Uttarakhand Accident  

(Search results - 15)
  • undefined

    NationalFeb 23, 2021, 1:40 PM IST

    ग्लेशियर टूटने से बन गई ये रहस्यमयी झील, 24 घंटे रखी जा रही नजर, ताकि फिर से कोई मौत का सैलाब न आए

    उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर टूटने के बाद आए जलजले को बेशक तीन हफ्ते से ज्यादा समय गुजर चुका है, लेकिन इस आपदा ने टेंशन बढ़ा दी है। बता दें कि 7 फरवरी यानी रविवार की सुबह करीब 10 बजे समुद्र तल से करीब 5600 मीटर की ऊंचाई पर 14 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र का ग्लेशियर टूटकर गिर गया था। इससे धौलीगंगा और ऋषिगंगा में बाढ़ की स्थिति बन गई। ग्लेशियर टूटने के बाद ऋषि गंगा के ऊपरी हिस्से में यह आर्टिफिशियल झील बन गई है। यह झील अपने अंदर क्या रहस्य छुपाए है, अभी कोई नहीं जानता। लेकिन इसे एक खतरा भी माना जा रहा है। इसके अंदर की हलचलों पर चौबीस घंटे नजर रखी जा रही है। इसी बीच राज्य सरकार लापता 136 लोगों को मृत घोषित करने की तैयारी में है। सोमवार तक रेस्क्यू टीम ने 68 शवों को बरामद किया। अभी भी 136 लोग लापता हैं। अब इनके मिलने की उम्मीद खत्म हो चुकी है।

  • <p>Chamoli accident, Uttarakhand accident, glacier bursting, glacier burst in Chamoli</p>

    NationalFeb 23, 2021, 8:41 AM IST

    चमोली हादसा: लापता 136 लोगों को मृत घोषित करने की जल्दी में क्यों है प्रशासन, जान लें इसके पीछे की बड़ी वजह

    उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर फटने के बाद राज्य सरकार लापता 136 लोगों को मृत घोषित करने की तैयारी में है। सोमवार तक रेस्क्यू टीम ने 68 शवों को बरामद किया। अभी भी 136 लोग लापता हैं। 14 शव तपोवन के एनटीसी हाइड्रोपावर प्रोजेक्ट के टनल में मिले। 7 फरवरी को चमोली (Chamoli) जिले के जोशीमठ के तपोवन में सुबह करीब 10 बजे ग्लेशियर फटने के बाद बाढ़ जैसी स्थिति बन गई। तपोवन में एनटीपीसी (NTPC) के हाइड्रोपावर प्लांट में काम चल रहा था। जिस वक्‍त ग्‍लेशियर फटा उस वक्त टनल की दूसरी तरफ 40 मजदूर काम कर रहे थे।

  • undefined

    NationalFeb 14, 2021, 9:29 AM IST

    चमोली हादसा: 7 दिन बाद टनल से जिंदगियां नहीं, सिर्फ लाशें निकल रहीं, पहाड़ी पर मंडरा रहा खतरा

    नई दिल्ली. उत्तराखंड के चमोली जिले में ग्लेशियर टूटने की भयंकर प्राकृतिक आपदा को हफ्तेभर हो गया है। 7 फरवरी को ग्लेशियर टूटने के बाद जो बाढ़ आई थी, उसमें मरने वालों की संख्या 43 तक पहुंच गई है। हादसे में 204 लोग लापता हुए थे। रविवार को रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान तपोवन सुरंग से पांच और शव मिले। रेस्क्यू लगातार जारी है, लेकिन सुरंग में फंसे लोगों के जीवित होने की संभावनाएं अब खत्म-सी हो गई हैं। टनल में कीचड़ भरा हुआ है। उसे हटाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। आपदा के बाद अभी भी आसपास के कई गांवों का संपर्क टूटा हुआ है। आईटीबीपी राहत कैंप लगाकर लोगों को मदद दे रही है। बता दें कि ग्लेशियर टूटने के बाद तपोवन स्थित NTPC की टनल में गीला मलबा भर गया था।

  • <p>Glacier burst in Chamoli, disaster in Uttarakhand, Chamoli disaster, glacier bursting, glacier in Himalayas, floods in Uttarakhand, Uttarakhand accident photo</p>

    NationalFeb 12, 2021, 3:02 PM IST

    सुरंग के बाहर ये डॉग 3 दिन से कर रहा है इंतजार, भगाने पर भी नहीं हटता, जानें क्या है इसकी पूरी कहानी

    उत्तराखंड के चमोली में तपोवन हाइडल परियोजना स्थल पर बचाव कार्य जारी है। इस बीच सुरंग के बाहर एक कुत्ता तीन दिनों से अपने मालिक का इंतजार कर रहा है। ग्लेशियर टूटने के बाद आई बाढ़ से बचने वाले राजिंदर कुमार ने बताया कि जब हम काम करते थे तो हम उसे (डॉग) खाना देते थे। सोने के लिए बोरी भी दे देते थे।

  • <p>Glacier burst in Chamoli, disaster in Uttarakhand, Chamoli disaster, glacier bursting, glacier in Himalayas, floods in Uttarakhand, Uttarakhand accident photo</p>

    NationalFeb 12, 2021, 7:30 AM IST

    आपदा के बाद की दर्दनाक तस्वीरः एक साथ जलाए गए 7 शव, DNA संरक्षित किए गए ताकि पहचान हो सके

    उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर फटने के बाद अब तक 36 लोगों के शव मिले हैं। चमोली पुलिस के मुताबिक, 36 शवों के अलावा 16 मानव अंग बरामद किये जा चुके हैं, जिसमें से 10 शवों की शिनाख्त हो गयी है, जिन शवों की शिनाख्त नहीं हो पायी है उन सभी शवों का डीएनए संरक्षित किये गये हैं।  11 फरवरी को 7 शवों और 7 मानव अंगों का धार्मिक रीति रिवाज और सम्मान के साथ दाह संस्कार किया।
     

  • undefined

    Other StatesFeb 10, 2021, 11:23 AM IST

    उत्तराखंड तबाही: सुरंग से जिंदा लौटे मजदूर की आपबीती जान फट जाएगा कलेजा, नाखून नीले और शरीर पड़ गया सुन्न

    देहरादून. उत्तराखंड के चमोली जिले में रविवार को आए सैलाब ने कई परिवारों को तबाह कर दिया। किसी के पिता की तो किसी के बेटे की इस प्रलय में मौत हो गई। ग्लेशियल फटने के चार दिन होने के बाद भी  रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। भारतीय सेना, ITBP,NDRF और के SDRF के 600 से ज्यादा जवान तबाही के बाद दलदल में फंसे लोगों को तलाशने की कोशिश में जुटे हुए हैं। मीडिया सूत्रों के मुताबिक अभी तक  32 निकाले जा चुके हैं, वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो इस सैलाब में 8 घंटे तक टनल में एक रॉड और लोहे के सरिया को पकड़े लटके रहे। उन्होंने इस भयानक हादसे के बाद भी अपने हौसले को बनाए रखा। उन्होंने कैसे अपनी सांसों को इस मौत की सुरंग में बचाए रखा वह तारिफे काबिल है। जिनके बारे में जानकर हर किसी के रोंटगे खड़े हो जाएंगे। आइए जानते हैं ऐसे युवकों के बारे में जो मौत के मुंह से बचकर आए...

  • <p>Glacier bust, glacier bust, Chamoli rescue operation in Uttarakhand accident, Chamoli</p>

    NationalFeb 10, 2021, 8:39 AM IST

    जिस सुरंग में 4 दिन से बचाव कार्य चल रहा है वहां भरने लगा है पानी, 600 जवानों की टीम रेस्क्यू ऑपरेशन में लगी

    उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियल फटने के चौथे दिन भी रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। अभी तक 32 शव मिले हैं। जबकि 197 लोग लापता हैं। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में बताया था कि अभी यह अनुमान लगाना मुश्किल है कि मलबा हटाने में कितना समय लगेगा, क्योंकि सुरंग में 90 डिग्री का मोड़ है। जवाब वैकल्पिक रास्तों की खोज कर रहे हैं। 

  • undefined

    NationalFeb 9, 2021, 1:37 PM IST

    उम्मीद की आखिरी किरण: ग्लेशियर टूटने के बाद ऐसा हुआ टनल का हाल, अंदर न जाने कितने लोग और फंसे होंगे

    उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर टूटने के बाद NTPC कर टनल में फंसे लोगों को निकालने तीसरे दिन भी लगातार रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा है। बता दें कि ढाई किलोमीटर लंबी दूसरी टनल में रविवार रात बाढ़ का पानी भरने से रेस्क्यू रोकना पड़ा था। NDRF की टीम ने सोमवार को फिर से रेस्क्यू शुरू किया था। मंगलवार को रेस्क्यू का तीसरा दिन है। ऐसे में अंदर फंसे लोगों के जीवित होने की बस अब उम्मीद ही की जा रही है। अंदर कितने लोग फंसे होंगे, इसका सही आकलन नहीं हो पाया है, लेकिन माना जा रहा है कि इनकी संख्या 35 के आसपास है। अलग-अलग जगहों से 180 लोग लापता हैं। देखें रेस्क्यू की कुछ तस्वीरें...

  • <p>Uttarakhand glacier, glacier breakdown accident, Chamoli glacier accident, glacier, incident in Chamoli, Uttarakhand accident</p>

    NationalFeb 9, 2021, 8:59 AM IST

    तीसरा दिन: टनल में फंसे लोगों को बचाने के लिए रात भर चला काम, लेकिन किसी से नहीं हुआ संपर्क

    उत्तराखंड के चमोली जिले में ग्लेशियर टूटने के वजह से आई तबाही के बाद बचाव कार्य जारी है। केंद्रीय ऊर्जा मंत्री आरके सिंह ने तपोवन पर घटनास्थल का जायजा लिया और कहा कि  फ्लैश फ्लड की वजह से NTPC लिमिटेड की 520 मेगावाट की जलविद्युत परियोजना में लगभग 1,500 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है।

  • undefined

    NationalFeb 8, 2021, 5:02 PM IST

    चमोली हादसा: मौत के सैलाब के बाद भी नहीं टूटा हौसला, देखें रेस्क्यू टीम ने कैसे भिड़ा दी अपनी जान

    चमोली, उत्तराखंड. प्रकृति से कौन लड़ पाया है? लेकिन साहसी इंसान मौत से अवश्य लड़ जाता है। यह देखना है, तो चमोली में ग्लेशियर टूटने के बाद आई आपदा में फंसे लोगों की जाने बचाने जुटी रेस्क्यू टीम के हौसले को देखिए। वे दिन-रात पूरी ताकत से टनल में फंसे लोगों को सुरक्षित निकालने जुटे देखे गए। बता दें कि रविवार सुबह करीब 10.30 बजे के आसपास चमोली जिले में नंदा देवी ग्लेशियर का एक हिस्सा टूट जाने से ऋषिगंगा घाटी में जलजला आ गया था। गनीमत रही कि जलप्रलय अलकनंदा नदी तक आते-आते शांत पड़ गई। लेकिन इस आपदा को केदारनाथ में 2013 में आई प्राकृतिक आपदा से बड़ा माना गया है। इस हादसे में अभी भी कई लोगों के तपोवन में NTPC की प्रोजेक्ट साइट पर टनल में कई मजदूरों और अन्य कर्मचारियों के फंसे होने की आशंका है। रेस्क्यू में NDRF,ITBP और सेना के जवान शामिल हैं।

  • undefined

    Other StatesJul 31, 2020, 7:38 PM IST

    रक्षा बंधन से पहले 3 भाई-बहनों की दर्दनाक मौत, चीखते हुए कह रहे माता-पिता अब इन राखी क्या करेंगे

    ऋषिकेश (उत्तराखंड़), दो दिन बाद देश में रक्षबंधन का त्यौहार मनाया जाएगा। इस दिन का सभी भाई-बहन बड़ी बेसब्री से इंतजार करते हैं। लेकिन देवभूमि कहे जाने वाले उत्तराखंड के एक परिवार के लिए यह दिन मातम मनाते हुए बीतेगा। क्योंकि रक्षा बंधन से 2 दिन पहले तीन भाई बहनों की मलबे में दबकर दर्दनाक मौत हो गई। 
     

  • undefined

    Other StatesJul 25, 2020, 3:22 PM IST

    अंतिम संस्कार से लौट रहे थे 3 दोस्त, तभी आया मौत का भयानक पल और कफन में लिपटी लौंटी तीनों की लाशें

    देहरादून (उत्तराखंड ). देवभूमि कही जाने वाले धरती उत्तराखंड से एक दुखद और दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। जहां तीन दोस्तों की बोलेरे जीप उफनती कोसी नदी किनारे एक गहरी खाई में जा गिरी, जिसमें तीनों की मौके पर मौत हो गई। बताया जाता है कि तीनों अपने परिचित के अंतिम संस्कार में शामिल होकर वापस लौट रहे थे। लेकिन इस हादसे के बाद उनकी लाशें कफन से लिपटी घर लौंटी।

  • undefined

    Other StatesJul 8, 2020, 3:30 PM IST

    मौत बनकर बरसी बारिश, भरभराकर गिर पड़ा मकान, दबकर रह गईं मां और दो बेटियां

    अल्मोड़ा, उत्तराखंड. मानसून अपने साथ खुशियां भी लाता है और तकलीफें भी। बारिश जिंदगी के लिए आवश्यक है, लेकिन गरीबों के लिए मुसीबत भी। भारी बारिश में हर साल कई घर गिरते हैं। इन हादसों में कइयों को अपनी जान गंवानी पड़ती है। यहां मंगलवार रात हुई भारी बारिश में  एक मकान टूटकर गिर गया। इस हादसे में मां और दो बेटियों की मौत हो गई। वहीं, बेटे की जैसे-तैसे जान बची। हादसा द्वाराहटा के तैलमैनारी गांव में हुआ। घटना के वक्त परिवार सो रहा था। मां-बेटियों को मलबे से निकालने में काफी मशक्कत करनी पड़ी। हालांकि उन्हें बचाया नहीं जा सका। सूचना मिलने पर आपदा प्रबंधन टीम भी मौके पर पहुंच गई थी। रात का ही रेस्क्यू शुरू कर दिया गया था। लेकिन तेज बारिश और अंधेरा होने से रेस्क्यू टीम को काफी दिक्कत हुई।
     

  • undefined

    Other StatesMar 3, 2020, 5:44 PM IST

    बचपन से था हीरोइन बनने का सपना, सालों इंतजार के बाद वक्त भी आया लेकिन उससे पहले मिली मौत

    देहरादून. पर्यटक स्टेट उत्तराखंड से आए दिन सड़क हादसों की खबरें आती रहती हैं। एक कार अनियंत्रित होकर 300 फीट गहरी खाई में जा गिरी। इस हादसे में दो युवतियों समेत 3 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई। इसके अलावा दो युवक और एक युवती गंभीर रूप से घायल हैं। यह हादसा देहरादून जिले के कालसी तहसील में सोमवार शाम को हुआ। जिसमें पुलिस ने मृतकों की पहचान मॉडल स्वाती चौहान, उसके दोस्त शुभम तोमर और रुचि रावत के रूप में की।

  • एक्सीडेंट प्रतापनगर-कंगसाली-मदननेगी मोटर मार्ग पर हुआ।

    PunjabAug 6, 2019, 10:48 AM IST

    3 हादसों में 9 बच्चों सहित 18 की मौत, खाई में गिरी स्कूली वैन, बस पर टूटकर गिर पहाड़

    उत्तराखंड और यूपी में हुए तीन अलग-अलग रोड एक्सीडेंट में 9 स्कूली बच्चों सहित 18 लोगों की मौत हो गई। जबकि 30 से ज्यादा लोग घायल हैं। टिहरी में स्कूली वैन खाई में गिरने से 9 बच्चों की मौत हो गई। वहीं बदरीनाथ से लौट रही बस पर पहाड़ टूटकर गिर पड़ा। इसमें 7 यात्रियों की मौत हो गई। वहीं यूपी में ट्रैक्टर पलटने से 2 की मौत हो गई।