Hajj  

(Search results - 3)
  • undefined

    Aisa Kyun1, Aug 2020, 10:40 AM

    ईदुज्जुहा आज: क्यों मनाते हैं ये पर्व, इस्लाम में कौन-से 5 कामों में माना गया है जरूरी?

    आज (1 अगस्त, शनिवार) मुस्लिमों का प्रमुख त्योहार ईदुज्जुहा है। इसे बकरीद भी कहते हैं। बकरीद का त्योहार कुर्बानी का पैगाम देता है।

  • undefined

    Hatke24, Jun 2020, 9:59 AM

    कोरोना ने हज पर लगाया ग्रहण, युद्ध और महामारी के कारण अब तक 40 बार कैंसिल हो चुकी है यात्रा

    हटके डेस्क: कोरोना वायरस ने दुनिया में ऐसा कोहराम मचाया कि सबकी जिंदगी में उथल-पुथल मच गई। इस वायरस के कारण कई देशों को लॉकडाउन कर दिया गया। साथ ही वायरस ने हर किसी को अपने ही घर में कैद रहने पर मजबूर कर दिया। कोरोना काल में ही 28 जुलाई से 2 अगस्त तक हज होना है। लेकिन इस साल कोरोना के कहर को देखते हुए बड़ा फैसला लिया गया। इस साल दूसरे देश से कोई भी मुस्लिम हज करने मक्का नहीं आ सकता है। इस फैसले से मुस्लिम समुदाय में मायूसी छा गई है। लेकिन आपको बता दें कि ये पहली दफा नहीं है जब हज यात्रा कैंसिल की गई है। इतिहास के पन्नों को पलटें तो इससे पहले युद्ध से लेकर अन्य महामारी के कारण भी हज यात्रा पर रोक लगाईं जा चुकी है। कुल मिलाकर अब तक चालीस बार इस यात्रा पर रोक लगाई जा चुकी है। आज हम आपको  बताने जा रहे हैं कि इससे पहले कब-कब हज यात्रा कैंसिल की गई थी... 

  • आनंद ने कहा कि अपनी उम्र के बावजूद, वह जम्मू-कश्मीर में महिलाओं और दलितों के कल्याण के कामों में बहुत सक्रिय थीं। उनके बेटे, फारूक खान, एक सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी, वर्तमान में जम्मू और कश्मीर के उपराज्यपाल के सलाहकार के रूप में सेवा कर रहे हैं। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

    National30, Mar 2020, 9:00 PM

    हज के लिए पाई पाई जोड़े थे 5 लाख...कोरोना आपदा देख किए दान, बूढ़ी मां को पूरा देश कर रहा प्रणाम

    श्रीनगर. कोरोना वायरस जैसी महामारी से देश को बचाने के लिए नन्हें हाथों की मदद के बाद एक बुजुर्ग ने भी अपनी पोटली खोल दी है। जम्मू कश्मीर से एक बुजुर्ग महिला ने सालों से पाई-पाई जोड़कर इकट्ठा किए पैसे देश पर आई आपदा देख दान कर दिए। बूढ़ी अम्मा की दरियादिली देख हर कोई उनको प्रणाम कर रहा है। उन्होंने ये पैसे अपनी तीर्थयात्रा के लिए जमा किए थे।