Asianet News HindiAsianet News Hindi

जहां जम जाता है विमानों का फ्यूल, उस नॉर्थ पोल से उड़ान भर 4 भारतीय महिला पायलटों ने रचा इतिहास

वीडियो डेस्क।  एयर इंडिया की 4 महिला पायलटों की एक टीम ने दुनिया के सबसे लंबे हवाई मार्ग नॉर्थ पोल पर उड़ान भर एक नया इतिहास रच दिया है। रविवार को अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को से उड़ान भरने के बाद महिला पायलटों की यह टीम नॉर्थ पोल से होते हुए बेंगलुरु के केम्पेगौड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंची। इस सफर के दौरान करीब 16,000 किलोमीटर की दूरी तय की गई। नॉर्थ पोल बर्फ से ढका एक ऐसा इलाका है जो अकसर शोधकर्ताओं को अपनी तरफ आकर्षित करता रहता है। यहां पर जमीन पर समय बिताना जितना मुश्किल है उतना ही मुश्किल होता है इसके ऊपर उड़ना। इसकी वजह यहां की बेहद मुश्किल परिस्थितियां हैं, जो हर वक्‍त पायलट का कड़ा इम्तिहान लेती हैं। जो इस इम्तिहान में खरा उतारता है वो कीर्तिमान स्‍थापित करता है। ठीक वैसे ही जैसे भारत की एयर इंडिया पायलटों ने किया है। एयर इंडिया की महिला पायलटों ने सेन फ्रांसिस्‍को से बैंगलुरू तक का 16 हजार किमी का सफर इसी रास्‍ते से पूरा इतिहास रच दिया है। एयर इंडिया की काबिल महिला पायलटों की टीम में कैप्‍टन जोया अग्रवाल, कैप्‍टन पापागरी तनमई, कैप्‍टन आकांक्षा सोनवरे और कैप्‍टन शिवानी मन्‍हास शामिल थीं। आखिर कितना खतरनाक होता है नार्थ पोल में विमान उड़ाना और ऐसा क्यों बता रहीं है विंग कमांडर अनुमा आचार्य (से.नि.)। 

Jan 11, 2021, 6:02 PM IST

वीडियो डेस्क।  एयर इंडिया की 4 महिला पायलटों की एक टीम ने दुनिया के सबसे लंबे हवाई मार्ग नॉर्थ पोल पर उड़ान भर एक नया इतिहास रच दिया है। रविवार को अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को से उड़ान भरने के बाद महिला पायलटों की यह टीम नॉर्थ पोल से होते हुए बेंगलुरु के केम्पेगौड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंची। इस सफर के दौरान करीब 16,000 किलोमीटर की दूरी तय की गई। नॉर्थ पोल बर्फ से ढका एक ऐसा इलाका है जो अकसर शोधकर्ताओं को अपनी तरफ आकर्षित करता रहता है। यहां पर जमीन पर समय बिताना जितना मुश्किल है उतना ही मुश्किल होता है इसके ऊपर उड़ना। इसकी वजह यहां की बेहद मुश्किल परिस्थितियां हैं, जो हर वक्‍त पायलट का कड़ा इम्तिहान लेती हैं। जो इस इम्तिहान में खरा उतारता है वो कीर्तिमान स्‍थापित करता है। ठीक वैसे ही जैसे भारत की एयर इंडिया पायलटों ने किया है। एयर इंडिया की महिला पायलटों ने सेन फ्रांसिस्‍को से बैंगलुरू तक का 16 हजार किमी का सफर इसी रास्‍ते से पूरा इतिहास रच दिया है। एयर इंडिया की काबिल महिला पायलटों की टीम में कैप्‍टन जोया अग्रवाल, कैप्‍टन पापागरी तनमई, कैप्‍टन आकांक्षा सोनवरे और कैप्‍टन शिवानी मन्‍हास शामिल थीं। आखिर कितना खतरनाक होता है नार्थ पोल में विमान उड़ाना और ऐसा क्यों बता रहीं है विंग कमांडर अनुमा आचार्य (से.नि.)। 

Video Top Stories