मेक इन इंडिया के तहत ग्रीन हेलीकाॅप्टर नौसेना के बेडे में शाामिल कर लिया गया है। तीन ग्रीन हेलीकाप्टर नौसेना के बेडे में औपचारिक रूप से शामिल किए गए। 
नौसेना में इन तीन हेलीकॉप्टर को शामिल करने के लिए भारतीय नौसेना की एयर स्क्वाड्रन आईएनएस हंसा पर कार्यक्रम भी आयोजित किया गया। पश्चिमी नौसेना कमान के कमांडर-इन-चीफ वाइस एडमिरल हरी कुमार व रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक की मौजूदगी में यह कार्य सम्पन्न हुआ। राज्य मंत्री नाइक ने कहा, 'सभी हेलीकॉप्टर मिल जाने पर भारत की तटीय सुरक्षा और मजबूत होगी।'    

'ध्रुव' एडवांस्ड लाइट मार्क-III हेलीकॉप्टरों से भारत की तटीय सुरक्षा और होगी मजबूत 

मुंबई पर आतंकी हमला होने के 9 साल बाद मार्च, 2017 में हिन्दुस्तान एयरोनाटिक्स लिमिटेड (एचएएल) के साथ लगभग 5,126 करोड़ रुपये के अनुबंध पर हस्ताक्षर करके मार्क-III के 16 हेलीकॉप्टरों का ऑर्डर दिया गया था। हरे रंग के इन हेलीकॉप्टरों में तटीय सुरक्षा की जरूरतों के लिहाज से 19 तरह के बदलाव किये गए हैं। स्वदेश निर्मित 'ध्रुव' एडवांस्ड लाइट हेलीकॉप्टरों ने परीक्षण के दौरान 3 लाख घंटे की उड़ान भरकर बहुमुखी कार्यों में अपनी speciality को साबित किया है। अनुबंध के तहत पांच साल के भीतर 16 एएलएच ध्रुव हेलीकॉप्टरों (फिक्स्ड व्हील) की आपूर्ति नौसेना और इंडियन कोस्ट गार्ड को की जानी थी। 

HAL को ऑर्डर किये गए 16 हेलीकॉप्टर

HAL के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक आर माधवन ने एयरो इंडिया के आखिरी दिन 05 फरवरी, 2021 को पांच हेलीकॉप्टरों का पहला बैच नौसेना अध्यक्ष एडमिरल करमबीर सिंह को सौंपा था। इसमें 02 हेलीकॉप्टर इंडियन कोस्ट गार्ड पहले ही अपने बेड़े में शामिल कर चुकी है। समारोह में रक्षा राज्य मंत्री नाइक ने कहा कि भारतीय नौसेना की एयर स्क्वाड्रन 323 समुद्री सुरक्षा बढ़ाने और राष्ट्र के समुद्री हितों की रक्षा करने के प्रयासों में मील का पत्थर साबित हुई है। यह स्क्वाड्रन तीन अत्याधुनिक एएलएच एमके-III का संचालन करेगी। इन ग्रीन हेलीकॉप्टरों का उपयोग खोज और बचाव, विशेष संचालन और तटीय निगरानी के लिए किया जाएगा। एचएएल को ऑर्डर किये गए 16 हेलीकॉप्टर चरणबद्ध तरीके से भारतीय नौसेना और इंडियन कोस्ट गार्ड को मिल रहे हैं।