India China War  

(Search results - 44)
  • China training terrorists near PoK with the help of pakistan aha
    Video Icon

    NationalOct 21, 2020, 11:50 AM IST

    नहीं सुधर रहा ड्रैगन, भारत के खिलाफ आतंकियों को कर रहा है मजबूत

    चीनी सैनिकों की ओर से पीओके यानि कि पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में आतंकवादियों को प्रशिक्षण देने का काम किया जा रहा है। खुफिया सूत्रों से इस बात का खुलासा किया गया है। इस समय पाकिस्तान के लॉन्च पैड पर 250-300 आतंकवादी भारत में घुसपैठ करने के इरादे से बैठे हैं। यह सभी पाकिस्तानी सेना के वर्दी वाले आतंकवादी हैं। सूत्रों की माने तो भारत की लद्दाख में मजबूत पकड़ होने के बाद से बौखलाई चीनी सेना ने अब पाकिस्तान के साथ मिलकर नई साजिश रची है। 

  • China president asks his army to be ready for war aha
    Video Icon

    WorldOct 16, 2020, 12:29 PM IST

    चीनी राष्ट्रपति ने अपने सैनिकों से कहा, 'करो युद्ध की तैयारी'

    भारत और चीन के बीच मई की शुरुआत से वास्तविक नियंत्रण रेखा पर पूर्वी लद्दाख में गतिरोध जारी है। इसी बीच चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिकों को ‘युद्ध की तैयारी पर अपना दिमाग और ऊर्जा लगाने’ का आह्वान किया है। यह टिप्पणी उन्होंने 14 अक्तूबर को दक्षिणी प्रांत गुआंगडोंग में एक सैन्य बेस के दौरे के दौरान कही। एक रिपोर्ट के अनुसार, शी ने चीनी सैनिकों को हाई अलर्ट पर रहने को कहा और उनसे बिल्कुल वफादार, शुद्ध और विश्वसनीय रहने का आह्वान किया। उन्होंने सैनिकों से कहा, 'अपना पूरा दिमाग और ऊर्जा युद्ध की तैयारी पर लगाओ।' शी गुआंगडोंग में शेनझेन विशेष आर्थिक क्षेत्र की 40वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में भाषण देने के लिए गए थे।

  • DRDO successfully tests modern 'Shaurya missile' after BrahMos, targets up to 800 km

    NationalOct 3, 2020, 3:07 PM IST

    ब्रह्मोस के बाद आधुनिक 'शौर्य मिसाइल' का DRDO ने किया सफल परीक्षण, 800 किमी तक साधेगी निशाना

    भारत चीन सीमा विवाद के बीच भारत हर मोर्चे पर अपनी तैयारी को तेज कर रहा है। भारत के डिफेंस रिसर्च एंड डिवेलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (डीआरडीओ) ने शनिवार को ओडिशा के बालासौर से आधुनिक 'शौर्य मिसाइल' के नए वर्जन का सफल परीक्षण कर लिया है। ये मिसाइल परमाणु क्षमता से लैस है जो जमीन से जमीन पर मार करने में सक्षम है। 800 किलोमीटर दूर तक दुश्मन को टारगेट कर ये मिसाइल उसे तबाह कर सकती है। ये मिसाइल काफी हल्की है जो मौजूदा मिसाइल सिस्टम को मजबूत करेगी। सूत्रों ने यह भी बताया कि टारगेट की ओर बढ़ते हुए ये मिसाइल अंतिम चरण में हाइपरसोनिक स्पीड हासिल कर लेता है। डीआरडीओ स्ट्रैटिजिक मिसाइल के फील्ड में देश को पूर्ण रूप से आत्मनिर्मर बनाने के प्रयास में है।  

  • India-China dispute: Air Force Chief Bhadauria said - no warsituation on border nor peace, only uncomfortable situation

    WorldSep 29, 2020, 11:17 AM IST

    पूर्वी लद्दाख में न युद्ध और न ही शांति...वायुसेना प्रमुख ने बताया, भारत-चीन सीमा पर कैसी स्थिति है?

    भारत - चीन सीमा तनाव के बीच मंगलवार को भारतीय वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने कहा कि पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में वर्तमान स्थिति असहज बनी हुई है। उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच सीमा पर ना तो युद्ध जैसे कोई हालात हैं और ना ही किसी शांति जैसे। भदौरिया ने कहा कि वायुसेना ने कई अन्य विमानों के साथ पूर्वी लद्दाख के निकट वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC)पर उन्नत लड़ाकू विमान राफेल की तैनाती सिर्फ वायुसेना की दूर्गामी रणनीति के तहत की है जो भारतीय वायुसेना को व्यवहारिक क्षमता प्रदान करती है। 

  • Senior Journalist Ved Pratap Vedic's  views on India-China issue kpv

    NationalSep 17, 2020, 5:11 PM IST

    वरिष्ठ पत्रकार डॉ. वेदप्रताप वैदिक ने लिखा- भारत-चीनः सच्चाई क्या है ?

    वरिष्ठ  पत्रकार डॉ. वेदप्रताप वैदिक ने लिखा है कि एक तरफ संसद में रक्षा मंत्री और गृहराज्य मंत्री के बयान और दूसरी तरफ चीनी विदेश मंत्रालय का बयान, इन सबको एक साथ रखकर आप पढ़ें तो आपको पल्ले ही नहीं पड़ेगा कि गलवान घाटी में हुआ क्या था ? भारत और चीन के फौजी आपस में भिड़े क्यों थे ? हमारे 20 जवानों का बलिदान क्यों हुआ है ? हमारे फौजी अफसर चीनी अफसरों से दस-दस घंटे क्या बात कर रहे हैं ? हमारे और चीन के विदेश और रक्षा मंत्री आपस में किन मुद्दों पर बात करते रहे हैं ? उनके बीच जिन पांच मुद्दों पर सहमति हुई है, वे वाकई कोई मुद्दे हैं या कोई टालू मिक्सचर है ? 

  • china s global times warns india to not engage with china or else it will see the same fate as 1962 war aha
    Video Icon

    NationalSep 1, 2020, 2:51 PM IST

    चीन की भारत को धमकी, कहा, मत टकराओ वरना खाओगे मुंह की

    जून के महीने में पूर्वी लद्दाख के बाद 29-30 अगस्‍त की रात एक बार फिर चीन के सैनिकों ने भारतीय सीमा में दाखिल होने की कोशिश की। इस बार पैंगॉन्ग झील के दक्षिणी किनारे पर घुसपैठ की कोशिश कर रहे चीनी सैनिकों को भारतीय सेना ने मार भगाया। इस बात से तिलमिलाए चीन ने भारत से ही मांग कर डाली कि वह सीमा पर से अपनी सेना कम करे। उधर, चीन के प्रॉपगैंडा अखबार ग्लोबल टाइम्स ने अपने संपादकीय में कहा है कि भारत चीन की टक्कर में नहीं है और अखबार के संपादक हू शिजिन ने ट्वीट कर सीधे दावा किया है कि पैंगॉन्ग विवाद का अंत भारत की हार में होगा।

  • How Sikkim became a part of India know the history ahm
    Video Icon

    NationalJul 29, 2020, 5:24 PM IST

    गोरी मैम को लेकर बगावत और आजादी के 28 साल बाद बदल गया सिक्किम का इतिहास

    सिक्किम को लेकर चीन का भारत से विवाद क्यों हैं? क्या आप जानते है सिक्किम भारत का हिस्सास कैसे बना? क्या आप जानते है आजादी के 28 साल बाद सिक्किम भारत का हिस्सा बना? इन सभी सवालो के जवाब जानने के लिए सिक्किम का इतिहास जानना जरूरी है। इस वीडियो में जानिए क्यों सिक्किम के लोगों ने अपने ही राजा के खिलाफ गोरी मैम के कारण की थी बगावत और कैसे बनाया था सिक्किम को भारत का हिस्सा

  • Indian government changes rules for bidding in public sector holdings specifically for china aha
    Video Icon

    NationalJul 24, 2020, 7:24 PM IST

    मोदी सरकार ने बदल दिए नियम, अब पानी मांगता फिरेगा चीन

    लद्दाख में सैनिकों पर हमले के बाद भारत चीन के खिलाफ एक के बाद एक कड़े फैसले ले रहा है। ताजा फैसले के तहत केंद्र सरकार ने सरकारी खरीद में चाइनीज कंपनियों की एंट्री बैन कर दी है। मतलब, केंद्र और राज्य सरकार की तरफ से किसी भी तरह की सरकारी खरीद में चाइनीज कंपनियां बोली में शामिल नहीं हो सकती हैं। केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए जनरल फाइनैंशल रूल्स 2017 में संशोधन किया है जो उन देशों के बोलीदाताओं पर लागू होता है जिनकी सीमा भारत से सटती है। इसका सीधा असर चीन, पाकिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, नेपाल जैसे देशों पर होगा। 

  • In an exclusive interview Former British Intelligence Head of Cyber Warfare reveals how chinese hackers are attacking india aha
    Video Icon

    NationalJul 12, 2020, 12:18 PM IST

    EXCLUSIVE: चीनी हैकर्स ने भारतीय साइबर स्पेस को गलवान हिंसा के बाद बनाया निशाना

    एक विशेष साक्षात्कार में, साइबर वॉरफेयर के पूर्व ब्रिटिश इंटेलिजेंस हेड और सायफर्मा के संस्थापक और सीईओ, कुमार रितेश ने गलवान घाटी की हिंसा के बाद से चीनी हैकर्स की तरफ से बढ़ी आक्रामकता का खुलासा किया है.
    सायफर्मा ने हमारे साथ जो डेटा साझा किया है उसमें साफ है कि किस तरह से चीनी हैकर्स भारत में कई बिजनेस घरानों, सरकारी एजेंसियों को निशाना बना रहे हैं जिससे उनकी छवि खराब की जा सके.

  • china us allies australia and japan join hands with india in unmasking china intention
    Video Icon

    NationalJul 9, 2020, 3:27 PM IST

    अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया आए साथ, चीन की जालसाज़ी का पर्दाफाश

    चीन अब बेनकाब हो गया है। अपने तमाम पड़ोसी देशों के लिए किसी न किसी वजह से परेशानी पैदा कर रहे चीन को लेकर विश्व बिरादरी का सब्र जवाब देने लगा है। बुधवार को अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया के रक्षा मंत्रालयों की तरफ से जारी एक संयुक्त बयान में हिंद महासागर क्षेत्र में पैदा हो रहे खतरों को देखते हुए साझा रणनीति बनाने का संकेत दिया गया है। एक दिन पहले भारत और अमेरिका के विदेश मंत्रालयों की तरफ से जारी बयान में भी चीन को लेकर परोक्ष तौर पर रणनीतिक संकेत दिया गया था। बयान में हिंद-प्रशांत क्षेत्र को लेकर रणनीति का संकेत भी था।

  • Indian Airforce to buy predator b drones from america to strengthen forces against china on LAC
    Video Icon

    NationalJul 6, 2020, 4:06 PM IST

    एलएसी पर वायुसेना देगी चीन को मुंहतोड़ जवाब, अमेरिका से आ रहे हैं ये खास ड्रोन

    पूर्वी लद्दाख में चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के साथ लंबे समय से जारी गतिरोध के बीत भारत ने कम ऊंचाई पर अधिक देर तक उड़ान भरने वाले अमेरिकी सशस्त्र प्रीडेटर-बी ड्रोन खरीदने में रुचि दिखाई है। यह ड्रोन ना सिर्फ खुफिया जानकारी इक्ट्ठा करता है, बल्कि लक्ष्य का पता लगाकर उसे मिसाइल और लेजर गाइडेड बम से नष्ट कर देता है। फिलहाल भारत पूर्वी लद्दाख में इज़राइली हेरोन ड्रोन का इस्तेमामल करता है, जो कि निहत्था है।

  • india china 1962 war the story of army man jaswant singh rawat KPP

    NationalJul 4, 2020, 9:42 AM IST

    इस जवान ने मार गिराए थे 300 चीनी सैनिक, शहीद होने के बाद भी कर रहा देश की रक्षा, मिलते हैं प्रमोशन

    भारत और चीन के बीच पिछले 2 महीने से विवाद चल रहा है। 15 जून को दोनों देशों के बीच हुई हिंसक झड़प में भारतीय जवानों ने एक बार फिर साबित कर दिया कि हमारी सेना किसी से कम नहीं है। भारत और चीन जब 1962 में जब आमने-सामने आए थे, तो हमारे जवानों से अपने प्राणों की बाजी लगाकर देश की रक्षा की थी।

  • Anand Mahindra gives befitting reply to 'Global Times' editor on app ban
    Video Icon

    VideoJul 1, 2020, 6:59 PM IST

    जब चीन ने उठाया भारत पर सवाल तो आनंद महिंद्रा ने दिया मुंहतोड़ जवाब

    भारत द्वारा 59 चीनी मोबाइल एप्स पर पाबंदी लगाने के बाद बौखला गया है चीन। चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स के प्रधान संपादक हू शिजिन ने मंगलवार को लिखा कि चीन के लोग अगर भारतीय उत्पादों का बहिष्कार करना चाहें तो वे ऐसे ज्यादा उत्पाद खोज नहीं पाएंगे।शिजिन ने लिखा, ‘भारतीय दोस्तो, आपको राष्ट्रवाद से अधिक महत्वपूर्ण बातों के बारे में सोचने की जरूरत है। इसके जवाब में महिंद्रा ग्रुप्स के डायरेक्टर आनंद महिंद्रा ने लिखा मैं समझता हूं कि यह तंज भारतीय कंपनियाें काे मिला अब तक का सबसे प्रभावी और प्रेरक नारा है। हमें उकसाने के लिए धन्यवाद। हम जल्द ही इसका देंगे जवाब।

  • India to start charging BAT for chinese products imports in india
    Video Icon

    NationalJul 1, 2020, 6:41 PM IST

    59 चीनी ऐप्स के बाद अब भारत चीन को देगा एक और बड़ा झटका

    चीन सहित अन्‍य देशों से आने वाले सस्‍ते उत्‍पादों से घरेलू उद्योगों को बचाने के लिए सरकार प्रस्‍तावित सीमा समायोजन कर (बीएटी) को लागू करने पर विचार कर रही है। केंद्रीय इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने खुद वित्त मंत्रालय से प्रस्तावित सीमा समायोजन कर (बीएटी) को लगाने का आग्रह किया है। धर्मेंद्र प्रधान ने मंगलवार को बताया कि इस कर के लागू होने से स्थानीय विनिर्माताओं को समान अवसर उपलब्ध हो सकेंगे। प्रस्तावित बीएटी आयातित उत्पादों पर सीमा शुल्क के अतिरिक्त लगाया जाएगा। 

  • China bans Indian websites and channels
    Video Icon

    VideoJul 1, 2020, 4:57 PM IST

    डर गया ड्रैगन; सच छिपाने के लिए चीन ने भारत के खिलाफ उठाया ये कदम

    चीन ने किया भारत के टीवी चैनलों और न्यूज वेबसाइट्स को ब्लॉक। भारत द्वारा चीन के 59 मोबाइल एप्स पर पाबंदी लगाने के बाद शी जिनपिंग सरकार ने उठाया यह कदम। हालांकि वीपीएन के जरिए भारतीय न्यूज वेबसाइट्स खोली जा सकती हैं। इसके अलावा आईपी टीवी के जरिए भी भारतीय टीवी चैनलों का एक्सेस किया जा पाएगा। माना जा रहा है कि चीन ने ऐसा इसलिए किया ताकि चीन की सच्चाई उनके लोगों के सामने ना आ जाए।