Asianet News Hindi

इन लड़ाकू विमानों के नाम से ही कपकपा जाती है दुनिया, अब भारत भी आसमान से नोच सकता है दुश्मनों की नजर

First Published Oct 7, 2020, 3:58 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क : 8 अक्‍टूबर को इंडियन एयरफोर्स डे (Indian Air Force Day) है। 1932 में इसी दिन वायुसेना की स्थापना की गई थी। वायुसेना इस साल 88वां स्थापना दिवस मना रही है। वॉर की स्थिति में वायुसेना बहुत महत्वपूर्ण किरदार निभाती है। भारत के पास रफेल से लेकर सुखोई जैसे उम्दा फाइटर प्लेन हैं। कहते है ना एक अच्छे लड़ाकू विमान से ही कोई भी देश दुनिया पर अपना वर्चस्व कायम कर सकता है। भारत के साथ ही कई ऐसे देश है जिनके पास खतरनाक लड़ाकू विमान (Fighter Plane) है। तो आइए आज जानते है दुनिया के खतरनाक फाइटर प्लेन के बारे में।

डसॉल्ट राफेल 
डसॉल्ट राफेल (Dassault Rafale) फ्रांस सेना का एक अहम हिस्सा है। मॉर्डन टेक्नोलॉजी से बने इस लड़ाकू विमान में परमाणु हमला करने की भी क्षमता है। इसका खुद का रडार सिस्टम है। जिसके जरिए यह दुशमन का पता लगाता है। डसॉल्ट राफेल की ताकत अब भारत के पास भी है। इसे भारत में भी बनाया जा रहा है। 

डसॉल्ट राफेल 
डसॉल्ट राफेल (Dassault Rafale) फ्रांस सेना का एक अहम हिस्सा है। मॉर्डन टेक्नोलॉजी से बने इस लड़ाकू विमान में परमाणु हमला करने की भी क्षमता है। इसका खुद का रडार सिस्टम है। जिसके जरिए यह दुशमन का पता लगाता है। डसॉल्ट राफेल की ताकत अब भारत के पास भी है। इसे भारत में भी बनाया जा रहा है। 

चेंगदू जे- 10 
पड़ोसी देश चीन और पाकिस्तान की वायुसेना की बात की जाए तो चेंगदू जे (थंडर) जैसे लडाकू विमान इनके पास हैं। चेंगदू (Chengdu J10) की खूबी है कि यह किसी भी मौसम में तेजी से हमला कर सकता है। इसमें लेजर गाइडेड बमों के साथ ही सेटेलाइट गाइडेड बम का भी उपयोग किया जाता है। यह वजन में काफी हल्का है। 

चेंगदू जे- 10 
पड़ोसी देश चीन और पाकिस्तान की वायुसेना की बात की जाए तो चेंगदू जे (थंडर) जैसे लडाकू विमान इनके पास हैं। चेंगदू (Chengdu J10) की खूबी है कि यह किसी भी मौसम में तेजी से हमला कर सकता है। इसमें लेजर गाइडेड बमों के साथ ही सेटेलाइट गाइडेड बम का भी उपयोग किया जाता है। यह वजन में काफी हल्का है। 

एफ 35- लाइटनिंग (लॉकहीड मॉर्टिन) 
एफ 35 (F-35 Lightning) अमरीकी फाइटर प्लेन है। मौजूदा समय में एफ 35-लाइटनिंग दुनिया के सबसे खतरनाक और ताकतवर लड़ाकू विमानों में से एक है। ये पूरी तरह से स्टील्थ टेक्नोलॉजी पर बना है। इस विमान की खासियत है कि यह दुनिया के किसी भी कोने में बिना किसी रुकावट के लगातार हमला कर सकता है। कहा जाता है कि ये दुनिया का इकलौता ऐसा लडाकू विमान है जिसे कोई भी देश मात नहीं दे सकता है।

एफ 35- लाइटनिंग (लॉकहीड मॉर्टिन) 
एफ 35 (F-35 Lightning) अमरीकी फाइटर प्लेन है। मौजूदा समय में एफ 35-लाइटनिंग दुनिया के सबसे खतरनाक और ताकतवर लड़ाकू विमानों में से एक है। ये पूरी तरह से स्टील्थ टेक्नोलॉजी पर बना है। इस विमान की खासियत है कि यह दुनिया के किसी भी कोने में बिना किसी रुकावट के लगातार हमला कर सकता है। कहा जाता है कि ये दुनिया का इकलौता ऐसा लडाकू विमान है जिसे कोई भी देश मात नहीं दे सकता है।

साब जेएएस 39 ग्रिपेन 
स्‍वीडन की डिफेंस और सिक्‍योरिटी का ये खास फाइटर प्लेन है। सिंगल सीटर ग्रिपेन ई इसके पुराने वर्जन (ग्रिपेन के) से ज्यादा एडवांस है। यह दुनिया के सबसे ताकतवार लडाकू विमानों में से एक है। ग्रिपेन ई दुनिया में सबसे तेज (मैक-2 स्पीड-सुपरसोनिक) से हमला करती है। मॉर्डन टेक्नोलॉजी से लेस ये लड़ाकू विमान किफायती होना के साथ इसका रखरखाव का खर्च काफी कम होता है।

साब जेएएस 39 ग्रिपेन 
स्‍वीडन की डिफेंस और सिक्‍योरिटी का ये खास फाइटर प्लेन है। सिंगल सीटर ग्रिपेन ई इसके पुराने वर्जन (ग्रिपेन के) से ज्यादा एडवांस है। यह दुनिया के सबसे ताकतवार लडाकू विमानों में से एक है। ग्रिपेन ई दुनिया में सबसे तेज (मैक-2 स्पीड-सुपरसोनिक) से हमला करती है। मॉर्डन टेक्नोलॉजी से लेस ये लड़ाकू विमान किफायती होना के साथ इसका रखरखाव का खर्च काफी कम होता है।

तेजस
तेजस (Tejas) विमान की खासियत इसकी रफ्तार और हल्का वजन है। सबसे बड़ी बात ये कि भारत में तैयार किए गए तेजस की गिनती दुनिया के सबसे खतरनाक लड़ाकू विमानों में होती है। करीब नौ टन के वजन वाला तेजस एक सुपर सोनिक फाइटर जेट है, जो 15 किलोमीटर की ऊंचाई तक उड़ सकता है। एचएएल ने नए तेजस‌ विमान को जैमर-प्रोटक्शन तकनीक से लैस किया है ताकि दुश्मन की सीमा के करीब उसका कम्युनिकेशन जाम ना हो पाए।

तेजस
तेजस (Tejas) विमान की खासियत इसकी रफ्तार और हल्का वजन है। सबसे बड़ी बात ये कि भारत में तैयार किए गए तेजस की गिनती दुनिया के सबसे खतरनाक लड़ाकू विमानों में होती है। करीब नौ टन के वजन वाला तेजस एक सुपर सोनिक फाइटर जेट है, जो 15 किलोमीटर की ऊंचाई तक उड़ सकता है। एचएएल ने नए तेजस‌ विमान को जैमर-प्रोटक्शन तकनीक से लैस किया है ताकि दुश्मन की सीमा के करीब उसका कम्युनिकेशन जाम ना हो पाए।

मेक्डोनेल डगलस एफ-15 स्ट्राइक ईगल 
यह (McDonnell Douglas F-15E Strike Eagle) अमेरिका ही नहीं दुनिया का सबसे तेज वार करने वाला फाइटर प्लेन है। यह एक अमरीकी लड़ाकू विमान है, जो कि चौथी जनरेशन के फाइटर प्लेनों का अहम हिस्सा रह चुका है। इसी के जरिए अमरीका ने इराकी सेना पर हमला किया था।

मेक्डोनेल डगलस एफ-15 स्ट्राइक ईगल 
यह (McDonnell Douglas F-15E Strike Eagle) अमेरिका ही नहीं दुनिया का सबसे तेज वार करने वाला फाइटर प्लेन है। यह एक अमरीकी लड़ाकू विमान है, जो कि चौथी जनरेशन के फाइटर प्लेनों का अहम हिस्सा रह चुका है। इसी के जरिए अमरीका ने इराकी सेना पर हमला किया था।

यूरो फाइटर टाईफून 
इस लडाकू विमान (Eurofighter Typhoon)को जर्मनी, इटली, ब्रिटेन और स्पेन ने मिलकर बनाया है, इसलिए इस विमान को यूरोपीय यूनियन भी कहा जाता है। यह हथियार ले जाने, दुश्मनों पर वार करने, दुश्मन देशों को चकमा देने में सक्षम है। इस विमान में खुद का राडार सिस्टम है। 
 

यूरो फाइटर टाईफून 
इस लडाकू विमान (Eurofighter Typhoon)को जर्मनी, इटली, ब्रिटेन और स्पेन ने मिलकर बनाया है, इसलिए इस विमान को यूरोपीय यूनियन भी कहा जाता है। यह हथियार ले जाने, दुश्मनों पर वार करने, दुश्मन देशों को चकमा देने में सक्षम है। इस विमान में खुद का राडार सिस्टम है। 
 

एफ-22 राप्टर (लॉकहीड मॉर्टिन) 
यह (F-22 Raptor) अमेरिका फाइटर जेट है, जो दुनिया के सबसे शक्तिशाली और महंगे विमानों में से एक है। यह लड़ाकू विमान इतना खतरनाक है कि यह पल भर में दुनिया के किसी भी कोने में हमला कर सकता है। यह किसी भी देश के राडार में भी नहीं आता है। 

एफ-22 राप्टर (लॉकहीड मॉर्टिन) 
यह (F-22 Raptor) अमेरिका फाइटर जेट है, जो दुनिया के सबसे शक्तिशाली और महंगे विमानों में से एक है। यह लड़ाकू विमान इतना खतरनाक है कि यह पल भर में दुनिया के किसी भी कोने में हमला कर सकता है। यह किसी भी देश के राडार में भी नहीं आता है। 

सुखोई एसयू -57 
भारत और रूस का फाइटर जेट सुखोई (Sukhoi Su-57) सबसे स्मार्ट लड़ाकू विमानों में से एक है। क्योंकि इस विमान में किसी भी देश के राडार में न आाने की क्षमता है। इसकी इस खूबी के चलते किसी भी दुशमन देश को चकमा दिया जा सकता है। इसको 5th जनरेशन के रूप में डेवलप किया जा रहा है। 

सुखोई एसयू -57 
भारत और रूस का फाइटर जेट सुखोई (Sukhoi Su-57) सबसे स्मार्ट लड़ाकू विमानों में से एक है। क्योंकि इस विमान में किसी भी देश के राडार में न आाने की क्षमता है। इसकी इस खूबी के चलते किसी भी दुशमन देश को चकमा दिया जा सकता है। इसको 5th जनरेशन के रूप में डेवलप किया जा रहा है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios