Covid 19 Pandemic  

(Search results - 119)
  • undefined

    NationalJul 20, 2021, 10:08 PM IST

    महामारी राजनीतिक विषय नहीं होना चाहिए, पूरी मानवता के लिए चिंता का विषयः पीएम मोदी

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना को लेकर मंगलवार शाम को विपक्ष के फ्लोर नेताओं के सामने अपना प्रेजेंटेशन दिया। इस प्रेजेंटेशन का कांग्रेस, अकाली दल ने पहले ही बहिष्कार कर दिया था। जबकि टीएमसी ने शामिल होने के लिए हामी भर दी थी। 

  • undefined

    NationalJul 16, 2021, 10:34 PM IST

    IIMC का सर्वे: पश्चिमी मीडिया ने किया भारत में कोविड-19 महामारी का 'पक्षपातपूर्ण' कवरेज

    सर्वेक्षण के दौरान एक रोचक तथ्य यह भी सामने आया कि लगभग 63 प्रतिशत लोगों ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की छवि खराब करने वाली पश्चिमी मीडिया की नकारात्मक खबरों को सोशल मीडिया पर फॉरवर्ड नहीं किया।

  • undefined

    TrendingJul 8, 2021, 9:20 AM IST

    70 साल के बुजुर्ग व्यक्ति ने कायम की मिसाल, कई-कई किलोमीटर तक साइकिल चलाकर की कोरोना मरीजों की मदद

    एयर इंडिया के रिटायर्ड कर्मचारी के आर श्रीनिवास राव हमेशा से ही जरूरतमंदों की सेवा करना चाहते थे और कोरोनाकाल में उन्हें इसका मौका मिला, तो उन्होंने इस महामारी के बीच लोगों की मदद कर मिसाल कायम की। 

  • undefined
    Video Icon

    Health CapsuleJun 19, 2021, 4:39 PM IST

    हमारी लापरवाही डाल सकती है मुश्किल में जान, एक्सपर्ट ने दिए कोरोना की तीसरी लहर से बचने के टिप्स

    ।  कोरोना की तीसरी लहर के लिए आंशका के बावजूद लोग लापरहवाही कर रहे हैं। सोशल डिस्टेसिंग, मास्क आदि जैसे कोविड नियमों की धज्जियां उड़ी हुई है।

  • undefined

    NationalJun 17, 2021, 9:15 AM IST

    वीवाटेक के 5वें संस्करण में PM ने कोरोना महामारी से उबरने में 'डिजिटल इंडिया' की भूमिका को सराहा

    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को वीवाटेक के 5वें संस्करण में वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से मुख्य अतिथि के रूप में भाषण दिया। इसमें उन्होंने कोरोना महामारी से उबरने में 'डिजिटल इंडिया' के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कई स्टार्टअप का उदाहरण देकर बताया कि कैसे इन्होंने देश को संकट से उबारा या आगे बढ़ने में मदद की।

  • undefined
    Video Icon

    BollywoodJun 11, 2021, 1:13 PM IST

    कोरोना की तीसरी लहर से लोगों को बचाने की तैयारी में लगे सोनू सूद, देश के 18 राज्यों में करने जा रहे ये काम

    वीडियो डेस्क। ऐक्टर सोनू सूद पिछले एक साल से कोरोना वायरस से प्रभावित लोगों की जमकर मदद कर रहे हैं। भारत में COVID-19 की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए अब सोनू ने देशभर के 16-18 राज्यों में ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाने की घोषणा की है। सोनू ने बताया है कि आंध्र प्रदेश के नेल्लोर और कुरनूल शहरों में ऑक्सीजन प्लांट लगाए जाने की प्रक्रिया पहले ही शुरू कर दी गई है और सितंबर तक सभी राज्यों के ये ऑक्सीजन प्लांट काम करने लगेंगे। 'मैंने सभी राज्यों को कवर करने की कोशिश की है। ऑक्सीजन प्लांट्स को जरूरतमंद अस्पतालों के नजदीक लगाया जाएगा जिनमें 150-200 बेड्स होंगे। इसके बाद इन सभी हॉस्पिटल्स को कभी ऑक्सीजन की कमी नहीं पड़ेगी। मुझे उम्मीद है कि इन अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी से किसी की जान नहीं जाएगी।

     

  • undefined

    Health CapsuleJun 6, 2021, 12:05 PM IST

    कोरोना के कारण बढ़ी नींद नहीं आने की प्रॉब्लम, इंटरनेट और मोबाइल का यूज दोगुना हुआ

    हेल्थ डेस्क. कोरोना संक्रमण के साइड इफैक्ट को लेकर एक नई रिसर्च सामने आई है। कोरोना के कारण लोगों के बीच इंटरनेट का उपयोग बढ़ा है जिस कारण से नींद की कई तरह की समस्याएं सामने आई हैं। इस रिसर्च को 'स्लीप' जर्नल में प्रकाशित किया गया है। रिसर्च के अनुसार, इटली में लॉकडाउन के दौरान इंटरनेट का उपयोग बढ़ा है। इंटरनेट ट्रैफिक की मात्रा पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में लगभग दोगुनी हो गई है। आइए जानते हैं क्या क्या कहती है रिसर्च?
     

  • undefined

    Health CapsuleJun 1, 2021, 4:58 PM IST

    कोरोना मरीजों में ऑक्सीजन लेवल कम होने के 3 संकेत, एक्सपर्ट ने बताया ये होने पर तुरंत ले जाए हॉस्पिटल

    हेल्थ डेस्क। कोरोना की दूसरी लहर का असर कम नहीं हुआ है। राज्यों में अनलॉक की स्थिति बन रही है।  कोरोना वायरस के अधिकतर मरीजों की मौत सांस की कमी से हुई  है। पिछले महीने कोरोना के मरीजों में ऑक्सीजन लेवल कम होने के अधिक मामले देखे गए। यही वजह थी कि मरीजों को अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति की भारी कमी का सामना करना पड़ा। मध्य प्रदेश की राज्यधानी भोपाल की डॉकटर अंजु गुप्ता के मुताबिक ऑक्सीजन लेवल की निगरानी करना और समय पर इलाज कराने से मरीज की जान को बचाया जा सकता है।कोरोने के मामले में हमेशा ऑक्सीजन लेवल कम होना जैसी परेशानी नहीं होती है। इसमें हल्का बुखार, खांसी और गंध और स्वाद की कमी जैसे लक्षण भी शामिल हो सकते हैं। हालांकि, जिन लोगों को सांस लेने में कठिनाई होती है या किसी भी समय सांस फूलने का अनुभव होता है, उन्हें अस्पताल ले जाना चाहिए और चिकित्सा सहायता लेनी चाहिए।

     

  • undefined
    Video Icon

    Health CapsuleMay 30, 2021, 6:37 PM IST

    कोरोना से बच्चों को बचाने के लिए मजबूत करें उनकी इम्युनिटी, जानें क्या-क्या खिलाएं

    वीडियो डेस्क। कोरोना की दूसरी लहर का अभी असर कम नहीं हुआ है। भले ही अब कोरोना के मामले थमने लगे है। देश में लाखों लोगों को संक्रमण और हजारों मौतों की तस्वीर ने विचलित किया। बच्चों पर इसका ज्यादा प्रभाव नहीं पडने से हमने राहत की सांस ली है। देश के वैज्ञानिक और हेल्थ एक्सपर्ट आगाह  कर रहे हैं कि कोरोना की तीसरी लहर बच्चों के लिए ज्यादा घातक साबित हो सकती है। बच्चों को तीसरी लहर से बचाने के लिए उनकी इम्युनिटी मजबूत करने पर जोर दिया जा रहा है।  आखिर कैसे बच्चों की इम्युनिटी मजबूत होगी? बच्चों को क्या खिलाएं जिसके सेवन से बच्चों की इम्युनिटी मजबूत की जा सकती है। जानें इस वीडियो में।
     

  • undefined

    BusinessMay 29, 2021, 6:48 PM IST

    कोरोना महामारी में बढ़ी साइकिल की मांग, वित्त वर्ष में 20 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान

    सरकारी विभाग इन साइकिलों को टेंडर प्रक्रिया के माध्यम से खरीद कर विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के तहत वितरित करते हैं। प्रीमियम और बच्चों की साइकिल (लगभग 40 प्रतिशत) की मांग फिटनेस और आराम की जरूरतों से प्रेरित है।

  • undefined

    NationalMay 18, 2021, 12:39 PM IST

    कोरोना का कहर : अस्थाई तौर पर टली चार धाम की यात्रा, सीएम तीरथ सिंह की अपील- घर पर ही करें पूजा

    भारत कोरोना की दूसरी लहर का सामना कर रहा है। ऐसे में बढ़ते संक्रमण के चलते चार धाम की यात्रा को अस्थाई तौर पर टाल दिया गया है। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने लोगों से अपील की है कि वे घर पर ही रहकर पूजा करें। 

  • undefined
    Video Icon

    Health CapsuleMay 17, 2021, 5:00 PM IST

    ब्लैक फंगस के बारे में पूरी जानकारी जो आपके लिए है जरूरी, डॉक्टर ने दिए इससे बचने 3 टिप्स

    वीडियो डेस्क।  कोरोना मरीजों में होनेवाली दूसरी खतरनाक बीमारी म्यूकर मायकोसिस ब्लैक फंगस ने  चिंता बढ़ा दी है। कई कोरोना मरीज इसकी चपेट में आ चुके हैं, कई तो जान भी जा चुकी है।   कोरोना वायरस से ठीक होने के दो-तीन दिन बाद म्यूकोरमाइकोसिस या ब्लैक फंगस के लक्षण दिखाई देते हैं। कोरोना से ठीक होने के दो-तीन दिन बाद पहले ये संक्रमण साइनस में दिखता है और उसके बाद आंख तक जाता है। वहीं अगले 24 घंटे में ये फंगस दिमाग तक हावी हो सकता है।   ब्लैक फंगस  किन लोगों और हालात में इसके होने की संभावना होती है । ये शरीर में कैसे पहुंचता है और इससे क्या असर पड़ सकता है ? ब्लैक फंगस कहां पाया जाता है ? इसके लक्षण क्या है जिससे हम पहचान सकते हैं ? ये इंफेक्शन किन लोगों को होता है क्या इसका कोरोना से कनेक्शन है ? इससे कैसे बचा जा सकता है ? इन सभी सवालों के जवाब  एशियानेट न्यूज हिन्दी  ने जानें  Dr.Ganesh Pillay MD AIIMS, New Delhi से। देखें वीडियो।                                                                  

  • undefined

    TrendingMay 14, 2021, 11:16 AM IST

    कपनियां बढ़ा रहीं अपने कर्मचारियों का मनोबल, मेडिकल और लाइफ कवर को बढ़ाया जा रहा

    कोरोना की दूसरी लहर काफी खतरनाक साबित हो रही है। प्राइवेट कंपनियों में काम कर रहे कर्मचारियों का इंक्रीमेंट नहीं लग पा रहा है, जो कि लोगों में तनाव और फ्रस्ट्रेशन का कारण बन रहा है। ऐसे में कंपनियों की ओर से अपने कर्मचारियों के लिए कुछ बड़े कदम उठाए जा रहे हैं, जिससे उनका मनोबल ना गिर सके। कंपनियों अपने कर्मचारियों का हेल्थ कवर बढ़ा रही है और स्टाफ के फैमिली मैंबर्स को सपोर्ट कर रही हैं। इस सेक्टर में कंपनी की ओर दी जा रही वित्तीय सुरक्षा...

  • undefined

    CareersMay 11, 2021, 3:20 PM IST

    इन 6 क्रिएटिव ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई को बनाया आसान, देखें क्या हैं ये इनोवेशन

    हेल्थ डेस्क. कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर (covid-19 pandemic) के कारण लोग घरों में कैद हैं। भारत के कई राज्यों में पाबंदियां लगा दी गई हैं। लॉकडाउन के दौर लोगों का टेक्नोलॉजी ने साथ दिया है। सोशल डिस्टेंसिंग नियमों का पालन हो या फिर कोरोना की दूसरी गाइडलाइन। कुछ ऐसे क्रिएटिव काम हुए जिनके कारण कोरोना वायरस के लड़ने में मदद मिली। हम आपको 6 ऐसे इनोवेशन (6 ways innovations) बता रहे हैं जो संकट के समय में लोगों की हेल्प कर रहे हैं। 

  • undefined

    Health CapsuleApr 18, 2021, 3:55 PM IST

    COVID-19 Pandemic: क्या आपको भी आते हैं डरावने सपने, इन 6 तरीकों को अपनाने से होगा फायदा

    हेल्थ डेस्क। कोरोनावायरस महामारी की वजह से ज्यादतर लोग हमेशा तनाव में रह रहे है। वर्क फ्रॉम होम का प्रेशर और काम-काज बंद हो जाने से भी लोग डिप्रेशन के शिकार हो रहे हैं। ऐसा पाया गया है कि बहुत से लोग इस दौरान डरावने सपने देखते हैं। इससे उनकी परेशानी और भी बढ़ जाती है। बहुत से लोग चिंता के कारण ठीक से सो नहीं पाते। जब कभी उन्हें नींद भी आती है, तो वे ऐसे सपने देखने लगते हैं, जिससे उनके मन में डर पैदा हो जाता है। अक्सर डरावने सपने ज्यादा बच्चे देखा करते हैं, लेकिन कई साइकोलॉजिस्ट्स का कहना है कि कोरोनालायरस महामारी के दौरान बड़े लोग भी इस तरह के सपने देखने लगे हैं। यह मानसिक स्वास्थ्य से जुड़ी बड़ी समस्या बनती जा रही है। जानें इस समस्या से बचने के कुछ उपाय।
    (फाइल फोटो)