Asianet News HindiAsianet News Hindi

India@75: क्रांतिकारी संपादक गणेश शंकर विद्यार्थी, जो हिंदू-मुस्लिम एकता के लिए शहीद हो गए

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान गणेश शंकर विद्यार्थी का नाम अंग्रेजी हुकूमत के लिए मुसीबत का सबब बन गया था। गणेश शंकर विद्यार्थी को कानपुर का शेर कहा जाता था। वे पत्रकार थे और अंग्रेजों के खिलाफ जमकर लिखते थे।

India at 75 the lion of kanpur-Ganesh Shankar Vidyarthi know about him mda
Author
New Delhi, First Published Aug 15, 2022, 2:50 PM IST

नई दिल्ली. एक पत्रकार जिन्हें कानपुर का शेर कहा जाता था, अंततः आजादी के लिए लड़ाई के दौरान हिंदू-मुस्लिम एकता के लिए शहीद हुए। वे प्रताप के संस्थापक संपादक थे। प्रताप हिंदी प्रकाशन था जो स्वतंत्रता संग्राम का तेजतर्रार मुखपत्र था महान गणेश शंकर विद्यार्थी संपादक थे।

कौन थे गणेश शंकर विद्यार्थी
गणेश शंकर का जन्म इलाहाबाद के निकट फतेहपुर में 1890 में एक गरीब परिवार में हुआ था। वह स्कूली शिक्षा से आगे नहीं जा सके और जीवन में जल्दी ही काम करना शुरू कर दिया। मात्र 16 वर्ष की आयु में उन्होंने अपनी पहली पुस्तक प्रकाशित की और पत्रकारिता के क्षेत्र में आ गए। वह कर्मयोगी और स्वराज्य जैसे शक्तिशाली राष्ट्रवादी पत्रिकाओं से भी जुड़े थे। गणेश शंकर विद्यार्थी को शक्तिशाली लेख लिखने के लिए चुना गया था। महज 21 साल की उम्र में ही विद्यार्थी हिंदी पत्रकारिता में महावीर प्रसाद द्विवेदी के नेतृत्व में प्रसिद्ध साहित्यिक प्रकाशन सरस्वती से जुड़ गए। 

प्रताप के संस्थापक संपादक
गणेश शंकर विद्यार्थी राजनीतिक पत्रकारिता से दूर नहीं रह सके और 1913 में उन्होंने प्रताप की स्थापना की जो जल्द ही न केवल देश की आजादी के लिए बल्कि अनुसूचित जातियों, मिल मजदूरों, किसानों और हिंदू मुस्लिम सद्भाव और क्रांतिकारी पत्रकारिता के लिए जाना जाने लगा। विद्यार्थी की साहसिक पत्रकारिता ने असंख्य मुकदमे, जुर्माना और जेल की सजा दी। 1916 में विद्यार्थी, गांधीजी से मिले और स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय हो गए। उन्होंने कानपुर की पहली मिल मजदूरों की हड़ताल कराई। सनसनीखेज भाषण देने के लिए विद्यार्थी पर देशद्रोह का मामला दर्ज किया गया और जेल भेज दिया गया। 

भगत सिंह से मिले विद्यार्थी
गणेश शंकर विद्यार्थी जब रिहा हुए तो भगत सिंह और अन्य साथियों से मिले और उनके करीबी सहयोगी बन गए। 1926 में वे कानपुर से विधानसभा के लिए चुने गए और जल्द ही उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष बन गए। विद्यार्थी को 1930 में नमक सत्याग्रह का नेतृत्व करने के लिए फिर से गिरफ्तार किया गया था। वह गरीबों के हितों की हिमायत करके कांग्रेस पार्टी को कट्टरपंथी बनाने के पक्षधर थे। खादी के प्रचार-प्रसार के लिए उन्होंने नरवाल में एक आश्रम की स्थापना की।

कानपुर का दंगा
1931 में कानपुर में हिंदुओं और मुसलमानों के बीच हिंसक सांप्रदायिक झड़पें हुईं। तब दोनों समुदायों के बीच शांति लाने के लिए विद्यार्थी इसमें कूद गए और अज्ञात बदमाशों ने उसकी चाकू मारकर हत्या कर दी। उनके परिवार का मानना ​​​​था कि उनकी हत्या के पीछे ब्रिटिश अधिकारियों की साजिश थी। क्योंकि वे कांग्रेस पार्टी और भगत सिंह जैसे क्रांतिकारियों के बीच सेतु थे। तब गांधीजी ने कहा कि विद्यार्थी का खून हिंदुओं और मुसलमानों के बीच संबंधों को मजबूत करेगा।

यहां देखें वीडियो

यह भी पढ़ें

स्वतंत्रता दिवस विशेष: कौन है ये सीकर के सपूत, जिन्होंने दिया था गांधीजी को 'बापू' नाम, और थे उनके 5वें पुत्र

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios