Greta  

(Search results - 33)
  • undefined

    WorldApr 25, 2021, 12:22 PM IST

    क्लाइमेट एक्टविस्ट ग्रेटा थनबर्ग ने भारत में ऑक्सीजन की कमी पर किया ट्वीट, किसान आंदोलन में भी विवाद किया था

    किसान आंदोलन के दौरान 26 जनवरी को नई दिल्ली में हुई हिंसा के दौरान टूल किट मामले में विवादों में आईं स्वीडन की क्लाइमेट एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग ने अब भारत में कोविड की स्थिति को लेकर ट्वीट किया है। उन्होंने भारत में ऑक्सीजन की कमी का मुद्दा उठाकर दुनियाभर के देशों को मदद के लिए आगे आने को कहा है।

  • <p>delhi</p>

    NationalFeb 23, 2021, 2:02 PM IST

    टूलकिट केस: दिशा रवि को मिली जमानत, आज निकिता और शांतनु के सामने बैठाकर पूछताछ की गई

    टूलकिट केस में पटियाला हाउस कोर्ट ने दिशा रवि की जमानत याचिका को मंजूर कर लिया है। एडिशनल सेंशन जज धर्मेंद्र राणा ने दिशा को 1,00000 रुपए की जमानत राशि पर जमानत दी। मंगलवार को टूलकिट केस में आरोपी निकिता जैकब, इंजीनियर शांतनु मुलुक और एक्टिविस्ट दिशा रवि को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की गई। मंगलवार को जैकब और मुलुक से द्वारका में दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने पूछताछ की थी। 

  • undefined

    WorldFeb 16, 2021, 10:53 PM IST

    भारत में रंगे हाथों पकड़ी गईं ग्रेटा थनबर्ग, वे दुनियाभर में विरोध और अशांति भड़काती हैं: अमेरिकी लेखक

    भारत में कृषि बिलों के खिलाफ किसान आंदोलन चल रहा है। हाल ही में पर्यावरण एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग, पॉप सिंगर रिहाना समेत तमाम विदेशी हस्तियों ने किसान आंदोलन के समर्थन में ट्वीट किया था। हालांकि, ग्रेटा थनबर्ग ने इसी के साथ एक टूल किट भी शेयर किया था। इसमें उनकी भारत विरोधी साजिश का भी खुलासा हो गया। इसे लेकर भारत ही नहीं अमेरिका में भी ग्रेटा की आलोचना हो रही है। 

  • <p>Toolkit Case, Toolkit, Greta, Greta's Toolkit, Disha Ravi</p>

    NationalFeb 16, 2021, 3:25 PM IST

    टूलकिट केस : शांतनु को 10 दिन की अंतरिम जमानत, निकिता पर फैसला कल; जानें कैसे रची गई 26 जनवरी की साजिश?

    ग्रेटा के टूलकिट का एक तार कार्यकर्ता दिशा रवि से जुड़ा है तो दूसरा तार किसान आंदोलन से भी जुड़ता दिख रहा है। दरअसल, टूलकिट केस में पुलिस को पुणे के इंजीनियर शांतनु मुलुक की तलाश है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शांतनु 20 से 27 जनवरी के बीच दिल्ली के टिकरी सीमा पर किसानों के विरोध स्थल पर मौजूद था। 

  • undefined
    Video Icon

    NationalFeb 16, 2021, 1:48 PM IST

    जांच में खुलासा, पाकिस्तानी एजेंसी ISI से जुड़े हो सकते हैं टूलकिट के तार

    टूलकिट मामले की जांच जैसे-जैसे आगे बढ़ रही है, इस मामले में नए-नए खुलासे हो रहे हैं। सोमवार को जांच के दौरान आईएसआई से जुड़े भजन सिंह भिंडर उर्फ इकबाल चौधरी और पीटर फ्रेडरिक के नाम भी सामने आए। जांच के दौरान पुलिस को टूलकिट लिस्ट में इन दोनों के नाम मिले हैं। कहीं ऐसा तो नहीं इस पूरी मुहीम के लिए आईएसआई की ओर से फंडिंग भी हुई, इन सबकी पड़ताल की जा रही है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि निकिता और शांतनु की गिरफ्तारी के बाद ही इसका खुलासा हो पाएगा। 

  • <p>Great, Disha Ravi, Toolkit Case, Toolkit, Kisan Movement, Farmer Protests</p>

    NationalFeb 16, 2021, 1:24 PM IST

    'टूलकिट ट्वीट मत करना, इसपर हमारे नाम', दिशा-ग्रेटा की चैट कर देगी हैरान, उन्हें पता था क्या होने वाला है

    टूलकिट केस में स्वीडिश क्लाइमेट चेंज एक्टिविस्ट ग्रेटा थरबर्ग और दिशा रवि के बीच व्हाट्सएप चैट सामने आई है, जिसे देखकर लगता है कि ग्रेटा और दिशा दोनों को पता था कि टूलकिट का क्या अंजाम हो सकता है। व्हाट्सएप पर दिशा रवि ने ग्रेटा को मैसेज किया कि वह टूलकिट पोस्ट न करे।

  • undefined

    NationalFeb 15, 2021, 3:59 PM IST

    टूलकिट केस का खालिस्तानी कनेक्शन: दिशा से निकिता तक...इन 4 लोगों ने सनसनी मचाने बनाया था प्लान

    भारत में कृषि कानूनों के विरोध में किसान आंदोलन जारी है। हाल ही में इस किसान आंदोलन का समर्थन पर्यावरण एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग, पॉप सिंगर रिहाना समेत तमाम विदेशी हस्तियों ने किया था। वहीं, ग्रेटा ने किसान आंदोलन के समर्थन में एक टूल किट भी जारी किया था। इस टूलकिट में भारत में अस्थिरता फैलाने को लेकर साजिश का प्लान था। इस टूलकिट को लेकर दिल्ली पुलिस ने रविवार को जलवायु कार्यकर्ता दिशा रवि को गिरफ्तार किया था। 

  • <p>Climate activist Disha Ravi, Disha Ravi, environmentalist Greta Thunberg, Greta Thunberg toolkit, toolkit</p>

    NationalFeb 15, 2021, 3:25 PM IST

    दिशा रवि ने ग्रेटा थनबर्ग से 'कुछ न कहने के लिए' क्यों कहा? व्हाट्सएप चैट से हुआ बड़ा खुलासा

    दिशा रवि की गिरफ्तारी के बाद एक बड़ा खुलासा हुआ है। कुछ मीडिया संस्थानों की तरफ से दावा किया जा रहा है कि किसानों के विरोध प्रदर्शन में टूलकिट जारी करने से पहले ग्रेटा थनबर्ग और दिशा रवि के बीच व्हाट्सएप पर बातचीत हुई थी। व्हाट्सएप पर दिशा रवि ने ग्रेटा को सुझाव दिया था कि उन्हें कुछ समय के लिए किसान आंदोलन के बारे में कुछ नहीं कहना चाहिए।

  • <p>disha ravi</p>
    Video Icon

    NationalFeb 15, 2021, 3:23 PM IST

    क्या होता है टूलकिट? जिसके लपेटे में आई 21 साल की दिशा रवि, जानें पूरा विवाद

    वीडियो डेस्क। जलवायु कार्यकर्ता दिशा रवि की गिरफ्तारी के बाद देशभर में बवाल हो रहा है।  सोशल मीडिया से लेकर सामाजिक कार्यकर्ता और राजनीतिक दलों ने विरोध करना शुरू कर दिया है। दिल्ली पुलिस का दावा है कि दिशा रवि ने पर्यावरणविद् ग्रेटा थुनबर्ग के उस टूलकिट को शेयर किया, जिसके जरिए देश में भारत सरकार के प्रति गलत भावना और विभिन्न सामाजिक, धार्मिक और सांस्कृतिक समूहों के बीच वैमनस्य की स्थिति पैदा करने की कोशिश की गई। आइये आपको बताते हैं कि आखिर क्या थी वो टूलकिट और क्या है ये पूरा विवाद।

  • undefined

    NationalFeb 15, 2021, 2:32 PM IST

    दिशा रवि की करीबी निकिता जैकब फरार घोषित, गणतंत्र दिवस से पहले सोशल मीडिया पर सनसनी मचाने की थी प्लानिंग

     ग्रेटा थनबर्ग टूलकिट केस में दिल्ली पुलिस ने रविवार को  जलवायु कार्यकर्ता दिशा रवि को गिरफ्तार किया था। अब इस मामले में पुलिस उनके करीबियों  निकिता जैकब और शांतनु की तलाश में जुटी है। इन दोनों को फरार घोषित किया गया है। इनके खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी किया गया है।

  • <p>Climate activist Disha Ravi, Disha Ravi, environmentalist Greta Thunberg, Greta Thunberg toolkit, toolkit</p>

    NationalFeb 15, 2021, 11:33 AM IST

    ग्रेटा टूलकिट: दिशा की गिरफ्तारी के बाद पुलिस 2 और करीबियों की तलाश कर रही, दोनों फरार घोषित

    बेंगलुरु की 22 साल की एक्टिविस्ट दिशा रवि की गिरफ्तारी के बाद पुलिस को 2 और लोगों की तलाश है। दिल्ली पुलिस ने सोमवार को निकिता जैकब और शांतनु के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी किया है। इन दोनों को फरार घोषित कर दिया गया है। कई जगहों पर छापेमारी भी हुई। ऐसे में जानते हैं कि आखिर दिशा रवि को क्यों गिरफ्तार किया गया, उन्होंने जो टूलकिट शेयर किया उसमें क्या था? इस पूरे विवाद की शुरुआत कब और कैसे हुई? 

     

  • undefined

    NationalFeb 7, 2021, 1:35 PM IST

    टूलकिट को लेकर पीएम मोदी का हमला, हमारी चाय को बदनाम करने के लिए विदेशों से हो रही साजिश

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को असम और बंगाल दौरे पर हैं। इस दौरान उन्होंने असम में  'असोम माला' प्रोजेक्ट को लॉन्च दिया। यहां ढेकियाजुली में उन्होंने एक जनसभा को संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा, देश की चाय को बदनाम करने के लिए विदेशों में साजिश रची जा रही है। 

  • <p>PJF founder</p>
    Video Icon

    NationalFeb 5, 2021, 7:55 PM IST

    ग्रेटा की टूलकिट बनाने वाले खालिस्‍तान समर्थक का शॉकिंग वीडियो वायरल

    वीडियो डेस्क। नए कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसान आंदोलन की आड़ में भारत विरोधी विदेशी प्रोपेगेंडा की अब कलई खुलने लगी है। किसान आंदोलन के समर्थन में पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग की आरे से एक टूलकिट ट्वीट किया गया था, जिस पर हंगामा खड़ा हो गया था। अब उस टूलकिट को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। प्रारंभिक जांच में पता चला कि इस टूलकिट को कनाडा स्थित एक खालिस्तानी समर्थक संगठन द्वारा तैयार किया गया था। इस टूलकिट का उद्देश्य भारत की छवि को खराब करना था। अब इस समर्थक का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है। हालांकि़ एशिया नेट इस वीडियो की पुष्टि नहीं करता है। इस वीडियो में धालीवाल कह रहा है, कि सरकार अगर कृषि कानून वापस ले लेती है तो ये आंदोलन खत्म नहीं होगा। यह लड़ाई कृषि कानूनों के खिलाफ शुरू हो होगी लेकिन यह वहां खत्‍म नहीं होगी। ऐसा इसलिए क्‍योंकि वे इस आंदोलन की ऊर्जा खत्‍म करना चाहते हैं। वे आपको बताना चाहते हैं कि आप पंजाब से अलग हो और आप खालिस्‍तान आंदोलन से अलग हो, आप नहीं हो।"

  • undefined

    HollywoodFeb 5, 2021, 7:11 PM IST

    दावा : किसान आंदोलन के सपोर्ट में ट्वीट के लिए खालिस्तानी फर्म ने रिहाना को दिए 18 करोड़, कंगना ने ली चुटकी

    किसान आंदोलन (Kisan Aandolan) में विदेशी साजिशों का पर्दाफाश हो रहा है। स्वीडिश एक्टिवस्ट ग्रेटा थनबर्ग (Greta Thunberg) की टूलकिट सामने आने के बाद ये साफ हो चुका है कि किसान आंदोलन का समर्थन करने वालों को विदेशी फंडिंग हो रही थी। इस मामले में अब एक और खुलासा हुआ है, जिसमें यह पता चला है कि अमेरिकी पॉप सिंगर रिहाना (Rihanna) को किसान आंदोलन के समर्थन में पोस्ट करने के बदले 2.5 मिलियन डॉलर यानी 18 करोड़ रुपए मिले थे।

  • undefined
    Video Icon

    NationalFeb 5, 2021, 11:55 AM IST

    सामने आई ग्रेटा थनबर्ग की असलियत, इसलिए किया था भारत विरोधी ट्वीट

    नए कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसान आंदोलन की आड़ में भारत विरोधी विदेशी प्रोपेगेंडा की अब कलई खुलने लगी है। किसान आंदोलन के समर्थन में पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग की आरे से एक टूलकिट ट्वीट किया गया था, जिस पर हंगामा खड़ा हो गया था। अब उस टूलकिट को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। प्रारंभिक जांच में पता चला कि इस टूलकिट को कनाडा स्थित एक खालिस्तानी समर्थक संगठन द्वारा तैयार किया गया था। इस टूलकिट का उद्देश्य भारत की छवि को खराब करना था।