क्या यूजर फ्रेंडली भी है Eco Friendly सोलर कार, 5 पॉइंट में जानें फायदे और नुकसान

| Jan 24 2023, 06:25 PM IST

Solar Car

सार

सोलर ऊर्जा से चलने वाली गाड़ियों पर कई कंपनियां काम कर रही हैं। दुनिया की पहली सोलर कार नीदरलैंड की एक कंपनी ने बनाया है। जिसका नाम लाइटइयर जीरो है। दावा है कि सिंगल चार्ज पर इस कार को करीब 700KM तक ले जा सकते हैं।

ऑटो डेस्क : कभी कल्पना वाली सोलर कार (Solar Car) को आज कुछ स्टार्टअप ने साकार कर दिया है। इसका कॉन्सेप्ट मॉडल सामने आ चुका है। उम्मीद है कि आने वाला समय इलेक्ट्रिक, हाइड्रोजन के साथ सोलर कारों का भी होगा। इसे ICE इंजन के विकल्प के तौर पर देखा जा रहा है। सोलर कार को ईको फ्रेंडली (Eco Friendly) माना जा रहा है। लेकिन सबसे बड़ा सवाल कि पर्यावरण को फायदा पहुंचाने के साथ-साथ क्या यह कार आपके लिए भी फायदेमंद है। आइए 5 पॉइंट में समझते हैं..

सोलर कार कैसे चलती है

Subscribe to get breaking news alerts

सूरज की रोशनी से चलने वाली कारों को सोलर कार कहा जाता है। इसके इंजन को चलाने के लिए सौर ऊर्जा से पावर मिलती है। कार में सौर पैनल लगाए जाते हैं। इसमें लगा फोटोवोल्टिक सेल सूर्य की ऊर्जा को बिजली में बदल देता है। इसी से इंजन को स्टार्ट करने में मदद मिलती है। सोलर कार में सोलर पैनल, बैटरी, इलेक्ट्रिक मोटर और हैंडलिंग सिस्टम यूज किया जाता है। जिससे यह चलती है।

भारत की पहली सोलर कार

इसी महीने हुए Auto Expo 2023 में पुणे की स्टार्टअप वायवे मोबिलिटी ने देश की पहली सोलर कार पेश की। 2 सीटर के साथ यह कॉन्सेप्ट कार है। जिसे एक बार चार्ज करने पर 250KM तक चलाया जा सकता है।

Solar Car कितना फायदेमंद

  • सोलर कारों की फायदों की लिस्ट लंबी है।
  • सौर ऊर्जा पर बेस्ड इन कारों से कार्बन गैस का उत्सर्जन नहीं होता है, जिससे वायु प्रदूषण नहीं होता है।
  • ICE इंजन वाली गाड़ियों के मुकाबले सोलर गाड़ियों में ध्वनि प्रदूषण कम होता है।
  • ICE इंजन की तुतना में सोलर कारों के रखरखाव की जरुरत कम होती है।
  • सोलर कार में न तो पेट्रोल, न डीजल और ना ही गैस की आवश्यकता होती है, जिससे नॉन रिन्यूबल एनर्जी का यूज कम होता है।

Solar Car कितना नुकसानदायक

  • सोलर कारों के नुकसान भी होते हैं।
  • ICE इंजन के मुकाबले सोलर कारों की स्पीड कम होती है।
  • सोलर कार की बैटरी को चार्ज करने में कई घंटे लगते हैं। इस वजह से इन पर भरोसा कम ही हो पा रहा है।
  • अभी तक ज्यादातर पहुंच से सौर पैनल दूर है। जिससे ICE वाहनों के मुकाबले सोलर कार की क्षमता कम हो सकती है।
  • सोलर कारें मौसम पर डिपेंड होती हैं। अगर ज्यादा दिन तक बारिश हो और धूप न निकले तो इसे चार्ज करने में ही परेशानी होगी।

इसे भी पढ़ें

EV या हाइड्रोजन..पॉइंट टू पॉइंट जानें किसमें कितना है दम, कौन ज्यादा सस्ती, टिकाऊ और भरोसेमंद

 

Photos : मात्र 3 रुपए में पूरे दिन चलेगा ये इलेक्ट्रिक स्कूटर, 999 रुपए में बना सकते हैं अपना