Cyclonic Storm  

(Search results - 14)
  • undefined

    NationalJun 25, 2021, 10:00 AM IST

    चक्रवाती तूफान तौकते के दौरान समुद्र में डूबे टगबोट वरप्रदा हादसे में FIR दर्ज, 11 लोगों की हुई थी मौत

    पिछले दिनों चक्रवाती तूफान तौकते के बीच समुद्र में डूबे टगबोट वरप्रदा हादसे के मामले में मुंबई पुलिस ने FIR दर्ज की है। इस हादसे में 11 लोगों की मौत हो गई थी। इसमें लापरवाही सामने आई थी।
     

  • undefined

    NationalMay 28, 2021, 7:58 AM IST

    यास: ओडिशा के CM ने पेश की मिसाल, PM से कहा-'देश कोरोना से जूझ रहा, इसलिए नहींं चाहिए आर्थिक मदद'

    चक्रवाती तूफान यास से बंगाल और ओडिशा में हुए नुकसान का आकलन करने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दोनों राज्यों के दौरे पर पहुंचे। उन्होंने चक्रवात प्रभावित कुछ इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। इस दौरान मोदी दोनों राज्यों में समीक्षा बैठक की। सबसे पहले पीएम ने ओडिशा में बैठक की। बंगाल में आयोजित बैठक में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी करीब आधा घंटे की देरी से पहुंचीं। बैठक में पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ भी मौजूद थे।

  • undefined

    NationalMay 26, 2021, 7:40 AM IST

    यास: ओडिशा और बंगाल में भारी बारिश का दौर, ममता बोलीं- 3 लाख घरों को नुकसान हुआ, 1 करोड़ लोग प्रभावित

    चक्रवाती तूफान यास के खतरे को देखते हुए कई राज्य हाईअलर्ट पर हैं। बंगाल और ओडिशा के तटीय इलाकों में यास की तबाही की असर दिखाई देने लगा है। अंडमान के उत्तरी भाग और पूर्वी-मध्य बंगाल की खाड़ी में बना यह बवंडर उत्तर और उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ता रहेगा। यहां से करीब 12 लाख लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है। तूफान से कई इलाकों में भारी बारिश हो रही है। तूफान बुधवार सुबह 9 बजे ही ओडिश के तट से टकरा गया था। लैंडफॉल के बाद ओडिशा के तटीय इलाकों में इस समय 150 किमी प्रति घंटा की स्पीड से हवाएं चल रही हैं। समुद्र का पानी कई गांवों में घुस गया है।

  • undefined

    NationalMay 25, 2021, 8:30 AM IST

    चक्रवात यास का सामना करने के लिए कोस्ट गार्ड ने कसी कमर, तैनात किए 19 जहाज और 4 एयरक्राफ्ट

    अंडमान के उत्तरी भाग और पूर्वी-मध्य बंगाल की खाड़ी में बने बवंडर अगले 24 घंटे में गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल जाएगा। यह आज शाम या 26 मई की सुबह उत्तर आोडिशा और पश्चिम बंगाल के तटों से टकराकर उत्तर और उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ता रहेगा। इस दौरान 180 किमी/घंटा की रफ्तार से तूफानी हवाएं चल सकती हैं। आपदा को देखते हुए कई राज्यों में हाईअलर्ट जारी किया गया है।

  • undefined

    NationalMay 24, 2021, 9:37 AM IST

    'यास' का सामना करने ओडिशा और बंगाल में हाईअलर्ट, 160 किमी/घंटा की स्पीड से चल सकती हैं तूफानी हवाएं

    अंडमान के उत्तरी भाग और पूर्वी-मध्य बंगाल की खाड़ी में बना कम दबाव का क्षेत्र आज चक्रवाती तूफान 'यास' में बदल सकता है। इसे लेकर ओडिशा और पश्चिम बंगाल में हाईअर्ट जारी किया गया है। इसका असर 28 या 29 मई तक देखने को मिल सकता है। तूफान का सामना करने ओडिशा और पश्चिम बंगाल के अलावा इन राज्यों से सटे अन्य इलाकों को भी अलर्ट जारी किया गया है। कई ट्रेनें रद्द कर दी गई है। वहीं, NDRF के 950 से अधिक जांबाज और 26 हेलिकॉप्टर को स्टैंडबाय पर रखा गया है।

  • undefined

    NationalMay 22, 2021, 10:48 AM IST

    तौकते गया, तो 'यास' का खतरा, ओडिशा के कई जिलों में अलर्ट, दक्षिण रेलवे ने करीब 22 ट्रेनें कैंसल कीं

    मुंबई और गुजरात में भारी तबाही मचाने वाले तूफान तौकते के कमजोर पड़ने के बाद लोगों ने राहत की सांस ली थी, लेकिन अब आज से एक नये तूफान 'यास' का खतरा मंडराने लगा है। मौसम विभाग के अनुसार, यह तूफान आज चक्रवाती तूफान में बदल सकता है। इसका असर अगले 3-4 दिनों तक बने रहने की आशंका है। इस बीच ओडिशा के कई जिलों में अलर्ट जारी किया गया है। यास के खतरे को देखते हुए दक्षिण रेलवे ने लगभग 22 ट्रेनों को रद्द किया है।

  • undefined

    NationalMay 19, 2021, 8:34 AM IST

    PM ने गुजरात के 'तौकते' प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया, 1000 करोड़ की वित्तीय मदद का किया ऐलान

    पीएम मोदी ने कहा, केंद्रीय कैबिनेट की टीम राज्य का दौरा कर नुकसान का अनुमान लगाएगी। इसके अलावा पीएम मोदी ने भरोसा दिलाया कि चक्रवात के चलते इंफ्रास्ट्रक्चर में जो नुकसान पहुंचा है, उसकी भरपाई में केंद्र हर संभव मदद करेगा।   

  • undefined

    NationalMay 14, 2021, 8:23 PM IST

    'तौकते' चक्रवात: 175 किमी/घंटा की स्पीड से बढ़ रही तबाही, कई राज्य हाई डेंजर जोन में, हाई अलर्ट जारी

    अरब सागर में एक दबाव बनने से तौकते चक्रवात आगे बढ़ने लगा है। शनिवार की सुबह यह तेज हो सकता है। रात तक यह भीषण चक्रवाती तूफान में बदल जाएगा। 16 से 19 मई के बीच इसकी स्पीड 150-175 किलोमीटर प्रति घंटा होगा तो ज्यों-ज्यों आगे बढ़ेगा स्पीड बढ़ा सकता है। 18 मई को इसके गुजरात के तटीय क्षेत्र से टकराने की आशंका जताई जा रही है। 

  • undefined
    Video Icon

    NationalDec 4, 2020, 12:17 PM IST

    साइक्लोन तूफान: रामेश्वरम में हवाओं के साथ-साथ समुद्र में उठने लगीं तेज लहरें, केरल में भी रेड अलर्ड जारी

    वीडियो डेस्क।  तमिलनाडु और केरल के तटीय इलाकों में चक्रवाती तूफान बुरेवी (Cyclonic Storm Burevi) का खतरा बना हुआ है।  भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने बताया है कि बुरेवी कल सुबह तक दक्षिणी तमिलनाडु के तट को पम्बन और कन्याकुमारी के बीच से पार करेग।  वहीं इस बीच तमिलनाडु के रामेश्वरम (Rameshwaram) के तटीय क्षेत्रों में हवाओं के साथ-साथ समुद्र में लहरें भी तेज होने लगी हैं।

    मौसम विभाग ने जारी किया है रेड अलर्ट
    मौसम विभाग (IMD) के अनुसार, चक्रवाती तूफान बुरेवी (Cyclone Burevi) के पश्चिम की ओर बढ़ते हुए तीन दिसंबर को मन्नार की खाड़ी और निकटवर्ती कोमोरिन इलाके में पहुंचने की संभावना है. इसके बाद यह संभवत: पश्चिम-दक्षिणपश्चिम की ओर बढ़ेगा और चार दिसंबर की सुबह कन्याकुमारी और पम्बन के बीच दक्षिण तमिलनाडु के तट से गुजरेगा।

  • <p>9 June 1960 cyclonic, cyclonic Bloody Mary, China,cyclonic rainfall, cyclonic storm,cyclonic depression,cyclonic precipitation,cyclonic circulation,cyclonic meaning,cyclonic rainfall meaning,cyclonic rainfall in india,cyclonic and anticyclonic,cyclonic activity,cyclonic activity in bay of bengal,cyclonic activity in arabian sea,cyclone alert,cyclonic air filter,cyclone amphan,cyclonic action,a cyclonic storm,a cyclonic circulation&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

    WorldJun 9, 2020, 12:21 PM IST

    बिछ गई थीं 1600 लोगों की लाशें, सबकुछ हो गया था तबाह...ब्लडी मैरी तूफान ने ऐसे मचाई थी तबाही

    नई दिल्ली. अम्फान और निसर्ग चक्रवाती तूफान के बाद अब बंगाल की खाड़ी के ऊपर कम दबाव वाला क्षेत्र बन रहा है। भारतीय मौसम विभाग ने बताया कि बंगाल की खाड़ी के पूर्वी मध्य क्षेत्र में गति नाम का चक्रवाती तूफान आ सकता है। 60 साल पहले (1960) चीन में जून महीने के पहले हफ्ते में मैनी नाम का तूफान आया था, जिसमें 1600 से ज्यादा लोगों की जान चली गई। यह तूफान इतना भयंकर था कि ज्वाइंट टाइफून वार्निंग सेंटर (JTWC) ने इसे "ब्लडी मैरी" नाम दिया था। इस तूफान की शुरुआत 2 जून को हुई। मैरी तूफान ने 8 जून को हांगकांग में लैंडफॉल बनाया और ग्वांगडोंग और फुजियान तक गया। इसके बाद वापस प्रशांत महासागर में पहुंच गया।
     

  • undefined

    MaharashtraJun 6, 2020, 9:33 AM IST

    तूफान जहां से गुजरता है, तो देखिए क्या असर दिखाता है, मायानगरी का यह हुआ हाल

    मुंबई. चक्रवाती तूफान निसर्ग का खतरा भले ही टल गया हो, लेकिन उसका असर अभी भी देखा जा रहा है। महाराष्ट्र के साथ ही मध्य प्रदेश तक बारिश हो रही है। तेज हवाएं चल रही हैं। हालांकि निसर्ग के कमजोर पड़ने से नुकसान नहीं हुआ, लेकिन उसके बाद हो रही बारिश से कई इलाकों में पानी भर गया। मध्य प्रदेश में बारिश के साथ तेज हवाएं भी चलीं। मौसम विभाग के अनुसार बंगाल की खाड़ी के ऊपर कम दबाव का क्षेत्र बनने से अगले सप्ताह तक मध्य और दक्षिण भारत में मानसून प्रवेश कर सकता है। बता दें कि मानसून ने एक जून को केरल में दस्तक दे दी थी। यह भी सही है कि निसर्ग ने मानसून को सही समय पर केरल में पहुंचाने में मदद की। आगे देखिए मुंबई की कुछ तस्वीरें..

  • undefined

    NationalJun 2, 2020, 10:09 AM IST

    अब निसर्ग तूफान की दस्तक, 100 किमी की रफ्तार से चलेगी हवा; 3 जून को महाराष्ट्र के तट से टकराएगा, अलर्ट

    भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक निसर्ग तूफान 3 जून को महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में हरिहरेश्वर और दमन के बीच उत्तर महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के तटों से टकरा सकता है। इस दौरान करीब 100 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। जिसको लेकर महाराष्ट्र और गुजरात में अलर्ट जारी कर दिया गया है। इसके साथ ही NDRF की टीमों की तैनाती की गई है। 

  • undefined

    Other StatesMay 25, 2020, 9:59 AM IST

    शॉकिंग PHOTOS: तूफान में हजारों लोगों का सबकुछ उजड़ गया और इनके लिए यह मंजर सोशल मीडिया का 'मसाला' था

    कोलकाता. पिछले दिनों आए भयंकर चक्रवाती तूफान ने पश्चिम बंगाल और असम के अलावा पड़ोसी देश बांग्लादेश में भारी तबाही मचाई है। अकेले पश्चिम बंगाल में इससे 13 अरब डॉलर के नुकसान की आशंका जताई गई है। वहीं, बांग्लादेश में 11 अरब टका नुकसान हुआ है। हालांकि यह नुकसान अभी और बढ़ सकता है। तूफान से फसलों, मकानों, सड़क, पुल, बिजली, इन्फ्रास्ट्रक्चर सब बर्बाद हो गए। तूफान से करीब 1.3 करोड़ लोग प्रभावित हुए हैं। वहीं, भारत और बांग्लादेश में 100 से ज्यादा लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी। अम्फान पिछले एक दशक में आए चक्रवाती तूफानों में सबसे ज्यादा खतरनाक साबित हुआ। हालांकि यह अच्छी बात रही कि तूफान से पहले ही करीब 30 लाख लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचा दिया गया था। तूफान के बाद अकेले पश्चिम बंगाल में 100 से ज्यादा दल रेस्क्यू ऑपरेशन चलाए हुए हैं।  ये तस्वीरें तूफान के बाद के बर्बादी के मंजर को दिखाती हैं... 

  • undefined

    NationalDec 22, 2019, 1:01 PM IST

    हिंद महासागर में उठे इस साल सबसे ज्यादा चक्रवाती तूफान, टूटा सवा सौ साल का रिकार्ड

    2019 में हिंद महासागर में आए चक्रवाती तूफानों की संख्या 11 हो गयी जो कि 1893 के बाद सर्वाधिक है उल्लेखनीय है कि 'पवन', सात दिसंबर को सोमालिया तट से गुजरने के बाद कमजोर पड़ गया था