Mahabharat  

(Search results - 224)
  • undefined

    Aisa KyunJul 23, 2021, 12:33 PM IST

    Guru Purnima पर इस विधि से करें अपने गुरु का पूजन, राशि अनुसार दें सकते हैं ये उपहार

    आषाढ़ मास की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा का पर्व मनाया जाया जाता है। इसे व्यास पूर्णिमा भी कहते हैं, क्योंकि इसी दिन महाभारत के रचयिता महर्षि वेदव्यास जी का जन्म हुआ था। इस साल यह तिथि 23 जुलाई, शुक्रवार को सुबह 10:43 से आरंभ होकर 24 जुलाई 2021 की सुबह 08:06 बजे तक रहेगी।

  • undefined

    Aisa KyunJul 10, 2021, 8:53 AM IST

    ये हैं महात्मा विदुर की 5 प्रमुख नीतियां, जिन्हें अपनाकर आप अपने जीवन को सफल बना सकते हैं

    महात्मा विदुर का जन्म एक दासी के घर में हुआ था। दासी परिवार के होने के कारण उन्हें राजा बनने का अधिकार नहीं था। इसलिए विदुर को राजा का मुख्य सलाहकार बनाया गया।

  • undefined

    Aisa KyunJul 3, 2021, 8:51 AM IST

    विदुर नीति: कौन व्यक्ति कब तक रिश्तों का सम्मान करता है और कब उसका व्यवहार बदल जाता है?

    महात्मा विदुर हस्तिनापुर राज्य के महामंत्री थे। उन्होंने समय-समय पर पांडवों पर हो रहे अन्याय का प्रतिकार किया और अंत तक युद्ध रोकने का प्रयास किया। महात्मा विदुर हमेशा धृतराष्ट्र को अनेक उदाहरणों से सही राह दिखाने का प्रयास करते थे। एक श्लोक के द्वारा विदुर ने कुछ लोगों की स्थितियों का जिक्र करते हुए धृतराष्ट्र को समझाया हैं कि मनुष्य का व्यवहार कब कैसा होना चाहिए।

  • undefined

    Aisa KyunJun 29, 2021, 9:05 AM IST

    विदुर नीति: जिस व्यक्ति में होते हैं ये 10 गुण, वो हमेशा रहता है सुखी और उसे मिलता है मोक्ष

    महात्मा विदुर महाभारत के प्रमुख पात्रों में से एक थे। विदुर नीति के अंतर्गत नीति सिद्धांतों का सुंदर वर्णन है। विदुर ने अपनी नीतियों के जरिए मनुष्य के सुखी जीवन का सार बताने की कोशिश की है।

  • undefined

    Aisa KyunJun 18, 2021, 8:24 AM IST

    सुखी और सफल जीवन के लिए हमेशा याद रखें महात्मा विदुर की ये 4 नीतियां

    विदुर महाभारत के अहम पात्रों में से एक हैं। विदुर नीति के अंतर्गत नीति सिद्धांतों का सुंदर वर्णन है। महर्षि वेदव्यास रचित महाभारत के उद्योग पर्व में विदुर नीति का वर्णन मिलता है।

  • undefined

    Aisa KyunJun 14, 2021, 9:09 AM IST

    विदुर नीति: इन 4 लोगों का जीवन बहुत जल्दी नष्ट हो जाता है, जानिए क्यों होता है ऐसा

    महाभारत काल के महात्मा विदुर जी को महान विचारक माना जाता है। वे बहुत ज्ञानी और सरल स्वभाव के थे। यही कारण था कि विदुर जी भगवान कृष्ण जी के भी प्रिय थे।

  • undefined

    Aisa KyunJun 12, 2021, 9:46 AM IST

    जिस घर में होते हैं इस तरह के 4 काम, वहां नहीं होती सुख-समृद्धि, हमेशा बने रहते हैं गरीब

    उज्जैन. महाभारत के अनुसार महात्मा विदुर महाराज धृतराष्ट्र के भाई और महामंत्री थे। कुरुक्षेत्र युद्ध से पहले महात्मा विदुर ने धृतराष्ट्र को लाइफ मैनेजमेंट से संबंधित अनेक सूत्र बताए थे। इन्हें विदुर नीति कहा जाता है। महात्मा विदुर ने अपनी एक नीति में बताया है कि किन लोगों के घर पर कभी बरकत नहीं होती है और वे क्यों हमेशा गरीब बने रहते हैं। आगे जानिए महात्मा विदुर की इस नीति के बारे में…

  • undefined

    Aisa KyunJun 5, 2021, 9:05 AM IST

    विदुर नीति: जिस व्यक्ति में होते हैं ये 3 गुण, उसे सदैव मिलता है मान-सम्मान और सुख-शांति

    महात्मा विदुर महाभारत के प्रमुख पात्रों में से एक थे। ये हस्तिनापुर के महामंत्री थे। महाराज धृतराष्ट्र हर विषय पर विदुर से खुलकर चर्चा करते थे। महात्मा विदुर और महाराज धृतराष्ट्र के बीच का संवाद ही विदुर नीति के रूप में उपलब्ध है।

  • undefined

    TVMay 27, 2021, 10:15 AM IST

    35 साल से गुमनाम जिंदगी बसर कर रही महाभारत की 63 साल की कुंती, कभी बिकिनी पहन मचाई थी खलबली

    मुंबई. बीआर चोपड़ा (BR Chopra) की महाभारत (Mahabharat) ने अपने दौर में वो सफलता हासिल की जो अभी तक किसी भी सीरियल को नहीं मिल पाई। महाभारत ने टीवी पर तहलका मचाया था और दर्शकों के दिलों में एक अलग ही छाप छोड़ी थी। इस शो ने कई कलाकारों को स्‍टार बना दिया था। चोपड़ा की महाभारत में लंबी-चौड़ी स्‍टार कास्‍ट थी, इनमें से कई स्टार्स अब गुमनाम जिंदगी गुजार रहे हैं। इन्हीं में से एक है महाभारत में कुंती (Kunti) का रोल प्ले करने वाली 63 साल की नाजनीन (Nazneen)। नाजनीन ने कई फिल्मों में भी काम किया लेकिन उन्हें पॉपुलैरिटी नहीं मिल पाई। वह करीब 35 साल से गुमनामी की जिंदगी बसर कर रही है। वे लंबे समय से न ही किसी फिल्म और न ही किसी टीवी शो में नजर आईं।
     

  • undefined

    Aisa KyunMay 19, 2021, 10:40 AM IST

    जब अभिमन्यु ने चक्रव्यूह तोड़ा तो भीम, युधिष्ठिर आदि योद्धा क्यों उसमें प्रवेश नहीं कर पाए?

    अर्जुन का पुत्र अभिमन्यु महाभारत के पात्रों में से एक है। जब कुरुक्षेत्र में कौरव और पांडवों की सेनाएं आमने-सामने थी, उस समय युधिष्ठिर को बंदी बनाने के लिए गुरु द्रोणाचार्य ने चक्रव्यूह की रचना की थी।

  • undefined

    CelebsMay 11, 2021, 5:20 PM IST

    अमिताभ बच्चन के बचपन का रोल करने वाला चाइल्ड आर्टिस्ट दिखने लगा ऐसा, फिल्म नहीं यहां से कमा रहा करोड़ों

    मुंबई. बॉलीवुड इंडस्ट्री में ऐसे कई स्टार्स रहे हैं जिन्होंने बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट अपने करियर की शुरुआत की। हालांकि, जब मौका फिल्मों में लीड रोल प्ले करने का आया तो ये चाइल्ड आर्टिस्ट उतना दमखम नहीं दिखा पाए। आज आपको 70-80 के दशक के उस चाइल्ड आर्टिस्ट के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसने फिल्मों में अमिताभ बच्चन (Amitabh Bachchan) के बचपन का रोल कर खूब वाहवाही लूटी। इतना ही नहीं इस शख्स को जूनियर अमिताभ बच्चन के नाम भी जाना जाने लगे था। इस एक्टर का नाम मयूर राज वर्मा (Mayur Raj Verma) है। इनकी पॉपुलैरिटी कुछ ऐसी थी कि यह अपने दौर के हाईएस्ट पेड चाइल्ड आर्टिस्ट में से एक थे।

  • undefined

    Aisa KyunMay 9, 2021, 11:35 AM IST

    धर्म ग्रंथों की इन माताओं से सीखें कैसे बनाएं अपने बच्चों को सफल, गुणी और चरित्रवान

    उज्जैन. आज (9 मई) मदर्स डे है। हिंदू धर्म ग्रंथों में माता को भगवान से भी अधिक पूजनीय बताया गया है। हमारे ग्रंथों में कई ऐसी माताओं के बारे में बताया गया है, जिनकी संतान को समाज में एक आदर्श के रूप में देखा जाता है। इनमें से कई माताएं तो ऐसी भी हैं, जिन्होंने अभावों में रहकर भी अपनी संतान को गुणी और चरित्रवान बनाया। इनकी संतान की सफलता का श्रेय उनकी माताओं को ही जाता है। आज हम आपको धर्म ग्रंथों में बताई गई ऐसी ही माताओं के बारे में बता रहे हैं, जो इस प्रकार है…

    हर साल मई महीने के दूसरे रविवार को मदर्स डे मनाया जाता है। इस बार यह 9 मई को मनाया जा रहा है। मदर्स डे का दिन माताओं के लिए समर्पित होता है। वैसे तो मां की ममता और प्यार किसी दिन की मोहताज नहीं। लेकिन मां के संघर्ष और ममता को सम्मान देने के लिए आज का दिन यानी मदर्स डे बनाया गया है।

  • undefined

    BollywoodMay 2, 2021, 9:00 AM IST

    मिलिए साढ़े 6 फुट लंबे महाभारत के भीम से, BSF की नौकरी छोड़ एक्टर को कुछ ऐसे मिला था यादगार रोल

    मुंबई। कोरोना महामारी के दौर में 90 के दशक के चर्चित सीरियल महाभारत (Mahabharat) और रामायण को लोगों ने खूब पसंद किया। महाभारत का एक-किरदार आज भी लोगों को जेहन में रचा-बसा है। फिर चाहे महाभारत में द्रौपदी बनीं रूपा गांगुली रही हों या भीम का किरदार निभाने वाले प्रवीण कुमार सोबती। महाभारत के ये सभी किरदार आज भी लोगों को बखूबी याद हैं। सीरियल में भीम का रोल निभाने वाले एक्टर प्रवीण कुमार सोबती को तो सभी जानते हैं, लेकिन उनके बारे में ये बात शायद कम ही लोगों को पता होगी कि प्रवीण कुमार भारत के लिए एशियन गेम्स में 4 मेडल जीत चुके हैं। इनमें दो गोल्ड, एक सिल्वर और एक ब्रॉन्ज मेडल शामिल है।

  • undefined

    TVApr 23, 2021, 3:28 PM IST

    33 साल पहले इस शख्स ने इतने करोड़ में बनाई थी Mahabharat, सबकुछ अच्छा रहा फिर भी मन में रही 1 कसक

    मुंबई. बीते साल लॉकडाउन के दौरान दूरदर्शन पर रामायण (Ramayan) के साथ-साथ महाभारत का प्रसारण हुआ और दोनों ही सीरियलों की वजह से टीआरपी मामले में रिकॉर्ड ब्रेक किए थे। 1988 में प्रसारित हुआ महाभारत (Mahabharat) खूब पॉपुलर था। इस सीरियल और इसकी स्टार कास्ट को आज भी याद किया जाता है। इस सीरियल को बीआर चोपड़ा (BR Chopra) ने बनाया था और उनके बेटे रवि चोपड़ा ने इसे डायरेक्ट किया था। बीआर चोपड़ा की 107 बर्थ एनिवर्सरी के मौके पर आपको महाभारत से जुड़ा कुछ किस्से बताने जा रहे हैं। बता दें कि चोपड़ा का जन्म 1914 में हुआ था। उन्होंने बॉलीवुड को कई हिट फिल्में भी दी है। 

  • undefined

    Aisa KyunApr 23, 2021, 11:09 AM IST

    महाभारत: विदेश जाने वाले, घर में रहने वाले, रोगी और मृत्यु के करीब पहुंचे व्यक्ति का मित्र कौन है?

    महाभारत को पांचवां वेद कहा गया है। इसके रचयिता महर्षि वेदव्यास के अनुसार जिस विषय का वर्णन इस ग्रंथ में नहीं है, उसका वर्णन कहीं भी नहीं है।