Indian Military  

(Search results - 6)
  • children reaction at Aero India show 2021 filled with  pride seeing the countrys strength kph

    NationalFeb 5, 2021, 12:56 PM IST

    एयरो इंडिया शो के दीवाने हुए बच्चे, विदेशियों के साथ देश की ताकत देख गर्व से हुआ सीना चौड़ा

    नेशनल डेस्क: 3 फरवरी से शुरू हुए एयरो इंडिया शो का समापन 5 फरवरी हो होगा। इस शो में देश ने अपने लड़ाकू विमानों का जोरदार प्रदर्शन किया। बेंगलुरु में आयोजित  इस शो को देखने के लिए कोरोना महामारी में भी अच्छी खासी भीड़ पहुंची। इस बीच ना सिर्फ युवा बल्कि बच्चे भी बड़ी संख्या में अपने देश की ताकत को देख गर्व महसूस करते नजर आए। इस शो में काफी संख्या में विदेशी टूरिस्ट भी पहुंचे। कैमरे में कुछ ऐसे कैद हुए प्राउड मोमेंट्स.... 

  • Special photos of the show Aero India 2021 kpa

    NationalFeb 4, 2021, 6:33 PM IST

    एयरो इंडिया 2021: 14 देशों की 602 एग्जिबिशन में दिखा इंडिया का पावर, देखें नये भारत की 18 तस्वीरें

    बेंगलुरु. अमेरिका, उत्तर कोरिया और रूस के बाद भारतीय सैन्य शक्ति दुनिया में चौथे नंबर पर आती है। लेकिन ये तस्वीरें बयां करती हैं कि वो दिन दूर नहीं, जब भारत दुनिया का नंबर-1 शक्तिशाली देश होगा। यह दृश्य बेंगलुरु में चल रही तीन दिवसीय एयरो इंडिया-2021 एग्जिबिशन की हैं। 3 फरवरी से शुरू हुई इस एग्जिबिशन में सैन्य साजो-सामान और लड़ाकू विमानों की प्रदर्शन लगाई गई है। कुछ साजो-सामान असली रखे गए हैं, तो कुछेक के हूबहू मॉडल। इस एग्जिबिशन में 14 देश शामिल हुए हैं। इसमें कुल 602 प्रदर्शक(Exhibitors) रखे गए हैं। इनमें 525 प्रदर्शक भारत और 78 दूसरे देशों के हैं। इसमें 338 वर्चुअल एग्जिबिटर्स हैं। देखिए एग्जिबिशन की कुछ तस्वीरें...

  • India China dispute, Ladakh China dispute, Indian military power, China military power, 1962 war, UnmaskingChina ka

    Other StatesJun 18, 2020, 11:54 AM IST

    1962 वाला भारत नहीं है ये, दुश्मनी करके बहुत पछताएगा अब चीन..पढ़िए एक रियल हीरो की कहानी, देखिए कुछ तस्वीरें

    नई दिल्ली. पड़ोसी मुल्क चीन ने दोस्ती की आड़ में पीठ में छुरा घोंपने (UnmaskingChina ) का काम किया है। उसने हिंदी-चीनी भाई-भाई की भावना को लहूलुहान किया है। पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में 15/16 जून की रात चीन और भारत की सेना के संघर्ष (India China dispute) में भारत ने अपने 20 जवानों को खोया। वहीं, चीन के 40 से ज्यादा सैनिक मारे गए हैं। हालांकि चीन इसकी पुष्टि कभी नहीं करेगा। भारत की बढ़ती ताकत चीन को हजम नहीं हो रही है। कोरोना वायरस को लेकर सारी दुनिया चीन पर उंगुली उठा रही है। इसे लेकर भी वो बौखलाया हुआ है। यह सही है कि 1962 के युद्ध में चीन की सैन्य शक्ति भारत से ज्यादा थी। इसका भारत को नुकसान उठाना पड़ा था, लेकिन भारतीय सेना ने जिस पराक्रम का परिचय दिया था, वो इतिहास बन गया है। आज की स्थिति में भारत हम मुकाबले में चीन को धूल चटाने में सक्षम है। देखिए 1962 के युद्ध के दौरान की कुछ तस्वीरें और पढ़िए एक रियल हीरो की कहानी..

  • father martyred 23 years ago now son became lieutenant in indian army passing out parade at indian military academy in dehradun kpr

    HaryanaJun 15, 2020, 7:15 PM IST

    पढ़िए एक मां के त्याग और जज्बे की कहानी, पति के शहीद होने के 23 साल बाद बेटे को बनाया आर्मी ऑफिसर


    हिसार(हरियाणा). कहते हैं कि अगर जज्बा और जूनुन हो तो आपके सारे ख्वाब पूरे हो जाते हैं। इस कहावत को पूरा कर दिखाया एक शहीद की पत्नी सुशीला यादव ने, जिन्होंने त्याग और हौसले से अपने बेटे को भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट ऑफिसर बना दिया है। 23 साल पहले जब उनके पति के शहीद हुए तो उन्होंने अपने मन में एक ही बात ठानी थी वो बेटे को भी देश की रक्षा करने के लिए तैयार करेंगी। आज उन्होंने ऐसा कर दिखाया, जहां उनका लाल मनोज इंडियन आर्मी में अधिकारी बन गया है।
     

  • selected for indian army on lieutenant passing out parade at indian military academy in dehradun kpr

    HaryanaJun 14, 2020, 2:42 PM IST

    चार पीढ़ियों से देश की सेवा कर रहा है ये परिवार, परदादा-दादा, पिता के बाद अब बेटा बना लेफ्टिनेंट

    पानीपत. देहरादून में चल रही पासिंग आउट परेड में हरियाणा के 39 युवाओं ने हिस्सा लिया। यह युवा भारतीय सेना में शामिल हुए हैं, जो लेफ्टिनेंट बनकर देश की रक्षा करेंगे। वहीं प्रदेश का एक ऐसा परिवार है, जो पिछले चार पीढ़ियों से लगातार देश की सेवा करता आ रहा है। इसी परंपरा को आगे बढ़ाते हुए अब इसी परिवार के युवा पंकज किन्हा इंडियन आर्मी में लेफ्टिनेंट पद पर चयनित हुए हैं।

  • story of army jawan chandu chavan seeks willful death from president

    MaharashtraDec 10, 2019, 3:13 PM IST

    इस सैनिक ने प्रधानमंत्री को लेटर लिख बयां किया अपना दर्द, राष्ट्रपति से मांगी इच्छा मृत्यु

     सैनिक चंदू चव्हाण साल 2016 में हुई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद 29 सिंतबर को गलती से पाकिस्तान में चला गया था। करीब वहां वो चार महीने तक पाक सुरक्षा एजेंसियों की हिरासत में रहा।