Holi Of Mathura  

(Search results - 4)
  • know about the world famous lathmar holi of mathura KPZknow about the world famous lathmar holi of mathura KPZ
    Video Icon

    Uttar PradeshMar 24, 2021, 11:27 AM IST

    ये है बृज की विश्वप्रसिद्ध लट्ठमार होली, रंगों और फूलों के संग जमकर बरसे लट्ठ

    वीडियो डेस्क। बृज की लट्ठमार होली के बारे में तो आपने सुना ही होगा। मथुरा के बरसाने में फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष की नवमी को बरसाने में लट्ठमार होली मनाई जाती है। नवमी के दिन यहां रंग, गुलाल के साथ लट्ठ भी बरसते हैं। ये लट्ठमार होली देश और विदेश में प्रसिद्ध है। फूलों रंगो के साथ साथ यहां डंडों से पीटकर कर भी होली की परंपरा निभाई जाती है। यहां राधा जी की जन्मस्थली बरसाने में नंदगांव के पुरुष होली खेलने जाते हैं। जिन पर बरसाने की महिलाएं प्रेम पगी लाठियां बरसाती हैं। पुरुषों को हुरियारे और महिलाओं को हुरियारन कहा जाता है। ये होली सदियों से यहां खेली जा रही है। 

  • In this way, Holi in Vraj, fear of neither getting worried about Corona, see the noise of Holi ASAIn this way, Holi in Vraj, fear of neither getting worried about Corona, see the noise of Holi ASA

    Uttar PradeshMar 10, 2020, 9:36 AM IST

    ऐसे मन रही ब्रज में होली, न कोरोना की चिंता न भीगने का डर, देखिए होली का शोर

    मथुरा (Uttar Pradesh) आज होली है। हर ओर होली का शोर है। ठाकुर बांकेबिहारी मंदिर की प्रसिद्ध होली को देखने के लिए इस बार भी देशभर से आए श्रद्धालु रंगों में सराबोर होकर आनंदित हो रहे हैं। कुछ लोग तो ऐसे कि रंगों के बीच जमीन पर बैठकर सराबोर हो रहे हैं, उन्हें न भीगने की चिंता और न ही करोना का भय। भीड़ के बीच बढ़चढ़कर होली के आनंद में डूबने को बेताब श्रद्धालुओं का जोश दिनभर हिलोरें मारता नजर आ रहा है। हर ओर रंगों की बौछार और उड़ते गुलाल से आसमान भी लाल रंग का नजर आ रहा है। हर कोई रंगों में सराबोर होकर मदमस्त नजर आ रहा है।

  • Here God is happy in Holi after drinking cold, daily seems to enjoy Jalebi asaHere God is happy in Holi after drinking cold, daily seems to enjoy Jalebi asa

    Uttar PradeshMar 8, 2020, 6:45 PM IST

    यहां ठंडई पीकर होली में मगन हुए भगवान, रोज लगता है बांके बिहारी को जलेबी का भोग

    मथुरा (Uttar Pradesh)। ब्रज में होली का विशेष महत्व है। परंपरागत रूप से ठाकुर बांके बिहारीजी महाराज को मेवा युक्त ठंडाई का सेवन (भोग लगाया गया) कराया गया। इसके बाद प्रसाद का वितरण किया गया। बता दें कि यह दौर रंगभरी एकादशी से पूर्णिमा तक चलता रहेगा। मान्यता है कि ठंडई पीने के बाद ठाकुर बांके बिहारी महाराज भक्तों के साथ होली में मगन हो जाते हैं। इसके अलावा प्रतिदिन ठाकुर जी को जलेबी का प्रसाद भी लगाया जाता है। यह जलेबी भी ठाकुर जी की रसोई में ही तैयार की जाती है। यहां पर जलेबी का विशेष प्रसाद लगाया जाता है।
     

  • Unique Holi will be played from March 3, environmentally friendly colors are being made from Tesu flower asaUnique Holi will be played from March 3, environmentally friendly colors are being made from Tesu flower asa

    Uttar PradeshMar 2, 2020, 7:35 PM IST

    यहां आज से शुरू हो गई अनोखी होली, 11 मार्च को होगी खत्म, 10 कुंतल टेसू के फूलों से ऐसे बना रंग

    ब्रज में अनोखे तरीके से होली खेली जाती है। यहां आज से होली शुरू गई, जो 11 मार्च तक चलेगी। बता दें कि चार मार्च को राधारानी के गांव बरसाना में लठामार होली खेली जाएगी। यहां होली खेलने के लिए भगवान श्रीकृष्ण के नंदगांव से हुरियारे आएंगे। उनके स्वागत के लिए बरसाना आतुर है। इस बार रंग बनाने के लिए दिल्ली से 10 कुंतल टेसू के फूल मंगाए गए हैं।