उज्जैन. चैत्र नवरात्रि में रोज देवी के विभिन्न स्वरूपों की पूजा की जाती है। नवरात्रि में किस दिन देवी के कौन-से रूप की पूजा करें, जानिए-

  • चैत्र नवरात्रि के पहले दिन मां शैलपुत्री की पूजा की जाती है। मां शैलपुत्री को अखंड सौभाग्य का प्रतीक भी माना जाता है।
  • नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा होती है। देवी ब्रह्मचारिणी तप की शक्ति का प्रतीक हैं।
  • नवरात्रि का तीसरा दिन माता चंद्रघंटा को समर्पित है। यह शक्ति माता का शिवदूती स्वरूप है।
  • नवरात्रि के चौथे दिन की प्रमुख देवी मां कूष्मांडा हैं। देवी कूष्मांडा रोगों को तुरंत नष्ट करने वाली हैं।
  • पांचवें दिन स्कंदमाता की पूजा की जाती है। स्कंदमाता भक्तों को सुख-शांति प्रदान करती हैं।
  • चैत्र नवरात्रि के छठे दिन आदिशक्ति श्री दुर्गा के छठे रूप कात्यायनी की पूजा-अर्चना का विधान है।
  • मां दुर्गा का सातवां स्वरूप हैं कालरात्रि। चैत्र नवरात्रि के सातवे दिन मां कालरात्रि की पूजा की जाती है।
  • नवरात्रि के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा की जाती है। इनकी भक्ति से हमें मन की शांति भी मिलती है।
  • नवरात्रि के अंतिम दिन मां सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। मां सिद्धिदात्री भक्तों को हर प्रकार की सिद्धि प्रदान करती हैं।