Asianet News HindiAsianet News Hindi

पढ़ाई के लिए बेचना पड़ा था घर, अब यूट्यूब पर इनके 'गुरु ज्ञान' के दीवाने हैं लाखों लोग

कड़ी मेहनत के आगे बड़ी से बड़ी मुश्किलें धराशाही हो जाती हैं। इसी के मिसाल बनें अलख पांडे ने बचपन की दिक्कतों को लक्ष्य के आड़े नही आने दिया। इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने वाले अलख शिक्षा में औरों के लिए भी राह आसान बना रहे हैं। उनका ये जज्बा रंग लाया उनको यूट्यूब ने Gold Play Button के अवार्ड से भी नवाजा है।

the popularity of Alakh pandey YouTube  coveted gold play button awarded
Author
Prayagraj, First Published Oct 31, 2019, 5:26 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

प्रयागराज. भारत में जहां शिक्षा के दम पर तमाम संस्थान करोड़ों का कारोबार कर रहे है तो वहीं कई ऐसे भी लोग हैं जो शिक्षा से वंचित रह जाते हैं। महंगे होते पढ़ाई के मूल्यों से कई बच्चों का भविष्य थम जा रहा है। कई हार मान कर रास्ते बदल लेते हैं तो कई डंट कर सामना करते हैं।  प्रयागराज के अलख पांडे की कहानी कुछ ऐसी ही है, जिन्होने पैसों की कमी से पढ़ाई नही छोड़ी बल्कि इससे आगे जाकर औरों के लिए इस राह को आसान करने में जुट गए। जिसके लिए पांडे ने ऑनलाइन प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल किया। यूट्यूब पर ‘Physics Wallah नाम से एक यूट्यूब चैनल बनाया। जिस पर इंजीनियरिंग पर फोकस वीडियो बनाना शुरु किया। उनका ये जज्बा रंग लाया उनको यूट्यूब ने Gold Play Button के अवार्ड से नवाजा है।    

जब पढ़ाई के लिए बिका घर

प्रयागराज शहर को प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी लिए जाना जाता है जहां ज्यादातर छात्र सरकारी और प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिए आते हैं। इसी शहर में अलख पांडे की शुरुआती शिक्षा और बाद में स्नातक की पढ़ाई भी पूरी हुई है। इंजीनियरिंग के लिए तैयारी करते हुए उन्होने पैसों की बड़ी दिक्कतों का सामना किया। वे बताते हैं कि पैसें की कमी से उनका साऊथ मलाका का घर बिक गया था। जिसके बाद उनका परिवार कालिंदीपुरम रहने आ गया था। 2011 में पांडे ने परीक्षा पास कर कानपुर के HBTI कॉलेज में एडमिशन लिया। 2015 में पढ़ाई पूरी कर वापस प्रयाागराज लौट आए। यहां उन्होने साझे में एक कोचिंग क्लासेज खोल ली।

यूट्यूब ने किया सम्मानित

 पांडे के मुताबिक उनके मन में कहीं न कहीं उन बच्चों का ख्याल जरुर आता था जो पैसों की कमी से पढ़ाई नही कर पाते। उन्होने कोचिंग नही पढ़ाने का फैसला लिया। 2017 में यूट्यूब पर ‘Physics Wallah’ नाम से चैनल बनाया। इसमें NCERT सिलेबस पर आधारित खास  इंजीनियरिंग प्रतियोगिताओं के लिए फिजिक्स और केमिस्ट्री विषयों को पढ़ाना शुरु कर दिया। आज दो साल बाद चैनल के करीब 1.89 मिलियन सस्क्राइबर हैं। जिनमें पाकिस्तान, नेपाल, बांग्लादेश और सऊदी अरब के लोग भी शामिल हैं। कानपुर के Harcourt Butler Technological Institute (HBTI) से BTech की पढ़ाई करने वाले अलख को यूट्यूब ने Gold Play Button अवार्ड से नवाजा है। बता दें कि अवार्ड उन्ही को दिया जाता है जिनके चैनल के कम से कम 10 लाख सस्क्राइबर होते हैं। 

कड़ी मेहनत से ही सफलता मिलती है 

अलख के यूट्यूब चैनल ‘Physics Wallah’ पर करीब 22 मिलियन दर्शक हर महीने विजिट करते हैं। अलख दुनिया के सबसे चर्चित ऑनलाइन गुरुओं के रुप में उभर रहे हैं। इसके अलावा अपने ऑनलाइन वेबसाइट पर नोट्स, बुक्स और फ्री क्विज जैसी सुविधा भी उपलब्ध करा रहे हैं। अलख को 40-50 मिनट के वीडियो को बनाने में करीब 6 घंटे लग जाते हैं और हर महीने  28 के करीब वीडियो चैनल पर अपलोड करते हैं। वीडियो बनाते समय उनके दिमाग में यह बात जरूर रहता है कि बच्चों को संबंधित विषय में कहां, और कौन से सवाल का जवाब चाहिए होगा। उनका कहना है कि पढ़ाई के शुरुआती दिनों में जिन दिक्कतों का सामना मैंने किया था उसका सॉल्यूशन आज मैं अपने यूट्यूब चैनल के माद्यम से दिया करता हुं। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios