Asianet News HindiAsianet News Hindi

भारत चीन के बीच नहीं है कोई तनाव, जवानों से भी मिले राजनाथ सिंह

राजनाथ सिंह भारत के बामुला चौकी का निरीक्षण किया। इस दौरान एक्चुअल लाइन कंट्रोल पर तैनात सैनिकों से मुलाकात की। इससे पहले उन्होंने सीमा पर रह रहे लोगों से भी मुलाकात की। 

There is no tension between India and China, Rajnath Singh also met the soldiers
Author
Arunachal Pradesh, First Published Nov 15, 2019, 11:10 AM IST
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp

तवांग. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को  भारत के बामुला चौकी का निरीक्षण किया। इस दौरान एक्चुअल लाइन कंट्रोल पर तैनात सैनिकों से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने कहा कि  सीमा पर तैनात जवानों से मुलाकात करने का मौका मिला। इस दौरान जवानों ने रक्षामंत्री से कहा, यहां कोई तनाव नहीं है। 

लोगों से भी की मुलाकात 

अरूणाचल प्रदेश के दौरे पर गए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने सीमावर्ती क्षेत्रों में रहने वाले लोगों से भी मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने लोगों को कोई साधारण नागरिक नहीं बल्कि ‘सामरिक संपत्ति’ बताया और कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नये भारत के निर्माण के लिए जिस मार्ग की परिकल्पना की है वह रास्ता ‘नये पूर्वोत्तर’ से गुजरता है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार अरूणाचल प्रदेश को दक्षिण पूर्व एशिया के लिए भू-सेतु के रूप में विकसित करने के लिए पूर्वोत्तर औद्योगिक गलियारे पर काम कर रही है।

मैत्री दिवस कार्यक्रम में लिया हिस्सा

चीन की सीमा से सटे इस क्षेत्र में नागरिक-सेना दोस्ती को बढ़ावा देने के लिए यहां आयोजित ‘मैत्री दिवस’ समारोह को संबोधित करते हुए सिंह ने कहा कि यहां रहने वाले लोग देश के लिए सामरिक रूप से महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने कहा कि लद्दाख क्षेत्र के लोगों ने ही कारगिल में पाकिस्तान की घुसपैठ के बारे में पहली सूचना दी थी। उन्होंने कहा, ‘‘ यही वजह है कि मैं कहता हूं कि यहां सीमा के पास रह रहे लोग साधारण नागरिक नहीं बल्कि वे हमारी सामरिक संपत्ति हैं।’’

 

अरूणाचल बनेगा भू-सेतू

रक्षा मंत्री ने कहा, ‘‘ भारत . चीन सीमा पर रह रहे नागरिकों को मैं साधारण नागरिक नहीं समझता। मैं मानता कि वे हमारे सामरिक संपत्ति हैं।’’ उन्होंने कहा कि सरकार पूर्वोत्तर औद्योगिक गलियारा विकसित करने पर काम कर रही है जिससे रोजगार सृजित होगा। उन्होंने कहा कि अरुणाचल प्रदेश दक्षिण पूर्व एशिया के लिए भू-सेतु के रूप काम करेगा जहां व्यापार, नौकरियां, पर्यटन और आर्थिक अवसर प्रचुरता के साथ उपलब्ध होंगे।

Follow Us:
Download App:
  • android
  • ios