Religious Places Guidelines  

(Search results - 2)
  • <p>भारत कोरोनावायरस संक्रमण से प्रभावित दुनिया का सातवां सबसे बड़ा देश बन गया है. पिछले कुछ दिनों के आंकड़े देखें तो हर दिन औसतन 8000 से ज्यादा नए मामले सामने आ रहे हैं. पिछले 24 घंटे में कोरोना के 9304 मरीज और जुड़ गए हैं. इसी के साथ देश में कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़कर 2.10 लाख के पार चली गई है. बीते 24 घंटे में देश में कोरोना के रिकॉर्ड 9,304 मामले सामने आए हैं और 260 मौतें हुईं. हालांकि, केंद्र सरकार ने कंटेनमेंट जोन के बाहर आठ जून से होटल, रेस्टोरेंट, मॉल, धार्मिक स्थल आदि खोलने की इजाजत दे दी है जिसके मद्देनजर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इनके संचालन के लिए मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) जारी की है। तो आईए एक नजर डालते हैं कि धार्मिक स्थलों के लिए केंद्र सरकार ने किस तरह की गाइडलाइंस जारी की हैं.</p>
    Video Icon

    NationalJun 5, 2020, 6:42 PM IST

    अब आसान नहीं होगा प्रभु का दर्शन, सरकार ने खींची 'लक्ष्मण रेखा'

    भारत कोरोनावायरस संक्रमण से प्रभावित दुनिया का सातवां सबसे बड़ा देश बन गया है. पिछले कुछ दिनों के आंकड़े देखें तो हर दिन औसतन 8000 से ज्यादा नए मामले सामने आ रहे हैं. पिछले 24 घंटे में कोरोना के 9304 मरीज और जुड़ गए हैं. इसी के साथ देश में कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़कर 2.10 लाख के पार चली गई है. बीते 24 घंटे में देश में कोरोना के रिकॉर्ड 9,304 मामले सामने आए हैं और 260 मौतें हुईं. हालांकि, केंद्र सरकार ने कंटेनमेंट जोन के बाहर आठ जून से होटल, रेस्टोरेंट, मॉल, धार्मिक स्थल आदि खोलने की इजाजत दे दी है जिसके मद्देनजर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इनके संचालन के लिए मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) जारी की है। तो आईए एक नजर डालते हैं कि धार्मिक स्थलों के लिए केंद्र सरकार ने किस तरह की गाइडलाइंस जारी की हैं.

  • <p>Religious Places Guidelines, Lockdown Guidelines, Corona Guidelines, Guidelines<br />
&nbsp;</p>

    NationalJun 4, 2020, 9:57 PM IST

    मंदिर जाएं तो जूते-चप्पल गाड़ी में ही उतारें, 6 फीट की दूरी जरूरी...धार्मिक स्थलों के लिए नई गाइडलाइन

    कोरोना महामारी में अनलॉक 1 के बीच 8 जून से धार्मिक स्थल खुल जाएंगे। लेकिन धार्मिक स्थल खुलने से पहले सरकार की तरफ से गाइडलाइन जारी किया गया है। नई गाइडलाइन के मुताबिक, जूते, चप्पल श्रद्धालुओं को खुद की गाड़ी में उतारने होंगे। अगर ऐसी व्यवस्था नहीं है तो परिसर से दूर खुद की निगरानी में रखना होगा।