Asianet News Hindi

ऐसा दिखता है पड़ोसी मुल्क भूटान, लेकिन चीन के चक्कर में कहीं अपना बड़ा भाई न खो दे..देखिए कुछ तस्वीरें

First Published Jun 26, 2020, 2:00 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. लद्दाख की गलवान घाटी में कायराना हरकत को मुंहतोड़ जवाब मिलने से बौखलाया चीन छोटे पड़ोसी देशों को भारत के खिलाफ भड़का रहा है। नेपाल के बाद भूटान भी अपना रंग बदल रहा है। भूटान ने नदी का पानी रोककर असम के किसानों के लिए समस्या खड़ी करने की कोशिश की है। बता दें कि असम के बक्सा जिले के करीब 25 गांवों को 1953 से ही भूटान से सिंचाई के लिए पानी मिलता आ रहा है। अब खबरें आई कि कोरोना की आड़ में भूटान ने नहर में पानी छोड़ना बंद कर दिया। हालांकि भूटान अलग तर्क दे रहा है। उसका कहना है कि नहरों में मरम्मत के कारण पानी नहीं छोड़ा जा रहा है। भूटान ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए अपनी सीमाएं सील कर रखी हैं। फिलहाल वहां जाने पर 21 दिनों तक क्वारेंटाइन होना पड़ेगा। दरअसल, असम के किसान भूटान जाकर पानी डायवर्ट करते थे। लेकिन अभी वे वहां नहीं जा सकते। माना जा रहा है कि चीन के दवाब में आकर भूटान ऐसा कर रहा है। जबकि भारत हमेशा से ही भूटान के लिए बड़े भाई की भूमिका में रहा है। बहरहाल, आइए दिखाते हैं तस्वीरों के जरिये भूटान..
 

पुनाखा वैली में मो चू नदी के किनारे बने मठों की खूबसूरत तस्वीर। भूटान अपने नैसर्गिक सुंदरता के लिए दुनिया में विशिष्ट पहचान रखता है।

पुनाखा वैली में मो चू नदी के किनारे बने मठों की खूबसूरत तस्वीर। भूटान अपने नैसर्गिक सुंदरता के लिए दुनिया में विशिष्ट पहचान रखता है।

यह तस्वीर दोरजी स्थित तख्तसांग मठ की है। इसे टाइगर नेस्ट (Tiger's Nes) भी कहते हैं। यह भूटान के सबसे पवित्र मठों में से एक है। इस तक पहुंचने के लिए 2 घंटे की करीब 3000 मीटर की ऊंचाई पर चढ़ना पड़ता है। यह तस्वीर 3 अप्रैल, 2018 को खींच गई थी।

यह तस्वीर दोरजी स्थित तख्तसांग मठ की है। इसे टाइगर नेस्ट (Tiger's Nes) भी कहते हैं। यह भूटान के सबसे पवित्र मठों में से एक है। इस तक पहुंचने के लिए 2 घंटे की करीब 3000 मीटर की ऊंचाई पर चढ़ना पड़ता है। यह तस्वीर 3 अप्रैल, 2018 को खींच गई थी।

दोरजी स्थित तख्तसांग मठ और भूटान की खूबसूरत वादियां। ये जगहें जन्नत से कम नहीं हैं।

दोरजी स्थित तख्तसांग मठ और भूटान की खूबसूरत वादियां। ये जगहें जन्नत से कम नहीं हैं।

भूटान की राजधानी थिम्फू का एक विहंगम दृश्य। 

भूटान की राजधानी थिम्फू का एक विहंगम दृश्य। 

पश्चिम भूटान की पुनाखा वैली का एक विहंगम दृश्य।

पश्चिम भूटान की पुनाखा वैली का एक विहंगम दृश्य।

खेतों में काम करते भूटानी किसान। यहां के लोग काफी मेहनती माने जाते हैं।

खेतों में काम करते भूटानी किसान। यहां के लोग काफी मेहनती माने जाते हैं।

भूटान की राजधानी थिम्फू की यह तस्वीर 20 अगस्त, 2019 को खींची गई।

भूटान की राजधानी थिम्फू की यह तस्वीर 20 अगस्त, 2019 को खींची गई।

भूटान से ऐसा दिखता है हिमालय पर्वत।

भूटान से ऐसा दिखता है हिमालय पर्वत।

यह तस्वीर थिम्पू स्थित बौद्ध मंदिर की है। बौद्ध की यह मूर्ति पीतल की बनी है। यह तस्वीर अप्रैल, 2016 को खींची गई थी।
 

यह तस्वीर थिम्पू स्थित बौद्ध मंदिर की है। बौद्ध की यह मूर्ति पीतल की बनी है। यह तस्वीर अप्रैल, 2016 को खींची गई थी।
 

थिम्फू स्थित मार्केट। तस्वीर 2004 की है।

थिम्फू स्थित मार्केट। तस्वीर 2004 की है।

भूटान के एक सांस्कृतिक कार्यक्रम की तस्वीर। यह तस्वीर 2 जुलाई, 2008 को खींची गई।

भूटान के एक सांस्कृतिक कार्यक्रम की तस्वीर। यह तस्वीर 2 जुलाई, 2008 को खींची गई।

पारो कस्बे में एक बच्ची स्कूटर के पास खड़े होकर तस्वीर खिंचवाते हुए। यह तस्वीर इसी फरवरी की है।

पारो कस्बे में एक बच्ची स्कूटर के पास खड़े होकर तस्वीर खिंचवाते हुए। यह तस्वीर इसी फरवरी की है।

यह तस्वीर थिम्फू स्थित बौद्ध मंदिर की है। बौद्ध की यह मूर्ति पीतल की बनी है। यह तस्वीर 1 सितंबर, 2013 को खींची गई थी।

यह तस्वीर थिम्फू स्थित बौद्ध मंदिर की है। बौद्ध की यह मूर्ति पीतल की बनी है। यह तस्वीर 1 सितंबर, 2013 को खींची गई थी।

भूटानी छात्राएं। भूटान अपने पहनावे के लिए भी पहचाना जाता है।

भूटानी छात्राएं। भूटान अपने पहनावे के लिए भी पहचाना जाता है।

यह तस्वीर 15 अप्रैल, 2016 की है, जब प्रिंस विलियम और कैथरीन जब भूटान घूमने आए थे। यह तस्वीर थिम्फू की है।

यह तस्वीर 15 अप्रैल, 2016 की है, जब प्रिंस विलियम और कैथरीन जब भूटान घूमने आए थे। यह तस्वीर थिम्फू की है।

स्कूल जाते भूटानी बच्चे। यहां की आबो-हवा इतनी शुद्ध है कि लोग तनाव से दूर रहते हैं। हमेशा प्रसन्नचित्त दिखेंगे।

स्कूल जाते भूटानी बच्चे। यहां की आबो-हवा इतनी शुद्ध है कि लोग तनाव से दूर रहते हैं। हमेशा प्रसन्नचित्त दिखेंगे।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios