दो अमेरिकी महिलाओं ने Apple Inc पर दायर किए केस, Airtag की मदद से स्टॉकिंग कर रहे यूजर्स

| Dec 07 2022, 01:05 PM IST

दो अमेरिकी महिलाओं ने Apple Inc पर दायर किए केस, Airtag की मदद से स्टॉकिंग कर रहे यूजर्स

सार

दरअसल, Apple पर हाल ही में दो अलग महिलाओं ने मुकदमा दायर किया गया है। सैन फ्रांसिस्को फेडरल कोर्ट में सोमवार को दायर एक कार्रवाई में इन महिलाओं ने कहा कि एप्पल अपने यूजर्स को स्टॉकिंग से बचाने में असमर्थ रहा है, जबकि 2021 में 'स्टाकर प्रूफ' डिवाइस में अनवॉन्टेड स्टॉकिंग से बचने का दावा किया गया था।

टेक न्यूज. Ex Partners and stalkers Track Victims with the help of Aple devices: हाल ही में दो महिलाओं ने Apple Inc पर अलग-अलग मुकदमा दायर किया गया है। दोनों महिलाओं का कहना है कि एप्पल के AirTag डिवाइस की मदद से एक्स पार्टनर उन्हें ट्रैक कर रहे हैं और इसकी मदद से स्टॉकर्स के लिए महिलाओं को ट्रैक करना आसान हो गया है। अभी तक इन दोनों ही मामलों पर एप्पल की तरफ से कोई बयान सामने नहीं आया है। बता दें कि Apple ने AirTag को यूजर्स को अपने सामान को ट्रैक करने में मदद करने के लिए लॉन्च किया था। जैसे अगर कभी आपकी चाबी, पर्स या कोई बहुमूल्य वस्तु खो जाए तो इसकी मदद से आप उसे खोज सकें। बहरहाल, यहां तो कुछ और ही मामले सामने आ रहे हैं। इस खबर में जानिए इन दोनों मामलों की पूरी डिटेल...

स्टॉकिंग से बचाने में रहा असमर्थ
दरअसल, Apple पर हाल ही में दो अलग महिलाओं ने मुकदमा दायर किया गया है। सैन फ्रांसिस्को फेडरल कोर्ट में सोमवार को दायर एक कार्रवाई में इन महिलाओं ने कहा कि एप्पल अपने यूजर्स को स्टॉकिंग से बचाने में असमर्थ रहा है, जबकि 2021 में 'स्टाकर प्रूफ' डिवाइस में अनवॉन्टेड स्टॉकिंग से बचने का दावा किया गया था। चलिए अब जानते हैं कि इन दोनों मामलों में आखिर हुआ क्या?

Subscribe to get breaking news alerts

पहला मामला: पहले मामले में एक महिला में एप्पल पर तब मुकदमा दायर किया जब उसे पता चला कि उसका पूर्व प्रेमी Apple Airtag की मदद से उसका पीछा कर रहा है। इस एयरटैग की मदद से उसका पूर्व प्रेमी हर वक्त यह पता लगा लेता था कि पीड़ित महिला कहां है। जबकि लड़की अपने प्रेमी से बचने की कोशिश कर रही थी क्योंकि वह उसे परेशान कर रहा था।

दूसरा मामला: वहीं दूसरे मामले में एक अन्य महिला ने एप्पल के खिलाफ मामला दर्ज कराया। इस महिला का आरोप था कि उसके पूर्व पति ने उसके बच्चे के बैकपैक में एयरटैग लगाकर उन पर नजर रखने का प्रयास किया था। आपको बता दें कि यह ऐसे पहल मामले नहीं हैं। इसके पहले भी कई ऐसे मामले सामने आए हैं जहां लोगों ने Apple के इस प्रोडक्ट का इस्तेमाल लोगों को स्टॉक करने के लिए किया है।

फरवरी में मिला था नया अपडेट
बता दें कि एप्पल ने फरवरी में अपने इस प्रोडक्ट में अपडेट की अनाउंसमेंट की थी। एप्पल ने कहा था कि यह अपडेट्स एयरटैग के जरिए होने वाली अनवांटेड ट्रैकिंग को रोक देगा। वहीं यह भी दावा किया गया था कि अगर उनके सामान में कोई अनजान एयरटैग है तो यूजर्स को अलर्ट भी मिलेगा। एप्पल इस तरह के मामलों की पहले भी यह कहते हुए निंदा कर चुका है कि कंपनी ने AirTag को लोगों या किसी अन्य व्यक्ति की संपत्ति को ट्रैक करने के लिए नहीं बल्कि लोगों को उनके निजी सामान का पता लगाने और खोजने में मदद करने के लिए डिज़ाइन किया था।

और पढ़ें...

नए साल से पहले RBI का झटका: रेपो रेट में बढ़ोतरी के चलते अब महंगी होगी EMI, कर्ज लेना भी हुआ महंगा

214 करोड़ की Rolls Royce में मौजूद है शैम्पेन फ्रिज और सन अम्ब्रेला, ये हैं दुनिया की 10 सबसे महंगी कारें

भारत में लॉन्च हुआ वोक्सवैगन टिगुआन का एक्सक्लूसिव एडिशन, फीचर्स बढ़े पर कीमत में नहीं हुआ कोई बदलाव

AI face scanning के जरिए फेसबुक डेटिंग पर यूजर्स की उम्र का पता लगाएगा Meta