Asianet News Hindi

Fact Check: क्या इंदिरा गांधी ने गलवान घाटी में किया था सैनिकों को संबोधित? जानें वायरल फोटो का सच

First Published Jun 23, 2020, 2:26 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. Indira Gandhi Addressing Soldiers In Galwan Valley Fact Check: लद्दाख की गलवान घाटी में चीन के साथ संघर्ष को लेकर टिप्पणी करते हुए कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को “सरेंडर मोदी” कहा। इसी बीच, सोशल मीडिया पर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की एक तस्वीर वायरल हो रही है जिसमें वे पहाड़ी इलाके में सैनिकों को संबोधित करते हुए दिख रही हैं। इंदिरा गांधी की ये तस्वीर शेयर कर लोग गलवान वैली में सैनिकों को दिए गए भाषण से जोड़कर बता रहे हैं। 

 

फैक्ट चेक में आइए जानते हैं कि आखिर क्या वाकई पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने गलवान वैली में कोई भाषण दिया था? 

यह ब्लैक एंड व्हाइट तस्वीर कई सोशल मीडिया यूजर्स के अलावा उत्तर प्रदेश कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से भी शेयर की गई है। तस्वीर के साथ दावा किया जा रहा है कि इंदिरा गांधी उसी गलवान घाटी में सैनिकों को संबोधित कर रही हैं, जहां इस समय भारत और चीन के बीच संघर्ष चल रहा है।

यह ब्लैक एंड व्हाइट तस्वीर कई सोशल मीडिया यूजर्स के अलावा उत्तर प्रदेश कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से भी शेयर की गई है। तस्वीर के साथ दावा किया जा रहा है कि इंदिरा गांधी उसी गलवान घाटी में सैनिकों को संबोधित कर रही हैं, जहां इस समय भारत और चीन के बीच संघर्ष चल रहा है।

वायरल पोस्ट क्या है? 

 

कई ट्विटर हैंडल जैसे “UP Congress ”, “Spirit of Congress ” और “Indira Gandhi ” ने इस तस्वीर को एक जैसे दावे के साथ ट्वीट किया है। ये सभी ट्वीट वायरल हो रहे हैं। ट्वीट में लिखा है कि इंदिरा गांधी गलवान गैली में सैनिकों के साथ।

वायरल पोस्ट क्या है? 

 

कई ट्विटर हैंडल जैसे “UP Congress ”, “Spirit of Congress ” और “Indira Gandhi ” ने इस तस्वीर को एक जैसे दावे के साथ ट्वीट किया है। ये सभी ट्वीट वायरल हो रहे हैं। ट्वीट में लिखा है कि इंदिरा गांधी गलवान गैली में सैनिकों के साथ।

क्या दावा किया जा रहा है?

 

दावा किया जा रहा है कि, इंदिरा गांधी ने गलवान घाटी में सैनिकों को भाषण दिया था। इसे लोग हाल में 20 सैनिकों की शहादत से जोड़कर केंद्र सरकार पर तंज कस रहे हैं। खासतौर पर कांग्रेस समर्थकों ने ये तस्वीर साझा की है। वेरीफाइड ट्विटर हैंडल  “दिल्ली कांग्रेस” और कांग्रेस नेता “अलका लांबा ” ने भी ​री​ट्वीट की है। 

क्या दावा किया जा रहा है?

 

दावा किया जा रहा है कि, इंदिरा गांधी ने गलवान घाटी में सैनिकों को भाषण दिया था। इसे लोग हाल में 20 सैनिकों की शहादत से जोड़कर केंद्र सरकार पर तंज कस रहे हैं। खासतौर पर कांग्रेस समर्थकों ने ये तस्वीर साझा की है। वेरीफाइड ट्विटर हैंडल  “दिल्ली कांग्रेस” और कांग्रेस नेता “अलका लांबा ” ने भी ​री​ट्वीट की है। 

कई वेरीफाइड फेसबुक पेज जैसे “इंडियन नेशनल कांग्रेस - उत्तर प्रदेश ” और “यूपी ईस्ट यूथ कांग्रेस ” ने भी यही तस्वीर ऐसे ही दावे के साथ शेयर की है। यह पोस्ट फेसबुक, ट्विटर पर भयंकर वायरल है। 

कई वेरीफाइड फेसबुक पेज जैसे “इंडियन नेशनल कांग्रेस - उत्तर प्रदेश ” और “यूपी ईस्ट यूथ कांग्रेस ” ने भी यही तस्वीर ऐसे ही दावे के साथ शेयर की है। यह पोस्ट फेसबुक, ट्विटर पर भयंकर वायरल है। 

फैक्ट चेक 

 

वायरल तस्वीर के साथ किया जा रहा दावा भ्रामक है। यह तस्वीर 1971 में “प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया” (पीटीआई) ने प्रकाशित की थी। इंदिरा गांधी लेह में सैनिकों को संबोधित कर रही थीं, जो कि गलवान घाटी से करीब 220 किलोमीटर दूर है। रिवर्स इमेज सर्च की मदद से हमने पाया कि यह तस्वीर वेबसाइट “art-sheep.com ” पर इंदिरा गांधी पर लिखे गए एक लेख के साथ छपी थी। वेबसाइट पर इस तस्वीर के साथ कैप्शन में लिखा है, “1971 में लेह में जवानों को संबोधित करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की एक दुर्लभ तस्वीर।”

 

हमने इस तस्वीर के असली स्रोत के लिए सर्च किया और पाया कि यह तस्वीर पीटीआई के आर्काइव सेक्शन में मौजूद है। पीटीआई के मुताबिक, यह तस्वीर 1971 में लेह में खींची गई थी। समाचार एजेंसी ने इस तस्वीर का श्रेय DPR (डिफेंस) को दिया है।
 

फैक्ट चेक 

 

वायरल तस्वीर के साथ किया जा रहा दावा भ्रामक है। यह तस्वीर 1971 में “प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया” (पीटीआई) ने प्रकाशित की थी। इंदिरा गांधी लेह में सैनिकों को संबोधित कर रही थीं, जो कि गलवान घाटी से करीब 220 किलोमीटर दूर है। रिवर्स इमेज सर्च की मदद से हमने पाया कि यह तस्वीर वेबसाइट “art-sheep.com ” पर इंदिरा गांधी पर लिखे गए एक लेख के साथ छपी थी। वेबसाइट पर इस तस्वीर के साथ कैप्शन में लिखा है, “1971 में लेह में जवानों को संबोधित करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की एक दुर्लभ तस्वीर।”

 

हमने इस तस्वीर के असली स्रोत के लिए सर्च किया और पाया कि यह तस्वीर पीटीआई के आर्काइव सेक्शन में मौजूद है। पीटीआई के मुताबिक, यह तस्वीर 1971 में लेह में खींची गई थी। समाचार एजेंसी ने इस तस्वीर का श्रेय DPR (डिफेंस) को दिया है।
 

ये निकला नतीजा 

 

इस तरह से स्पष्ट है कि सैनिकों को संबोधित करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की वायरल तस्वीर गलवान घाटी में नहीं, बल्कि लेह में खींची गई थी। भारत और चीन के बीच मौजूदा तनाव गलवान घाटी में है जो कि लेह से करीब 220 किलोमीटर दूर है।

ये निकला नतीजा 

 

इस तरह से स्पष्ट है कि सैनिकों को संबोधित करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की वायरल तस्वीर गलवान घाटी में नहीं, बल्कि लेह में खींची गई थी। भारत और चीन के बीच मौजूदा तनाव गलवान घाटी में है जो कि लेह से करीब 220 किलोमीटर दूर है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios