Ethiopia  

(Search results - 3)
  • undefined

    RajasthanFeb 14, 2021, 7:27 PM IST

    63 साल की महिला ने लगाई 42 किमी की दौड़, 150 शहरों और 100 देशों के रनर्स ने लिया वर्चुअली रनिंग में हिस्सा

    मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 13 साल के ऋषभ ने भी फुल मैराथन पूरी की। वहीं छह साल की खुशी ने भी अपने नन्हें-नन्हें कदमों से 2 किमी की दौड़ लगाई। वहीं, 80 साल के दामोदर शर्मा ने 21 किमी कैटेगिरी की दौड़ पूरी की। 

  • undefined

    NationalDec 13, 2020, 4:40 PM IST

    इस देश में सुरक्षाबलों ने चाकू-छुरे से की सैकड़ों आम नागरिकों की हत्या, कई दिनों तक पड़े रहे शव

    इथोपिया. इथोपिया से मानवता को शर्मशार करने वाला मामला सामने आया है। यहां एक शहर में सुरक्षाबलों और उनके सहयोगियों ने चाकू-छुरे से सैंकड़ों आम नागरिकों की हत्या कर दी। इस क्रूर हत्याकांड में बचे लोगों ने घटना की जानकारी दी। बचे हुए लोगों का कहना है कि इतना ही नहीं कई दिनों तक यहां शव जमीन पर ही पड़े रहे। 
     

  • अफ्रीका के इथोपिया में मुर्सी ट्राइब की महिलाएं काफी लड़ाकू और साहसी होती हैं। ये औरतें एके 47 राइफलों से लैस रहती हैं और किसी भी खतरे का सामना कर सकती हैं। इन महिलाओं की खासियत है कि ये अपने होठों को काफी बड़ा बना लेती हैं। इसके लिए बचपन से ही इनके होठों के बीच लकड़ी के टुकड़े रख कर उन्हें फैलाया जाता है। मुर्सी ट्राइब में जिस महिला के होठ जितने फैले और लटके होते हैं, वह उतनी ही खूबसूरत मानी जाती है। कई महिलाओं के होठ तो 7 इंच तक फैले होते हैं। ये महिलाएं सीप और लकड़ी से बनी चीजों से श्रृंगार करती हैं। ये महिलाएं इतनी साहसी होती हैं कि गोद में छोटे बच्चे को लिए राइफल चला सकती हैं। इथोपिया की यह जनजाति ओमो नदी की घाटी में निवास करती है। इनकी आबादी लगातार घटती जा रही है। अब इनकी संख्या महज 10,000 रह गई है। हाल ही में इटली के एडवेंचर टूरिस्ट और फोटोग्राफर जियानलुका चियोडिनी ने मुर्सी जनजाति की महिलाओं की तस्वीरें लीं। इससे उनके जीवन की एक झलक मिलती है। देखें तस्वीरें।

    HatkeMar 10, 2020, 12:20 PM IST

    मर्दों को ऐसे रिझाती हैं ये आदिवासी महिलाएं, हाथ में लेकर घूमती हैं AK 47

    अफ्रीका के इथोपिया में मुर्सी ट्राइब की महिलाएं काफी लड़ाकू और साहसी होती हैं। ये औरतें एके 47 राइफलों से लैस रहती हैं और किसी भी खतरे का सामना कर सकती हैं। इन महिलाओं की खासियत है कि ये अपने होठों को काफी बड़ा बना लेती हैं। इसके लिए बचपन से ही इनके होठों के बीच लकड़ी के टुकड़े रख कर उन्हें फैलाया जाता है। मुर्सी ट्राइब में जिस महिला के होठ जितने फैले और लटके होते हैं, वह उतनी ही खूबसूरत मानी जाती है। कई महिलाओं के होठ तो 7 इंच तक फैले होते हैं। ये महिलाएं सीप और लकड़ी से बनी चीजों से श्रृंगार करती हैं। ये महिलाएं इतनी साहसी होती हैं कि गोद में छोटे बच्चे को लिए राइफल चला सकती हैं। इथोपिया की यह जनजाति ओमो नदी की घाटी में निवास करती है। इनकी आबादी लगातार घटती जा रही है। अब इनकी संख्या महज 10,000 रह गई है। हाल ही में इटली के एडवेंचर टूरिस्ट और फोटोग्राफर जियानलुका चियोडिनी ने मुर्सी जनजाति की महिलाओं की तस्वीरें लीं। इससे उनके जीवन की एक झलक मिलती है। देखें तस्वीरें।