Asianet News Hindi

Deep Dive with Abhinav Khare: भगवत गीता, कर्म इस तरह करो कि वह यज्ञ बन जाए

अर्जुन उलझन में हैं। वह समझ नहीं पा रहे हैं कि जो श्रीकृष्ण ज्ञान के मार्ग की वकालत करते हैं, वही उन्हें कर्म के लिए मजबूर कर रहे हैं। श्रीकृष्ण फिर अर्जुन को दो मार्ग बताते हैं:  पहला ज्ञान का मार्ग (ज्ञान) और दूसरा क्रिया का मार्ग (कर्म)। श्रीकृष्ण के अनुसार, हमारा सही कर्म पूजा का दूसरा रूप है और केवल सही कर्म करने से ही हम स्वतंत्रता पा सकते हैं। 

Deep Dive with Abhinav Khare: Tracking chapter 3 karma yog in Bhagvad Geeta
Author
New Delhi, First Published Oct 4, 2019, 7:13 PM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

अर्जुन उलझन में हैं। वह समझ नहीं पा रहे हैं कि जो श्रीकृष्ण ज्ञान के मार्ग की वकालत करते हैं, वही उन्हें कर्म के लिए मजबूर कर रहे हैं। श्रीकृष्ण फिर अर्जुन को दो मार्ग बताते हैं:  पहला ज्ञान का मार्ग (ज्ञान) और दूसरा क्रिया का मार्ग (कर्म)। श्रीकृष्ण के अनुसार, हमारा सही कर्म पूजा का दूसरा रूप है और केवल सही कर्म करने से ही हम स्वतंत्रता पा सकते हैं। बुद्धिमान लोगों से सही कार्य भी अन्य लोगों के लिए एक मिसाल कायम करते हैं। तब श्रीकृष्ण बताते हैं कि यहां तक कि वे लालसा या कुछ भी नहीं चाहने के बावजूद भी कर्म से नहीं भागते हैं। यदि वह निष्क्रिय हो जाते हैं, तो अन्य सभी मनुष्य उनके कार्यों का अनुसरण करते और निष्क्रिय भी हो जाते। श्रीकृष्ण ने भी अर्जुन को अपने कार्यों से "मैं" हटाकर अपने अहंकार से ऊपर उठने के लिए कहा। उन्हें खुद यह सोचना बंद करना चाहिए कि किसी भी कार्य के लिए एकमात्र कर्ता है। इसके बजाय, उन्होंने अर्जुन को हमेशा याद रखने को कहा कि बंदूकों पर बंदूक चलाना कार्रवाई है। कृष्ण ने यह भी जोर देकर कहा कि हमें अपना कर्तव्य निष्ठां के साथ निभाना चाहिए। 
अर्जुन ने तब श्रीकृष्ण से पूछा कि आखिर पुरुष बुरे कार्यों की ओर क्यों रुख करते हैं? इस पर कृष्ण उन्हें समझाते हैं कि वे राजस नामक एक विशेष गुण से प्रेरित हैं, जिसमें जुनून और हिंसा दोनों की भावनाएं हैं। यदि यह गुन लोगों पर हावी हो जाता है तो इच्छा और क्रोध से बाहर निकलता है। तब यह बुरी क्रिया का मूल कारण बन जाता है। अगर हम इससे बचना चाहते हैं, तो हमारा दिमाग हमारी इंद्रियों से ज्यादा मजबूत होना चाहिए और हमारी खुद की समझ हमारे दिमाग पर हावी होनी चाहिए।

Deep Dive With Abhinav Khare

पसंदीदा श्लोक 

तस्मादसक्त: सततं कार्यं कर्म समाचर |असक्तो ह्याचरन्कर्म परमाप्नोति पूरुष: || - श्लोक 19
श्रीकृष्ण अर्जुन को कर्म योगी बनने की सलाह देते हैं न कि कर्म संन्यासी बनने की। जो लोग अभी तक पारलौकिक मंच पर नहीं पहुंचे हैं, उन्हें अपना कर्तव्य निभाते रहना चाहिए।

विश्लेषण इस अध्याय का केंद्रीय विषय कार्रवाई बनाम निष्क्रियता, या बुराई बनाम अच्छाई की व्याख्या है। श्रीकृष्ण बताते हैं कि प्रत्येक व्यक्ति को तीन गन (गुण) का सही संतुलन होना चाहिए: सत्व या पवित्रता और रचनात्मकता; राजस या आवेश और तमस या अंधकार और विनाश। इन गुणों में से किसी में असंतुलन एक तबाही का कारण हो सकता है। जैसा कि ऊपर बताया गया है, अगर किसी व्यक्ति के पास रजस अधिक है, तो उसे जुनून और अहंकार द्वारा शासित किया जा सकता है। 

Abhinav Khare

श्रीकृष्ण ने हमेशा हर चीज के केंद्र के रूप में कर्तव्य को रखा है और उनका मानना है कि यह अन्य सभी व्यक्तियों का विश्वदृष्टि होना चाहिए। गीता में कर्तव्य वास्तव में धर्म है जो मोटे तौर पर विभिन्न अनुष्ठानों और नैतिक व्यवहार की एक सर्वव्यापी विचारधारा में अनुवाद करता है। कृष्ण के अनुसार, जो कोई भी अपने धर्म की उपेक्षा करता है, उसके बुरे सामाजिक और व्यक्तिगत परिणाम भुगतने होंगे। अर्जुन अपनी क्षमता के अनुसार अपने धर्म का सम्मान करने की कोशिश करते हैं। इसके बावजूद, अर्जुन यह समझने के लिए संघर्ष करते हैं कि उनका धर्म क्या है, जिसके लिए कृष्ण जवाब देते हैं कि अर्जुन एक योद्धा हैं और उनका धर्म युद्ध लड़ना है।

कौन हैं अभिनव खरे

अभिनव खरे एशियानेट न्यूज नेटवर्क के सीईओ हैं, वह डेली शो 'डीप डाइव विथ अभिनव खरे' के होस्ट भी हैं। इस शो में वह अपने दर्शकों से सीधे रूबरू होते हैं। वह किताबें पढ़ने के शौकीन हैं। उनके पास किताबों और गैजेट्स का एक बड़ा कलेक्शन है। बहुत कम उम्र में दुनिया भर के सौ से भी ज्यादा शहरों की यात्रा कर चुके अभिनव टेक्नोलॉजी की गहरी समझ रखते है। वह टेक इंटरप्रेन्योर हैं लेकिन प्राचीन भारत की नीतियों, टेक्नोलॉजी, अर्थव्यवस्था और फिलॉसफी जैसे विषयों में चर्चा और शोध को लेकर उत्साहित रहते हैं। उन्हें प्राचीन भारत और उसकी नीतियों पर चर्चा करना पसंद है इसलिए वह एशियानेट पर भगवद् गीता के उपदेशों को लेकर एक सक्सेजफुल डेली शो कर चुके हैं।
अंग्रेजी, हिंदी, बांग्ला, कन्नड़ और तेलुगू भाषाओं में प्रासारित एशियानेट न्यूज नेटवर्क के सीईओ अभिनव ने अपनी पढ़ाई विदेश में की हैं। उन्होंने स्विटजरलैंड के शहर ज्यूरिख सिटी की यूनिवर्सिटी ETH से मास्टर ऑफ साइंस में इंजीनियरिंग की है। इसके अलावा लंदन बिजनेस स्कूल से फाइनेंस में एमबीए (MBA)भी किया है।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios