Ventilators  

(Search results - 13)
  • undefined

    NationalMay 14, 2021, 8:55 PM IST

    औरंगाबाद में ‘मेक इन इंडिया’ के 150 वेंटिलेटर्स बचा रहे लोगों की जान

    मेक इन इंडिया के अंतर्गत वेंटिलेटर बनाने का काम कर रही कंपनी ज्योति सीएनसी ने औरंगाबाद में वेंटिलेटर्स की सप्लाई की थी। यह सप्लाई एम्पावर्ड ग्रुप-3 की देखरेख व निर्देशों पर की गई थी। यह राज्यों की मांग पर सप्लाई किया गया था। पीएम केयर फंड से इसकी फंडिंग नहीं हुई थी।

  • undefined

    NationalMay 13, 2021, 10:50 PM IST

    पीएम केयर फंड से वेंटिलेटर खरीद मामलाः फरीदकोट के वेंटिलेटर्स रखरखाव के अभाव में काम नहीं कर रहे

    पीएम केयर्स से खरीदे गए वेंटिलेटर्स की खराबी की वजह रखरखाव सही नहीं होना है। संचालन के समय सही तरीके से रखरखाव के अभाव में काफी सारे वेंटिलेटर्स खराब हुए हैं। केंद्र सरकार ने बताया कि जिन राज्यों में वेंटिलेटर्स के खराब होने की शिकायतें सामने आ रही थी, उनको संबंधित कंपनी के टेक्निकल एक्सपर्ट्स भेजकर सही कराया गया है। भविष्य में कोई दिक्कत न हो इसके लिए राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों को कंपनी का मेल आईडी उपलब्ध करा दिया गया है। 

  • undefined

    NationalMay 12, 2021, 12:03 PM IST

    पंजाब में धूल खा रहे कोरोना से निपटने के लिए आए 251 वेंटिलेटर्स, पीएम केयर फंड से खरीदे गए थे

    देश में कोरोना की दूसरी लहर का कहर जारी है। देश के तमाम शहरों से ऑक्सीजन, वेंटिलेटर्स और बेड की कमी की भी खबरें सामने आ रही हैं। वहीं, पंजाब में पीएम केयर फंड्स से खरीदे गए वेंटिलेटर धूल खा रहे हैं। 

  • undefined

    BollywoodMay 11, 2021, 7:38 PM IST

    कोरोना में मदद को आगे आए अनुपम खेर, अस्पतालों में बंटवा रहे फ्री ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स और वेंटिलेटर्स

    कोरोना महामारी की दूसरी लहर देशभर में कहर बरपा रही है। इस दौरान आम लोगों से लेकर बॉलीवुड सेलेब्स भी इसकी चपेट में आ रहे हैं। हालांकि सुकून वाली बात ये है कि कई स्टार्स इस दौरान जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए भी हाथ बढ़ा रहे हैं। इन्हीं में से एक हैं अनुपम खेर। अनुपम खेर (Anupam Kher) ने कोरोना के मरीजों की फ्री में सेवा करने का जिम्मा उठाया है। अनुपम खेर इलाज से संबंधित सामग्रियों को अस्पतालों तक फ्री में पहुंचवा रहे हैं। इसमें 'अनुपम खेर फाउंडेशन' के अलावा दो और फाउंडेशन मदद कर रहे हैं। 

  • undefined

    NationalMay 10, 2021, 10:01 AM IST

    Oxygen का News मीटर: गुजरात से ऑक्सीजन एक्सप्रेस 224.67 टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन लेकर दिल्ली पहुंची

    कोरोन संक्रमण की दूसरी लहर से जूझते भारत को दुनियाभर से मेडिकल हेल्प मिल रही है। छोटे-बड़े सभी मित्र देश भारत के साथ इस महामारी में कंधे से कंधा मिलाकर खड़े हुए हैं। यह वजह है कि कुछ दिन पहले तक ऑक्सीजन, वेंटिलेटर, दवाओं और अन्य मेडिकल इक्विपमेंट्स की कमी से परेशान भारत में स्वास्थ्य सेवाएं निरंतर बेहतर हो रही हैं। दुनियाभर से रोज मदद पहुंच रही है। वहीं, स्थानीयस्तर पर भी सरकारें, औद्योगिक घराने और स्वयंसेवी संगठन अपने-अपने स्तर पर स्वास्थ्य सेवाओं के सुधार में मदद कर रहे हैं। आइए जानते हैं भारत को कहां से क्या मदद मिल रही है...

  • undefined

    NationalMay 3, 2021, 9:58 PM IST

    Covid Second wave alert के बाद भी लापरवाही की हद: एक साल में दिल्ली सरकार ने नहीं खरीदे एक भी वेंटीलेटर

    दिल्ली में कोरोना ने हाहाकार मचाया है। सरकार संसाधन का रोना रो रही है। लेकिन असलियत यह है कि एक साल तक दिल्ली सरकार ने स्थितियों से निपटने के लिए एक भी वेंटीलेटर खरीदने या उसका आर्डर देने की जहमत नहीं उठाई। आरटीआई में दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने यह जानकारी दी है।

  • undefined

    WorldMay 26, 2020, 5:04 PM IST

    बिहार में जन्मे शख्स ने पत्नी के साथ अमेरिका में किया कमाल, 7.5 हजार रु की लागत से बनाया वेंटिलेटर

    कोरोना वायरस से पूरी दुनिया जूझ रही है। इस संकट से निपटने की कोशिशें दुनियाभर में जारी हैं। इसी क्रम में अमेरिका में भारतीय मूल के दंपती ने एक बेहद सस्ता वेंटिलेटर बनाया है। दंपती ने बताया कि अगर बड़ी संख्या में वेंटिलेटर का निर्माण किया जाए तो यह सिर्फ 100 डॉलर यानी 7500 रुपए में बन जाएगा।

  • undefined

    WorldMay 21, 2020, 8:53 AM IST

    सलाम! एक-एक जान बचाने में जुटीं अफगान की कोरोना वॉरियर बेटियां;कार के मोटर बाइक के चेन से बनाया वेंटिलेटर

    काबुल. दुनिया में बढ़ रहे कोरोना के संक्रमण के बीच अफगानिस्तान आतंकी हमले और कोरोना वायरस की दोहरी मार से जूझ रहा है। एक ओर जहां संक्रमण के मामले में बढ़ रहे हैं, वहीं दूसरी ओर यहां के अस्पताल अव्यवस्थाओं से दो-दो हाथ कर रहे हैं। इन सब के बीच यहां बेटियांसंक्रमित मरीजों के लिए भगवान बनकर सामने आई है। अफगानी बेटियां मरीजों को नई जिंदगी दे रही हैं। वे कोरोना पीड़ितों के लिए वेंटिलेटर बना रही हैं, वो भी अपने ही अंदाज में। कार के पुर्जों से वेंटिलेटर तैयार करने वाली लड़कियों को रोबोटिक्स गर्ल्स गैंग कहा जा रहा है।

  • undefined

    WorldMay 16, 2020, 7:43 AM IST

    ट्रंप बोले- भारत को दान देंगे वेंटिलेटर्स, PM मोदी ने कहा- थैंक्यू,हम महामारी से एक साथ लड़ रहे हैं

    अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ऐलान किया है कि वे भारत को अनुदान के तौर पर वेंटिलेटर्स देंगे। उन्होंने कहा, हम इस महामारी के दौर में भारत के साथ हर वक्त खड़े हैं। जिसके बाद पीएम मोदी ने ट्रंप को थैंक्यू कहा है। 

  • <strong>जौनपुर (Uttar Pradesh) । </strong>यह लापरवाही नहीं तो और क्या है। एक ओर जहां पूरा देश वैश्विक महामारी कोरोना से जूझ रहा है। संदिग्ध मरीजों को वेंटिलेटर उपलब्ध कराने के लिए सरकार परेशान हैं। बावजूद इसके अभी तक जिलों में वेंटिलेटर की कमी है। हालांकि कि इस कमी को दूर करने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ भी प्रयासरत है। लेकिन,जहां वेंटिलेटर है भी वहां घोर मनमानी की जा रही है। यकीन नहीं तो वाराणसी-लखनऊ राजमार्ग पर सिरकोनी ब्लाक के हौज गांव में बने ट्रामा सेंटर में हकीकत देख सकते हैं, जो पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से सटा हुआ जिला है। पड़ताल में यह बात सामने आई कि यहां वेटिंलेटर रखने के बाद जिम्मेदार भूल गए हैं। ऐसा इसलिए कि जून 2018 में आए चार वेंटिलेटर अभी तक इंस्टाल तक नहीं किए जा सके हैं, जबकि सीएमओ जौनपुर को इसकी जानकारी ही नहीं है और प्रशासन नये वेंटिलेटर की खरीदने की प्रक्रिया पूरी कर रहा है।

    Uttar PradeshApr 14, 2020, 9:19 AM IST

    हद हो गई, वेटिंलेटर होने के बाद भी जिम्मेदार बोल रहे झूठ

    जौनपुर (Uttar Pradesh) । यह लापरवाही नहीं तो और क्या है। एक ओर जहां पूरा देश वैश्विक महामारी कोरोना से जूझ रहा है। संदिग्ध मरीजों को वेंटिलेटर उपलब्ध कराने के लिए सरकार परेशान हैं। बावजूद इसके अभी तक जिलों में वेंटिलेटर की कमी है। हालांकि कि इस कमी को दूर करने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ भी प्रयासरत है। लेकिन, जहां वेंटिलेटर है भी वहां घोर मनमानी की जा रही है। यकीन नहीं तो वाराणसी-लखनऊ राजमार्ग पर सिरकोनी ब्लाक के हौज गांव में बने ट्रामा सेंटर में हकीकत देख सकते हैं, जो पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से सटा हुआ जिला है। पड़ताल में यह बात सामने आई कि यहां वेटिंलेटर रखने के बाद जिम्मेदार भूल गए हैं। ऐसा इसलिए कि जून 2018 में आए चार वेंटिलेटर अभी तक इंस्टाल तक नहीं किए जा सके हैं, जबकि सीएमओ जौनपुर को इसकी जानकारी ही नहीं है और प्रशासन नये वेंटिलेटर की खरीदने की प्रक्रिया पूरी कर रहा है। 
     
  • undefined
    Video Icon

    Coronavirus WorldApr 12, 2020, 12:17 PM IST

    वेंटीलेटर भी नहीं बना सकता एटम बम बनाने वाला पाकिस्तान, इमरान खान ने सरेआम रोया दुखड़ा?

    इस्लामाबाद। बात-बात पर भारत को तबाह कर देने की धमकी देने वाले पाकिस्तान की दयनीयता, कोरोना वायरस की महामारी के बाद उजागर हो गई है। दुनिया के देश जब महामारी से लड़ने में अपने-अपने स्तर से तैयारी कर रहे हैं पाकिस्तान लगातार बड़े देशों से मदद की गुहार लगा रहा है। हैरानी की बात है कि भारत के जवाब में एटम बम बनाने वाले पाकिस्तान की क्षमता वेंटीलेटर बनाने की नहीं है। इमरान ने खुद एक बयान में इस पर अफसोस जताया। इमरान ने कहा, "हमारी बड़ी बदकिस्मती है कि हमारे मुल्क में कोई मुश्किल नहीं था ये चीजें बनाने में। लेकिन हमें ऐसी आदत पड़ी हुई है इम्पोर्ट करने की बाहर से चीजें मंगाने कि, हम ज़्यादातर इक्विपमेंट बाहर से मंगवानी पड़ती है। हम एटम बना सकते हैं तो ये चीजें क्यों नहीं बना सकते। बदकिस्मती से हमने कभी इसपर तवज्जो नहीं दी।"  पंजाब में अब तक पांच हजार से ज्यादा केसेस सामने आ चुके हैं। पंजाब प्रांत की हालत सबसे ज्यादा खराब हैं यहां 2400 से ज्यादा कोरोना के मामले पुष्ट हुए हैं। सिंध में भी 1300 से ज्यादा मामले हैं। कोरोना की वजह से अब तक पाकिस्तान में 86 मौतें हुई हैं।

  • undefined

    BusinessApr 2, 2020, 11:35 AM IST

    Coronavirus से देश को बचाएगा इन सात इंजीनियरों का काम, महज इतने हजार रुपए में तैयार किया वेंटीलेटर

    बिजनेस डेस्क: भारत में लगातार कोरोना वायरस के मामले बढ़ते जा रहे हैं  जिससे भारत के अस्पतालों पर बोझ बढ़ना लगभग तय है। हालांकि, लॉकडाउन के चलते संक्रमण का असर कुछ धीमा है। लेकिन जैसे-जैसे संक्रमण की जांच बढ़ रही है वैसे-वैसे पीड़ितों के मामले भी बढ़ रहे हैं। इस बीच पूरी दुनिया में भी कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ रहें हैं। जिन देशों में इस महामारी ने सबसे ज्यादा जानें ली हैं उनमें अमेरिका, स्पेन, इटली जैसे विकसित देश शामिल हैं। इन देशों में कोरोना से हजारों की मौत हुई हैं। कई मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इनमें से कई जन बचाई जा सकती थी अगर इन देशों के पास अच्छी मात्रा में वेंटीलेटर्स होते।
     

  • undefined

    NationalMar 24, 2020, 9:05 PM IST

    कोरोना से लड़ने के लिए पीएम मोदी ने 15 हजार करोड़ के पैकेज का ऐलान किया, हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर होगा मजबूत

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कोरोना के बढ़ते संकट को देखते हुए देश को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने 21 दिन के लॉकडाउन का ऐलान किया। यह लॉकडाउन आज रात 12 बजे से ही लागू होगा। इसके अलावा पीएम मोदी ने कोरोना से लड़ने के लिए 15 हजार करोड़ रुपए के पैकेज का ऐलान किया।