Tata Group  

(Search results - 31)
  • undefined

    BusinessJul 7, 2021, 11:36 AM IST

    कोरोना महामारी से पसीजा इस बिजनेसमैन का दिल, मदद के लिए 1,000 करोड़ करेंगे दान

    बिजनेस डेस्क. कोरोना संक्रमण के दूसरी लहर के मामले देश में लगातार कम हो रहे हैं। कम होते मामलों के बीच तीसरी लहर को लेकर आशंका जताई जा रही है। कोरोना की संकट के खड़ी में देश के कई बिजनेस मैन मदद के लिए सामने आए हैं। एक बार फिर से आईटी कंपनी विप्रो ने कोविड से निपटने के लिए 1,000 करोड़ रुपये का दान करने का निर्णय लिया है। यह पैसा वैक्सीनेशन प्रोग्राम में हेल्प करेगा। विप्रो इससे पहले कोविड-19 के खिलाफ देश की जंग में 1125 करोड़ रुपये की मदद कर चुका है। विप्रो के फाउंडर चेयरमैन अजीम प्रेमजी ने कहा कि यह पैसा देश में सबको वैक्सीन लगवाने के अभियान के काम आएगा। आइए जानते हैं संकट के समय में कौन-कौन से बिजनेस मैन मदद के लिए सामने आए।
     

  • undefined

    NationalApr 21, 2021, 1:04 PM IST

    ऑक्सीजन संकट को दूर करने के लिए आगे आया टाटा ग्रुप, पीएम मोदी बोले- महामारी से मिलकर लड़ेंगे

    भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 2.97 लाख मामले सामने आए हैं। वहीं, राज्यों से ऑक्सीजन की कमी की खबरें सामने आ रही हैं। ऐसे में टाटा ग्रुप (Tata Group) इस संकट को दूर करने के लिए आगे आया है। ग्रुप ने ऐलान किया है कि लिक्विड ऑक्सीजन ले जाने के लिए 24 क्रायोजेनिक कंटेनरों का आयात करेगा और ऑक्सीजन की कमी को दूर करने में सरकार की मदद करेगा। 

  • बिजनेस डेस्क। सरकारी विमानन कंपनी एअर इंडिया (Air India) को बेचने की प्रक्रिया लंबे समय से चल रही है। अब एअर इंडिया को खरीदने वाली कंपनियों में सिर्फ टाटा ग्रुप (Tata Group) और प्राइवेट एयरलाइन्स कंपनी स्पाइसजेट (Spicejet) ही रह गई है। जानकारी के मुताबिक, दूसरी कंपनियों के एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (EoI) खारिज हो चुके हैं। बता दें कि एअर इंडिया को खरीदने के लिए कई कंपनियों ने एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (EoI) दाखिल किए थे। एअर इंडिया को बेचने की कोशिश पिछले 20 सालों से चल रही है, लेकिन योग्य और सक्षम खरीददार सामने नहीं आ रहे हैं। इसमें सबसे बड़ी समस्या एअर इंडिया की लायबिलिटीज है। इस सरकारी उड्डयन कंपनी पर 38,366 करोड़ रुपए का कर्ज है, वहीं सरकारी विभागों पर एअर इंडिया का 500 करोड़ रुपए का बकाया है। (फाइल फोटो)

    BusinessMar 8, 2021, 2:01 PM IST

    Air India को खरीदने के लिए टाटा ग्रुप और स्पाइसजेट हैं कतार में, दूसरी कंपनियों के आवेदन खारिज

    बिजनेस डेस्क। सरकारी विमानन कंपनी एअर इंडिया (Air India) को बेचने की प्रक्रिया लंबे समय से चल रही है। अब एअर इंडिया को खरीदने वाली कंपनियों में सिर्फ टाटा ग्रुप (Tata Group) और प्राइवेट एयरलाइन्स कंपनी स्पाइसजेट (Spicejet) ही रह गई है। जानकारी के मुताबिक, दूसरी कंपनियों के एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (EoI) खारिज हो चुके हैं। बता दें कि एअर इंडिया को खरीदने के लिए कई कंपनियों ने एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (EoI) दाखिल किए थे। एअर इंडिया को बेचने की कोशिश पिछले 20 सालों से चल रही है, लेकिन योग्य और सक्षम खरीददार सामने नहीं आ रहे हैं। इसमें सबसे बड़ी समस्या एअर इंडिया की लायबिलिटीज है। इस सरकारी उड्डयन कंपनी पर 38,366 करोड़ रुपए का कर्ज है, वहीं सरकारी विभागों पर एअर इंडिया का 500 करोड़ रुपए का बकाया है।
    (फाइल फोटो)

  • undefined

    BusinessFeb 6, 2021, 4:33 PM IST

    रतन टाटा ने लोगों का जीता दिल, 'भारत रत्न' दिए जाने की मांग पर जानें क्या कहा

    देश के प्रमुख उद्योगपति और टाटा ग्रुप (Tata Group) के प्रमुख रतन टाटा (Ratan Tata) को देश का सबसे बड़ा सम्मान 'भारत रत्न' दिए जाने की मांग हो रही है। रतन टाटा के प्रशंसक सोशल मीडिया पर इसके लिए कैम्पेन कर रहे हैं। 

  • बिजनेस डेस्क। टाटा ग्रुप (Tata Group) द्वारा संचालित किया जाने वाला टाटा ट्रस्ट अब क्षेत्रीय शिल्पकला को प्रोत्साहन देने के लिए और शिल्पकारों को बाजार मुहैया कराने के लिए जल्द ही एक ऐप और वेबसाइट लॉन्च करने जा रहा है। बता दें कि देश में परंपरागत शिल्पकारों की बनाई चीजों की मांग तो काफी है, लेकिन उन्हें ऐसा कोई सुविधाजनक प्लेटफॉर्म नहीं मिल पा रहा है, जिसके जरिए वे अपनी चीजें बाजार तक आसानी से ला सकें। इसलिए देश के दूर-दराज इलाकों में रह कर काम करने वाले शिल्पकारों की कलात्मक चीजें लोगों तक नहीं पहुंच पाती हैं। इस समस्या को देखते हुए टाटा ट्रस्ट ने 'अंतरण' प्रोग्राम के तहत  क्राफ्ट एक्सचेंज (Craft Xchange) नाम से एक ऐप और वेबसाइट को लॉन्च करने जा रहा है। टाटा ट्रस्ट के एक अधिकारी ने इसके बारे में जानकारी देते हुए कहा कि इसका मकसद शिल्पकारों की पहुंच खरीददारों तक आसान बनाना है। इस ऐप और वेबसाइट के जरिए वे आसानी से एक-दूसरे से संपर्क कर सकेंगे और ट्रेडिशनल क्राफ्ट की बिक्री के लिए एक प्लेटफॉर्म विकसित होगा। (फाइल फोटो)

    BusinessJan 20, 2021, 11:22 AM IST

    अब आने वाला है Tata का ऐप, जानें इससे कैसे मिलेगा कमाई करने का मौका

    बिजनेस डेस्क। टाटा ग्रुप (Tata Group) द्वारा संचालित किया जाने वाला टाटा ट्रस्ट अब क्षेत्रीय शिल्पकला को प्रोत्साहन देने के लिए और शिल्पकारों को बाजार मुहैया कराने के लिए जल्द ही एक ऐप और वेबसाइट लॉन्च करने जा रहा है। बता दें कि देश में परंपरागत शिल्पकारों की बनाई चीजों की मांग तो काफी है, लेकिन उन्हें ऐसा कोई सुविधाजनक प्लेटफॉर्म नहीं मिल पा रहा है, जिसके जरिए वे अपनी चीजें बाजार तक आसानी से ला सकें। इसलिए देश के दूर-दराज इलाकों में रह कर काम करने वाले शिल्पकारों की कलात्मक चीजें लोगों तक नहीं पहुंच पाती हैं। इस समस्या को देखते हुए टाटा ट्रस्ट ने 'अंतरण' प्रोग्राम के तहत  क्राफ्ट एक्सचेंज (Craft Xchange) नाम से एक ऐप और वेबसाइट को लॉन्च करने जा रहा है। टाटा ट्रस्ट के एक अधिकारी ने इसके बारे में जानकारी देते हुए कहा कि इसका मकसद शिल्पकारों की पहुंच खरीददारों तक आसान बनाना है। इस ऐप और वेबसाइट के जरिए वे आसानी से एक-दूसरे से संपर्क कर सकेंगे और ट्रेडिशनल क्राफ्ट की बिक्री के लिए एक प्लेटफॉर्म विकसित होगा। (फाइल फोटो)

  • बिजनेस डेस्क। टाटा ग्रुप (Tata Group) के चेयरमैन रतन टाटा (Ratan Tata) देश के सबसे बड़े और सम्मानित उद्योगपतियों में से एक हैं। उन्होंने टाटा ग्रुप को दुनिया में एक खास पहचान दिलाई है। आज भी टाटा सन्स (Tata Sons) देश का सबसे बड़ा औद्योगिक समूह है। टाटा सन्स के तहत कई कंपनियां हैं। टाटा सन्स देश में लिस्टेड कंपनियों का सबसे बड़ा प्रमोटर है। टाटा ग्रुप की सभी कंपनियों का कुल मार्केट कैप करीब 15.6 लाख करोड़ रुपए है। टाटा ग्रुप को नई उंचाइयों तक पहुंचाने और दुनिया भर में उसकी साख बनाने में रतन टाटा का बहुत बड़ा योगदान है। रतन टाटा का जन्म 28 दिसंबर, 1937 को मुंबई में हुआ था। टाटा ग्रुप के संस्थापक जमशेद जी टाटा ने उन्हें गोद लिया था। रतन टाटा उनके गोद लिए पोते हैं। जेआरडी टाटा (JRD Tata) उनके चाचा थे। जेआरडी टाटा ने 1991 में रतन टाटा को टाटा ग्रुप की कमान सौंपी। रतन टाटा अविवाहित हैं। देश के अमीरों में उनका खास स्थान हैं। जानते हैं उनकी लाइफ स्टाइल के बारे में।

    BusinessJan 2, 2021, 3:56 PM IST

    जेट से लेकर लग्जीरियस कारों के शौकीन हैं रतन टाटा, जानें उनकी लाइफस्टाइल

    बिजनेस डेस्क। टाटा ग्रुप (Tata Group) के चेयरमैन रतन टाटा (Ratan Tata) देश के सबसे बड़े और सम्मानित उद्योगपतियों में से एक हैं। उन्होंने टाटा ग्रुप को दुनिया में एक खास पहचान दिलाई है। आज भी टाटा सन्स (Tata Sons) देश का सबसे बड़ा औद्योगिक समूह है। टाटा सन्स के तहत कई कंपनियां हैं। टाटा सन्स देश में लिस्टेड कंपनियों का सबसे बड़ा प्रमोटर है। टाटा ग्रुप की सभी कंपनियों का कुल मार्केट कैप करीब 15.6 लाख करोड़ रुपए है। टाटा ग्रुप को नई उंचाइयों तक पहुंचाने और दुनिया भर में उसकी साख बनाने में रतन टाटा का बहुत बड़ा योगदान है। रतन टाटा का जन्म 28 दिसंबर, 1937 को मुंबई में हुआ था। टाटा ग्रुप के संस्थापक जमशेद जी टाटा ने उन्हें गोद लिया था। रतन टाटा उनके गोद लिए पोते हैं। जेआरडी टाटा (JRD Tata) उनके चाचा थे। जेआरडी टाटा ने 1991 में रतन टाटा को टाटा ग्रुप की कमान सौंपी। रतन टाटा अविवाहित हैं। देश के अमीरों में उनका खास स्थान हैं। जानते हैं उनकी लाइफ स्टाइल के बारे में।
     

  • undefined

    BusinessJan 2, 2021, 11:28 AM IST

    लिस्टेड कंपनियों में टाटा ग्रुप की हिस्सेदारी की वैल्यू सरकार से ज्यादा, टाटा सन्स है सबसे बड़ा प्रमोटर

    देश के सबसे बड़े औद्योगिक समूह टाटा सन्स (Tata Sons) की लिस्टेड कंपनियों में हिस्सेदारी की वैल्यू सरकार की हिस्सेदारी की वैल्यू से ज्यादा हो गई है। इस तरह, टाटा सन्स अब देश में लिस्टेड कंपनियों का सबसे बड़ा प्रमोटर बन गया है।

  • बिजनेस डेस्क। देश के दिग्गज कारोबारी और टाटा ग्रुप  (Tata Group) के  चेयरमैन रतन टाटा  (Ratan Tata) प्लेन उड़ाने के शौकीन हैं। रतन टाटा बहुत कम उम्र से ही प्लेन उड़ा रहे हैं। उन्होंने महज 17 साल की उम्र में ही एक ऐसे प्लेन की सुरक्षित लैंडिंग करवाई थी, जिसका इंजन उड़ान के दौरान काम करना बंद कर चुका था। बता दें कि देश में पहली एयरलाइन्स की स्थापना जेआरडी टाटा (JRD Tata) ने ही की थी। जेआरडी टाटा ने पहली बार कराची से बंबई तक हवाई जहाज उड़ाया था। उन्होंने टाटा एयरलाइन्स (Tata Airlines) की शुरुआत की थी, जिसका नाम बाद में एयर इंडिया (Air India) हो गया। भारत सरकार ने इसकी बड़ी हिस्सेदारी खरीद ली और यह सार्वजनिक क्षेत्र की विमानन कंपनी हो गई। अब सरकार एयर इंडिया को नीलाम करने जा रही है। टाटा ग्रुप भी इस नीलामी प्रक्रिया में भाग लेगा और बोली लगाएगा। बता दें कि रतन टाटा के नेतृत्व में टाटा ग्रुप विस्तारा (Vistara) और एयरएशिया (AirAsia) एयर लाइन्स का संचालन करता है। अगर टाटा ग्रुप एयर इंडिया को खरीद लेता है, तो फिर से उस कंपनी पर उसका स्वामित्व हो जाएगा, जिसकी शुरुआत जेआरडी टाटा ने की थी। रतन टाटा सिर्फ सामान्य विमान ही नहीं उड़ाते, बल्कि वे F-16 जैसे फाइटर जेट भी उड़ा चुके हैं। देखें कुछ तस्वीरें।

    BusinessDec 24, 2020, 2:10 PM IST

    प्लेन उड़ाने के शौकीन हैं रतन टाटा, 17 साल की उम्र में खतरनाक हालत में कराई थी विमान की सुरक्षित लैंडिंग

    बिजनेस डेस्क। देश के दिग्गज कारोबारी और टाटा ग्रुप  (Tata Group) के  चेयरमैन रतन टाटा  (Ratan Tata) प्लेन उड़ाने के शौकीन हैं। रतन टाटा बहुत कम उम्र से ही प्लेन उड़ा रहे हैं। उन्होंने महज 17 साल की उम्र में ही एक ऐसे प्लेन की सुरक्षित लैंडिंग करवाई थी, जिसका इंजन उड़ान के दौरान काम करना बंद कर चुका था। बता दें कि देश में पहली एयरलाइन्स की स्थापना जेआरडी टाटा (JRD Tata) ने ही की थी। जेआरडी टाटा ने पहली बार कराची से बंबई तक हवाई जहाज उड़ाया था। उन्होंने टाटा एयरलाइन्स (Tata Airlines) की शुरुआत की थी, जिसका नाम बाद में एयर इंडिया (Air India) हो गया। भारत सरकार ने इसकी बड़ी हिस्सेदारी खरीद ली और यह सार्वजनिक क्षेत्र की विमानन कंपनी हो गई। अब सरकार एयर इंडिया को नीलाम करने जा रही है। टाटा ग्रुप भी इस नीलामी प्रक्रिया में भाग लेगा और बोली लगाएगा। बता दें कि रतन टाटा के नेतृत्व में टाटा ग्रुप विस्तारा (Vistara) और एयरएशिया (AirAsia) एयर लाइन्स का संचालन करता है। अगर टाटा ग्रुप एयर इंडिया को खरीद लेता है, तो फिर से उस कंपनी पर उसका स्वामित्व हो जाएगा, जिसकी शुरुआत जेआरडी टाटा ने की थी। रतन टाटा सिर्फ सामान्य विमान ही नहीं उड़ाते, बल्कि वे F-16 जैसे फाइटर जेट भी उड़ा चुके हैं। देखें कुछ तस्वीरें।  
     

  • बिजनेस डेस्क। रतन टाटा (Ratan Tata) भारत के ऐसे उद्योगपति हैं, जिनका नाम पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। वे टाटा सन्स (Tata Sons) के अध्यक्ष रह चुके हैं और फिलहाल टाटा ग्रुप (Tata Group) के अध्यक्ष हैं। वे रिटायर होने के बाद खास परिस्थितियों में दोबारा टाटा ग्रुप के अध्यक्ष बने। रतन टाटा जेआरडी टाटा (JRD Tata) के उत्तराधिकारी हैं। भारत के सबसे प्रतिष्ठित उद्योगपतियों में से एक रतन टाटा को उनके समाजसेवा के कामों के लिए खास तौर पर जाना जाता है। उन्हें भारत के दो सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण (2000) और पद्म विभूषण (2008) से भी नवाजा  जा चुका है। कोरोनावायरस महमारी से निपटने के लिए टाटा ग्रुप ने 1500 करोड़ रुपए दिए। वहीं, टाटा सन्स ने 1000 करोड़ रुपए का अलग से योगदान दिया। रतन टाटा की लाइफस्टाइल सिंपल है, लेकिन वे हवाई जहाज उड़ाने के शौकीन हैं। रतन टाटा युद्धक विमान भी उड़ा चुके हैं। बता दें कि जेआरडी टाटा ने ही एयर इंडिया (Air India) की नींव रखी थी। तब इसका नाम टाटा एयरलाइन्स (Tata Airlines) था। वे भारत में विमान सेवा शुरू करने वाले पहले उद्योगपति होने के साथ लाइसेंसशुदा पायलट थे। अब सरकार एयर इंडिया को बेचने जा रही है। इसकी नीलामी में टाटा ग्रुप भी बोली लगाएगा। माना जा रहा है कि टाटा ग्रुप एयर इंडिया को खरीदने में कामयाब हो सकता है। रतन टाटा ने बेहद खतरनाक परिस्थतियों में भी विमान उड़ाया है। उनके विमान उड़ाने के कई किस्से प्रचलित हैं।

    BusinessDec 15, 2020, 1:46 PM IST

    PHOTOS : प्लेन उड़ाना पसंद करने वाले रतन टाटा कारों के भी हैं शौकीन, देखें उनका कार कलेक्शन

    बिजनेस डेस्क। रतन टाटा (Ratan Tata) भारत के ऐसे उद्योगपति हैं, जिनका नाम पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है। वे टाटा सन्स (Tata Sons) के अध्यक्ष रह चुके हैं और फिलहाल टाटा ग्रुप (Tata Group) के अध्यक्ष हैं। वे रिटायर होने के बाद खास परिस्थितियों में दोबारा टाटा ग्रुप के अध्यक्ष बने। रतन टाटा जेआरडी टाटा (JRD Tata) के उत्तराधिकारी हैं। भारत के सबसे प्रतिष्ठित उद्योगपतियों में से एक रतन टाटा को उनके समाजसेवा के कामों के लिए खास तौर पर जाना जाता है। उन्हें भारत के दो सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण (2000) और पद्म विभूषण (2008) से भी नवाजा  जा चुका है। कोरोनावायरस महमारी से निपटने के लिए टाटा ग्रुप ने 1500 करोड़ रुपए दिए। वहीं, टाटा सन्स ने 1000 करोड़ रुपए का अलग से योगदान दिया। रतन टाटा की लाइफस्टाइल सिंपल है, लेकिन वे हवाई जहाज उड़ाने के शौकीन हैं। रतन टाटा युद्धक विमान भी उड़ा चुके हैं। बता दें कि जेआरडी टाटा ने ही एयर इंडिया (Air India) की नींव रखी थी। तब इसका नाम टाटा एयरलाइन्स (Tata Airlines) था। वे भारत में विमान सेवा शुरू करने वाले पहले उद्योगपति होने के साथ लाइसेंसशुदा पायलट थे। अब सरकार एयर इंडिया को बेचने जा रही है। इसकी नीलामी में टाटा ग्रुप भी बोली लगाएगा। माना जा रहा है कि टाटा ग्रुप एयर इंडिया को खरीदने में कामयाब हो सकता है। रतन टाटा ने बेहद खतरनाक परिस्थतियों में भी विमान उड़ाया है। उनके विमान उड़ाने के कई किस्से प्रचलित हैं। 

  • बिजनेस डेस्क। खबर है कि सार्वजनिक क्षेत्र (Public Sector) की विमानन कंपनी एयर इंडिया (Air India) के लिए टाटा ग्रुप (Tata Group) बोली लगाने जा रहा है। इस बात की पूरी संभावना है कि नीलामी प्रक्रिया पूरा होने के बाद एयर इंडिया पर टाटा ग्रुप का अधिकार हो सकता है। बता दें कि देश में पहली विमान सेवा की शुरुआत जेआरडी टाटा (JRD Tata) ने की थी। वे देश के पहले लाइसेंसशुदा पायलट थे। आज से 87 साल पहले उन्होंने टाटा एयरलाइन्स (Tata Airlines) की शुरुआत की थी और कराची से बंबई तक खुद हवाई जहाज उड़ाया था। 1946 में इसका नाम एयर इंडिया कर दिया गया और 1953 में भारत सरकार ने इसे खरीद लिया। हालांकि, आजादी मिलने के बाद 1947 में ही भारत सरकार ने एयर इंडिया में 49 फीसदी हिस्सेदारी खरीद ली थी। जेआरडी टाटा 1978 तक एयर इंडिया से जुड़े रहे। एयर इंडिया की 30वीं वर्षगांठ 15 अक्टूबर 1966 को जेआरडी टाटा ने  कराची से मुंबई की उड़ान भरी थी। जेआरडी टाटा ने एयर इंडिया की 50वीं वर्षगांठ 15 अक्टूबर 1982 को जेआरडी टाटा ने फिर कराची से मुंबई की उड़ान भरी। बता दें कि टाटा ग्रुप के प्रमुख रतन टाटा भी विमान उड़ाने का शौक रखते हैं। रतन टाटा लड़ाकू विमान भी उड़ाते हैं। उन्हें विमान उड़ाने का खास शौक है। देखें जेआरडी टाटा और रतन टाटा की विमान उड़ाते कुछ खास तस्वीरें।

    BusinessDec 14, 2020, 2:57 PM IST

    PHOTOS : देश में पहली विमान सेवा शुरू करने वाले जेआरडी टाटा की कंपनी थी एयर इंडिया, ऐतिहासिक है इसका सफर

    बिजनेस डेस्क। खबर है कि सार्वजनिक क्षेत्र (Public Sector) की विमानन कंपनी एयर इंडिया (Air India) के लिए टाटा ग्रुप (Tata Group) बोली लगाने जा रहा है। इस बात की पूरी संभावना है कि नीलामी प्रक्रिया पूरा होने के बाद एयर इंडिया पर टाटा ग्रुप का अधिकार हो सकता है। बता दें कि देश में पहली विमान सेवा की शुरुआत जेआरडी टाटा (JRD Tata) ने की थी। वे देश के पहले लाइसेंसशुदा पायलट थे। आज से 87 साल पहले उन्होंने टाटा एयरलाइन्स (Tata Airlines) की शुरुआत की थी और कराची से बंबई तक खुद हवाई जहाज उड़ाया था। 1946 में इसका नाम एयर इंडिया कर दिया गया और 1953 में भारत सरकार ने इसे खरीद लिया। हालांकि, आजादी मिलने के बाद 1947 में ही भारत सरकार ने एयर इंडिया में 49 फीसदी हिस्सेदारी खरीद ली थी। जेआरडी टाटा 1978 तक एयर इंडिया से जुड़े रहे। एयर इंडिया की 30वीं वर्षगांठ 15 अक्टूबर 1966 को जेआरडी टाटा ने  कराची से मुंबई की उड़ान भरी थी। जेआरडी टाटा ने एयर इंडिया की 50वीं वर्षगांठ 15 अक्टूबर 1982 को जेआरडी टाटा ने फिर कराची से मुंबई की उड़ान भरी। बता दें कि टाटा ग्रुप के प्रमुख रतन टाटा भी विमान उड़ाने का शौक रखते हैं। रतन टाटा लड़ाकू विमान भी उड़ाते हैं। उन्हें विमान उड़ाने का खास शौक है। देखें जेआरडी टाटा और रतन टाटा की विमान उड़ाते कुछ खास तस्वीरें।    

  • undefined

    BusinessDec 14, 2020, 8:40 AM IST

    एयर इंडिया के लिए टाटा ग्रुप लगाएगा बोली, 87 साल पहले रखी थी इसकी नींव

    टाटा ग्रुप ( Tata group) एयर इंडिया (Air India) के लिए बोली लगाएगा। माना जा रहा है कि टाटा ग्रुप ने एयर इंडिया का मूल्याकंन करना शुरू कर दिया है और इस महीने के अंत तक वह नीलामी प्रक्रिया के दौरान अपनी बोली लगा देगा। बता दें कि टाटा ने ही एयर इंडिया की नींव 87 साल पहले रखी थी। 

  • undefined

    BusinessOct 28, 2020, 3:19 PM IST

    टाटा ग्रुप एप्पल फोन के लिए लगाएगा मैन्युफैक्चरिंग प्लान्ट, करेगा 5000 करोड़ रुपए का निवेश

    टाटा ग्रुप (Tata Group) तमिलनाडु के होसुर में एप्पल (Apple) के आईफोन (iPhone) के कम्पोनेंट की मैन्युफैक्चरिंग के लिए प्लान्ट लगाने जा रहा है। जानकारी के मुताबिक, ग्रुप इसके लिए 5000 करोड़ रुपए का इन्वेस्टमेंट करेगा।

  • undefined
    Video Icon

    NationalOct 13, 2020, 6:12 PM IST

    ट्विटर पर हुआ बवाल तो तनिष्क ने हटा दिया हिंदू-मुस्लिम वाला ऐड

    टाटा समूह (TATA Group) के मशहूर ज्वैलरी ब्रांड तनिष्क (Tanishq) के एक विज्ञापन पर हंगामा होने का बाद उसे हटा दिया। इस विज्ञापन के कारण ट्विटर पर #BoycottTanishq ट्रेंड कर रहा है। सोशल मीडिया पर लोगों की नाराजगी के बाद कंपनी ने इस विज्ञापन को हटा दिया। तनिष्क ने अपने प्रमोशन के लिए एक नया विज्ञापन जारी किया था। इसमें दो अलग-अलग समुदायों की शादी (Interfaith Marriage) दिखाई गई है। इस पर लोगों ने ट्विटर पर तनिष्क को ट्रोल करना शुरू कर दिया।

  • <p><strong>बिजनेस डेस्क।</strong> आज के समय में बिजनेस के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म्स बेहद जरूरी हो गए हैं। देश में रिलायंस जियो, अमेजन और दूसरे कई डिजिटल प्लेटफॉर्म्स मौजूद हैं। लोगों के बीच इनकी पॉपुलैरिटी लगातार बढ़ती जा रही है, क्योंकि इससे उन्हें कई तरह की सुविधाएं मिल जाती हैं। देश में ऑनलाइन बिजनेस का कल्चर तेजी से बढ़ता जा रहा है। इसे देखते हुए Tata Group ने भी इस फील्ड में उतरने की तैयारी कर ली है। जानकारी के मुताबिक, टाटा ग्रुप जल्दी ही एक सुपर ऐप लॉन्च करने जा रहा है। यह ऐप कंपन के तमाम कंज्यूमर बिजनेस को एक प्लेटफॉर्म पर लेकर आएगा।<br />
(फाइल फोटो)<br />
&nbsp;</p>

    BusinessAug 25, 2020, 11:57 AM IST

    Tata Group सुपर ऐप लॉन्च करने की कर रहा तैयारी, कई डिजिटल प्लेटफॉर्म को मिल सकती है कड़ी टक्कर

    बिजनेस डेस्क। आज के समय में बिजनेस के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म्स बेहद जरूरी हो गए हैं। देश में रिलायंस जियो, अमेजन और दूसरे कई डिजिटल प्लेटफॉर्म्स मौजूद हैं। लोगों के बीच इनकी पॉपुलैरिटी लगातार बढ़ती जा रही है, क्योंकि इससे उन्हें कई तरह की सुविधाएं मिल जाती हैं। देश में ऑनलाइन बिजनेस का कल्चर तेजी से बढ़ता जा रहा है। इसे देखते हुए Tata Group ने भी इस फील्ड में उतरने की तैयारी कर ली है। जानकारी के मुताबिक, टाटा ग्रुप जल्दी ही एक सुपर ऐप लॉन्च करने जा रहा है। यह ऐप कंपन के तमाम कंज्यूमर बिजनेस को एक प्लेटफॉर्म पर लेकर आएगा।
    (फाइल फोटो)

  • undefined

    BusinessMay 11, 2020, 3:32 PM IST

    कोरोना से कारोबारी नुकसान, टाटा ग्रुप भी घटा सकता है कुछ कंपनियों के कर्मचारियों की सैलरी

    कोरोना महामारी और लॉकडाउन का  इंडस्ट्री और बिजनेस पर बहुत बुरा असर पड़ा है। आर्थिक मामलों के जानकारों का कहना है कि इससे एविएशन और हॉस्पिटैलिटी सेक्टर को एक लाख करोड़ रुपए का घाटा हो सकता है।