Education

NEET UG दोबारा होगी या नहीं, SC में फैसला आज, 3 पैरामीटर होगा आधार

Image credits: social media

NEET यूजी परीक्षा कैंसिल होगी या नहीं, फैसला आज

NEET यूजी एग्जाम अनियमिता मामले में याचिकाओं पर 11 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होगी।  सुप्रीम कोर्ट फैसला लेगा कि नीट यूजी परीक्षा कैंसिल होगी या काउंसलिंग शुरू होगी।

Image credits: social media

सुप्रीम कोर्ट ने नीट यूजी मामले में मांगे थे डिटेल

इससे पहले नीट यूजी मामले में परीक्षा रद्द करने की मांग सहित विभिन्न 38 याचिकाओं पर 8 जुलाई को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई थी। कोर्ट ने डिटेल मांगा था और 11 जुलाई का समय दिया था।

Image credits: social media

याचिकाकर्ता दोबारा नीट परीक्षा की मांग पर अड़े, NTA इसके खिलाफ

मामले में सुनवाई मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली सुप्रीम कोर्ट की पीठ कर रही है। याचिकाकर्ता दोबारा परीक्षा की मांग पर अड़े रहे तो सरकार और एनटीए इसके खिलाफ हैं।

Image credits: social media

तीन मापदंडों के आधार पर होगी नीट मामले पर फैसला

8 जुलाई की सुनवाई के अनुसार नीट परीक्षा दोबारा होगी या नहीं इस मामले का फैसला तीन मापदंडों के आधार पर किया जाएगा। 

Image credits: social media

उल्लंघन सिस्टम लेवल पर हुआ या नहीं?

चीफ जस्टिस ने 3 पैरामीटर पर डिटेल मांगे हैं जिसमें पहला है- अदालत यह देखेगा कि क्या कथित उल्लंघन सिस्टम लेवल पर हुआ है। यदि ऐसा हुआ तो दोबारा परीक्षा होगी।

Image credits: social media

उल्लंघन से पूरी परीक्षा प्रक्रिया की अखंडता प्रभावित हुई है या नहीं?

दूसरे पैरामीटर में कोर्ट यह चेक करेगा कि क्या उल्लंघन से पूरी परीक्षा प्रक्रिया की अखंडता प्रभावित हुई। यदि हां तो नीट यूजी परीक्षा दोबारा होगी।

Image credits: social media

लाभार्थी छात्रों को बेदाग छात्रों से अलग करना संभव है या नहीं?

फैसले से पहले कोर्ट यह भी देखेगाा कि धोखाधड़ी के लाभार्थी छात्रों को बेदाग छात्रों से अलग करना संभव है या नहीं। यदि अलग करना संभव नहीं हुआ तो नीट परीक्षा कैंसिल कर दोबारा होगी।

Image credits: social media

आज सुप्रीम कोर्ट में क्या-क्या होगा?

SC ने कहा है कि 11 जुलाई को याचिकाकर्ता के वकील इस बात पर दलीलें पेश करेंगे कि दोबारा परीक्षा क्यों होनी चाहिए। केंद्र तारीखों की पूरी लिस्ट देगा। सीबीआई अपनी स्टेटस रिपोर्ट देगी।

Image credits: social media

दोबारा हुई परीक्षा से खर्च समेत पड़ेगा एकेडमिक व्यवस्था पर असर

सीजेआई ने कहा था, परीक्षा में अलग-अलग आर्थिक वर्ग के छात्र शामिल होते हैं। दोबारा परीक्षा आयोजित होने पर उनके खर्च, ट्रैवल की परेशानी के साथ ही एकेडमिक अव्यवस्था की चिंता बढ़ेगी।

Image credits: social media