Healthcare Workers  

(Search results - 5)
  • undefined

    NationalJun 26, 2021, 7:58 PM IST

    पीएम ने कहा- टेस्टिंग कम नहीं चाहिए, देश के 16 जिलों में 45+ वालों को 90 फीसदी वैक्सीन लगी

    पिछले 6 दिनों में 3.77 करोड़ डोज दी गई है। जो मलेशिया, सऊदी अरब और कनाडा जैसे देशों की पूरी आबादी से अधिक है।

  • undefined

    NationalJun 18, 2021, 4:37 PM IST

    केंद्र का राज्यों को पत्रः हेल्थकेयर वर्कर्स असुरक्षित महसूस कर रहें, तत्काल संशोधित एपिडेमिक एक्ट लागू करें

    भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के ज्वाइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल ने राज्यों को लिखे पत्र में कहा है कि कोरोना काल में डाॅक्टर्स और हेल्थ केयर वर्कर्स या हेल्थ केयर प्रापर्टीज की सुरक्षा के लिए एपिडेमिक एक्ट में संशोधन किया गया। सितंबर 2020 में सरकार ने एपिडेमिक डिसीज एमेंडमेंट एक्ट, 2020 के रुप में इसे नोटिफाई कर दिया।

  • undefined
    Video Icon

    Health CapsuleMay 1, 2021, 4:06 PM IST

    हेल्थ वर्कर्स ने पीपीई किट में किया भांगड़ा, कोरोना मरीजों के चेहरे पर ऐसे ला रहे मुस्कान

    वीडियो डेस्क।  कोरोना के कारण हालात दिन ब दिन भयावह होते जा रहे हैं। हालांकि, हेल्थकेयर वर्कर्स, डॉक्टर्स और कोरोना वॉरियर्स कोरोना का डटकर मुकाबला कर रहे हैं। जहां एक तरफ सोशल मीडिया निराशा से भर हुआ है, वहीं हेल्थकेयर वर्कर्स का पीपीई किट पहनकर भांगड़ा करने का एक वीडियो लोगों को खुश रहने की सीख और एक नई उम्मीद दे रहा है। यह वीडियो ट्विटर यूजर @connectgurmeet ने बुधवार को शेयर किया था। उन्होंने इसके कैप्शन में लिखा, ‘अद्भुत साहस! हमारे डॉक्टर्स और हेल्थकेयर वर्कर्स को सलाम!
     

  • undefined

    NationalJun 1, 2020, 10:18 AM IST

    HCQ से ही मरेगी कोरोना! ICMR का दावा- 6 डोज लेने से 80% हेल्थकेयर वर्कर बचे, 4 डोज के बाद घटा रिस्क

    इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने एक नया दावा किया है। आईसीएमआर की स्टडी के मुताबिक एचसीक्यू के 6 या ज्यादा डोज लेने वाले 80% हेल्थकेयर वर्कर इन्फेक्शन से बच गए। इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि 4 डोज के बाद इंफेक्शन का रिस्क घटने लगता है। 

  • कोरोना वायरस के खतरे से दुनिया के सैकड़ों देश जूझ रहे हैं। कोरोना से जंग में सबसे अहम भूमिका डॉक्टरों और नर्सों की है, जो दिन-रात मरीजों के इलाज में लगे हुए हैं। कई बार तो डॉक्टरों और नर्सों को अपने घर जाने का मौका भी नहीं मिल पाता है। वे अस्पताल में ही कुछ देर के लिए सो जाते हैं और फिर मरीजों की देख-रेख में लग जाते हैं। सोशल डिस्टेंसिंग की वजह से वे अगर घर भी आते हैं, तो अपनी फैमिली के मेंबर्स से काफी करीब नहीं हो सकते। इसी बीच, अमेरिका के ओहियो स्टेट के सिनसिनाटी (Cincinnati) शहर से एक खास ही तस्वीर आई है, जो वायरल हो गई है। यह तस्वीर वहां के क्राइस्ट हॉस्पिटल के आईसीयू में काम करने वाली एक नर्स की है। 12 घंटे की शिफ्ट कर जब वह घर आई तो मां ने उसे कैसे गले लगा लिया, यह देख कर कोई भी भावुक हो जाएगा।     पिछले एक महीने से चेरिल नॉर्टन और उसकी नर्स बेटी केल्सी केर सोशल डिस्टेंसिंग की वजह से एक-दूसरे के करीब नहीं आ सकी थी। लेकिन हाल ही में जब 28 साल की केल्सी हॉस्पिटल से 12 घंटे की शिफ्ट पूरी कर के निकली तो वह अपनी मां चेरिल नॉर्टन के घर के बाहर रुकी। उसने सोचा कि प्रेयर के लिए वह मां को भी साथ ले ले। केल्सी अपनी ड्यूटी खत्म होने के बाद प्रेयर स्क्वेयर पर जाया करती थी और मरीजों के लिए दुआ मांगती थी।     जब केल्सी घर के बाहर रुकी तो अपनी बेटी को देख कर 64 वर्षीय चेरिल नॉर्टन अपने आप को रोक नहीं पाई। उसने एक साफ चादर अपनी बेटी के की तरफ फेंका, जिससे उसका शरीर पूरी तरह ढक गया। इसके बाद उसने अपनी बेटी को बाहों में भर लिया। इन पलों की तस्वीर उनके फैमिली फ्रेंड लिज डॉफर ने अपने कैमरे में कैद कर ली। वह एक लोकल मीडिया में काम करती हैं। यह तस्वीर वायरल हो गई। बाद में एक अमेरिकी टीवी चैनल पर इंटरव्यू में चेरिल नॉर्टन ने कहा कि वह अक्सर सोशल मीडिया पर देख कर इस बात को महसूस करती थी कि हेल्थ वर्कर अकेलेपन की समस्या से जूझ रहे हैं। इसलिए उन्होंने अपनी बेटी को गले लगाने के लिए यह तरीका अपनाया। देखें इससे जुड़ी तस्वीरें।

    HatkeApr 11, 2020, 2:40 PM IST

    अस्पताल में नर्स है बेटी, कोरोना मरीजों के पास से आई तो मां ने इस तरह कलेजे से लगाया

    कोरोना वायरस के खतरे से दुनिया के सैकड़ों देश जूझ रहे हैं। कोरोना से जंग में सबसे अहम भूमिका डॉक्टरों और नर्सों की है, जो दिन-रात मरीजों के इलाज में लगे हुए हैं। कई बार तो डॉक्टरों और नर्सों को अपने घर जाने का मौका भी नहीं मिल पाता है। वे अस्पताल में ही कुछ देर के लिए सो जाते हैं और फिर मरीजों की देख-रेख में लग जाते हैं। सोशल डिस्टेंसिंग की वजह से वे अगर घर भी आते हैं, तो अपनी फैमिली के मेंबर्स से काफी करीब नहीं हो सकते। इसी बीच, अमेरिका के ओहियो स्टेट के सिनसिनाटी (Cincinnati) शहर से एक खास ही तस्वीर आई है, जो वायरल हो गई है। यह तस्वीर वहां के क्राइस्ट हॉस्पिटल के आईसीयू में काम करने वाली एक नर्स की है। 12 घंटे की शिफ्ट कर जब वह घर आई तो मां ने उसे कैसे गले लगा लिया, यह देख कर कोई भी भावुक हो जाएगा। 

    पिछले एक महीने से चेरिल नॉर्टन और उसकी नर्स बेटी केल्सी केर सोशल डिस्टेंसिंग की वजह से एक-दूसरे के करीब नहीं आ सकी थी। लेकिन हाल ही में जब 28 साल की केल्सी हॉस्पिटल से 12 घंटे की शिफ्ट पूरी कर के निकली तो वह अपनी मां चेरिल नॉर्टन के घर के बाहर रुकी। उसने सोचा कि प्रेयर के लिए वह मां को भी साथ ले ले। केल्सी अपनी ड्यूटी खत्म होने के बाद प्रेयर स्क्वेयर पर जाया करती थी और मरीजों के लिए दुआ मांगती थी। 

    जब केल्सी घर के बाहर रुकी तो अपनी बेटी को देख कर 64 वर्षीय चेरिल नॉर्टन अपने आप को रोक नहीं पाई। उसने एक साफ चादर अपनी बेटी के की तरफ फेंका, जिससे उसका शरीर पूरी तरह ढक गया। इसके बाद उसने अपनी बेटी को बाहों में भर लिया। इन पलों की तस्वीर उनके फैमिली फ्रेंड लिज डॉफर ने अपने कैमरे में कैद कर ली। वह एक लोकल मीडिया में काम करती हैं। यह तस्वीर वायरल हो गई। बाद में एक अमेरिकी टीवी चैनल पर इंटरव्यू में चेरिल नॉर्टन ने कहा कि वह अक्सर सोशल मीडिया पर देख कर इस बात को महसूस करती थी कि हेल्थ वर्कर अकेलेपन की समस्या से जूझ रहे हैं। इसलिए उन्होंने अपनी बेटी को गले लगाने के लिए यह तरीका अपनाया। देखें इससे जुड़ी तस्वीरें।