Asianet News Hindi

अगर भारत-चीन में युद्ध हुआ..तो जैसा इन तस्वीरों में दिखाई दे रहा है..वैसा ही कुछ बॉर्डर के आर-पार दिखेगा

First Published Jun 18, 2020, 5:05 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

नई दिल्ली. भारत और चीन के बीच जारी विवाद का फिलहाल कोई हल निकलते नहीं दिखाई दे रहा है। आशंकाएं युद्ध की दिखाई दे रही हैं। जिस तरह से चीन ने विश्वासघात करके भारतीय सैनिकों पर हमला किया, उसने दुश्मनी की खाई और भी गहरी कर दी है। वैसे कहते हैं कि युद्ध किसी भी समस्या का हल नहीं होता। लेकिन दुश्मनों को काबू में रखने युद्ध करना एक मजबूरी होती है। वर्ना कोई भी देश सेना नहीं रखती। ये तस्वीरें दुनियाभर में हुए युद्ध/गृहयुद्ध और आतंकी हमलों से उजाड़ हुई जिंदगियों को दिखाती हैं। कैसे आबाद शहर बर्बाद हो गए, कैसे लोगों को दर-दर की ठोंकरे खानी पड़ीं। अगर भारत और चीन के बीच युद्ध हुआ, तो ऐसी तस्वीरें दोनों देशों में जीवंत हो उठेंगी। बता दें कि पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में 15/16 जून की रात चीन ने बेवजह भारतीय सैनिकों पर हमला कर दिया था। इस संघर्ष (India China dispute) में भारत ने अपने 20 जवानों को खोया था। वहीं, चीन के 40 से ज्यादा सैनिक मारे गए। देखिए दुनिया में हुए युद्ध/गृहयुद्ध और आतंकी हमलों से उजाड़ हुई जिंदगियों से जुड़ीं कुछ डरावनी तस्वीरें..

यह तस्वीर तुर्की-सीरिया सीमा से सटे कोबानी शहर की है। यहां इस्लामिक स्टेट के आतंकियों को खदेड़ने के लिए जब अमेरिकी सैनिकों ने हवाई हमला किया था। तस्वीर 18 अक्टूबर, 2014 की है।
 

यह तस्वीर तुर्की-सीरिया सीमा से सटे कोबानी शहर की है। यहां इस्लामिक स्टेट के आतंकियों को खदेड़ने के लिए जब अमेरिकी सैनिकों ने हवाई हमला किया था। तस्वीर 18 अक्टूबर, 2014 की है।
 

यह तस्वीर यमन की राजधानी साना स्थित राष्ट्रपति भवन पर किए गए हवाई हमले के बाद की है। यह हमला 5 दिसंबर, 2017 सऊदी के नेतृत्व वाले विद्रोही गठबंधन ने किया था।

यह तस्वीर यमन की राजधानी साना स्थित राष्ट्रपति भवन पर किए गए हवाई हमले के बाद की है। यह हमला 5 दिसंबर, 2017 सऊदी के नेतृत्व वाले विद्रोही गठबंधन ने किया था।

यह तस्वीर दक्षिणी सर्बिया के एक शहर की है। यहां जब 6 अप्रैल 1999 को उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) ने हवाई हमला किया था।

यह तस्वीर दक्षिणी सर्बिया के एक शहर की है। यहां जब 6 अप्रैल 1999 को उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) ने हवाई हमला किया था।

यह तस्वीर सीरिया की है। जनवरी, 2018 को हवाई हमले के बाद घायलों को ले जाते परिजन।

यह तस्वीर सीरिया की है। जनवरी, 2018 को हवाई हमले के बाद घायलों को ले जाते परिजन।

यह तस्वीर लीबिया की है। जब लीबिया के नेता गद्दाफी के सैनिकों ने विद्रोहियों को पीछे धकेला था। तस्वीर मार्च, 2011 की है।

यह तस्वीर लीबिया की है। जब लीबिया के नेता गद्दाफी के सैनिकों ने विद्रोहियों को पीछे धकेला था। तस्वीर मार्च, 2011 की है।

यह तस्वीर तुर्की-सीरिया सीमा से सटे कोबानी शहर की है। यह सीरिया का प्रमुख शहर है। यहां इस्लामिक स्टेट के आतंकियों ने जब 20 अक्टूबर, 2014 को एक कार में आत्मघाती बम धमाका किया था।

यह तस्वीर तुर्की-सीरिया सीमा से सटे कोबानी शहर की है। यह सीरिया का प्रमुख शहर है। यहां इस्लामिक स्टेट के आतंकियों ने जब 20 अक्टूबर, 2014 को एक कार में आत्मघाती बम धमाका किया था।