजूद कुछ लोग इसका उल्लंघन कर रहे हैं। जबकि यह सबको पता है कि एक कोरोना संक्रमित सैकड़ों लोगों को बीमार कर सकता है। ऐसे लोगों को सबक सिखाने पुलिस सख्त होती जा रही है। झारखंड में पुलिस ने सख्त हिदायत दी है कि बगैर परमिशन या आवश्यक काम के कोई भी बाहर नहीं निकले। अगर कोई निकला, तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। देश में जगह-जगह से ऐसी तस्वीरें और वीडियो सामने आ रहे हैं, जिनमें लोग बेवजह बाहर निकलते देखे गए। उल्लेखनीय है कि भारत में अब तक 724 मामले सामने आ चुके हैं।

  • undefined

    Madhya PradeshMar 27, 2020, 2:03 PM IST

    मां के निधन की खबर सुनकर भी विचलित नहीं हुआ बेटा, अफसरों को पता तक नहीं चला, वो ड्यूटी पर लौट आया

    भोपाल, मध्य प्रदेश. कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने देशभर में लॉक डाउन घोषित किया गया है। इस दौरान डॉक्टर, पुलिस, स्वास्थ्य और अन्य सरकारी कर्मचारी ड्यूटी पर तैनात है। कोरोना के संक्रमण से बचने लोगों को घरों में रहने के आदेश हैं। हालांकि कई लोग इस आदेश का उल्लंघन कर रहे हैं। इस बीच कर्मचारी पूरी शिद्दत से अपनी ड्यूटी करते देखे गए। यह तस्वीर भी ऐसे ही एक स्वास्थ्य कर्मचारी की है। बुधवार सुबह इनकी मां का निधन हो गया था। ये अपनी मां को सुपुर्दे खाक करने के 2 घंटे बाद ही ड्यूटी पर लौट आए थे। बता दें अकेले मध्य प्रदेश में कोरोना के अब तक 26 पॉजिटिव मरीज सामने आ चुके हैं। इनमें 2 की मौत हो चुकी है। प्रदेश में 2000 लोगों को निगरानी में रखा गया है।