उज्जैन. अगहन मास में नदियों में स्नान करने की और शंख पूजा करने की परंपरा है। दिसंबर में साल का अंतिम सूर्य ग्रहण भी होगा, लेकिन ये भारत में दिखाई नहीं देगा। इसीलिए इस ग्रहण का सूतक भारत में नहीं रहेगा। जानिए इस माह में कब कौन से खास पर्व आ रहे हैं...

- 3 दिसंबर को गणेश चतुर्थी व्रत है। इस तिथि पर गणेशजी के दूर्वा चढ़ाएं और व्रत करें। शाम को चंद्र दर्शन और पूजा के बाद ये व्रत पूरा होता है।
- 7 दिसंबर को कालभैरव अष्टमी है। इस तिथि पर कालभैरव की विशेष पूजा करें और दीपक जलाएं। उज्जैन स्थित कालभैरव को खासतौर पर शराब का भोग लगाया जाता है।
- 11 दिसंबर को उत्पन्ना एकादशी है। इस दिन भगवान विष्णु के व्रत किया जाता है। एकादशी व्रत से जाने-अनजाने में किए गए पाप कर्मों का असर खत्म होता है।
- 14 दिसंबर को साल का अंतिम सूर्य ग्रहण होगा। ये ग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा। इस कारण यहां इसका सूतक नहीं रहेगा। सोमवार को अमावस्या तिथि रहेगी। इस तिथि पर पितरों के लिए पूजन कर्म करने की परंपरा है।
- 15 दिसंबर को धनु संक्रांति, इस दिन सूर्य धनु राशि में प्रवेश करेगा। इस दिन नदी में स्नान करने और दान-पुण्य करने की परंपरा है।
- 16 दिसंबर से खरमास शुरू हो जाएगा। सूर्य के धनु राशि में आने से खरमास शुरू होता है। इस माह में विवाह आदि मांगलिक कर्म नहीं किए जाते हैं।
- 18 दिसंबर को विनायकी चतुर्थी है। इस तिथि पर भी गणेशजी के लिए व्रत-उपवास और पूजा-पाठ की जाती है।
- 19 दिसंबर को विवाह पंचमी है। त्रेतायुग में इसी तिथि पर श्रीराम और सीता का विवाह हुआ था। इस दिन श्रीराम और सीता की विशेष पूजा करें। रामायण का पाठ करें।
- 25 दिसंबर को मोक्षदा एकादशी और क्रिसमस है। मोक्षदा एकादशी को गीता जंयती के रूप में भी मनाया जाता है। एकादशी पर भगवान विष्णु के लिए व्रत-उपवास करें। क्रिसमस प्रभु यीशु के जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है।
- 29 दिसंबर को दत्त पूर्णिमा है। इस तिथि भगवान दत्तात्रेय का अवतार हुआ था। 29 और 30 तारीख को अगहन मास की पूर्णिमा रहेगी। इस तिथि पर नदी में स्नान और दान-पुण्य करने की परंपरा है। इसके बाद 31 दिसंबर से पौष मास शुरू हो जाएगा।