Asianet News Hindi

गरीबी के कारण 8वीं के बाद छोड़नी पड़ी पढ़ाई, लेकिन 'जुगाड़ की मशीन' ने बना दिया करोड़पति

First Published Feb 16, 2021, 10:38 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

क्रियेटिविटी और कुछ करने के जुनून का उम्र या अमीरी-गरीबी से कोई वास्ता नहीं होता। जो व्यक्ति कुछ करने की ठान लेता है, वो करके रहता है। यह कहानी 'आत्मनिर्भर भारत' की एक मिसाल है। ये हैं  तमिलनाडु के मदुरै में रहने वाले मुरुगेसन। ये महज 8वीं तक पढ़े हैं। घर के आर्थिक हालात ऐसे नहीं थे कि आगे पढ़ सकें। लिहाजा मुरुगेसन को पिता के साथ खेती-किसानी में हाथ बंटाना पड़ा। लेकिन परंपरागत तरीके से खेती-किसानी करने के कारण उन्हें मुनाफा नहीं हो रहा था। मेहनत ज्यादा थी। एक बार मुरुगेसन गांव में कहीं जा रहे थे, तभी किसी को केले की छाल से रस्सी बनाते देखा। वो आदमी इस रस्सी से फूलों की माला तैयार कर रहा था। यही से मुरुगेसन के दिमाग में बिजनेस का आइडिया आया। आज वे केले के छिलकों से बड़ेस्तर पर रस्सी बनाते हैं। उनका सालाना टर्नओवर एक करोड़ रुपए है।

57 साल के मुरुगेसन बताते हैं कि केले की छाल के इस्तेमाल को लेकर लोग जागरूक नहीं थे। वे उसे फेंक देते थे या जला देते थे। लेकिन उन्होंने 2008 में केले की छाल(फाइबर) से जब रस्सी बनाने का काम शुरू किया, तब लोग चौकन्ने हुए। 

57 साल के मुरुगेसन बताते हैं कि केले की छाल के इस्तेमाल को लेकर लोग जागरूक नहीं थे। वे उसे फेंक देते थे या जला देते थे। लेकिन उन्होंने 2008 में केले की छाल(फाइबर) से जब रस्सी बनाने का काम शुरू किया, तब लोग चौकन्ने हुए। 

हालांकि कोई भी काम एकदम सरल नहीं होता। मुरुगेसन को भी शुरुआत में दिक्कत हुई। हाथ से केले के छिलकों को टुकड़े-टुकड़े करना और फिर उससे रस्सी बनाना बहुत मुश्किल का काम था। कई बार रस्सी अच्छी भी नहीं बनती थी। इसी बीच एक दोस्त ने नारियल की छाल को रस्सी के लिए प्रोसेस करने वाली मशीन के बारे में बताया। मुरुगेसन ने उसका प्रयोग किया, लेकिन इससे भी काम आसान नहीं हुआ।

हालांकि कोई भी काम एकदम सरल नहीं होता। मुरुगेसन को भी शुरुआत में दिक्कत हुई। हाथ से केले के छिलकों को टुकड़े-टुकड़े करना और फिर उससे रस्सी बनाना बहुत मुश्किल का काम था। कई बार रस्सी अच्छी भी नहीं बनती थी। इसी बीच एक दोस्त ने नारियल की छाल को रस्सी के लिए प्रोसेस करने वाली मशीन के बारे में बताया। मुरुगेसन ने उसका प्रयोग किया, लेकिन इससे भी काम आसान नहीं हुआ।

मुरुगेसन ने बताया कि वे केले की छाल की प्रोसेसिंग की मशीन तैयार करने वे लगातार प्रयोग करते रहे। आखिर में उन्हें सफलता मिली। उन्होंने पुरानी साइकिल की रिम और पुली को असेंबल करके ‘स्पिनिंग डिवाइस’ तैयार की। इससे मुरुगेसन अब हर साल 500 टन केले के ‘फाइबर वेस्ट’ की प्रोसेसिंग कर लेते हैं। 
 

मुरुगेसन ने बताया कि वे केले की छाल की प्रोसेसिंग की मशीन तैयार करने वे लगातार प्रयोग करते रहे। आखिर में उन्हें सफलता मिली। उन्होंने पुरानी साइकिल की रिम और पुली को असेंबल करके ‘स्पिनिंग डिवाइस’ तैयार की। इससे मुरुगेसन अब हर साल 500 टन केले के ‘फाइबर वेस्ट’ की प्रोसेसिंग कर लेते हैं। 
 

मुरुगेसन बताते हैं कि इस जुगाड़ की मशीन को तैयार करने में करीब एक लाख रुपए का खर्च आया। इसका वे पेटेंट करा चुके हैं। यह मशीन केले के छिलकों को टुकड़ों में काट देती है। इसके बाद मुरुगेसन उन्हें सूखने रख देते हैं। जब ये सूख जाते हैं, तो मशीन में रखकर रस्सी तैयार की जाती है।

मुरुगेसन बताते हैं कि इस जुगाड़ की मशीन को तैयार करने में करीब एक लाख रुपए का खर्च आया। इसका वे पेटेंट करा चुके हैं। यह मशीन केले के छिलकों को टुकड़ों में काट देती है। इसके बाद मुरुगेसन उन्हें सूखने रख देते हैं। जब ये सूख जाते हैं, तो मशीन में रखकर रस्सी तैयार की जाती है।

मुरुगेसन के साथ आज 100 से ज्यादा लोग जुड़े हुए हैं। इनमें ज्यादातर महिलाओं को काम मिला हुआ है। मुरुगेसन आज केले के छिलकों से रस्सी, चटाई, टोकरी, चादर और अन्य सजावटी चीजें तैयार करा रहे हैं। मुरुगेसन को अब दूसरे देशों से भी ऑर्डर आने लगे हैं। यही नहीं, वे 40 से ज्यादा मशीनें भी बेच चुके हैं। हाल में नाबार्ड ने उन्हें 50 मशीनों का आर्डर दिया है।
 

मुरुगेसन के साथ आज 100 से ज्यादा लोग जुड़े हुए हैं। इनमें ज्यादातर महिलाओं को काम मिला हुआ है। मुरुगेसन आज केले के छिलकों से रस्सी, चटाई, टोकरी, चादर और अन्य सजावटी चीजें तैयार करा रहे हैं। मुरुगेसन को अब दूसरे देशों से भी ऑर्डर आने लगे हैं। यही नहीं, वे 40 से ज्यादा मशीनें भी बेच चुके हैं। हाल में नाबार्ड ने उन्हें 50 मशीनों का आर्डर दिया है।
 

बता दें कि भारत में हर साल 14 मिलियन टन केले का उत्पादन होता है। इनमें तमिलनाडु, महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल, आंध्र प्रदेश, गुजरात और बिहार सबसे ज्यादा केला उगाते हैं। तिरुचिरापल्ली में 'नेशनल रिसर्च सेंटर फॉर बनाना' में केले की छाल से प्रोडक्ट्स तैयार करने की ट्रेनिंग भी दी जाती है।

बता दें कि भारत में हर साल 14 मिलियन टन केले का उत्पादन होता है। इनमें तमिलनाडु, महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल, आंध्र प्रदेश, गुजरात और बिहार सबसे ज्यादा केला उगाते हैं। तिरुचिरापल्ली में 'नेशनल रिसर्च सेंटर फॉर बनाना' में केले की छाल से प्रोडक्ट्स तैयार करने की ट्रेनिंग भी दी जाती है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios