Ratan Tata  

(Search results - 66)
  • undefined

    BusinessApr 23, 2021, 12:50 PM IST

    Coronavirus: संकट के समय फ्री में ऑक्सीजन सप्लाई कर रहे हैं ये बिजनेसमैन, इन कंपनियों ने बढ़ाया प्रोडक्शन

    नई दिल्ली. कोरोना संकट (coronavirus) की दूसरी लहर के बीच देश के ज्यादातर राज्यों में ऑक्सीजन की समस्या (Oxygen Shortage) खड़ी हो गई है। हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की कमी के कारण कई लोगों की मौत के मामले सामने आए हैं। संकट की इस घड़ी में देश के कई उद्योगपति (industrialists) सामने आए हैं और ऑक्सीजन की सप्लाई कर रहे हैं। स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (SAIL) के अलावा देश की कई प्राइवेट कंपानियां और उद्योगपति मदद के लिए सामने आए हैं। जानते हैं कौन-कौन से उद्योगपति ऑक्सीजन की सप्लाई में मदद कर रहे हैं। 

  • undefined

    NationalMar 26, 2021, 5:58 PM IST

    सुप्रीम कोर्ट ने टाटा के हक में सुनाया फैसला, रतन टाटा बोले- यह जीत या हार का मामला नहीं

    सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को सायरस मिस्त्री को बड़ा झटका देते हुए रतन टाटा के हक में फैसला सुनाया। कोर्ट ने टाटा-मिस्त्री केस में NCLAT के फैसले को खारिज कर दिया। साथ ही कोर्ट ने कहा कि  सायरस मिस्त्री को टाटा संस को चेयरमैन पद से हटाना कानूनी तौर पर सही है।

  • undefined

    MaharashtraMar 13, 2021, 3:30 PM IST

    83 सल के रतन टाटा ने लगवाई कोरोना वैक्‍सीन की पहली डोज, फिर ट्वीट कर देश की जनता से कही एक ही बात

    उद्योगपति रतन टाटा वैक्सीन लगवाने के बाद ट्विटर पर लिखा ''टीका लगवाते समय मुझे जरा सा भी दर्द नहीं हुआ, ये पूरी प्रक्रिया बेहद आसान है। मुझे देश के हर नागरिक पर भरोसा है कि वह कोरोना वैक्‍सीन लगवाएगा।

  • undefined

    BusinessFeb 6, 2021, 4:33 PM IST

    रतन टाटा ने लोगों का जीता दिल, 'भारत रत्न' दिए जाने की मांग पर जानें क्या कहा

    देश के प्रमुख उद्योगपति और टाटा ग्रुप (Tata Group) के प्रमुख रतन टाटा (Ratan Tata) को देश का सबसे बड़ा सम्मान 'भारत रत्न' दिए जाने की मांग हो रही है। रतन टाटा के प्रशंसक सोशल मीडिया पर इसके लिए कैम्पेन कर रहे हैं। 

  • undefined

    BusinessJan 15, 2021, 7:44 AM IST

    अंबानी के काम नहीं आया गूगल-फेसबुक में निवेश करना, मात्र 6 महीने में TATA ने छीन ली राजगद्दी

    बिजनेस न्यूज: भारत में अगर कारोबारियों की बात की जाती है तो इस वक्त अंबानी ग्रुप सबसे पहले नजर आता है। चाहे टेलीकॉम हो या दूसरा कोई सेक्टर, अंबानी ग्रुप की पहुंच लगभग हर बिजनेस सेक्टर तक हो गई है। अंबानी ग्रुप से पहले भारत में टाटा का बोलबाला था। हालांकि, पिछले साल जुलाई में रिलायंस ने टाटा को पीछे कर देश का सबसे बड़ा कारोबारी घराना होने को तमगा हासिल किया था। लेकिन अब सिर्फ 6 महीने के अंदर ही टाटा ने अपना टैग वापस पा लिया है। मार्केट कैप के अनुसार रिलायंस समूह अब तीसरे स्थान पर आ गया है। 

  • undefined

    HatkeJan 14, 2021, 10:03 AM IST

    'टाटा स्टील' का नाम तो सुना ही होगा, यह वो धातु है, जिसने कइयों को अरबपति बना दिया, 4000 साल पहले हुई थी खोज

    स्टील महंगा होने का भारत में सबसे बड़ा फायदा टाटा कंपनी को हुआ है। पिछले साल जुलाई में टाटा का पीछे छोड़कर देश का सबसे बड़ा घराना बना रिलायंस ग्रुप 6 महीने बाद ही पायदान में तीसरे नंबर पर घिसक गया है। टाटा ग्रुप फिर से नंबर-1 पोजिशन पर गया है। इसे बनाया है टाटा की स्टील कंपनी टीसीएस ने। अगर बात करें कि जुलाई 2020 की, तो टाटा ग्रुप की 17 सूचीबद्ध कंपनियों का कुल मार्केट कैप 11.32 लाख करोड़ रु. था। वहीं, जबकि रिलायंस का मार्केट कैप 13 लाख करोड़ रु. के ऊपर। 16 सितंबर में रिलायंस का मार्केट कैप 16 लाख करोड़ के रिकॉर्ड स्तर को पार कर गया। अब यह 12.22 लाख करोड़ रु. रह गया है। आइए जानते हैं स्टील की कहानी...
    ​​​​​​​

  • undefined

    MaharashtraJan 5, 2021, 4:49 PM IST

    रतन टाटा ने पेश की मिसाल: 150 किमी कार से सफर कर बीमार कर्मचारी से मिलने उसके घर पहुंचे, हर कोई हैरान

    बता दें कि टाटा ग्रुप के चेयरमैन एमेरिटस रतन टाटा (83) ने अपना यह दौरा पूरी तरह से व्यक्तिगत रखा। उन्होंने इस बारे में किसी को नहीं बताया था। ना तो उनके साथ कोई बाउंसर था और ना ही उनकी कंपनी के बडे़-बड़े कर्मचारी।

  • undefined

    MaharashtraJan 5, 2021, 4:40 PM IST

    भारत के 'रतन' टाटा: मालूम चला कि उनका पूर्व कर्मचारी बीमार है, तो अचानक उसके घर जा पहुंचे

    रतन टाटा की दरियादिली और सरलता के किस्से आम हैं। यह मामला भी चौंकाता है। आमतौर पर कंपनी के मालिकों और उनके कर्मचारियों के बीच रिश्ते प्रोफेशनल होते हैं। अगर कर्मचारी नौकरी छोड़कर चला जाता है, तो मालिक शायद ही उसे याद करें। लेकिन रतन टाटा अपने पूर्व कर्मचारी की बीमारी की खबर सुनकर मुंबई से पुणे उससे मिलने जा पहुंचे।

  • बिजनेस डेस्क। टाटा ग्रुप (Tata Group) के चेयरमैन रतन टाटा (Ratan Tata) देश के सबसे बड़े और सम्मानित उद्योगपतियों में से एक हैं। उन्होंने टाटा ग्रुप को दुनिया में एक खास पहचान दिलाई है। आज भी टाटा सन्स (Tata Sons) देश का सबसे बड़ा औद्योगिक समूह है। टाटा सन्स के तहत कई कंपनियां हैं। टाटा सन्स देश में लिस्टेड कंपनियों का सबसे बड़ा प्रमोटर है। टाटा ग्रुप की सभी कंपनियों का कुल मार्केट कैप करीब 15.6 लाख करोड़ रुपए है। टाटा ग्रुप को नई उंचाइयों तक पहुंचाने और दुनिया भर में उसकी साख बनाने में रतन टाटा का बहुत बड़ा योगदान है। रतन टाटा का जन्म 28 दिसंबर, 1937 को मुंबई में हुआ था। टाटा ग्रुप के संस्थापक जमशेद जी टाटा ने उन्हें गोद लिया था। रतन टाटा उनके गोद लिए पोते हैं। जेआरडी टाटा (JRD Tata) उनके चाचा थे। जेआरडी टाटा ने 1991 में रतन टाटा को टाटा ग्रुप की कमान सौंपी। रतन टाटा अविवाहित हैं। देश के अमीरों में उनका खास स्थान हैं। जानते हैं उनकी लाइफ स्टाइल के बारे में।

    BusinessJan 2, 2021, 3:56 PM IST

    जेट से लेकर लग्जीरियस कारों के शौकीन हैं रतन टाटा, जानें उनकी लाइफस्टाइल

    बिजनेस डेस्क। टाटा ग्रुप (Tata Group) के चेयरमैन रतन टाटा (Ratan Tata) देश के सबसे बड़े और सम्मानित उद्योगपतियों में से एक हैं। उन्होंने टाटा ग्रुप को दुनिया में एक खास पहचान दिलाई है। आज भी टाटा सन्स (Tata Sons) देश का सबसे बड़ा औद्योगिक समूह है। टाटा सन्स के तहत कई कंपनियां हैं। टाटा सन्स देश में लिस्टेड कंपनियों का सबसे बड़ा प्रमोटर है। टाटा ग्रुप की सभी कंपनियों का कुल मार्केट कैप करीब 15.6 लाख करोड़ रुपए है। टाटा ग्रुप को नई उंचाइयों तक पहुंचाने और दुनिया भर में उसकी साख बनाने में रतन टाटा का बहुत बड़ा योगदान है। रतन टाटा का जन्म 28 दिसंबर, 1937 को मुंबई में हुआ था। टाटा ग्रुप के संस्थापक जमशेद जी टाटा ने उन्हें गोद लिया था। रतन टाटा उनके गोद लिए पोते हैं। जेआरडी टाटा (JRD Tata) उनके चाचा थे। जेआरडी टाटा ने 1991 में रतन टाटा को टाटा ग्रुप की कमान सौंपी। रतन टाटा अविवाहित हैं। देश के अमीरों में उनका खास स्थान हैं। जानते हैं उनकी लाइफ स्टाइल के बारे में।
     

  • बिजनेस डेस्क। देश के दिग्गज कारोबारी और टाटा ग्रुप  (Tata Group) के  चेयरमैन रतन टाटा  (Ratan Tata) प्लेन उड़ाने के शौकीन हैं। रतन टाटा बहुत कम उम्र से ही प्लेन उड़ा रहे हैं। उन्होंने महज 17 साल की उम्र में ही एक ऐसे प्लेन की सुरक्षित लैंडिंग करवाई थी, जिसका इंजन उड़ान के दौरान काम करना बंद कर चुका था। बता दें कि देश में पहली एयरलाइन्स की स्थापना जेआरडी टाटा (JRD Tata) ने ही की थी। जेआरडी टाटा ने पहली बार कराची से बंबई तक हवाई जहाज उड़ाया था। उन्होंने टाटा एयरलाइन्स (Tata Airlines) की शुरुआत की थी, जिसका नाम बाद में एयर इंडिया (Air India) हो गया। भारत सरकार ने इसकी बड़ी हिस्सेदारी खरीद ली और यह सार्वजनिक क्षेत्र की विमानन कंपनी हो गई। अब सरकार एयर इंडिया को नीलाम करने जा रही है। टाटा ग्रुप भी इस नीलामी प्रक्रिया में भाग लेगा और बोली लगाएगा। बता दें कि रतन टाटा के नेतृत्व में टाटा ग्रुप विस्तारा (Vistara) और एयरएशिया (AirAsia) एयर लाइन्स का संचालन करता है। अगर टाटा ग्रुप एयर इंडिया को खरीद लेता है, तो फिर से उस कंपनी पर उसका स्वामित्व हो जाएगा, जिसकी शुरुआत जेआरडी टाटा ने की थी। रतन टाटा सिर्फ सामान्य विमान ही नहीं उड़ाते, बल्कि वे F-16 जैसे फाइटर जेट भी उड़ा चुके हैं। देखें कुछ तस्वीरें।

    BusinessDec 24, 2020, 2:10 PM IST

    प्लेन उड़ाने के शौकीन हैं रतन टाटा, 17 साल की उम्र में खतरनाक हालत में कराई थी विमान की सुरक्षित लैंडिंग

    बिजनेस डेस्क। देश के दिग्गज कारोबारी और टाटा ग्रुप  (Tata Group) के  चेयरमैन रतन टाटा  (Ratan Tata) प्लेन उड़ाने के शौकीन हैं। रतन टाटा बहुत कम उम्र से ही प्लेन उड़ा रहे हैं। उन्होंने महज 17 साल की उम्र में ही एक ऐसे प्लेन की सुरक्षित लैंडिंग करवाई थी, जिसका इंजन उड़ान के दौरान काम करना बंद कर चुका था। बता दें कि देश में पहली एयरलाइन्स की स्थापना जेआरडी टाटा (JRD Tata) ने ही की थी। जेआरडी टाटा ने पहली बार कराची से बंबई तक हवाई जहाज उड़ाया था। उन्होंने टाटा एयरलाइन्स (Tata Airlines) की शुरुआत की थी, जिसका नाम बाद में एयर इंडिया (Air India) हो गया। भारत सरकार ने इसकी बड़ी हिस्सेदारी खरीद ली और यह सार्वजनिक क्षेत्र की विमानन कंपनी हो गई। अब सरकार एयर इंडिया को नीलाम करने जा रही है। टाटा ग्रुप भी इस नीलामी प्रक्रिया में भाग लेगा और बोली लगाएगा। बता दें कि रतन टाटा के नेतृत्व में टाटा ग्रुप विस्तारा (Vistara) और एयरएशिया (AirAsia) एयर लाइन्स का संचालन करता है। अगर टाटा ग्रुप एयर इंडिया को खरीद लेता है, तो फिर से उस कंपनी पर उसका स्वामित्व हो जाएगा, जिसकी शुरुआत जेआरडी टाटा ने की थी। रतन टाटा सिर्फ सामान्य विमान ही नहीं उड़ाते, बल्कि वे F-16 जैसे फाइटर जेट भी उड़ा चुके हैं। देखें कुछ तस्वीरें।  
     

  • undefined

    BusinessDec 16, 2020, 12:14 PM IST

    मिस्त्री परिवार ने किया दावा, Tata Sons टाटा फैमिली की बपौती नहीं

    मिस्त्री परिवार की अगुआई वाले शापूरजी पलौंजी ग्रुप (SP Group) ने मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में कहा कि टाटा सन्स (Tata Sons) किसी परिवार की बपौती नहीं है, जिसकी अगुआई केवल कोई टाटा ही कर सकता है। उल्लेखनीय है कि साइरस मिस्त्री (Cyrus Mistry) को साल 2016 में टाटा सन्स के चेयरमैन पद से हटा दिया गया था।

  • बिजनेस डेस्क। रतन टाटा (Ratan Tata) भारत के ऐसे उद्योगपति हैं, जिनका नाम पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। वे टाटा सन्स (Tata Sons) के अध्यक्ष रह चुके हैं और फिलहाल टाटा ग्रुप (Tata Group) के अध्यक्ष हैं। वे रिटायर होने के बाद खास परिस्थितियों में दोबारा टाटा ग्रुप के अध्यक्ष बने। रतन टाटा जेआरडी टाटा (JRD Tata) के उत्तराधिकारी हैं। भारत के सबसे प्रतिष्ठित उद्योगपतियों में से एक रतन टाटा को उनके समाजसेवा के कामों के लिए खास तौर पर जाना जाता है। उन्हें भारत के दो सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण (2000) और पद्म विभूषण (2008) से भी नवाजा  जा चुका है। कोरोनावायरस महमारी से निपटने के लिए टाटा ग्रुप ने 1500 करोड़ रुपए दिए। वहीं, टाटा सन्स ने 1000 करोड़ रुपए का अलग से योगदान दिया। रतन टाटा की लाइफस्टाइल सिंपल है, लेकिन वे हवाई जहाज उड़ाने के शौकीन हैं। रतन टाटा युद्धक विमान भी उड़ा चुके हैं। बता दें कि जेआरडी टाटा ने ही एयर इंडिया (Air India) की नींव रखी थी। तब इसका नाम टाटा एयरलाइन्स (Tata Airlines) था। वे भारत में विमान सेवा शुरू करने वाले पहले उद्योगपति होने के साथ लाइसेंसशुदा पायलट थे। अब सरकार एयर इंडिया को बेचने जा रही है। इसकी नीलामी में टाटा ग्रुप भी बोली लगाएगा। माना जा रहा है कि टाटा ग्रुप एयर इंडिया को खरीदने में कामयाब हो सकता है। रतन टाटा ने बेहद खतरनाक परिस्थतियों में भी विमान उड़ाया है। उनके विमान उड़ाने के कई किस्से प्रचलित हैं।

    BusinessDec 15, 2020, 1:46 PM IST

    PHOTOS : प्लेन उड़ाना पसंद करने वाले रतन टाटा कारों के भी हैं शौकीन, देखें उनका कार कलेक्शन

    बिजनेस डेस्क। रतन टाटा (Ratan Tata) भारत के ऐसे उद्योगपति हैं, जिनका नाम पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। वे टाटा सन्स (Tata Sons) के अध्यक्ष रह चुके हैं और फिलहाल टाटा ग्रुप (Tata Group) के अध्यक्ष हैं। वे रिटायर होने के बाद खास परिस्थितियों में दोबारा टाटा ग्रुप के अध्यक्ष बने। रतन टाटा जेआरडी टाटा (JRD Tata) के उत्तराधिकारी हैं। भारत के सबसे प्रतिष्ठित उद्योगपतियों में से एक रतन टाटा को उनके समाजसेवा के कामों के लिए खास तौर पर जाना जाता है। उन्हें भारत के दो सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण (2000) और पद्म विभूषण (2008) से भी नवाजा  जा चुका है। कोरोनावायरस महमारी से निपटने के लिए टाटा ग्रुप ने 1500 करोड़ रुपए दिए। वहीं, टाटा सन्स ने 1000 करोड़ रुपए का अलग से योगदान दिया। रतन टाटा की लाइफस्टाइल सिंपल है, लेकिन वे हवाई जहाज उड़ाने के शौकीन हैं। रतन टाटा युद्धक विमान भी उड़ा चुके हैं। बता दें कि जेआरडी टाटा ने ही एयर इंडिया (Air India) की नींव रखी थी। तब इसका नाम टाटा एयरलाइन्स (Tata Airlines) था। वे भारत में विमान सेवा शुरू करने वाले पहले उद्योगपति होने के साथ लाइसेंसशुदा पायलट थे। अब सरकार एयर इंडिया को बेचने जा रही है। इसकी नीलामी में टाटा ग्रुप भी बोली लगाएगा। माना जा रहा है कि टाटा ग्रुप एयर इंडिया को खरीदने में कामयाब हो सकता है। रतन टाटा ने बेहद खतरनाक परिस्थतियों में भी विमान उड़ाया है। उनके विमान उड़ाने के कई किस्से प्रचलित हैं। 

  • बिजनेस डेस्क। खबर है कि सार्वजनिक क्षेत्र (Public Sector) की विमानन कंपनी एयर इंडिया (Air India) के लिए टाटा ग्रुप (Tata Group) बोली लगाने जा रहा है। इस बात की पूरी संभावना है कि नीलामी प्रक्रिया पूरा होने के बाद एयर इंडिया पर टाटा ग्रुप का अधिकार हो सकता है। बता दें कि देश में पहली विमान सेवा की शुरुआत जेआरडी टाटा (JRD Tata) ने की थी। वे देश के पहले लाइसेंसशुदा पायलट थे। आज से 87 साल पहले उन्होंने टाटा एयरलाइन्स (Tata Airlines) की शुरुआत की थी और कराची से बंबई तक खुद हवाई जहाज उड़ाया था। 1946 में इसका नाम एयर इंडिया कर दिया गया और 1953 में भारत सरकार ने इसे खरीद लिया। हालांकि, आजादी मिलने के बाद 1947 में ही भारत सरकार ने एयर इंडिया में 49 फीसदी हिस्सेदारी खरीद ली थी। जेआरडी टाटा 1978 तक एयर इंडिया से जुड़े रहे। एयर इंडिया की 30वीं वर्षगांठ 15 अक्टूबर 1966 को जेआरडी टाटा ने  कराची से मुंबई की उड़ान भरी थी। जेआरडी टाटा ने एयर इंडिया की 50वीं वर्षगांठ 15 अक्टूबर 1982 को जेआरडी टाटा ने फिर कराची से मुंबई की उड़ान भरी। बता दें कि टाटा ग्रुप के प्रमुख रतन टाटा भी विमान उड़ाने का शौक रखते हैं। रतन टाटा लड़ाकू विमान भी उड़ाते हैं। उन्हें विमान उड़ाने का खास शौक है। देखें जेआरडी टाटा और रतन टाटा की विमान उड़ाते कुछ खास तस्वीरें।

    BusinessDec 14, 2020, 2:57 PM IST

    PHOTOS : देश में पहली विमान सेवा शुरू करने वाले जेआरडी टाटा की कंपनी थी एयर इंडिया, ऐतिहासिक है इसका सफर

    बिजनेस डेस्क। खबर है कि सार्वजनिक क्षेत्र (Public Sector) की विमानन कंपनी एयर इंडिया (Air India) के लिए टाटा ग्रुप (Tata Group) बोली लगाने जा रहा है। इस बात की पूरी संभावना है कि नीलामी प्रक्रिया पूरा होने के बाद एयर इंडिया पर टाटा ग्रुप का अधिकार हो सकता है। बता दें कि देश में पहली विमान सेवा की शुरुआत जेआरडी टाटा (JRD Tata) ने की थी। वे देश के पहले लाइसेंसशुदा पायलट थे। आज से 87 साल पहले उन्होंने टाटा एयरलाइन्स (Tata Airlines) की शुरुआत की थी और कराची से बंबई तक खुद हवाई जहाज उड़ाया था। 1946 में इसका नाम एयर इंडिया कर दिया गया और 1953 में भारत सरकार ने इसे खरीद लिया। हालांकि, आजादी मिलने के बाद 1947 में ही भारत सरकार ने एयर इंडिया में 49 फीसदी हिस्सेदारी खरीद ली थी। जेआरडी टाटा 1978 तक एयर इंडिया से जुड़े रहे। एयर इंडिया की 30वीं वर्षगांठ 15 अक्टूबर 1966 को जेआरडी टाटा ने  कराची से मुंबई की उड़ान भरी थी। जेआरडी टाटा ने एयर इंडिया की 50वीं वर्षगांठ 15 अक्टूबर 1982 को जेआरडी टाटा ने फिर कराची से मुंबई की उड़ान भरी। बता दें कि टाटा ग्रुप के प्रमुख रतन टाटा भी विमान उड़ाने का शौक रखते हैं। रतन टाटा लड़ाकू विमान भी उड़ाते हैं। उन्हें विमान उड़ाने का खास शौक है। देखें जेआरडी टाटा और रतन टाटा की विमान उड़ाते कुछ खास तस्वीरें।    

  • undefined
    Video Icon

    NationalNov 11, 2020, 5:56 PM IST

    भारत के सबसे बड़े दानवीर बने विप्रो के अजीम प्रेमजी

    एक दिन में 22 करोड़ रुपये और एक साल में 7904 करोड़ रुपये दान करने वाले अजीम प्रेमजी वित्तीय वर्ष 2020 में सबसे दानवीर भारतीय बन गए हैं। दिग्गज सूचना तकनीक कंपनी विप्रो के संस्थापक प्रेमजी ने इसी के साथ परोपकारियों की सूची में भी पहला स्थान हासिल कर लिया है।हुरून रिपोर्ट इंडिया और एडेलगिव फाउंडेशन की रिपोर्ट के मुताबिक, प्रेमजी ने एचसीएल टेकनोलॉजी के शिव नाडर को बड़े अंतर से पछाड़ा है, जो इससे पहले परोपकारियों की सूची में शीर्ष पर चल रहे थे।

  • कोरोनावायरस से लड़ने के लिए कई दिग्गज बिजनेसमैन सामने आए हैं जिसमें अजीम प्रेमजी ( 1125  करोड़ रुपए ) रतन टाटा ( 1500 करोड़ रुपए), गौतम अदानी (100 करोड़ रुपए) और आनंद महिंद्रा (100 करोड़ रुपए ) के अलावा कई बड़े कॉरपोरेट समूहों जैसे वेदांता समूह, पेटीएम, जिंदल समूह, आदि शामिल हैं।

    CareersAug 8, 2020, 4:12 PM IST

    आखिर कितने पढ़े-लिखे हैं देश के ये 10 सबसे अमीर लोग? जानें टाटा, बिड़ला और अंबानी की डिग्री और डॉक्युमेंट

    करियर डेस्क. India's most richest business man education background: देश में आपने बहुत से सेलिब्रिटीज के बारे में सुना होगा कि वो पढ़ाई पूरी नहीं कर पाते। बहुत से स्टार्स तो अपने क्षेत्र में आज सक्सेजफुल पढ़ाई में उतने ही जीरो रहे हैं। इसलिए पढ़ाई छोड़ दी। फिल्म स्टार्स का एजुकेशन बैकग्राउंड तो हमेशा चर्चा में रहता है। तो क्या आपने कभी देश-दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी या अजीम प्रेमजी की पढ़ाई-लिखाई के बारे में सोचा है। हमारे देश में कुछ ऐसे बिजनेसमैन भी हैं जो विदेश में पढ़ाई करके आज देश के सबसे अमीर लोगों में शामिल हैं। इसलिए आज हम आपको देश के 10 अमीर लोगों की डिग्री बता रहे हैं-