Data Collection  

(Search results - 4)
  • T S Singh Deo

    ChhattisgarhMay 26, 2021, 10:27 PM IST

    छत्तीसगढ़ में वैक्सीन वेस्टेज नहीं, केंद्र सरकार टीम भेजकर जांच करा लेः स्वास्थ्य मंत्री

    स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने कहा कि केंद्र सरकार ने एक नया पोर्टल बनाया है। यहां डेटा कलेक्शन सीधे वैक्सीन सेंटर्स से कर लिया जा रहा है।

  • टेक डेस्क। जो लोग टेक्नोलॉजी की दुनिया से परिचित हैं, वे इन्कॉग्निटो मोड (Incognito Mode) के बारे में जरूर जानते हैं। वैसे, इसका इस्तेमाल के बारे में ज्यादा लोगों को पता नहीं। बता दैं कि इसकी वजह दुनिया की सबसे टॉप टेक कपंनी  Google बड़ी मुसीबत में फंस सकती है। उस पर 36 हजार करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया जा सकता है। गूगल पर आरोप है कि वह इन्कॉग्निटो मोड के जरिए लोगों की निगरानी करती है और उनके प्राइवेट डेटा पर नजर रखती है। गूगल पर इस मोड के जरिए लोगों का डेटा चोरी-छुपे कलेक्ट करने का आरोप भी है। बता दें कि इन्कॉग्निटो मोडा का उपयोग प्राइवेट ब्राउजिंग के लिए किया जाता है। यह फीचर सबसे पहले एप्पल (Apple) के सफारी (Safari) ब्राउजर में आया था। जानें इसके बारे में डिटेल्स। (फाइल फोटो)

    TechMar 15, 2021, 6:51 PM IST

    इन्कॉग्निटो मोड की वजह से Google पर लग सकता है 36 हजार करोड़ रुपए का जुर्माना, जानें क्या है यह

    टेक डेस्क। जो लोग टेक्नोलॉजी की दुनिया से परिचित हैं, वे इन्कॉग्निटो मोड (Incognito Mode) के बारे में जरूर जानते हैं। वैसे, इसका इस्तेमाल के बारे में ज्यादा लोगों को पता नहीं। बता दैं कि इसकी वजह दुनिया की सबसे टॉप टेक कपंनी  Google बड़ी मुसीबत में फंस सकती है। उस पर 36 हजार करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया जा सकता है। गूगल पर आरोप है कि वह इन्कॉग्निटो मोड के जरिए लोगों की निगरानी करती है और उनके प्राइवेट डेटा पर नजर रखती है। गूगल पर इस मोड के जरिए लोगों का डेटा चोरी-छुपे कलेक्ट करने का आरोप भी है। बता दें कि इन्कॉग्निटो मोडा का उपयोग प्राइवेट ब्राउजिंग के लिए किया जाता है। यह फीचर सबसे पहले एप्पल (Apple) के सफारी (Safari) ब्राउजर में आया था। जानें इसके बारे में डिटेल्स।
    (फाइल फोटो)
     

  • undefined

    TechJan 21, 2021, 12:17 PM IST

    क्या आपकी PHOTOS भी चुराता है WhatsApp? जानें आपके ऊपर कैसे नजर रखता है ये App

    टेक डेस्क: नए साल की शुरुआत से ही WhatsApp पॉलिसी ने भारत में लोगों में हड़कंप मचा दिया। जिस WhatsApp का इस्तेमाल स्मार्टफोन रखने वाला हर भारतीय करता है, उनमें से 80 फीसदी से ज्यादा लोग इसे अनइंस्टाल करने को तैयार हो गए हैं। हालांकि, अब WhatsApp ने इस पॉलिसी को तीन महीने के लिए टाल दिया है। इस पॉलिसी को लेकर कहा जा रहा है कि इसे एक्सेप्ट करने के बाद WhatsApp के पास आपकी सारी पर्सनल डिटेल चली जाएगी। कई लोगों को अभी तक ये नहीं पता है कि आखिर आपकी कौन-कौन सी डिटेल WhatsApp अपने पास कलेक्ट करता है? अगर आपने इसकी पॉलिसी नहीं भी मानी है, तब भी WhatsApp के पास आपकी नीचे दी गई डिटेल्स डाटा के रूप में जमा हो जाती है।  
     

  • undefined
    Video Icon

    NationalJan 13, 2021, 4:40 PM IST

    व्हाट्सऐप छोड़ लोग क्यों डाउनलोड कर रहे हैं टेलीग्राम?

    व्हाट्सएप की नई पॉलिसी व्हाट्सएप के लिए ही गले की हड्डी बन गई है। WhatsApp ने अपनी पॉलिसी अपने यूजर्स के लिए बनाई लेकिन अब उसे अपनी पॉलिसी को लेकर सफाई देनी पड़ रही है। व्हाट्सएप ने कभी सपने में भी नहीं सोचा होगा कि उसकी नई पॉलिसी किसी अन्य एप को फायदे पहुंचाने का काम करेगी, लेकिन अब हो ऐसा ही रहा है। व्हाट्सएप की नई पॉलिसी का सबसे ज्यादा फायदा Telegram को हो रहा है और दूसरे नंबर पर सिग्नल एप मोर्चा संभाले हुए है।