Asianet News Hindi

यहां नरेंद्र मोदी से भी ज्यादा सैलरी पाते हैं टीचर्स, दुनिया के इन देशों में शिक्षक बनते ही मालामाल हो जाते है

First Published Sep 5, 2020, 9:18 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

हटके डेस्क: आज 5 सितंबर को भारत में शिक्षक दिवस मनाया जा रहा है। वैसे तो इस बार का टीचर्स डे कई मायनों में अलग है। जहां पहले इस दिन स्कूलों में नाच-गाना होता था, वहीं इस साल कोरोना के कारण स्कूल बंद हैं। ऐसे में स्टूडेंट्स ऑनलाइन ही टीचर्स को विश करेंगे। बात अगर टीचर्स की इंडिया में करें तो यहां उन्हें सम्मान काफी मिलता है। लेकिन पैसों की बात आते है टीचर्स उदास हो जाते हैं। अगर सरकारी नौकरी है तब तो ठीक है लेकिन प्राइवेट स्कूलों के टीचर्स की हालत खराब है। लेकिन दुनिया के कुछ देश ऐसे हैं जहां टीचर बनना जैकपोट लगने की तरह है। इन देशों में टीचर्स की सैलरी भारत के प्रधानमंत्री से भी ज्यादा है। आज हम आपको उन देशों के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां टीचर बनते ही शख्स लखपति बन जाता है।

स्विट्ज़रलैंड:  इस देश के ज्यूरिख एरिया में काम करने वाले टीचर्स को सालाना 80 लाख से ज्यादा सैलरी मिलती है। यहां 13-महीने के वेतन प्रणाली के तहत सालाना टीचर्स 80 लाख कमा लेते हैं। हालांकि, ज्यूरिख के बाहर के लोग जैसे सेंट गैलन में टीचर्स को सालाना कम से कम 11 लाख रूपये बना सकते हैं।

स्विट्ज़रलैंड:  इस देश के ज्यूरिख एरिया में काम करने वाले टीचर्स को सालाना 80 लाख से ज्यादा सैलरी मिलती है। यहां 13-महीने के वेतन प्रणाली के तहत सालाना टीचर्स 80 लाख कमा लेते हैं। हालांकि, ज्यूरिख के बाहर के लोग जैसे सेंट गैलन में टीचर्स को सालाना कम से कम 11 लाख रूपये बना सकते हैं।

लक्सेम्बर्ग: इस यूरोपियन देश में टीचर को सालाना 73 लाख 18 हजार रूपये मिलते हैं। प्राइमरी स्कूल के टीचर्स की शुरूआती सैलरी जहां 51 लाख है, वहीं जैसे जैसे ग्रेड बढ़ता है, सैलरी भी बढ़ती जाती है। सेकंड्री क्लास में पढ़ाने वाले टीचर्स को यहां शुरुआत में ही 57 लाख सालाना मिलता है।

लक्सेम्बर्ग: इस यूरोपियन देश में टीचर को सालाना 73 लाख 18 हजार रूपये मिलते हैं। प्राइमरी स्कूल के टीचर्स की शुरूआती सैलरी जहां 51 लाख है, वहीं जैसे जैसे ग्रेड बढ़ता है, सैलरी भी बढ़ती जाती है। सेकंड्री क्लास में पढ़ाने वाले टीचर्स को यहां शुरुआत में ही 57 लाख सालाना मिलता है।

कनाडा: यहां टीचर्स की सैलरी सालाना 54 लाख है। इसमें भी नुनावुत के स्कूलों में टीचर्स को सबसे अच्छी सैलरी दी जाती है। जबकि मोंट्रियल में सबसे कम। मोंट्रियल में टीचर्स को स्कूल में सालाना 54 लाख से भी ज्यादा पैसे दिए जाते हैं।

कनाडा: यहां टीचर्स की सैलरी सालाना 54 लाख है। इसमें भी नुनावुत के स्कूलों में टीचर्स को सबसे अच्छी सैलरी दी जाती है। जबकि मोंट्रियल में सबसे कम। मोंट्रियल में टीचर्स को स्कूल में सालाना 54 लाख से भी ज्यादा पैसे दिए जाते हैं।

जर्मनी: यहां टीचर्स की एवरेज सैलरी 51 लाख रूपये है। यहां शुरुआत में टीचर्स को 32 लाख का पैकेज मिलता है, जो एक्सपीरियंस के साथ बढ़ता ही जाता है।
 

जर्मनी: यहां टीचर्स की एवरेज सैलरी 51 लाख रूपये है। यहां शुरुआत में टीचर्स को 32 लाख का पैकेज मिलता है, जो एक्सपीरियंस के साथ बढ़ता ही जाता है।
 

नीदरलैंड: यहां टीचर्स की एवरेज सैलरी 49 लाख रूपये है। जैसे-जैसे अनुभव बढ़ता जाता है वैसे वैसे इनकी सैलरी भी बढ़ती जाती है।

नीदरलैंड: यहां टीचर्स की एवरेज सैलरी 49 लाख रूपये है। जैसे-जैसे अनुभव बढ़ता जाता है वैसे वैसे इनकी सैलरी भी बढ़ती जाती है।

ऑस्ट्रेलिया: यहां भी टीचर्स की एवरेज सैलरी 49 लाख है। लेकिन एक्सपीरियंस वालों को यहाँ 71 लाख का पैकेज भी मिलता है।

ऑस्ट्रेलिया: यहां भी टीचर्स की एवरेज सैलरी 49 लाख है। लेकिन एक्सपीरियंस वालों को यहाँ 71 लाख का पैकेज भी मिलता है।

यूनाइटेड स्टेट्स: यहां टीचर्स की एवरेज सैलरी 44 लाख है। इसमें न्यूयॉर्क के टीचर्स को सबसे ज्यादा सैलरी मिलती है जबकि साउथ डकोटा के टीचर्स को सबसे कम। सबसे कम का मतलब है उन्हें 31 लाख सालाना का पैकेज मिलता है

यूनाइटेड स्टेट्स: यहां टीचर्स की एवरेज सैलरी 44 लाख है। इसमें न्यूयॉर्क के टीचर्स को सबसे ज्यादा सैलरी मिलती है जबकि साउथ डकोटा के टीचर्स को सबसे कम। सबसे कम का मतलब है उन्हें 31 लाख सालाना का पैकेज मिलता है

आयरलैंड: यहाँ के टीचर्स को एवरेज 39 लाख का पैकेज मिलता है। वहीँ कुछ सालों के एक्सपीरियंस के बाद उनकी सैलरी बढ़ा दी जाती है। शुरुआत में उन्हें 22 लाख का पैकेज दिया जाता है।

आयरलैंड: यहाँ के टीचर्स को एवरेज 39 लाख का पैकेज मिलता है। वहीँ कुछ सालों के एक्सपीरियंस के बाद उनकी सैलरी बढ़ा दी जाती है। शुरुआत में उन्हें 22 लाख का पैकेज दिया जाता है।

डेनमार्क: यहां 38 लाख की सैलरी टीचर्स के लिए एवरेज है। शुरुआत में टीचर्स को 25 लाख का पैकेज मिलता है जो समय के साथ बढ़ता जाता है।

डेनमार्क: यहां 38 लाख की सैलरी टीचर्स के लिए एवरेज है। शुरुआत में टीचर्स को 25 लाख का पैकेज मिलता है जो समय के साथ बढ़ता जाता है।

ऑस्ट्रिया: यहां शिक्षक 37 लाख का औसत सैलरी पाते हैं। जबकि एक्सपीरिएंस्ड टीचर्स को ये देश इससे भी अधिक वेतन पर रखता है। 

ऑस्ट्रिया: यहां शिक्षक 37 लाख का औसत सैलरी पाते हैं। जबकि एक्सपीरिएंस्ड टीचर्स को ये देश इससे भी अधिक वेतन पर रखता है। 

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios