Asianet News Hindi

फर्जः लोगों की जिंदगी बचाने 4 महीने से घर नहीं गई यह नर्स, बोली- पहले ड्यूटी फिर मेरा परिवार

Jun 15, 2021, 5:10 PM IST

वीडियो डेस्क।  देश में कोविड 19 (Covid-19)  को एक साल से ज्यादा का समय हो चुका है। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया को चपेट में ले रखा है। दुनिया भर में इस वायरस से संक्रमित होने वालों और जान गंवाने वालों का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। भारत समेत तमाम देशों में लोग लॉकडाउन के दौरान घरों में सुरक्षित हैं। वहीं कोरोना के फ्रंट लाइन वारियर्स हर दिन अपनी जान हथेली पर रख इस वायरस से लड़ रहे हैं। कुछ ने तो अपने कर्तव्यों का पालन करते हुए इस युद्ध में जान तक न्योछावर कर दी है। कोरोना संकट के दौरान हमारे फ्रंट लाइन वर्कर्स का बहुत अहम रोल है। रात दिन कोरोना से पीड़ितों के इलाज में वो लगे हुए हैं। डॉक्टर्स के साथ नर्सों का भी रोह सबसे ज्यादा है। कोविड 19 ड्यूटी के दौरान घर के लोगों से दूर रहकर काम करना किसी चुनौती से कम नहीं है। ऐसे ही कुछ कोरोना योद्धाओं की कहानी हम आपको बता रहे है इस कड़ी में हमने बात की मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के चिरायु हॉस्पिटल की नर्स रोशनी मोहनानी से जिन्होंने अपने काम के लिए घर परिवार सबको छोड़ दिया था और कठिन समय में लोगों की जान बचाने के लिए हॉस्पिटल में डटी रहीं।देखिए वीडियो  

Video Top Stories