Asianet News Hindi

Post Office की ये योजनाएं हैं हर उम्र के लोगों के लिए, बिना किसी रिस्क के पा सकते हैं लाखों रुपए

First Published Sep 12, 2020, 10:47 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

बिजनेस डेस्क। कोरोनावायरस महामारी के इस दौर में लोगों को आर्थिक परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इस दौरान जिन लोगों ने पहले से बचत कर रखी है, उन्हें कुछ सहूलियत हुई है। नियमित रूप से की जाने वाली छोटी बचत हमेशा काम आती है। अक्सर लोग इस पर ध्यान नहीं दे पाते हैं। वे सोचते हैं कि जब उनके पास ज्यादा पैसे आएंगे, तो वे उसका निवेश कर ज्यादा फायदा लेंगे। लेकिन इसमें वक्त बीत जाता है और परेशानी का समय आने पर कोई बचत नहीं रहती है। छोटी बचत पर बढ़िया मुनाफा हासिल करने के लिए  पोस्ट ऑफिस ( Post Office) की योजनाएं सबसे बेहतर मानी जाती हैं। पोस्ट ऑफिस की ऐसी कई योजनाएं हैं, जिनमें छोटी रकम का सुरक्षित निवेश किया जा सकता है। 
(फाइल फोटो)
 

किसी भी उम्र के लोग कर सकते हैं निवेश
पोस्ट ऑफिस की बचत योजनाओं में किसी भी उम्र के लोग निवेश कर सकते हैं। इसमें बच्चों से लेकर युवाओं और सीनियर सिटिजन्स के लिए भी बेहतरीन योजनाएं हैं, जिन पर गांरटीड रिटर्न मिलता है। 
(फाइल फोटो)

किसी भी उम्र के लोग कर सकते हैं निवेश
पोस्ट ऑफिस की बचत योजनाओं में किसी भी उम्र के लोग निवेश कर सकते हैं। इसमें बच्चों से लेकर युवाओं और सीनियर सिटिजन्स के लिए भी बेहतरीन योजनाएं हैं, जिन पर गांरटीड रिटर्न मिलता है। 
(फाइल फोटो)

हर लिहाज से सुरक्षित है निवेश
पोस्ट ऑफिस की स्कीम्स में निवेश हर लिहाज से सुरक्षित होता है। इसमें पैसा डूब नहीं सकता। इसमें किए जाने वाले निवेश को सरकार की तरफ से सॉवरेन गारंटी मिली होती है।  
(फाइल फोटो)
 

हर लिहाज से सुरक्षित है निवेश
पोस्ट ऑफिस की स्कीम्स में निवेश हर लिहाज से सुरक्षित होता है। इसमें पैसा डूब नहीं सकता। इसमें किए जाने वाले निवेश को सरकार की तरफ से सॉवरेन गारंटी मिली होती है।  
(फाइल फोटो)
 

ऑनलाइन डिपॉजिट की सुविधा
अब पोस्ट ऑफिस की योजनाओं में ऑनलाइन निवेश भी किया जा सकता है। यह सुविधा इंडिया पेमेंट पोस्ट बैंक (IPPB) के जरिए ली जा सकती है। पोस्ट ऑफिस की स्कीम्स में निवेश कर भविष्य के लिए लाखों रुपए का फंड बनाया जा सकता है।
(फाइल फोटो)
 

ऑनलाइन डिपॉजिट की सुविधा
अब पोस्ट ऑफिस की योजनाओं में ऑनलाइन निवेश भी किया जा सकता है। यह सुविधा इंडिया पेमेंट पोस्ट बैंक (IPPB) के जरिए ली जा सकती है। पोस्ट ऑफिस की स्कीम्स में निवेश कर भविष्य के लिए लाखों रुपए का फंड बनाया जा सकता है।
(फाइल फोटो)
 

पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF)
पोस्ट ऑफिस में पीपीएफ अकाउंट वयस्कों के अलावा बच्चों भी खोल सकते हैं। पीपीएफ अकाउंट कम से कम 500 रुपए से खोला जा सकता है। इस अकाउंट पर अभी सालाना ब्याज दर 7.1 फीसदी है। अकाउंट में एक वित्त वर्ष में कम से कम 500 रुपए और अधिकतम 1.5 लाख रुपए जमा करना जरूरी है।
(फाइल फोटो)
 

पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF)
पोस्ट ऑफिस में पीपीएफ अकाउंट वयस्कों के अलावा बच्चों भी खोल सकते हैं। पीपीएफ अकाउंट कम से कम 500 रुपए से खोला जा सकता है। इस अकाउंट पर अभी सालाना ब्याज दर 7.1 फीसदी है। अकाउंट में एक वित्त वर्ष में कम से कम 500 रुपए और अधिकतम 1.5 लाख रुपए जमा करना जरूरी है।
(फाइल फोटो)
 

मेच्योरिटी पीरियड
पीपीएफ अकाउंट का मेच्‍योरिटी पीरियड 15 साल है। इससे पहले इसे बंद नहीं किया जा सकता। हालांकि, कुछ खास मामलों जैसे पति, पत्नी और बच्चों की गंभीर बीमारी, बच्चों की उच्च शिक्षा या विदेश में बसने की स्थिति में 5 साल की अवधि पूरा होने के बाद इसे बंद कराया जा सकता है।
(फाइल फोटो)

मेच्योरिटी पीरियड
पीपीएफ अकाउंट का मेच्‍योरिटी पीरियड 15 साल है। इससे पहले इसे बंद नहीं किया जा सकता। हालांकि, कुछ खास मामलों जैसे पति, पत्नी और बच्चों की गंभीर बीमारी, बच्चों की उच्च शिक्षा या विदेश में बसने की स्थिति में 5 साल की अवधि पूरा होने के बाद इसे बंद कराया जा सकता है।
(फाइल फोटो)

लोन लेने की सुविधा
पीपीएप अकांउट के एक साल पूरा होने के बाद और 5 साल पूरे होने से पहले  इस पर लोन भी लिया जा सकता है। इसके अलावा अकाउंट के 5 साल पूरे होने के बाद इससे विदड्रॉल भी किया जा सकता है। पोस्‍ट ऑफिस पीपीएफ पर इंट्रा ऑपरेबल नेटबैंकिंग-मोबाइल बैंकिंग के जरिए ऑनलाइन डिपॉजिट सुविधा और इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक सेविंग्स अकाउंट से ऑनलाइन डिपॉजिट की सुविधा उपलब्ध है।
(फाइल फोटो)
 

लोन लेने की सुविधा
पीपीएप अकांउट के एक साल पूरा होने के बाद और 5 साल पूरे होने से पहले  इस पर लोन भी लिया जा सकता है। इसके अलावा अकाउंट के 5 साल पूरे होने के बाद इससे विदड्रॉल भी किया जा सकता है। पोस्‍ट ऑफिस पीपीएफ पर इंट्रा ऑपरेबल नेटबैंकिंग-मोबाइल बैंकिंग के जरिए ऑनलाइन डिपॉजिट सुविधा और इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक सेविंग्स अकाउंट से ऑनलाइन डिपॉजिट की सुविधा उपलब्ध है।
(फाइल फोटो)
 

सुकन्‍या समृद्धि स्‍कीम (SSY)
पोस्ट ऑफिस की यह योजना कास कर लड़कियों को ध्यान में रख कर तैयार की गई है। यह बेहद पॉपुलर स्कीम है। इस स्‍कीम के तहत बेटी के नाम पर  अकाउंट खुलवाया जा सकते हैं। सुकन्‍या समृद्धि स्‍कीम में माता-पिता 10 वर्ष तक की आयु की बच्ची के नाम पर खाता खोल सकते हैं। एक बच्ची के नाम पर एक ही खाता खुल सकता है। इस काउंट को न्यूनतम  250 रुपए की राशि से खोला जा सकता है।
(फाइल फोटो)

सुकन्‍या समृद्धि स्‍कीम (SSY)
पोस्ट ऑफिस की यह योजना कास कर लड़कियों को ध्यान में रख कर तैयार की गई है। यह बेहद पॉपुलर स्कीम है। इस स्‍कीम के तहत बेटी के नाम पर  अकाउंट खुलवाया जा सकते हैं। सुकन्‍या समृद्धि स्‍कीम में माता-पिता 10 वर्ष तक की आयु की बच्ची के नाम पर खाता खोल सकते हैं। एक बच्ची के नाम पर एक ही खाता खुल सकता है। इस काउंट को न्यूनतम  250 रुपए की राशि से खोला जा सकता है।
(फाइल फोटो)

इस स्कीम का मेच्योरिटी पीरियड
सुकन्या समृद्धि अकाउंट को लड़की के 21 साल का होने के बाद ही बंद किया जा सकता है। हालांकि, लड़की के 18 साल की होने पर या उसकी शादी होने पर नॉर्मल प्रीमेच्‍योर क्‍लोजर की व्यवस्था है। 18 साल की उम्र के बाद बच्‍ची SSY अकाउंट से आंशिक तौर पर कैश की निकासी की जा सकती है। निकासी की सीमा पिछला वित्त वर्ष खत्‍म होने पर अकाउंट में मौजूद बैलेंस का 50 फीसदी तक है।
(फाइल फोटो)
 

इस स्कीम का मेच्योरिटी पीरियड
सुकन्या समृद्धि अकाउंट को लड़की के 21 साल का होने के बाद ही बंद किया जा सकता है। हालांकि, लड़की के 18 साल की होने पर या उसकी शादी होने पर नॉर्मल प्रीमेच्‍योर क्‍लोजर की व्यवस्था है। 18 साल की उम्र के बाद बच्‍ची SSY अकाउंट से आंशिक तौर पर कैश की निकासी की जा सकती है। निकासी की सीमा पिछला वित्त वर्ष खत्‍म होने पर अकाउंट में मौजूद बैलेंस का 50 फीसदी तक है।
(फाइल फोटो)
 

मिलती है टैक्स में छूट
सुकन्‍या समृद्धि योजना में किए जाने निवेश पर इनकम टैक्स के सेक्शन 80C के तहत 1.5 लाख रुपए तक टैक्स में कटौती का क्लेम किया जा सकता है। इसके अलावा जमा रकम पर आने वाला ब्याज और मेच्योरिटी पीरियड पूरा होने पर मिलने वाला पैसा भी टैक्स फ्री है।
(फाइल फोटो) 

मिलती है टैक्स में छूट
सुकन्‍या समृद्धि योजना में किए जाने निवेश पर इनकम टैक्स के सेक्शन 80C के तहत 1.5 लाख रुपए तक टैक्स में कटौती का क्लेम किया जा सकता है। इसके अलावा जमा रकम पर आने वाला ब्याज और मेच्योरिटी पीरियड पूरा होने पर मिलने वाला पैसा भी टैक्स फ्री है।
(फाइल फोटो) 

सीनियर सिटीजन सेविंग्‍स स्‍कीम (SCSS)
पोस्ट ऑफिस में सीनियर सिटिजन सेविंग्स स्कीम रिटायर्ड लोगों की नियमित आमदनी का बेहतरीन विकल्प है। इस स्‍कीम का मेच्योरिटी पीरियड 5 साल का है। इस पर मौजूदा ब्याज दर 7.4 फीसदी सालाना है। इस अकाउंट में केवल एक ही बार निवेश किया जा सकता है, जो कम से  कम 1000 रुपए से लेकर अधिकतम 15 लाक रुपए तक है।  इस स्कीम के तहत 60 साल या उससे ज्यादा की उम्र के व्यक्ति का अकाउंट खुल सकता है।
(फाइल फोटो)

सीनियर सिटीजन सेविंग्‍स स्‍कीम (SCSS)
पोस्ट ऑफिस में सीनियर सिटिजन सेविंग्स स्कीम रिटायर्ड लोगों की नियमित आमदनी का बेहतरीन विकल्प है। इस स्‍कीम का मेच्योरिटी पीरियड 5 साल का है। इस पर मौजूदा ब्याज दर 7.4 फीसदी सालाना है। इस अकाउंट में केवल एक ही बार निवेश किया जा सकता है, जो कम से  कम 1000 रुपए से लेकर अधिकतम 15 लाक रुपए तक है।  इस स्कीम के तहत 60 साल या उससे ज्यादा की उम्र के व्यक्ति का अकाउंट खुल सकता है।
(फाइल फोटो)

55 साल की उम्र में भी खुल सकता है खाता
सीनियर सिटिजन सेविंग्स स्कीम में अगर कोई 55 साल या उससे ज्यादा का, लेकिन 60 साल से कम का है और वीआरएस ले चुका है तो वह भी अकाउंट खोल सकता है। ऐसे व्यक्ति को रिटायरमेंट बेनिफिट्स मिलने के एक महीने के भीतर यह खाता खुलवाना होगा। साथ ही, इसमें डिपॉजिट किया जाने वाला अमाउंट रिटायरमेंट बेनिफिट्स के अमांउट से ज्यादा नहीं होना चाहिए। इस स्कीम में पत्नी-पति एक साथ जॉइंट अकाउंट भी रख सकते हैं, लेकिन अधिकतम निवेश 15 लाख से ज्यादा नहीं हो सकता।
(फाइल फोटो)

55 साल की उम्र में भी खुल सकता है खाता
सीनियर सिटिजन सेविंग्स स्कीम में अगर कोई 55 साल या उससे ज्यादा का, लेकिन 60 साल से कम का है और वीआरएस ले चुका है तो वह भी अकाउंट खोल सकता है। ऐसे व्यक्ति को रिटायरमेंट बेनिफिट्स मिलने के एक महीने के भीतर यह खाता खुलवाना होगा। साथ ही, इसमें डिपॉजिट किया जाने वाला अमाउंट रिटायरमेंट बेनिफिट्स के अमांउट से ज्यादा नहीं होना चाहिए। इस स्कीम में पत्नी-पति एक साथ जॉइंट अकाउंट भी रख सकते हैं, लेकिन अधिकतम निवेश 15 लाख से ज्यादा नहीं हो सकता।
(फाइल फोटो)

प्रीमेच्योर क्लोजर
सीनियर सिटिजन सेविंग्स अकाउंट पर प्रीमेच्योर क्लोजर की अनुमति है, लेकिन अकाउंट को एक साल पूरा होने से पहले बंद कराने पर कोई ब्याज नहीं मिलता है। वहीं, अकाउंट खोलने के 1 साल बाद उसे बंद करने पर जमा राशि का 1.5 फीसदी कट जाता है। अगर खाता 2 साल बाद बंद कराया जाए तो जमा राशि का 1 फीसदी काटा जाता है।
(फाइल फोटो)

प्रीमेच्योर क्लोजर
सीनियर सिटिजन सेविंग्स अकाउंट पर प्रीमेच्योर क्लोजर की अनुमति है, लेकिन अकाउंट को एक साल पूरा होने से पहले बंद कराने पर कोई ब्याज नहीं मिलता है। वहीं, अकाउंट खोलने के 1 साल बाद उसे बंद करने पर जमा राशि का 1.5 फीसदी कट जाता है। अगर खाता 2 साल बाद बंद कराया जाए तो जमा राशि का 1 फीसदी काटा जाता है।
(फाइल फोटो)

तीन साल के लिए बढ़ाया जा सकता है अकाउंट
सीनियर सिटिजन सेविंग्स अकाउंट को मेच्योरिटी के बाद भी 3 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है। इस अकाउंट में ब्‍याज राशि 50,000 रुपए सालाना से ज्‍यादा होने पर TDS कटने लगता है। हालांकि, इस स्कीम में निवेश पर इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत छूट मिलती है। इसमें नॉमिनेशन की सुविधा, अकाउंट को एक पोस्ट ऑफिस से दूसरे में ट्रांसफर कराने की सुविधा और  एक ही ऑफिस में कई सीनियर सिटिजन सेविंग्स अकाउंट खुलवाने की सुविधा भी है।
(फाइल फोटो)
 

तीन साल के लिए बढ़ाया जा सकता है अकाउंट
सीनियर सिटिजन सेविंग्स अकाउंट को मेच्योरिटी के बाद भी 3 साल के लिए बढ़ाया जा सकता है। इस अकाउंट में ब्‍याज राशि 50,000 रुपए सालाना से ज्‍यादा होने पर TDS कटने लगता है। हालांकि, इस स्कीम में निवेश पर इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत छूट मिलती है। इसमें नॉमिनेशन की सुविधा, अकाउंट को एक पोस्ट ऑफिस से दूसरे में ट्रांसफर कराने की सुविधा और  एक ही ऑफिस में कई सीनियर सिटिजन सेविंग्स अकाउंट खुलवाने की सुविधा भी है।
(फाइल फोटो)
 

100 फीसदी सुरक्षित निवेश
छोटी बचत जमा करने वालों के लिए पोस्ट ऑफिस की  योजनाएं ज्यादा सुरक्षित हैं। पोस्ट ऑफिस में जमा पैसों पर सरकार सॉवरेन गारंटी देती है। यहां किसी भी स्थिति में पैसा फंस नहीं सकता है। दूसरी तरफ, बैंकों में जमा आपका पैसा 100 फीसदी सुरक्षित नहीं होता। अगर कोई बैंक डिफॉल्‍ट कर जाता है तो उस स्थिति में  डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन (DICGC) बैंक में कस्टमर्स के सिर्फ 5 लाख रुपए की सुरक्षा की गारंटी देता है।
(फाइल फोटो)

 

100 फीसदी सुरक्षित निवेश
छोटी बचत जमा करने वालों के लिए पोस्ट ऑफिस की  योजनाएं ज्यादा सुरक्षित हैं। पोस्ट ऑफिस में जमा पैसों पर सरकार सॉवरेन गारंटी देती है। यहां किसी भी स्थिति में पैसा फंस नहीं सकता है। दूसरी तरफ, बैंकों में जमा आपका पैसा 100 फीसदी सुरक्षित नहीं होता। अगर कोई बैंक डिफॉल्‍ट कर जाता है तो उस स्थिति में  डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन (DICGC) बैंक में कस्टमर्स के सिर्फ 5 लाख रुपए की सुरक्षा की गारंटी देता है।
(फाइल फोटो)

 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios