Education

दूसरी बार लोकसभा अध्यक्ष बने ओम बिरला की 10 बड़ी बातें

Image credits: social media

ओम बिरला निचले सदन के लिए दोबारा चुने जाने वाले पहले लोकसभा अध्यक्ष

बिरला ने प्रह्लाद गुंजल को 41,000 से अधिक मतों से हराकर राजस्थान की कोटा लोकसभा सीट बरकरार रखी। वह 20 वर्षों में निचले सदन के लिए दोबारा चुने जाने वाले पहले लोकसभा अध्यक्ष हैं।

Image credits: social media

छात्र नेता के रूप में शुरू की राजनीतिक यात्रा

23 नवंबर 1962 को कोटा में जन्मे बिरला ने अपनी राजनीतिक यात्रा एक छात्र नेता के रूप में शुरू की। वह 2003, 2008 और 2013 में लगातार तीन बार राजस्थान विधानसभा के लिए भी चुने गए हैं।

Image credits: social media

अमित शाह और पीएम नरेंद्र मोदी के साथ जुड़ाव

बिरला का अमित शाह और पीएम नरेंद्र मोदी के साथ जुड़ाव गुजरात में उनके सत्ता में आने से पहले ही शुरू हो गया था। 2019 के लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री के नाम पर वोट मांगे।

Image credits: social media

सुमित्रा महाजन के बाद अध्यक्ष पद संभाला

बिरला ने आठ बार की सांसद सुमित्रा महाजन के बाद अध्यक्ष पद संभाला, यह पद परंपरागत रूप से वरिष्ठ सांसदों के पास होता है।

Image credits: social media

बिरला की अध्यक्षता में ऐतिहासिक कानून पारित हुए

बिरला के कार्यकाल के दौरान, संसद ने कोविड-19 की लहरों का सामना किया, महिला आरक्षण विधेयक जैसे ऐतिहासिक कानून पारित किया और अनुच्छेद 370 को हटा दिया।

Image credits: social media

पीएम ने लोकसभा स्पीकर के लिए बिरला के नाम का प्रस्ताव रखा

पीएम मोदी ने स्पीकर पद के लिए बिरला के नाम का प्रस्ताव रखा, जिसका कांग्रेस, टीएमसी, डीएमके और बीजेडी सहित सभी प्रमुख विपक्षी दलों, वाईएसआरसीपी, टीडीपी ने भी समर्थन किया।

Image credits: social media

जनता के लिए खोली गई संसद लाइब्रेरी

उनके कार्यकाल में, कुल 2,910 सदस्यों ने कानून बनाने की प्रक्रिया में भाग लिया, जो पिछली चार लोकसभाओं में सबसे अधिक है। भारत का दूसरी सबसे बड़ी संसद लाइब्रेरी जनता के लिए खोली गई।

Image credits: social media

सांसदों को भाषणों की क्लिपिंग उपलब्ध कराने वाले पहले अध्यक्ष

ओम बिरला पहले अध्यक्ष थे जिन्होंने सांसदों को अपने भाषणों की क्लिपिंग उपलब्ध कराई ताकि सोशल मीडिया पर प्रसारित करने में मदद मिल सके। संसदीय कार्यवाही के दुर्लभ फुटेज अपलोड किए गए।

Image credits: social media

राजस्थान और गुजरात में सहकारी समितियों के प्रबंधन में भूमिका

बिरला 1992 से 1995 तक राजस्थान राज्य सहकारी उपभोक्ता संघ के अध्यक्ष और नई दिल्ली में भारतीय राष्ट्रीय सहकारी उपभोक्ता महासंघ के उपाध्यक्ष रहे।

Image credits: social media

भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रमुख नेता रहे

1991 से 12 वर्षों तक ओम बिरला भारतीय जनता युवा मोर्चा में पहले राज्य स्तर पर अध्यक्ष और फिर राष्ट्रीय स्तर पर उपाध्यक्ष के रूप में एक प्रमुख नेता रहे हैं।

Image credits: social media