Galwan Valley  

(Search results - 135)
  • undefined

    NationalJun 28, 2021, 7:45 PM IST

    लद्दाख में रक्षामंत्री-भारत ने कभी किसी देश को आंख नहीं दिखाई, लेकिन कोई हमें आंख दिखाए, यह मंजूर नहीं

    रक्षामंत्री ने चीन और पाकिस्तान को कड़े शब्दों में चेतावनी दी है कि भारत हमेशा शांति का पक्षधर रहा है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि कोई भी आंख उठाकर देखे। राजनाथ सिंह सोमवार को लद्दाख के कारू मिलिट्री स्टेशन पहुंचे थे।
     

  • <p>जुलाई, 2020 में तेलंगाना सरकार ने कर्नल की वीरांगना संतोषी को डिप्टी कलेक्टर बनाया था। मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव ने खुद शहीद के घर जाकर वीरांगाना को नियुक्ति पत्र सौंपा था।<br />
<strong>(पति को अंतिम सलामी देतीं संतोषी)</strong></p>

    NationalJun 16, 2021, 5:52 PM IST

    Exclusive चीन कभी भी गलवान नहीं दोहराना चाहेगा, वह मनोवैज्ञानिक खेल खेल रहाः विनोद भाटिया

    कर्नल संतोष बाबू और उनके साथ के सैनिकों के बलिदान के बाद देश ने कितना सबक लिया। क्या रणनीति व सैन्य स्तर पर हम कुछ करने में सफल रहे। गलवान के बाद क्या बदला और क्या सबक हमने सीखा।

  • undefined

    NationalJun 15, 2021, 1:59 PM IST

    गलवान हिंसा के 1 साल पूरे, सांसद राजीव चंद्रशेखर ने शहीदों के जीवन से प्रेरणा लेने की बात कही

    लद्दाख के गलवान घाटी में भारत और चीन सैनिकों के बीच हुई खूनी झड़प को आज(15 जून) को पूरे एक साल हो गए। इस लड़ाई में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे। इनमें कर्नल संतोष बाबू भी शामिल थे। शहीदों को सांसद राजीव चंद्रशेखर ने श्रद्धांजलि देते हुए उनकी बहादुरी को याद किया।

  • <p>Galwan Violence, Galwan Violence One Year, Galwan Valley, Galwan Shaheed Gurtej Singh</p>

    TrendingJun 15, 2021, 12:16 PM IST

    गलवान हिंसा का एक साल: जानें कौन है वह 'हीरो', जिसने सबसे पहले देखा घाटी में चीन की करतूत

    गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प के एक साल पूरे हो गए। 15 जून 2020 को भारतीय सैनिकों ने अपने अदम्य साहस का एक बार फिर से परिचय दिया था। शहीद गुरतेज सिंह वह पहले व्यक्ति थे, जिन्होंने गलवान में चीन की साजिश का पता लगाया। गुरतेज सिंह ऑपरेशनल पेट्रोलिंग के स्काउट में थे। उन्हें गलवान घाटी में पेट्रोलिंग का काम सौंपा गया था। उन्हें मरणोपरांत गणतंत्र दिवस 2021 पर वीर चक्र से सम्मानित किया गया।

  • undefined

    NationalJun 8, 2021, 6:04 PM IST

    गलवान हिंसा का एक साल: चीन ने यकीन दिलाया कि हम उन पर भरोसा नहीं कर सकते

    चीन के विशेषज्ञ जयदेव रानाडे ने Asianet Newsable से बातचीत में बताया कि क्यों बीजिंग को भारत के साथ एक समान मंच पर बातचीत शुरू करनी होगी और उसके बाद ही चीजों के आगे बढ़ने की उम्मीद होगी।

  • undefined

    WorldJun 1, 2021, 11:57 AM IST

    गलवान घाटी झड़प में 4 नहींं, 40 चीनी सैनिकों ने गंवाई थी जान, यह सच उजागर करने वाले ब्लॉगर को 8 महीने की जेल

    गलवान घाटी में भारत और चीनी सैनिकों के बीच हुई झड़प का सच सामने लाना एक चीनी ब्लॉगर को भारी पड़ गया। चीन सरकार के एक्शन के बाद उसे 8 महीने की जेल हुई है। ब्लॉगर ने इस झड़प में 40 चीनी सैनिकों के हताहत होने का खुलासा किया था, जबकि चीन सरकार यह संख्या सिर्फ 4 बता रही थी। मार्च में चीन ने एक नया सुरक्षा कानून पास किया था। चीन के सीना वीबो (Sina Weibo) माइक्रोब्लॉगिंग अकाउंट के ब्लॉगर चाउ जिमिंग (Chou Ziming) इस कानून के तहत सजा पाने वाले पहले व्यक्ति हैं।

  • undefined

    HatkeFeb 28, 2021, 8:20 AM IST

    अब ठंड से नहीं थरथराएंगे भारतीय सेना के जवान, 3 Idiots के असली रेंचो ने बनाया जवानों के लिए अनोखा Tent

    हटके डेस्क: भारत के जवान देश की रक्षा के लिए हर मुश्किल स्थिति में भी खड़े रहते हैं। गलवान वैली से लेकर हिमालय की चोटियों में दुश्मनों पर नजर रखने के दौरान इन सैनिकों को भीषण ठंड का सामना करना पड़ता है। सैनिकों के हाथ में ठंड से फोड़े पड़ जाते हैं। ग्लव्स और टोपी भी माइनस टेम्परेचर पर साथ नहीं देती। इन्हीं सैनिकों के लिए सोनम वांच्छूक (Sonam Wangchuk) ने एक ऐसा टेंट बनाया है, जो बाहर माइनस तापमान में भी अंदर गर्मी का अहसास देगा। ये टेंट पर्यावरण के लिए भी काफी उपयोगी साबित होगा। अभी जवान ठंड से बचने के लिए लकड़ी जलाते हैं। जिसमें मिट्टी के तेल का इस्तेमाल होता है। लेकिन ये टेंट सोलर एनर्जी से गर्मी पैदा करेगा। सबसे ख़ास बात कि जवान अपनी सुविधा के अनुसार टेंट का तापमान ऊपर-नीचे कर सकते हैं।  

  • undefined

    NationalJan 15, 2021, 2:42 PM IST

    सेना दिवस : आर्मी चीफ नरवणे बोले- गलवान में शहीद हुए जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा

    15 जनवरी को सेना दिवस (Army Day) के मौके पर सेना प्रमुख जनरल एमएम  नरवणे ने देश की जनता को भरोसा दिलाया कि गलवान में शहीद हुए जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। आर्मी चीफ नरवणे दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड पर आर्मी डे परेड को संबोधित करने पहुंचे थे। 

  • undefined

    NationalJan 11, 2021, 9:29 PM IST

    ठंड के चलते चीन ने मानी हार, पूर्वी लद्दाख में सीमा से 10 हजार सैनिक हटाए

    भारत से तनाव के बीच चीन ने पूर्वी लद्दाख में सीमा से अपने 10 हजार जवान पीछे हटा लिए हैं। बताया जा रहा है कि भारतीय सीमा के पास 200 किलोमीटर के दायरे से चीनी सैनिक हट गए हैं। चीन ने यह कदम ठंड के चलते उठाया है।

  • undefined
    Video Icon

    NationalNov 20, 2020, 6:17 PM IST

    चीन ने फिर चली भारत के पीठ पीछे एक शातिर चाल

    भारत और चीन के बीच तनाव एक बार फिर बढ़ने की आशंका है। सूत्रों के मुताबिक, चीन ने सिक्किम में भारतीय सीमा के करीब एक गांव बसा लिया है। यह गांव पड़ोसी देश भूटान के इलाके में दो किलोमीटर अंदर है और डोकलाम के उस पॉइंट से बेहद करीब है, जहां 2017 के दौरान भारत और चीन की सेनाएं आमने-सामने आ गई थीं और दोनों दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ गया था। यह खुलासा उस वक्त हुआ, जब चीन के एक वरिष्ठ पत्रकार ने ट्वीट के माध्यम से अपने देश के 'विकास' के बारे में जानकारी दी थी। हालांकि, विवाद बढ़ने पर चीन के पत्रकार ने अपने ट्वीट डिलीट कर दिए।

  • undefined
    Video Icon

    NationalNov 18, 2020, 9:21 AM IST

    Chinese Army की लद्दाख में Indian Army कर रही मदद!

    नमस्कार हमारा नाम है इंटरनेशनल खबरी। आज हम बात करेंगे कि तमाम लड़ाईयों और झड़प के बावजूद किस तरह से भारतीय सेना लद्दाख में चीनी सेना की मदद कर रही है। जी हां, यह सुनने में काफी अजीब लग रहा होगा लेकिन भारतीय सेना वहां मानवता की एक ऐसी मिसाल पेश कर रही है जिसे पूरी दुनिया को देखना चाहिए और सीखना चाहिए। आए दिन चीनी सेना से हमारी झड़प होती है, उनकी सेना हमारी सीमा में घुसी आती है उसके बावजूद सेना का ऐसा करना वाकई तारीफ के काबिल है।

  • undefined
    Video Icon

    WorldNov 17, 2020, 5:54 PM IST

    गोली से नहीं चला काम तो भारत के खिलाफ झूठ फैला रहा ड्रैगन

    भारतीय सैनिक पूर्वी लद्दाख की रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण चोटियों पर डटी हुई जिससे चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) बौखलाहट में है। उसने अपनी तरफ से कई प्रयास किए, लेकिन भारतीय सैनिकों को एक इंच भी हिला नहीं सकी। फिर सैन्य स्तरीय बातचीत में भी भारत पर इन चोटियों को छोड़ने का दबाव बनाया गया, लेकिन उसे यहां भी सफलता नहीं मिली। ऐसे में उसने अपनी प्रॉपगैंडा मशीन का सहारा लेना शुरू किया ताकि चीनी नागरिकों को उसकी कमजोरी का अहसास नहीं हो सके।

  • undefined

    WorldOct 3, 2020, 12:33 PM IST

    गलवान झड़प में शहीद हुए जवानों का लद्दाख के दौलत -बेग -ओल्डी में बना स्मारक, 15 जून की रात हुई थी हिसंक झड़प

    पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में 15 जून को चीनी सैनिकों के साथ हुई झड़प में बलिदान देने वाले 20 भारतीय सैनिकों के नाम पर लद्दाख के दौलत-बेग ओल्डी में भारतीय सेना की इकाई ने एक स्मारक बनाया गया है। इस स्मारक में 20 शहीद सैनिकों के नाम और 15 जून के स्नौ लैपर्ड ऑपरेशन का पूरा विवरण है। 15 जून की रात गलवान घाटी में चीनी और भारतीय सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई थी। झड़प में 16वीं बिहार रेजिमेंट के कमांडिंग अधिकारी कर्नल बी संतोष बाबू समेत 19 अन्य सैनिक शहीद हो गए थे। इस घटना के बाद पूर्वी लद्दाख में सीमा पर तनाव बढ़ गया था। भारत ने इसे चीन द्वारा सोची-समझी और पूर्वनियोजित कार्रवाई बताया था। इन सैनिकों के नाम नई दिल्ली स्थित राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर भी अंकित किए जाने की प्रक्रिया चल रही है।

  • undefined

    NationalSep 17, 2020, 5:11 PM IST

    वरिष्ठ पत्रकार डॉ. वेदप्रताप वैदिक ने लिखा- भारत-चीनः सच्चाई क्या है ?

    वरिष्ठ  पत्रकार डॉ. वेदप्रताप वैदिक ने लिखा है कि एक तरफ संसद में रक्षा मंत्री और गृहराज्य मंत्री के बयान और दूसरी तरफ चीनी विदेश मंत्रालय का बयान, इन सबको एक साथ रखकर आप पढ़ें तो आपको पल्ले ही नहीं पड़ेगा कि गलवान घाटी में हुआ क्या था ? भारत और चीन के फौजी आपस में भिड़े क्यों थे ? हमारे 20 जवानों का बलिदान क्यों हुआ है ? हमारे फौजी अफसर चीनी अफसरों से दस-दस घंटे क्या बात कर रहे हैं ? हमारे और चीन के विदेश और रक्षा मंत्री आपस में किन मुद्दों पर बात करते रहे हैं ? उनके बीच जिन पांच मुद्दों पर सहमति हुई है, वे वाकई कोई मुद्दे हैं या कोई टालू मिक्सचर है ? 

  • undefined

    NationalSep 17, 2020, 8:33 AM IST

    चीन का नया दांव, सीमा पर भारतीय सेना के लिए बजा रहा पंजाबी गाने!

    नई दिल्ली. भारत और चीन (India-China) के बीच पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी (Galwan Valley) में हिंसक झड़प के बाद से काफी तनाव बना हुआ है। दोनों देशों की सेना के बीच अफसर स्तर की बैठकें कई मरतबा हो चुकी है। लेकिन, उसका कोई निष्कर्ष नहीं निकला। अब सीमा से खबर आ रही है कि चीन एक बार फिर से नई चाल चल रहा है। चीन ने LAC पर फिंगर-4 इलाके में लाउडस्पीकर लगाए हैं। बताया जा रहा है कि इन लाउडस्पीकर पर चीन पंजाबी गाने बजा रहा है और इसके जरिए भारतीय सेना पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है।