Statue Of Unity  

(Search results - 21)
  • undefined

    NationalJan 17, 2021, 9:53 AM IST

    आसान होगा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी तक का सफर, आज पीएम मोदी ने इन 8 नई ट्रेनों को दिखाई हरी झंडी

    गुजरात के केवड़िया में सरदार वल्लभ भाई पटेल का स्मारक स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को देश के विभिन्न हिस्सों से ट्रेनों को जरिए जोड़ने की तैयारी हो चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 17 जनवरी यानी की रविवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आठ ट्रेनों को हरी झंडी दिखाएंगे। इस मौके पर प्रधानमंत्री गुजरात में रेलवे से संबंधित कई अन्य परियोजनाओं का भी उद्घाटन करेंगे। इस कार्यक्रम में गुजरात के रेल मंत्री और मुख्यमंत्री भी शामिल रहेंगे। 

  • undefined

    NationalJan 16, 2021, 8:06 PM IST

    देशभर से जुड़ेगा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, पीएम मोदी रविवार को 8 ट्रेनों को दिखाएंगे हरी झंडी

    गुजरात के केवड़िया में सरदार वल्लभ भाई पटेल का स्मारक स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को देश के विभिन्न हिस्सों से ट्रेनों को जरिए जोड़ने की तैयारी हो चुकी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 17 जनवरी यानी की रविवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए आठ ट्रेनों को हरी झंडी दिखाएंगे। 

  • undefined
    Video Icon

    NationalOct 31, 2020, 11:39 AM IST

    पीएम मोदी ने जवानों को राष्ट्रीय एकता की दिलाई शपथ दिलाई, राष्‍ट्रीय एकता दिवस' पर ली परेड की सलामी

    वीडियो डेस्क। राष्ट्रीय एकता के प्रतिबिंब व हर भारतीय के हृदय में बसने वाले लौह पुरुष स्व. सरदार पटेल जी की आज जयंती है। सरदार पटेल को राष्ट्रीय एकता और अखंडता का अग्रदूत माना जाता है। आजादी के बाद सैकड़ों रियासतों में बिखरे भारत का एकीकरण कर, उन्होंने आज के मजबूत भारत की नींव रखी।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दो दिवसीय गुजरात दौरे पर हैं. पीएम मोदी के गुजरात दौरे का आज दूसरा दिन है। आज पीएम मोदी ने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी पर सरदार पटेल को नमन कर पुष्पांजलि अर्पित की। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केवड़िया में राष्ट्रीय एकता दिवस परेड का निरीक्षण किया और परेड की सलामी ली। इस परेड़ में देश की सभी सुरक्षा एजेंसियों के जवान शामिल है। परेड से पहले पीएम मोदी ने सुरक्षा एजेंसियों के जवानों को राष्ट्रीय एकता और सुरक्षा की शपथ दिलाई।देखिए वीडियो

  • undefined

    Other StatesOct 31, 2020, 11:03 AM IST

    देश की पहली सी-प्लेन सेवा की शुरुआत, स्टेच्यू ऑफ यूनिटी से जुड़ा एक अद्भुत टूरिज्म प्रोजेक्ट

    अहमदाबाद, गुजरात. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात दौरे पर दुनिया को चौंका दिया। सरदार पटेल की 145वीं जयंती ( Sardar Patel Jayanti) पर उन्होंने शुक्रवार को महज 9 घंटे में केवडिया में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी (Statue of Unity)के आसपास बनाए गए 16 प्रोजेक्ट लॉन्च किए। इनकी लागत करीब 1000 करोड़ है। ये प्रोजेक्ट टूरिज्म को एक नई दिशा देंगे। शनिवार को मोदी ने पटेल को श्रद्धांजलि दी। बता दें कि शनिवार को मोदी ने केवडिया में देश की पहली सी-प्लेन की शुरुआत भी की। इसके जरिये टूरिस्ट अहमदाबाद से साबरमती रिवर फ्रंट से केवडिया डैम तक का सफर कर सकेंगे। इसकी दूरी 220 किमी है। यह सफर 45 मिनट का होगा। सी-प्लेन सेवा अहमदाबाद के साबरमती रिवरफ्रंट को नर्मदा जिले के केवडिया में स्थित स्टेच्यू ऑफ यूनिटी को जोड़ेगी। 2017 में गुजरात विधानसभा चुनाव के प्रचार के आखिरी दिन मोदी ने सी-प्लेन से साबरमती नदी से मेहसाणा जिले के धरोई बांध तक यात्रा की थी। सी-प्लेन पानी और जमीन दोनों से उड़ान भर सकता है और लैंड कराया जा सकता है। इसमें एक बार में 19 यात्री सफर कर सकेंगे। इसका किराया 1500 रुपए रखा गया है। देखिए इस प्रोजेक्ट से जुड़ीं कुछ खूबसूरत तस्वीरें...

  • undefined

    Other StatesOct 31, 2020, 9:37 AM IST

    जानिए दुनिया में क्यों खास है 'स्टेच्यू ऑफ यूनिटी' और इसके निर्माण से पहले कितनी रिसर्च हुई थीं

    अहमदाबाद, गुजरात. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने गुजरात दौरे पर शनिवार को लौह पुरुष सरदार पटेल की 145वीं जयंती (Sardar Patel Jayanti) पर 'स्टेच्यू ऑफ यूनिटी' (Statue of Unity) पर जाकर उन्हें पुष्प चढ़ाकर नमन किया। बता दें कि 'स्टेच्यू ऑफ यूनिटी' दुनिया की ऐसी विशाल मूर्ति है, जिसका निर्माण महज 33 महीने में पूरा हो गया था। यह मूर्ति 182 मीटर है। इसे दुनिया में सबसे ऊंची मूर्ति होने का गौरव हासिल है। इस मूर्ति की स्थापना से पहले पटेल के हाव-भाव जानने करीब 2 हजार फोटो पर रिसर्च की गई थी। एक दिलचस्प बात और कि  'स्टेच्यू ऑफ यूनिटी' से जुड़े 21 प्रोजेक्ट में से अब तक 17 पूरे किए जा चुके हैं। यह मूर्ति विश्व प्रसिद्ध शिल्पकार राम सुतार ने डिजाइन की। वहीं इसका मूर्तरूप दिया लार्सन एंड टुब्रो कंपनी ने। सरदार पटेल की जयंती पर जानिए  'स्टेच्यू ऑफ यूनिटी' की खासियत...
     

  • <p>modi</p>

    NationalOct 30, 2020, 1:12 PM IST

    पांच गार्डन और औषध मानव वाला आरोग्य वन है मोदी का ड्रीम प्रोजेक्ट, जानें 17 एकड़ में फैले इस वन की खासियत

    स्टेच्यू ऑफ यूनिटी (SoU) का दौरा करने वाले पर्यटक अब उन औषधीय पौधों के बारे में भी जान सकेंगे, जो सदियों से आयुर्वेद में उपयोग किए जाते हैं। नर्मदा जिले के केवडिया में 17 एकड़ भूमि पर फैले औषधीय पार्क आरोग्य वन का पीएम मोदी ने उद्घाटन किया।
     

  • <p>delhi</p>

    NationalOct 30, 2020, 9:05 AM IST

    गुजरात दौरा: PM ने केवडिया में जंगल सफारी का उद्घाटन किया, 2 दिन में 17 प्रोजेक्ट्स का उद्घाटन करेंगे

    पीएम मोदी दो दिवसीय दौरे पर गुजरात में हैं। शुक्रवार की सुबह गांंधीनगर पहुंचने के बाद उन्होंने गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद केवडिया के लिए रवाना हो गए। पीएम मोदी ने केवडिया में पांच लाख से अधिक औषधियों वाले आरोग्य वन की शुरुआत की। दो दिन में पीएम मोदी 17 प्रोजेक्ट्स का उद्घाटन करेंगे।

  • undefined

    Other StatesMar 17, 2020, 10:47 PM IST

    कोरोना वायरस : 3000 करोड़ की लागत से बने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को 25 मार्च तक किया गया बंद

    गुजरात सरकार कोरोना वायरस के मद्देनजर नर्मदा जिले में स्थित 'स्टेच्यू ऑफ यूनिटी' में पर्यटकों के प्रवेश पर 25 मार्च तक के लिये पाबंदी लगा दी है। साथ ही सरकार ने होटलों और रेस्तराओं से बड़े कार्यक्रम आयोजित करने से बचने का भी निर्देश दिया।

  • undefined

    Other StatesMar 5, 2020, 7:08 PM IST

    बच्चों ने 'स्टैच्यू ऑफ यूनिट' देखने की जिद पकड़ी थी, क्या मालूम था..मौत उन्हें इशारे से बुला रही थी


    बच्चों की दुनिया की सबसे बड़ी स्टैच्यू ऑफ यूनिटी देखने की ख्वाहिश पूरी करके वापस लौट रही फैमिली एक्सीडेंट का शिकार हो गई। उनकी कार रात के अंधेरे में नहर में जा गिरी। हादसे में पूरी फैमिली की मौत हो गई

  • undefined

    Other StatesFeb 19, 2020, 12:14 PM IST

    पटेल की प्रतिमा के पास आदिवासियों को बचाने की गुहार, ट्रंप से दखल देने की हुई मांग

    गुजरात के आदिवासी नेता प्रफुल्ल वसावा ने ट्रम्प से स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के पास रहने वाले आंदोलनकारी आदिवासियों और भाजपा के नेतृत्व वाली गुजरात और केंद्र सरकारों के बीच ‘‘मध्यस्थता’’ करने का आग्रह किया है

  • undefined

    HatkeJan 14, 2020, 2:00 PM IST

    अंतरिक्ष से बेहद खूबसूरत नजर आता है भारत, अंतरिक्ष यात्रियों ने खींची ये 5 खूबसूरत तस्वीरें

    भारत के लिए गर्व की बात है कि शंघाई को-ऑपेरशन ऑर्गेनाइजेशन ने दुनिया के आठ अजूबों में अब गुजरात के स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को भी शामिल कर लिया है। लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की इस विशालकाय मूर्ति ने पूरी दुनिया में भारत को मशहूर किया। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस मूर्ति को अंतरिक्ष से देखा जा सकता है?

  • undefined

    HatkeJan 14, 2020, 12:52 PM IST

    इस तरह बनकर तैयार हुआ था स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, चीन और अमेरिका भी रह गए थे हैरान

    हटके डेस्क: शंघाई  को-ऑपेरशन ऑर्गेनाइजेशन ने दुनिया के आठ अजूबों में अब गुजरात के स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को भी शामिल कर लिया है। इसकी जानकारी विदेश मंत्री एस जयशंकर ने दी। 182 मीटर ऊंची ये प्रतिमा कई मायनों में ख़ास है। उस मूर्ति ने देश का नाम विश्व पटल पर रोशन किया है। लोग पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की विशालकाय मूर्ति गुजरात के नर्मदा जिले में बनाई गई है। आज हम आपको तस्वीरों में दिखाने जा रहे हैं कि विश्व की सबसे ऊंची मूर्ति को कैसे बनाया गया था... 

  • undefined

    NationalJan 14, 2020, 11:27 AM IST

    बड़ी उपलब्धि; दुनिया के 8 अजूबों में शामिल हुआ स्टैच्यू ऑफ यूनिटी

    गुजरात में बनी सरदार पटेल की प्रतिमा स्टैच्यू ऑफ यूनिटी दुनिया के आठ अजूबों में शामिल हो गया। पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा वडोदरा से 100 किमी दूर नर्मदा जिले में बनी है। 

  • undefined

    NationalNov 2, 2019, 11:53 AM IST

    यहां स्टैच्यू ऑफ यूनिटी से भी ऊंची बन रही राम की मूर्ति, सरकार खर्च करेगी इतने करोड़ रुपए

    अयोध्या में भगवान राम की सबसे बड़ी मूर्ति स्थापित करने और पर्यटन विकास के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने 447.46 करोड़ रुपए मंजूर किए हैं। सरदार पटेल की मूर्ति की तर्ज पर बनेगी राम की मूर्ति। साथ ही भगवान राम की यह मूर्ति विश्व की सबसे ऊंची मूर्ति होगी। 

  • Modi, PM Modi, Statue of Unity, Junior IAS, Indian Administrative Service, Kevadia, Gujarat

    NationalOct 31, 2019, 6:39 PM IST

    मोदी का मंत्र, कहा, 'वन डिस्ट्रिक्ट, वन प्रॉब्लम और टोटल सॉल्यूशन पर काम करें IAS अधिकारी

    पीएम मोदी ने कहा कि हमें यह सुनिश्चित करने के लिए अपनी प्रतिक्रिया तंत्र का विस्तार करना होगा कि हम आलोचकों को भी सुने। हमारा सामाजिक दायरा भी सीमित हो गया है लेकिन हमें सही नीतिगत फैसले लेने के लिए अपने कम्फर्ट जोन से बाहर निकलने की जरूरत है।