Shocking Story  

(Search results - 128)
  • undefined

    BiharMar 21, 2021, 6:35 PM IST

    दारोगा बच्चों के साथ बनाता था अप्राकृतिक संबंध, लेकिन हद पार हुई तो इन लड़कों ने मार डाला

    समरस्तीपुर (, Bihar) । मुफ्फसिल थाने में तैनात दारोगा की बीते दिनों हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने मोबाइल सर्विलांस के जरिए तीन लड़कों को शनिवार की देर शाम गिरफ्तार कर लिया, जबकि एक अभी भी फरार है। जिसके बाद उन्होंने पुलिस के सामने हैरान कर देने वाली कहानी सुनाई। यह घटना समरस्तीपुर की है।

  • undefined

    WorldFeb 23, 2021, 12:01 PM IST

    बचा हुआ खाना मिलता था, मालिक के बाथरूम में नो एंट्री होती थी, फिर किस्मत ने मारी पलटी, आज हैं स्टार रैपर

    सबकी जिंदगी में कुछ ऐसे अवसर जरूर आते हैं, जो सबकुछ बदल देते हैं। बस लोगों को अवसरों की पहचान होनी चाहिए। कोशिश करते रहना चाहिए। अब इनसे मिलिए! ये हैं ब्राजील की फेमस रैपर(rapper) जॉइस फर्नांडीस। ये कभी किसी घर में नौकरानी थीं। यह नहीं, यह इनका खानदानी काम था। यानी इनके माता-पिता और दादा-दादी भी जिंदगीभर दूसरों के घरों में काम करते रहे। इन्हें बचा हुआ खाना मिलता था। मालिक के बाथरूम में नो एंट्री थी। घर में घुसने से पहले पैर धोना पड़ते थे। लेकिन तीसरी पीढ़ी की जॉइस ने इन सबसे लड़ते हुए पूरे खानदान का नाम रोशन कर दिया। ये शुरू से ही कुछ बनना चाहती थीं। घरेलू काम के दौरान मालिक की नजरों से बचकर किताबें पढ़ती थीं। एक दिन मालिक ने इन्हें पकड़ लिया। जॉइस ने जैसा सोचा था, वैसा कुछ नहीं हुआ, बल्कि जिंदगी बदल गई। पढ़िए प्रेरक कहानी...

  • undefined

    WorldFeb 16, 2021, 11:31 AM IST

    दुनिया में अगर कहीं नरक है, तो ये है, जानिए फिर क्यों चर्चाओं में है अमेरिका की एक खौफनाक जेल

    दुनिया में अगर कहीं 'नरक' है, तो वो अब भी अमेरिका में है! यह कोई कहानी नहीं, बल्कि बात दुनिया की सबसे रहस्यमयी और खतरनाक जेल ग्वांतनामो की हो रही है। यह जेल दुनियाभर में चर्चाओं का केंद्र रही है। यहां कैदियों को जिस अमानवीय तरीके से टॉर्चर किया जाता रहा है, वो रूह कंपाता है। यह जेल अब फिर से मीडिया की प्रमुख खबरों में शामिल है। रॉयटर्स एजेंसी के मुताबिक, अमेरिका के राष्ट्र्रपति जो बाइडेन इस 'नरक' पर ताला डालने की तैयारी कर रहे हैं। हालांकि इससे पहले सरकार रिव्यू करेगी। इसके बाद कुछ महीनों में यह जेल बंद की जा सकती है। बाइडेन ने अपने चुनाव प्रचार के दौरान भी इस जेल को बंद करने की बात कही थी। मानवाधिकार कार्यकर्ता इसे अमेरिका के माथे पर एक कलंक मानते हैं। माना जा रहा है कि इस जेल में अभी पाकिस्तान और अफगानिस्तान के कई आतंकी सहित करीब 40 खूंखार अपराधी कैद हैं। न्यूयॉर्क के 9/11(11 सितंबर, 2001) आतंकी हमले के बाद ग्वांतनामो बे जेल को खोला गया था। यह जेल यातना का खतरनाक सेंटर बनकर सामने आई। इसके कैदियों की पहचान है नारंगी पोशाक। जानते हैं क्या है यह नरक..

  • undefined

    NationalFeb 8, 2021, 6:37 PM IST

    चीन के सामने दीवार बनकर भारत की सुरक्षा करता है म्यांमार, जानिए कुछ पुराने किस्से

    1949 में एक फिल्म-पतंगा आई थी। इसका एक गाना था-ओ मेरे पिया गए रंगून, किया है वहां से टेलीफून, तुम्हारी याद सताती है, जिया में आग लगाती है! इस गाने में जिस रंगून शहर का जिक्र किया है, वो कभी म्यांमार की राजधानी हुआ करता था। चूंकि बर्मी भाषा में 'र' को 'य' बोला जाता है, इसलिए अब इसे यांगून कहते हैं। यांगून इस समय बड़ी टेंशन में है। वजह, तख्तापलट। म्यांमार में सैन्य तख्तापलट के बाद यांगून में प्रदर्शनकारियों की संख्या बढ़ती जा रही है। वे देश की शीर्ष नेता आंग सान सू की रिहाई की मांग कर रहे हैं। यहां इंटरनेट बंद हैं। बता दें कि आंग सान सू बर्मा(अब म्यांमार) के राष्ट्रपिता कहे जाने वाले आंग सान की बेटी हैं। आंग सान की 1947 में हत्या कर दी गई थी। म्यांमार में तख्तापलट को लेकर भारत की चिंताएं बाजिव हैं। वजह, इसके पीछे चीन की संदिग्ध भूमिका मानी जा रही है। क्योंकि चीन लोकतांत्रिक व्यवस्था में विश्वास नहीं रखता। चीन और भारत में पहले से ही तनातनी चली आ रही है। दूसरी सबसे बड़ी बात, म्यांमार एक ऐसा देश है, जो भारत और चीन के बीच दीवार का काम करता है। यानी बगैर म्यांमार की सहमति या कब्जा किए बिना चीन सीधे भारत तक नहीं पहुंच सकता। आइए जानते हैं म्यांमार की कहानी...

  • undefined

    NationalFeb 8, 2021, 11:08 AM IST

    ग्लेशियर के नीचे जिंदा दबे हैं हजारों साल पुराने वायरस, अगर ये बाहर निकले, तो कोरोना से भयंकर तबाही

    उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर टूटने की घटना ने सबको चौंका दिया है। खासकर, पर्यावरणविदों और वैज्ञानिकों के सामने एक नई चुनौती खड़ी कर दी है कि कैसे ग्लेशियरों कों पिघलने से बचाया जा सका। यह तो आपको पता ही होगा कि बर्फ के नीचे चीजें सड़ती नहीं हैं। जीवाणु-विषाणु तो सदियों तक जिंदा दफन बने रहते हैं। अगर ये वायरस ग्लेशियर पिघलने से नदियों में मिल गए, तो दुनिया में भारी तबाही आ सकती है। यह चेतावनी लगातार वैज्ञानिक देते रहते हैं। ऐसा ही एक खुलासा 2019 मे सामने आया था। अमेरिकी वैज्ञानिकों की एक टीम तिब्बत में यह जानने पहुंची थी कि आखिर ग्लेशियर के नीचे क्या हो सकता है? जब पता चला, तो उनके पैरों तले से जमीन खिसक गई। ग्लेशियर के नीचे 15000 साल पुराने 28 प्रकार के वायरस जिंदा दफन थे, जो अगर बाहर आ जाएं, तो दुनिया में भयंकर बीमारियां फैला दें।
     

  • undefined

    MaharashtraFeb 3, 2021, 2:39 PM IST

    मां-बेटा और बहू-बेटी इस परिवार में सभी चोर, पलक झपकते ही गायब कर देते सोना..हैरान करने वाला खुलासा


    मुंबई (महाराष्ट्र). जब कभी किसी का बेटा चोरी करता तो उसकी मां उसे डांटती और परिवार वाले समझाते हैं। लेकिन मायानगरी मुंबई में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां जब एक चोर गैंग का खुलासा हुआ तो पुलिस भी हैरान रह गई। क्योंकि चोरी के इस धंधे में पूरा परिवार शामिल था। मां-बेटा और बहू मिलकर कई राज्यों में जाकर  ज्वेलरी शॉप में भी चोरी करते थे।
     

  • undefined

    PunjabJan 30, 2021, 3:44 PM IST

    बड़ी दुखद है 2 बहनों की कहानी, दोनों ने दुल्हन बन चुना एक पति..शादी के बाद दोनों को मिली दर्दनाक मौत

     हैरानी की बात यह है कि पीड़ित परिवार की दोनों बेटियों ने एक ही शख्स से शादी की थी। जहां आरोपी ने एक-एक करके दोनों को मार डाला। मृतक पिता ने कहा कि आरोपी राजिंद्र एक बार फिर मामला दोहराते हुए छोटी बेटी ममता की हत्या कर दी।

  • undefined

    NationalJan 19, 2021, 11:59 AM IST

    1938 में 'जीरो' से शुरुआत करके दुनिया की दिग्गज कंपनी बनी 'सैमसंग' के 'पतन' की कहानी

    इलेक्ट्रिक आइटम्स बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी 'सैमसंग' के वाइस चेसरमैन ली जे-योंग 10.1 बिलियन डॉलर के मालिक होने के बावजूद ढाई साल की जेल भुगतेंगे। साउथ कोरिया की अर्थव्यवस्था में सबसे बड़ा योगदान देने वाली कंपनी के मालिक को रिश्वत देने के आरोप में यह सजा मिली है। आरोप है कि उन्होंने अपनी कंपनी को लाभ पहुंचाने पूर्व राष्ट्रपति पार्क ग्वेन-हे के सहयोगी को 27.4 मिलियन डॉलर (लगभग 200 करोड़ रुपए) की रिश्‍वत दी थी। इस मामले में सैमसंग के पूर्व अध्‍यक्ष पार्क जियुन हे भी शामिल हैं। कोर्ट ने दोनों को ही जेल भेजने का आदेश दिया है। बता दें कि 25 अक्टूबर, 2020 में ली जे-योंग के पिता ली कुन-ही का निधन हुआ था। सैमसंग 2017 से ही मुश्किल दौर से गुजर रही है। फोर्ब्स के अनुसार, जनवरी, 2017 में यह 16 बिलियन डॉलर की कंपनी थी। जानते हैं सैमसंग की कहानी...
     

  • undefined

    HaryanaJan 14, 2021, 7:33 PM IST

    रिटायर्ड कैप्‍टन पिता के शव के साथ 5 दिन से रह रहा था बेटा, बोला-पापा सो रहे खाना खाने के लिए उठेंगे

    पुलिस ने  विक्षिप्त बेटा प्रवीण से पूछताछ की तो वह कहने लगा सर पापा अभी सो रहे हैं, वो खाना खाने के लिए उठेंगे। आलम यह था कि बेटा अपने पिता का नाम तक नहीं बता पा रहा था। 

  • undefined

    WorldJan 8, 2021, 10:01 AM IST

    कभी जर्नलिस्ट था, लेकिन एक गलत कदम ने बना दिया मोस्ट वॉन्टेड इंटरनेशनल टेरेरिस्ट, बाप चलाते थे डेयरी

    आतंकवाद के बूते अपनी 'दुकान' चलाने वाला यह आतंकी फिर से चर्चाओं में है। पाकिस्तान की एंटी टेररिज्म कोर्ट ने गुरुवार को आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के चीफ मसूद अजहर के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है। इस पर टेरर फंडिंग का आरोप है। हालांकि ऐसा पहली बार नहीं है, जब मसूद आतंकवाद का चेहरा बनकर सामने आया है। 1 मई, 2019 को संयुक्त राष्ट्र परिषद ने इसे अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित किया था। ये कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी, 2019 को CRPF के काफिले में हुए हमले का मास्टरमाइंड माना जाता है। जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर हुए इस हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे।  पढ़िए इस आतंकवादी की कहानी...
     

  • undefined

    WorldJan 7, 2021, 3:15 PM IST

    सीरिया में शिया V/s सुन्नी की लड़ाई से क्या दुनिया मौत के मुहाने पर खड़ी है, एक चौंकाने वाला खुलासा

    बर्बादी की दिल दहलाने वाली तस्वीर बनकर दुनिया के सामने आए मुस्लिम देश सीरिया में मौजूद आतंकी संगठनों को लेकर एक नया चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरुमूर्ति ने मंगलवार को कहा कि सीरियर में मौजूद आंतकी संगठनों तक रासायनिक हथियार पहुंच गए हैं। इससे सिर्फ भारत ही नहीं, सारी दुनिया के सामने संकट खड़ा हो गया है। बता दें कि सीरिया (रासायनिक हथियारों) पर संयुक्त राष्ट्र सिक्योरिटी काउंसिल (UNSC) की मीटिंग में बताया गया कि आतंकी संगठनों ने सीरिया में लंबे समय से चले आ रहे संघर्ष का फायदा उठाया है। सीरिया दक्षिण-पश्चिम एशिया का राष्ट्र है। इजरायल और इराक के बीच स्थित होने के कारण यह मध्य-पूर्व का महत्वपूर्ण देश है। अप्रैल, 1946 में फ्रांस से स्वाधीनता मिलने के बाद यहां बाथ पार्टी ने शासन किया। लेकिन 1963 से यहां इमरजेंसी लागू है। 1970 के बाद से यहां असर के परिजन ही शासन करते हैं। इस परिवार के खिलाफ लोगों ने विद्रोह किया हुआ है। आइए जानते हैं सीरिया का कहानी...

  • undefined

    HatkeJan 6, 2021, 9:55 AM IST

    जब एक पीएम को उनके ही 2 बॉडीगार्ड ने गोलियों से भूना था, इतना फायर किया था कि पूरा शरीर हो गया था छलनी

    स्वर्ण मंदिर में छुपे खालिस्तानी आतंकवादियों को मार गिराने चलाए गए ऑपरेशन ब्लू स्टार(1 से 8 जून, 1984) से आक्रोशित होकर तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की गोलियां मारकर हत्या करने वाले आरोपी सतवंत सिंह और केहर सिंह को 6 जनवरी, 1989 को दिल्ली की तिहाड़ जेल मे फांसी दी गई थी। जबकि एक अन्य आरोपी बेअंत सिंह को घटना के समय ही मार गिराया गया था। बता दें कि इंदिरा गांधी की हत्या 31 अक्टूबर, 1984 को प्रधानमंत्री के आवास नई दिल्ली के सफदरगंज रोड पर कर दी गई थी। आरोपी उनके अंगरक्षक थे। ऑपरेशन ब्लू स्टार अमृतसर के हरमंदिर साहिब(स्वर्ण मंदिर) परिसर में छुपे सिख उग्रवादी जरनैल भिंडरावाले और उसके सशस्त्र अनुयायियों को बाहर निकालने चलाया गया था। आगे पढ़ें कहानी...
     

  • undefined

    HatkeDec 30, 2020, 11:23 AM IST

    म्यांमार के 'रोहिंग' गांव के नाम से जाने जाते हैं रोहिंग्या, आपको पता है, ये सिर मुसलमान नहीं, हिंदू भी हैं

    म्यांमार से खदेड़े गए रोहिंग्या मुसलमान फिर से दुनियाभर की मीडिया के चर्चा में हैं। मानवाधिकार आयोगों की आपत्ति के बाद भी बांग्लादेश ने 1776 रोहिंग्या शरणार्थियों को 'एकांत' द्वीप पर शिफ्ट कर दिया है। बांग्लादेश की नौसेना चटगांव बंदरगाह से 5 जहाजों में रोहिंग्या शरणार्थियों को भरकर भासन चार द्वीप छोड़ आई। आरोप लगाया जा रहा है कि बांग्लादेश ने इन रोहिंग्याओं को आइलैंड में मरने के लिए छोड़ दिया है। हालांकि बांग्लादेश के प्रधानमंत्री कार्यालय ने कहा कि ज्यादातर परिवार अपनी स्वेच्छा से गए। बता दें कि बांग्लादेश ने 825 करोड़ रुपए खर्च करके 20 साल पुराने भासन चार द्वीप को रेनोवेट किया है। इस जगह पर करीब एक लाख रोहिंग्या शरणार्थियों को बसाया जा रहा है। बांग्लादेश की आबादी 16.15 करोड़ है। लेकिन यहां के कॉक्स बाजार जिले में करीब 8 लाख से ज्यादा रोहिंग्या शरणार्थी रह रहे हैं। ये सभी म्यांमार से खदेड़े गए हैं। रोहिंग्या शरणार्थियों को कोई भी देश जगह देने को तैयार नहीं है। बता दें कि 1948 में बर्मा (अब म्यांमार) को अंग्रेजों से आजादी दिलाने में रोहिंग्या मुसलमानों ने बड़ा योगदान दिया था, लेकिन 1960 के बाद से ये अपने ही देश में प्रताड़ना का शिकार होते चले गए। वजह, म्यांमार बौद्ध बाहुल्य देश है। 2016-17 से पहले म्यांमार में करीब 8 लाख रोहिंग्या थे। रोहिंग्या के खिलाफ म्यांमार में हिंसा की बड़ी शुरुआत 2012 में हुई। आरोप है कि रोहिंग्या ने कुछ सुरक्षाकर्मियों की हत्या कर दी थी। वहीं, बौद्धों के खिलाफ दंगे भड़काए थे। इसके बाद म्यांमार सरकार इनके विरुद्ध सख्त हुई। म्यांमार से खदेड़े गए ये रोहिंग्या बांग्लादेश, पाकिस्तान, सउदी अरब, थाइलैंड, मलेशिया, इंडोनेशिया, नेपाल और भारत में अवैध रूप से घुस आए। जानिए रोहिंग्या की कहानी...

  • undefined

    HatkeDec 22, 2020, 1:57 PM IST

    भोजपुरी फिल्मों के बोल्ड और हैरान कर देने वाले टाइटल, कोई डबल मीनिंग तो किसी का मतलब खोजते रह जाएंगे आप

    बात 60 के दशक की है, भारत के पहले राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद ने बॉलीवुड अभिनेता नाजिर हुसैन से भोजपुरी में एक फिल्म बनाने को कहा था। इस तरह 1963 में विश्वनाथ शाहाबादी की पहली भोजपुरी फिल्म 'गंगा मैया तोहे पियरी चढ़इबो' रिलीज हुई। कहने को भोजपुरी सिनेमा की शुरुआत भी हिंदी फिल्मों की तरह धार्मिक और सामाजिक कहानियों से हुई, लेकिन पिछले 2 दशक में गंगा की धारा ही उल्टी हो गई। अब तो भोजपुर सिनेमा और अश्लीलता जैसे एक-दूसरे के पूरक लगते हैं। फिल्में चलाने में उसके पोस्टर का बड़ा रोल होता है। पोस्टर यानी फिल्म की थीम को दर्शकों के सामने लाकर उन्हें टीवी या थियेटर तक खींचना। भोजपुरी में ऐसे-ऐसे बेहूदा-अश्लील और अजब-गजब टाइटल्स रजिस्टर्ड कराए जाने लगे हैं, जिन्हें पढ़कर ही लोग हैरान रह जाएं। फिल्मों की देखादेखी भोजपुरी लोकगीत-वीडियो सांग्स भी इसी दिशा में चल पड़े हैं। देखिए ऐसे ही कुछ पोस्टर...

  • undefined

    Madhya PradeshDec 4, 2020, 9:30 AM IST

    कोरोना का साइड इफेक्ट, पूरी तरह डैमेज किए फेफड़े...रिपोर्ट निगेटिव होने होने के बाद भी जिंदगी नहीं बची

    कोरोना संक्रमण से बचने सतर्कता बेहद जरूरी है। जरा-सी लापरवाही जिंदगी पर भारी पड़ सकती है। क्योंकि इस संक्रमण का पता नहीं चलता। ऐसा ही कुछ इस युवक के साथ हुआ। कोरोना से उबरने के बावजूद इस युवक की मौत हो गई। डॉक्टर इसे कोरोना का साइड इफेक्ट बता रहे हैं। युवक के फेफड़े पूरी तरह डैमेज हो गए थे।