Rabari Devi  

(Search results - 16)
  • undefined

    Bihar ElectionNov 8, 2020, 4:15 PM IST

    एग्जिट पोल के बाद नीतीश कुमार को ऑफर, तेजस्वी की बहनों ने किया ऐसे ट्टीट

    लालू प्रसाद की बड़ी बेटी मीसा भारती जहां राजनीति में हैं और राज्यसभा सांसद हैं तो वहीं उनकी दो अन्य बेटियां राजलक्ष्मी और रोहिणी आचार्या भी लगातार ट्विटर और सोशल मीडिया के माध्यम से राजनीति में सक्रिय रहने की कोशिश करती हैं। एग्जिट पोल के अपने भाई की ताजपोशी को देखते हुए लालू प्रसाद की बेटी राज लक्ष्मी यादव ने ट्वीट करते हुए लिखा है राजतिलक की आई बारी तेजस्वी सब पर भारी युवा बिहार तेजस्वी सरकार।

  • <p><strong>पटना (Bihar) । </strong>बिहार विधानसभा चुनाव के 248 सीटों पर मतदान का दौर समाप्त हो गया। इस बार के चुनाव में 22 मंत्री और 24 पूर्व मंत्री के भी भाग्या का फैसला होना है। तीन चरणों में हुए वोटिंग का परिणाम 10 नवंबर को सामने आएगा। लेकिन, इसके पहले एग्जिट पोल को देखे तो चुनाव में सत्ता के लिए मुख्य मुकाबला एनडीए और महागठबंधन के बीच है। दूसरी ओर एग्जिट पोल सामने भी आ गए हैं। जिसमें करीब-करीब सभी एग्जिट पोल में बिहार में त्रिशंकु तस्वीर नजर आ रही है। हालांकि दो बड़े पोल्स टुडेज चाणक्य और आजतक एक्सिस माई इंडिया के पोल में रिकॉर्ड बहुमत के साथ तेजस्वी यादव की सरकार बनती दिख रही है। लगभग सभी पोल्स में एनडीए के मुकाबले महागठबंधन बहुत आगे नजर आ रहा है। एनडीए में जेडीयू को काफी नुकसान होता दिख रहा है। जबकि बीजेपी को जबरदस्त फायदा मिल रहा है। हालांकि सबसे बड़ी पार्टी के रूप में आरजेडी सामने आ रही है। सीएम नीतीश को सत्ता विरोधी लहर और एलजेपी से काफी नुकसान उठाना पड़ा है। नीचे सभी पोल्स के नतीजे देख सकते हैं।&nbsp;बताते चलें कि ये एग्जिट पोल्स महज अनुमान भर हैं। एक्चुअल नतीजे कम या ज्यादा हो सकते हैं।&nbsp;</p>

    Bihar ElectionNov 8, 2020, 9:56 AM IST

    बिहार में 22 मंत्री और 24 पूर्व मंत्रियों का भी भाग्य लिखेगा यह चुनाव,जानिए-एग्जिट पोल में किसकी बन रही सरकार

    पटना (Bihar) । बिहार विधानसभा चुनाव के 248 सीटों पर मतदान का दौर समाप्त हो गया। इस बार के चुनाव में 22 मंत्री और 24 पूर्व मंत्री के भी भाग्या का फैसला होना है। तीन चरणों में हुए वोटिंग का परिणाम 10 नवंबर को सामने आएगा। लेकिन, इसके पहले एग्जिट पोल को देखे तो चुनाव में सत्ता के लिए मुख्य मुकाबला एनडीए और महागठबंधन के बीच है। दूसरी ओर एग्जिट पोल सामने भी आ गए हैं। जिसमें करीब-करीब सभी एग्जिट पोल में बिहार में त्रिशंकु तस्वीर नजर आ रही है। हालांकि दो बड़े पोल्स टुडेज चाणक्य और आजतक एक्सिस माई इंडिया के पोल में रिकॉर्ड बहुमत के साथ तेजस्वी यादव की सरकार बनती दिख रही है। लगभग सभी पोल्स में एनडीए के मुकाबले महागठबंधन बहुत आगे नजर आ रहा है। एनडीए में जेडीयू को काफी नुकसान होता दिख रहा है। जबकि बीजेपी को जबरदस्त फायदा मिल रहा है। हालांकि सबसे बड़ी पार्टी के रूप में आरजेडी सामने आ रही है। सीएम नीतीश को सत्ता विरोधी लहर और एलजेपी से काफी नुकसान उठाना पड़ा है। नीचे सभी पोल्स के नतीजे देख सकते हैं। बताते चलें कि ये एग्जिट पोल्स महज अनुमान भर हैं। एक्चुअल नतीजे कम या ज्यादा हो सकते हैं। 

  • undefined

    Bihar ElectionNov 7, 2020, 8:19 PM IST

    एग्जिट पोल: बिहार में NDA को नुकसान, JDU रेस में पिछड़ी, RJD के बाद BJP दूसरी बड़ी पार्टी

    243 विधानसभा सीटों के लिए हुए चुनाव को लेकर कई एग्जिट पोल सामने आ चुके हैं। इस बार बीजेपी को जबरदस्त फायदा मिलता दिख रहा है। ऐसा पहली बार है जब लगभग सभी पोल्स में बीजेपी, सहयोगी दल जेडीयू से भी बड़ा दल बनकर सामने है। 

  • undefined

    Bihar ElectionNov 7, 2020, 5:52 PM IST

    बिहार में फंस गए नीतीश कुमार, BJP फायदे में, 2 एग्जिट पोल्स में तेजस्वी यादव की सरकार

    एनडीए में जेडीयू, बीजेपी, हिन्दुस्तानी अवामी मोर्चा और विकासशील इंसान पार्टी शामिल है। सीएम फेस नीतीश कुमार हैं। जबकि महागठबंधन में आरजेडी, कांग्रेस, सीपीआई, सीपीआई एमएल और सीपीएम शामिल हैं। सीएम का फेस लालू यादव के बेटे तेजस्वी यादव हैं।

  • undefined

    Bihar ElectionNov 7, 2020, 3:19 PM IST

    किसी का भी खेल बना या बिगाड़ सकती हैं ये 7 विधानसभा सीटें, 1000 से भी कम मतों से हुआ था हार-जीत का फैसला

    पटना। बिहार विधानसभा चुनाव में तीन चरणों के तहत 243 विधानसभा सीटों पर चुनाव हो रहे हैं। इस बार चुनाव का पेंच काफी उलझा हुआ है। राजनीति और गठबंधनों का स्वरूप ही कुछ इस तरह है कि किसी भी तरह का पूर्वानुमान लगाना मुमकिन नहीं है। दरअसल, पिछली बार बिहार के बड़े दलों के गठबंधन का स्वरूप अलग था। पिछली बार महागठबंधन में जेडीयू, आरजेडी और कांग्रेस शामिल थीं। इस बार महागठबंधन में आरजेडी कांग्रेस के साथ सीपीआई एमएल, सीपीआई और सीपीएम शामिल हैं। इसी तरह एनडीए में इस बार बीजेपी, वीआईपी और हम के साथ जेडीयू है। एलजेपी अकेले चुनावी मैदान में हैं। 2015 में गठबंधन के बदले स्वरूप में 7 विधानसभा सीटों पर बहुत रोचक मुक़ाबला हुआ था। ये बिहार की वो सीटें हैं जहां 1000 से भी कम मतों से हार जीत का फैसला हुआ। बदले राजनीतिक माहौल में इन 8 विधानसभा सीटों के नतीजे किसी का भी खेल बना या बिगाड़ सकती हैं। ये सीटें बताती हैं कि लोकतांत्रिक प्रक्रिया में एक वोट की कीमत क्या होती है। आइए जानते हैं बिहार की इन सीटों के नतीजों के बारे में...

  • undefined

    Bihar ElectionNov 7, 2020, 2:28 PM IST

    पूर्णिया में बवाल: एक जगह सुरक्षाबलों से उलझे ग्रामीण, दूसरी जगह आरजेडी नेता के भाई को मारी गोली

    तीसरे चरण के तहत 78 सीटों पर वोट डाले जा रहे हैं। इनमें पूर्णिया जिले की 7 विधानसभा सीटें भी शामिल हैं। पूर्णिया जिले की एक पोलिंग बूथ पर झड़प की खबर सामने आ रही हैं। ग्रामीणों ने दावा किया कि यहां झड़प के बाद कुछ राउंड फायरिंग भी हुई है। 

  • <p>गायघाट में कोमल सिंह का मुक़ाबला आरजेडी सीटिंग विधायक महेश्वर से है। 2015 के विधानसभा चुनाव में महेश्वर ने कोमल की मां वीणा देवी को करीब तीन हजार से ज्यादा मतों से हरा दिया था। तब वीणा देवी ने बीजेपी के टिकट पर चुनाव लड़ा था।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

    Bihar ElectionNov 7, 2020, 11:27 AM IST

    इस सीट से लड़ रही हैं 27 साल की करोड़पति कोमल सिंह, सिर्फ 3 घंटे में ही हुआ रिकॉर्ड 25% मतदान

    मुजफ्फरपुर/पटना। बिहार में इस बार 243 विधानसभा सीटों पर कई धाकड़, हाई प्रोफाइल और युवा प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं। इन्हीं में एक नाम कोमल सिंह का है। 27 साल की इस उम्मीदवार की कमाई करोड़ों में है। चिराग पासवान की लोकजनशक्ति पार्टी ने इन्हें मुजफ्फरपुर जिले की गायघाट विधानसभा सीट से उम्मीदवार बनाया है। कोमल की सीट तीसरे फेज में है। 7 नवंबर को यहां भी वोट डाले जा रहे हैं। इस सीट ने शुरुआती वोटिंग को लेकर रिकॉर्ड बना दिया है। लोकल रिपोर्ट्स के मुताबिक बिहार में इस विधानसभा सीट पर शुरुआती तीन घंटे में ही रिकॉर्ड वोट पड़े हैं। सुबह 9 बजे तक यहां करीब 25% रिकॉर्ड मतदान हुआ। तीसरे फेज की अन्य सभी 78 सीटों को देखें तो सुबह 9 बजे तक उनका औसत 7.69 प्रतिशत है। कोमल सिंह यहां पहली बार चुनाव लड़ रही हैं। आइए कोमल सिंह का फैमिली बैकग्राउंड और उनकी करोड़ों में कमाई का राज जानते हैं। 

  • undefined

    Bihar ElectionNov 7, 2020, 10:27 AM IST

    अमित शाह से राबड़ी देवी तक, इन स्टार प्रचारकों ने नहीं की रैलियां, लालू यादव रहे पूरी तरह गायब

    पटना। बिहार में आज आखिरी चरण की वोटिंग हो रही है। तीन चरणों के कैम्पेन में कई दिग्गज प्रचार करने बिहार में आए। लेकिन बिहार की रैलियों के कई जाने-पहचाने चेहरे इस बार नहीं दिखे। प्रशंसकों को उनकी कमी खली। इनमें सभी दलों के स्टार कैम्पेनर शामिल हैं। इनमें सबसे बड़ा नाम लालू यादव का है। आरजेडी चीफ लालू यादव पिछले चार दशक से बिहार की राजनीति का एक सबसे मजबूत सिरा हैं और उनके इर्दगिर्द ही राजनीति होती है। लेकिन इस बार लालू चुनावों में नजर नहीं आए। इसकी वजह भ्रष्टाचार के मामले में उनका जेल में बंद होना है। लालू इस वक्त रांची में जेल की सजा काट रहे हैं। वैसे एक स्ट्रेटजी के तहत लालू की तस्वीरों को भी आरजेडी ने बिहार में हाई लाइट नहीं किया। 
     

  • <p>साधु, राबड़ी देवी के भाई हैं। एक जमाने में लालू के नाम पर उनकी न सिर्फ पार्टी बल्कि पूरे बिहार में धाक थी। उन्हें दबंग भी माना जाता था। साधु कि गणना बाहुबली के रूप में ही होने लगी थी। लालू की वजह से ही साधु विधानपरिषद और विधानसभा में आरजेडी विधायक के रूप में पहुंचे। 2004 के लोकसभा चुनाव में भी उन्होंने पार्टी उम्मीदवार के रूप में गोपालगंज से लोकसभा (Gopalganj constituency) का चुनाव जीता था।&nbsp;<br />
&nbsp;</p>

    Bihar ElectionOct 31, 2020, 6:50 PM IST

    लालू के गढ़ में ही भांजे तेजस्वी की राह का रोड़ा बने हैं राबड़ी के भाई साधु यादव, इस पार्टी से लड़ रहे चुनाव

    गोपालगंज/पटना।  15 साल पहले बिहार में लालू यादव और राबड़ी देवी के बाद लालू के साले साधु यादव की जबरदस्त धाक थी। धाक भी ऐसी-वैसी नहीं। सीएम के बाद बिहार में सत्ता का सबसे ताकतवर चेहरा साधु यादव थे। बहन-जीजा की वजह से साधु विधानपरिषद और विधानसभा पहुंचे। लालू के गृह जिले गोपालगंज से लोकसभा भी पहुंचे। दबंग छवि की वजह से उनकी गिनती बाहुबलियों में होने लगी थी। लेकिन किन्हीं वजहों से लालू परिवार के साथ मतभेद के बाद साधु यादव की राजनीतिक जमीन खत्म हो गई और वो तब से एक चुनावी जीत का इंतजार कर रहे हैं। 

  • undefined

    Bihar ElectionOct 19, 2020, 12:45 PM IST

    तेजस्वी यादव का दावा- नीतीश ने बर्बाद किया बिहार, हर दूसरे परिवार को करना पड़ रहा पलायन

    नेता प्रतिपक्ष और महागठबंधन के सीएम फेस तेजस्वी यादव ने उनसे तीखे सवाल पूछे हैं। तेजस्वी ने नीतीश के कार्यकाल को खारिज करते हुए कहा कि उन्होंने बिहार को बदहाल किया। 

  • undefined

    Bihar ElectionOct 14, 2020, 11:49 AM IST

    गया में बीजेपी प्रेसिडेंट जेपी नड्डा की रैली पर विवाद, कोरोना में सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर दर्ज हुई FIR

    मंगलवार की रात सीओ राजीव रंजन ने सिविल लाइंस थाना में बीजेपी महामंत्री प्रशांत कुमार समेत पार्टी के आयोजन से जुड़े कुछ लोगों पर एफआईआर कराई है। 

  • undefined

    Bihar ElectionOct 14, 2020, 11:28 AM IST

    नीतीश से आर-पार की जंग के लिए निकले तेजस्वी, मां राबड़ी बड़े भाई तेजप्रताप का पैर छूकर लिया आशीर्वाद

    पटना। नेता प्रतिपक्ष और आरजेडी के सीएम फेस तेजस्वी यादव आज विधानसभा चुनाव में अपने नामांकन के लिए निकलने से पहले माता-पिता और बड़े भाई से आशीर्वाद लिया। तेजस्वी पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव और राबड़ी देवी के छोटे बेटे हैं। तेजप्रताप यादव बड़े भाई हैं। नेताप्रतिपक्ष दूसरी बार राघोपुर सीट से ही विधानसभा का चुनाव लड़ रहे हैं। उनके माता-पिता भी इस सीट से प्रतिनिधित्व करते रहे हैं। 
     

  • undefined

    Bihar ElectionOct 6, 2020, 11:09 AM IST

    राबड़ी आवास के बंद नंबर से टिकट के बदले मांगे जा रहे थे पैसे, ट्रू कॉलर पर आ रहा लालू के इस बेटे का नाम

    पटना। बिहार में विधानसभा चुनाव (Bihar Polls) को लेकर अब सनसनीखेज आरोपों का दौर भी शुरू हो चुका है। इस कड़ी में लालू यादव (Lalu Yadav) की पार्टी आरजेडी (RJD) की ओर से टिकट के बदले दावेदारों से पैसे मांगने के आरोप लगे हैं। जिस फोन नंबर से पैसे मांगे जा रहे हैं वो कभी पूर्व मुख्यमंत्री और लालू की पत्नी राबड़ी देवी (Rabari Devi) के आवास पर लगा था। आरजेडी ने पूरे मामले के पीछे विरोधी दलों पर बदनाम करने के लिए साजिश का गंभीर आरोप लगाया है। उधर, बीजेपी ने दलित नेता शक्ति मलिक की हत्या को लेकर लालू परिवार से सवाल पूछे हैं। 

  • <p>राजनीति में लालू का आगमन छात्रनेता के रूप में हुआ था। 1974 में इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) और आपातकाल के खिलाफ आंदोलन में लालू भी कूद पड़े थे। आज की तारीख में बिहार के दिग्गज नेताओं में शुमार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) और उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने भी जेपी आंदोलन से ही राजनीति शुरू की थी। (फोटो : बेटे तेजस्वी के साथ लालू)&nbsp;</p>

    Bihar ElectionOct 5, 2020, 1:35 PM IST

    कभी पत्नी बच्चों के साथ यूं चपरासी क्वार्टर में रहते थे लालू यादव, चुनाव में खूब वायरल होती हैं ये तस्वीरें

    पटना। आरजेडी चीफ लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) भारतीय राजनीति का वो नाम हैं जिनकी बिल्कुल अलग ही पहचान है। हंसमुंख और किसी को भी झिड़क देने का लालू का अंदाज निराला है। आरजेडी (RJD) चीफ छात्र राजनीति से निकलने वाले बिहार के ऐसे नेता माने जाते हैं जिन्होंने राजनीतिक परिभाषा ही बदल दी और करीब 15 साल तक बिहार पर एकछत्र राज किया। वो खुद मुख्यमंत्री बने और जेल जाने के बाद निरक्षर पत्नी राबड़ी देवी (Rabari Devi) को भी मुख्यमंत्री की गद्दी सौंपकर सबको हैरान कर दिया था। बहुत गरीब और मामूली परिवार से राजनीति शुरू करने वाले लालू का जीवन संघर्ष से भरा है। उन पर राजनीति के अपराधीकरण और भ्रष्टाचार के भी आरोप लगे। चारा घोटाला मामले में वो फिलहाल रांची में सजा काट रहे हैं। आइए बार-बार वायरल होने वाली लालू की दिलचस्प तस्वीरों के साथ उनके राजनीतिक सफर को जानते हैं। 
     

  • undefined

    Bihar ElectionOct 2, 2020, 6:00 PM IST

    जब पिता को लेने घर से बाहर आई थीं लालू की बहू ऐश्वर्या, बारिश में भीगती रहीं मगर दोबारा नहीं खुला गेट

    पटना। बिहार में विधानसभा चुनाव (Bihar Polls 2020) हो रहे हैं और राजनीति के मैदान में निजी-पारिवारिक जंग भी देखने के आसार नजर आने लगे हैं। ऐसी ही एक जंग राज्य के सबसे बड़े राजनीतिक परिवारों में से एक आरजेडी चीफ लालू यादव (RJD Chief Lalu Yadav) के बेटे तेज प्रताप यादव और उनकी पत्नी ऐश्वर्या राय के बीच भी दिखनी शुरू हो गई है। कहा जा रहा है कि पहली बार सारण से विधायक बने तेजप्रताप ने अपने खिलाफ पत्नी ऐश्वर्या की संभावित उम्मीदवारी की वजह से सीट बदल ली है। वो अब हसनपुर में अभियान चला रहे हैं। हालांकि तेजप्रताप के इस कदम के बाद उनके ससुर और जेडीयू (JDU) नेता चंद्रिका राय (MLA Chandrika Rai) ने संकेत दिया था कि ऐश्वर्या हसनपुर से भी चुनाव लड़ सकती हैं।